आईपीओ कैसे काम करता है?

जब कोई कंपनी जनता में जाती है , तो  मूल रूप से यह दर्शाती है कि  कंपनी अपनी हिस्सेदारी का कुछ हिस्सा  बाहरी प्रतिभागियों को देने के लिए तैयार है। यह  बाहरी प्रतिभागी  कॉर्पोरेट संस्थाएं, व्यावसायिक संस्थाएं या खुदरा निवेशक हो सकते हैं। ज्यादातर समय, इन बाहरी प्रतिभागियों को पहली बार हिस्सेदारी बेची जाती है और यही वजह है कि इसे आरंभिक सार्वजनिक पेशकश या आईपीओ कहा जाता है।

आईपीओ के बाद , कंपनी  निजी कंपनी से पब्लिक कंपनी में परिवर्तित हो जाती है। सरल शब्दों में, एक बार एक कंपनी सार्वजनिक हो जाती है, तो उसे तिमाही या वार्षिक आधार पर सभी प्रकार की जानकारियों को जैसे वित्तीय, नकदी प्रवाह,  लाभ या हानि विवरणों  आदि को , सार्वजनिक मंच पर  प्रकाशित करनी होती है।

आइए जानें कि आईपीओ सबसे सरल तरीके से कैसे काम करता है:

सबसे पहले, कंपनी को विशेषज्ञ अंडरराइटर्स, वकील, वित्तीय एकाउंटेंट आदि की एक टीम की जरूरत होती है ताकि समग्र आईपीओ फाइलिंग और निष्पादन प्रक्रिया में सहायता मिल सके। यह टीम समग्र  विकास प्रक्रिया में एक बड़ी भूमिका निभाती  है जहां  यह सेबी के पंजीयन, फाइल, साथ में अलग-अलग चरणों के  दस्तावेज  जमा कराती है।

सेबी या भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड भारतीय शेयर बाजार जगत का शीर्ष नियामक निकाय है।


दूसरा , कंपनी पंजीकरण दस्तावेज तैयार कर  सेबी को  को जमा  कराती है। इस दस्तावेज़ में कई पहलुओं को शामिल किया गया है जैसे कि:

  • उद्योग सारांश
  • व्यापार सारांश
  • ऑफ़र का उद्देश्य
  • पूंजी संरचना
  • वित्तीय विवरण
  • फंड के उपयोग पर योजनाएं
  • प्रबंधन चर्चा
  • कंपनी पर बकाया मुकदमे,  आदि।

सेबी,  सभी दस्तावेजों में उल्लिखित विवरण की समीक्षा करती है।  अगर विवरण  आवश्यकताओं के अनुरूप होते  है तो विनियामक निकाय दस्तावेज़ को स्वीकृति प्रदान करता है,  अन्यथा, दस्तावेज के विशिष्ट क्षेत्रों पर सेबी कुछ टिप्पणियों / आपत्तियों  को पारित कर सकती है।

एक बार टिप्पणियां प्राप्त हो जाने के बाद, कंपनी और उसकी अंडरराइटर टीम, उन क्षेत्रों पर वापस आती है और फिर से प्रकाशित करती है जिन्हें हाइलाइट किया गया है।

सेबी  सुधारे गए दस्तावेजों को फिर से जांचती है और केवल तभी पास करती है जब दस्तावेज़ में पूरी जानकारी निर्धारित आवश्यकताओं के साथ होती है। पूर्ण आईपीओ प्रक्रिया के भाग के रूप में, कंपनी डीआरएचएस दस्तावेज को नियामक के पास  फाइल करती है।


तीसरा, कंपनी पूरे देश का भ्रमण करती है और संभावित निवेशकों से  मिलती है।  वास्तव में, वे पूर्व निर्धारित मूल्य पर कंपनी के शेयरों को खरीदने के लिए निवेशकों के एक समूह को अवसर भी प्रदान करती है। इस विशेष अभ्यास से  देश में कंपनी के इस आगामी पब्लिक इश्यू के बारे में  निवेश का  वातावरण बनाता  है।

इसके अलावा, यह आईपीओ के बारे में निवेशक समुदाय में  अनुसंधान अभ्यास के रूप में भी काम करता है।


इसके बाद, चौथे चरण में, कंपनी आईपीओ की कीमत ‘बैंड’ तय  करती है जो पूरी  प्रक्रिया में सबसे महत्वपूर्ण कदमों में से एक है। कीमत को इस तरह से रखा जाता हे कि  शेयरों की मांग प्राथमिक बाजार में इन शेयरों की वास्तविक आपूर्ति से अपेक्षाकृत अधिक रहे । विस्तृत समझने के लिए, आप आईपी के  विभिन्न मूल्य-निर्धारण  का तरीका देख सकते हैं।

आखिर में , कंपनी आईपीओ के लिए सही समय ढूंढती है । जैसे एक फिल्म बॉक्स ऑफिस में  हिट होने  से पहले, रिलीज का सही समय महत्वपूर्ण है। फिल्म के निर्माता और निर्देशक यह सुनिश्चित करते हैं कि उन दिनों के दौरान किसी अन्य बड़ी फिल्म के साथ कोई टक्कर नहीं हो । इससे उनकी फिल्म को अधिकतम राजस्व प्राप्त करने में मदद मिलती है।

इसी तरह, आईपीओ का समय भी महत्वपूर्ण है I कंपनी को यह सुनिश्चित करने की जरूरत है कि समग्र उद्योग  व्यवस्था आईपीओ  के लिए अनुकूल है, समग्र व्यवसाय की गति सकारात्मक है और कंपनी खुद विकास के दौर से गुजर रही है। इसके अलावा, इस आईपीओ के  बाजार में आने के समय कोई बड़ा आईपीओ शेयर बाजार  में नहीं हो।

क्या आईपीओ में आवेदन करने के इच्छुक हैं?

यहां आपका विवरण दर्ज करें और हम एक मुफ़्त कॉल बैक की व्यवस्था करेंगे।

स्टॉक ब्रोकर से कॉल

 

Summary
Review Date
Reviewed Item
आईपीओ कैसे काम करता है?
Author Rating
51star1star1star1star1star

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

8 + 9 =