Cash Flow Statement क्या है? 

स्टॉकब्रोकर रिसर्च की अन्य समीक्षा

कैश फ्लो स्टेटमेंट फंडामेंटल एनालिसिस का सबसे महत्वपूर्ण उपकरणों में से एक है। इस टूल की मदद से कंपनी द्वारा विभिन्न कार्यों के लिए खर्च किये गए नक़द या कैश और वास्तविक रूप से उत्पन्न की गयी इनकम के बारे में पता लगाया जा सकता है। आइये Cash Flow Statement in Hindi में समझते है। 

कैश फ्लो स्टेटमेंट में वह बिक्री/सेल्स शामिल नहीं है जो क्रेडिट के आधार पर की जाती है। इसलिए, यह किसी कंपनी की कैश स्थिति का विवरण देता है।

संक्षेप में, यह कहा जा सकता है कि किसी कंपनी की वित्तीय स्थिति को अर्जित किये गए लाभ से नहीं बताया जा सकता, लेकिन आप कंपनी के कैश फ्लो या लिक्विडिटी के माध्यम से अधिक वास्तविक रूप से पता लगा सकते हैं।  


यह भी पढ़ें

प्रॉफिट और लॉस स्टेटमेंट को कैसे पढ़ें?

Balance Sheet In Hindi 


एक अच्छा कैश बैलेंस एक कंपनी के लिए हमेशा उपयोगी माना जाता है, क्योंकि इससे कंपनी की अच्छी गति से बढ़ने की क्षमता का संकेत मिलता है।

आइए देखते हैं कि 31 मार्च, 2017 को वर्ष की समाप्ति पर बाटा इंडिया के कैश फ्लो स्टेटमेंट कैसा दिखता है।

इसके अलावा, हम समझने की कोशिश करते हैं कि कैश फ्लो स्टेटमेंट कैसे पढ़ते है-

मार्च 31 2007 (₹ करोड़ में)

A प्रचालन गतिविधियों से नकद प्रवाह
1 टैक्स भुगतान करने से पहले प्रॉफिट /(लॉस) 
टैक्स भुगतान से पहले का लाभ 127
2 नेट कैश फ्लो के लिए टैक्स से पहले

लाभ का समायोजन:

संपत्ति, संयंत्र और उपकरण की मूल्यह्रास

और हानि

8
इनटैंजिबल/अमूर्त एसेट्स का ऋणमुक्ति  और हानि 40
B संदेहास्पद ऋण के लिए प्रावधान 
वित्त व्यय (वित्तीय साधनों में उचित मूल्य

परिवर्तन सहित)

6678
वित्त आय (वित्तीय साधनों में उचित मूल्य

परिवर्तन सहित)

-98
3 वर्किंग  कैपिटल परिवर्तन से पहले परिचालन लाभ

(1 + 2)

8899
4 वर्किंग कैपिटल में लेनदेन :
(नकद और बैंक शेष को छोड़कर)
ट्रेड और अन्य रिसीवेब्ल -15038
इंवेंटरी -19006
ट्रेड और अन्य पेएबल -24592
वर्किंग कैपिटल में बदलाव -58996
5 लाइबलिटीज और नाॅन-करेंट एसेट्स में बदलाव -308
6 संचालन से उत्पन्न कैश (3 + 4 + 5)
7 घटाव: चुकाया गया टैक्स /(भुगतान) 1316
8 परिचालन गतिविधियों से नेट कैश फ्लो (6-7) -40089
9 निवेश गतिविधियों से कैश फ्लो:
संपत्ति, संयंत्र और उपकरण की खरीद -438
इनटैंजिबल एसेट्स की खरीद
प्राप्त ब्याज (वित्त आय) 80
नेट कैश जनरेट / (प्रयुक्त) निवेश गतिविधियों में -358
C वित्तीय गतिविधियों से नेट कैश फ्लो 42506
संबंधित पक्ष से ऋण -2324
ब्याज भुगतान 40182
वित्तपोषण गतिविधियों में नेट कैश जनरेट / (प्रयुक्त) -9265
D नकद और नकद समकक्ष में नेट परिवर्तन
A+B+C
E-1 वर्ष के अंत तक कैश और कैश सम्बंधित 427
E-2 वर्ष की शुरुआत में कैश और कैश सम्बंधित  9692
कैश और कैश उपकरणों में नेट परिवर्तन (ई 1-2) -9265

कंपनी के संचालन की गतिविधियों से संबंधित कैश फ्लो की व्याख्या  

Cash Flow Statement in Hindi में निहित वस्तुओं के बारे में चर्चा शुरू करने से पहले, आइए देखते है की कैसे एक कंपनी विभिन्न प्रकार की गतिविधियों में शामिल होती है और यह कैसे कैश बैलेंस को  प्रभावित करती हैं। 

ऑपरेशनल एक्टिविटी (OA)

ये ऐसी गतिविधियाँ हैं जो सीधे किसी कंपनी के दैनिक व्यवसाय संचालन से संबंधित हैं। ऑपरेटिंग गतिविधियों के कैश फ्लो में कंपनी के उत्पाद और सेवाओं की बिक्री से मिलने वाले कैश की मात्रा बताई जाती है।

ऑपरेशनल एक्टिविटी के दो उदाहरण और कैश बैलेंस पर उनके प्रभाव निम्लिखित हैं:

विज्ञापन पर खर्च 

यह कैश बैलेंस को कम करता है और बैलेंस शीट पर एसेट के रूप में माना जाता है।

नए कर्मचारियों को नियुक्त करने में खर्च

यह कैश बैलेंस को कम करता है और बैलेंस शीट पर एसेट के रूप में माना जाता है क्योंकि यह कंपनी की पूँजी को बढ़ाता है।


एक कंपनी के निवेश की गतिविधियों से संबंधित कैश फ्लो का विवरण  

इन्वेस्मेंट एक्टिविटीज़ (IA) निवेश से संबंधित वे गतिविधियां हैं जो एक कंपनी को बाद के चरण में लाभ प्राप्त करने के लिए प्रयोग की जाती हैं।

मूल रूप से, निवेश गतिविधियां कैपिटल पर खर्च किये गए कैश को दर्शाती हैं, जैसे कि नए उपकरण या एक नया स्टोर।

निवेश गतिविधियों में अन्य बिज़नेस में कमाई के साथ जोखिम भी शामिल है।

निवेश गतिविधियों के दो उदाहरण और कैश बैलेंस पर उनके प्रभाव निम्लिखित हैं:

एक नए रिटेल आउटलेट खोलने के लिए एक इमारत में निवेश: कैश फ्लो पर इसका असर यह होता है कि कैश बैलेंस कम हो जाता है लेकिन यह बैलेंस शीट पर कंपनी के लिए एसेट माना जाता है।

फिक्स्ड डिपाजिट में अतिरिक्त फंड का निवेश: यह कैश बैलेंस को कम करता है और इसे एसेट के रूप में माना जाता है क्योंकि यह कैश के बराबर है। 


एक कंपनी की वित्तीय गतिविधियों से संबंधित कैश फ्लो की व्याख्या 

फाइनेंसिंग एक्टिविटीज कंपनी के वित्तीय लेनदेन से संबंधित गतिविधियां हैं। कैश ऑउटफ्लो के कुछ साधनों के द्वारा बैंक के लोन का पुनर्भुगतान कर सकते हैं।

वित्तीय गतिविधियों के दो अन्य उदाहरण और कैश बैलेंस पर उनके प्रभाव इस प्रकार हैं:

नई कैपिटल की वृद्धि के लिए नए शेयर जारी करना: इसका काम यह है कि यह कैश बैलेंस को बढ़ाता है और शेयर कैपिटल बढ़ाने के साथ बैलेंस शीट के लायबिलिटी के रूप में माना जाता है।

बैंक से शार्ट टर्म लोन लेना: यह कैश बैलेंस को बढ़ाता है लेकिन बैलेंस शीट पर लायबिलिटी के रूप में माना जाता है। 

यदि बारीकी से देखें,तो हमें कैश फ्लो के विवरण बनाने की प्रमुख विषय के बारे में पता चलता है। यहाँ हम यह पता लगाएंगे कि जब भी कंपनी का लेन-देन बढ़ता है तो कैश बैलेंस भी बढ़ता है।

इसके अलावा, इसका मतलब  यह भी है कि यदि लेन-देन कम होता है, तो कैश बैलेंस भी घट जाता है।

इसी तरह, जब भी कंपनी का एसेट बढ़ता है, तो कैश बैलेंस घट जाता है। इसका मतलब यह भी होताहै कि यदि एसेट्स कम हो जाता है, तो कैश बैलेंस बढ़ जाता है। 

कंपनी का कैश फ्लो- ऑपरेटिंग गतिविधियों से नेट कैश फ्लो  + निवेश गतिविधियों से नेट कैश फ्लो  + वित्तीय गतिविधियों से नेट कैश फ्लो 


कैश फ्लो स्टेटमेंट में संभावित कमियां

1. आइये, देखें कि किसी कंपनी की रिपोर्ट की गई कमाई और परिचालन गतिविधियों से उसके कैश फ्लो के बीच एक अंतर है।

यदि नेट इनकम अधिक है और कैश फ्लो कम है, तो, कंपनी अपनी इनकम या खर्च की बुकिंग को तेज या धीमा कर सकती है।

अधिकांश लाभ कैश में परिवर्तित नहीं होने से यह संकेत मिलता है कि धन प्राप्तकर्ता के खातों में हैं, जिसका अर्थ यह  है कि कंपनी अपनी बिक्री से कैश उत्पन्न करने में अधिक समय ले रही है।

ऐसी पूँजी जो अकाउंट (और इन्वेंट्री) में रखा है, वह कोई रिटर्न नहीं देता है।

2. कंपनी के मुनाफा कमाने के लिए उपयोग किये गए तरीकों पर एक नज़र डालें।

यदि यह अपने बिज़नेस के कुछ मुनाफे को फिर से निवेश नहीं करता है, तो यह  वर्तमान वर्ष में  हाई  कैश फ्लो दिखाएगा जो लॉन्ग टर्म तक स्थिर नहीं रह सकता है।

3. इसके अलावा, ऐसी स्थितियों से सावधान रहें, जहां कोई कंपनी अपने बिज़नेस को बढ़ाने के लिए अपने फ्री कैश फ्लो का निवेश नहीं कर रही है और इसके बजाय आपको लोन्स और अग्रिम भुगतान(advances) जैसी बैड एसेट्स के रूप में बढ़ावा देती है।

इस तरह के निवेश एक धोखाधड़ी का संकेत देते हैं –  जो कंपनी बिज़नेस के लिए धन को विभिन्न व्यवसायों में उपयोग करती है वह कंपनी लॉन्गटर्म नहीं रह सकती।

4. कभी-कभी, कंपनियां बैलेंस शीट में परिचालन खर्चों से इनकम के रूप में आइटम दिखाती हैं और उन्हें वर्षों से नष्ट (या परिशोधन) करती हैं।

इस वजह से, परिचालन कैश  फ्लो को बढ़ावा मिलता है क्योंकि कुछ खर्चों को निवेश गतिविधियों में स्थानांतरित/शिफ्ट  कर दिया जाता है।

निवेशक को कैपिटल के खर्च में अचानक होने वाली वृद्धि के बारे में पता होना चाहिए जो परिचालन गतिविधियों से कैश में समान वृद्धि के साथ आती है।

कंपनी में का काम ठीक से हो रहा है यह सुनिश्चित करने के लिए  जांच होनी चाहिए।

5. कभी-कभी, कंपनियां निवेश गतिविधियों में आविष्कारों पर किये गए खर्च को रिपोर्ट करती हैं और एक वर्ष में भुगतान करती हैं, जो परिचालन कैश फ्लो का हिस्सा होना चाहिए।

इस वजह से, कैश फ्लो का संचालन अच्छा हो जाता है। ट्रेडर्स को इस तरह के नियमों पर सवाल उठाना चाहिए और इन गलत नियमों के पीछे के वास्तविक इरादों को  समझना चाहिए। 


फ्री कैश फ्लो की गणना

किसी भी कंपनी के लिए मुफ्त कैश फ्लो की गणना कैसे करें, यह समझने से पहले, आइए चर्चा करें कि, जिनके पास बहुत सारे फ्री फ्लो हैं उन कंपनियों में निवेश क्यों करना चाहिए।

फ्री कैश फ्लो आमतौर पर, किसी कंपनी की लाभांश बाँटने की क्षमता, अपने लोन  दायित्वों को चुकाने, शेयरों को खरीदने और बिज़नेस को आसानी से विकसित करने और इसका विस्तार करने के बारे में बताता है।

एक कंपनी के फ्री कैश फ्लो की गणना निम्नानुसार की जा सकती है:

 फ्री कैश फ्लो  = नेट इनकम + एमोरटाइजेशन / डेप्रिसिएशन – वर्किंग कैपिटल में परिवर्तन – कैपिटल खर्च 


निष्कर्ष 

किसी कंपनी के कैश फ्लो के विवरण का सावधानीपूर्वक विश्लेषण करके, कंपनी के मूल सिद्धांतों के बारे में जाना जा सकता है।

निवेशक को उन कंपनियों में निवेश करना चाहिए जहां फ्री कैश फ्लो बड़ा हो और कंपनी बैंकों से किसी भी लोन के रूप में मदद लिए बिना परिचालन से बाहर निवेश की राशि का भुगतान कर सकती है।

कंपनी में निवेश करने का निर्णय लेने से पहले, यहाँ एक नजर डालें:

  • कैश फ्लो स्टेटमेंट और कुछ प्रश्न पूछें जैसे कि क्या इस अवधि के दौरान कंपनी ने अपने  कैश में वृद्धि या कमी की है
  • परिचालन के माध्यम से कितना कैश कमाया गया  
  • बिज़नेस में कितना कैश पुनर्निवेश किया गया,
  • इस समय के दौरान बेचे गए कोई भी एसेट,
  • पिछले वर्षों की तुलना में अपने शेयरधारकों को लाभांश बाँटने में कितना कैश खर्च किया गया,
  • कितना कैश अपने लोन को चुकाने में उपयोग किया गया था और
  • कंपनी ने मार्केट में नई इक्विटी जारी करने के अतिरिक्त कैश कलेक्ट किया है या नहीं

इन सभी सवालों के जवाब से कंपनी की पूरी कैश स्थिति को जानने में मदद मिलेगी जो कंपनी के प्रदर्शन को दर्शाता है।

यदि आप सामान्य रूप से स्टॉक मार्केट ट्रेडिंग या निवेश शुरू करना चाहते हैं, तो हम  आगे बढ़ने में आपकी सहायता करेंगे।

यहां बेसिक विवरण दर्ज करें और आपके लिए एक कॉलबैक की व्यवस्था की जाएगी!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

2 × 1 =