एलआईसी आईपीओ

अन्य IPO का विश्लेषण

क्या आप भी एलआईसी आईपीओ के इंतज़ार में है?

आज इस पोस्ट में, अपने पाठकों के लिए एलआईसी आईपीओ, विवरण, डेट, आवंटन तिथि और अन्य महत्वपूर्ण जानकारियां साझा करेंगे। 

आपको यहां एलआईसी आईपीओ के बारे में शुरुआत से बताएंगे और साथ ही यह कैसे मौजूदा पॉलिसी धारक को प्रभावित करेगा, इसके बारे में भी चर्चा करेंगे।   

इसके बारे में बात करने पहले, चलिए आईपीओ और आईपीओ प्रक्रिया के बारे में चर्चा कर लेते हैं।  

आईपीओ का फुल फॉर्म “इनिशियल पब्लिक ऑफरिंग” यानि की सार्वजनिक प्रस्ताव है।  

यह एक प्रक्रिया है जहाँ कंपनियां अपने शेयर या स्टॉक जनता के लिए पहली बार जारी करती है। इसका उद्देश्य कंपनी को अतिरिक्त पूँजी जुटाना है।

इसके अलावा, जब कंपनी के पास पूँजी की कमी हो जाती है तो वह बाजार से क़र्ज़ लेने के बजाए आईपीओ के माध्यम से पूँजी की आवश्यकता पूरी करती है। 

इसी तरह भारत सरकार भी कोरोना महामारी से उत्पन्न हुए आर्थिक मंदी से निपटने के लिए अबतक की सबसे बड़ा आईपीओ लाने की तैयारी में है। 

जी हाँ, LIC का IPO भारतीय शेयर बाज़ार का सबसे बड़ा आईपीओ साबित हो सकता है। भारत सरकार एलआईसी की 25 फीसदी हिस्सेदारी बेचने की योजना पर विचार कर रही है।

वहीं, इस आईपीओ के जरिए LIC कंपनी अपनी माली हालत भी सुधारने पर जोर देगी, जो पिछले कुछ सालों से उत्साहजनक नहीं दिखाई देते। 

एक रिपोर्ट के अनुसार, पिछले 5 वर्षों में एलआईसी के NPA यानि नॉन परफॉर्मिंग एसेट्स दोगुने हो गए है।    

एलआईसी आईपीओ 2020 खुदरा निवेशकों और कर्मचारियों को लंबी अवधि के लिए कंपनी में निवेश करने का एक शानदार अवसर प्रदान करेगा। 

साथ ही, यह भी अनुमान लगाया गया है कि एलआईसी पॉलिसी होल्डर्स को इस आईपीओ में आरक्षित कोटा भी मिल सकता है।

चलिए अब देखते है की यह आम जनता के लिए कितना सही साबित होगा। 

अभी एलआईसी आईपीओ आने में समय है तो आपके सामने न्यूरेका आईपीओ, रेलटेल आईपीओ और Brookfield IPO Review in Hindi में निवेश करने का भी विकल्प है जिसके जरिये आप लाभ बन सकते हैं।  


LIC IPO in Hindi 

“भरोसे का प्रतीक” के रूप में लोकप्रिय भारतीय जीवन बीमा निगम या एलआईसी, देश की सबसे बड़ी बीमा कंपनी (Insurance Company) है। इसके अलावा, यह भारत की सबसे बड़ी निवेशक कंपनी भी है। 

एलआईसी एकमात्र ऐसी बीमाकर्ता है जो सबसे पुरानी और ज्यादा फायदा देने वाली इंश्योरेंस कंपनी है।

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 2020-2021 का वित्तीय बजट पेश करते हुए अगले वित्तीय वर्ष में आईपीओ के माध्यम से एलआईसी में हिस्सेदारी बेचने की घोषणा की।

एलआईसी आईपीओ विश्लेषण 

जारीकर्ता (Issuer) भारतीय जीवन बीमा निगम (एलआईसी )
इश्यु टाइप (Issue Type) 100% बुक बिल्ट इश्यु आईपीओ
इश्यु अवधि (Issue Period) वित्तीय वर्ष 2020 – 2021  
प्राइस ब्रांड (Price Brand) ₹ [●] प्रति इक्विटी शेयर
इश्यु साइज (Issue Size) ₹1.20 लाख करोड़*
फेस वैल्यू (Face Value) ₹ 10 प्रति इक्विटी शेयर
बिड लॉट  [●] इक्विटी शेयर और इसके मल्टीप्ल
अधिकतम बिड राशि (रिटेल के लिए) ₹ 2 लाख
QIB  इश्यु साइज का 50%
NIB  इश्यु साइज का 15%
रिटेल इंडिविजुअल बिडर (Retail Individual Bidders) इश्यु साइज का 35%
कर्मचारी आरक्षण (Employee Reservation) [●] इक्विटी शेयर (₹ [●] करोड़)
एम्प्लॉई डिस्काउंट (Employee Discount) ₹ [●] प्रति इक्विटी शेयर 
लिस्टिंग  एनएसई और बीएसई 

यहाँ एलआईसी का वित्तीय विश्लेषण स्टेटमेंट है।

अप्रैल से दिसंबर 2019 की अवधि में, LIC ने 1.37 लाख करोड़ रुपये का प्रीमियम प्राप्त किया और साल दर साल 45.5% की वृद्धि देखि गयी।

2020 में निजीकरण में प्रवेश करने वाला सबसे बड़ा बीमाकर्ता उद्योग, दिसंबर 2019 तक 70.52% बाजार हिस्सेदारी बनाने में सक्षम रहा है।

FY09 और FY19 के अपने 10 वर्ष के अवधि में, LIC ने अपनी इनकम में 291 % की वृद्धि दर्ज़ करवाई। 2019 के अंत तक, एलआईसी की आय निवेश के माध्यम से ₹2,21.573.72 करोड़ रुपये के बराबर थी।

एलआईसी ने एस्टेट पोर्टफोलियो के द्वारा रेंटल इनकम में अच्छी वृद्धि हुई है। इससे सिर्फ एक साल में 46.75 करोड़ की बढ़ोतरी हुई।

इस वैल्यू पर पहुँच कर, LIC अपने वार्षिक लक्ष्य के 90.18 प्रतिशत को पूरा करने में सक्षम थी।

इसके अलावा, एलआईसी अपने लाइफ इनसुरेर बुक्स (Life Insurer Books) से भी मुनाफे का एक बड़ा हिस्सा प्राप्त करती है। कंपनी को लगभग 18000 से 25,000 करोड़ रुपये तक की आय इक्विटी प्रॉफिट में होती है।

वित्त वर्ष 19 में इक्विटी प्रॉफिट 23,600 करोड़ के आसपास था। यह वैल्यू वित्त वर्ष 18 से थोड़ा कम था जो 25,650 करोड़ था।

कुल आय (प्रीमियम और निवेश) को लेते हुए, वित्त वर्ष 2019 में एलआईसी की नेट इनकम 5.61 लाख करोड़ रुपये है, जो वित्त वर्ष 2019 की आय से लगभग 180% अधिक थी।


एलआईसी आईपीओ प्रोमोटर

प्रमोटर एक व्यक्ति या कंपनी होता है जो पूँजी जुटाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

यहाँ, भारत सरकार अपना 100% योगदान दे रही है और इस प्रकार यह LIC IPO का प्रमोटर भी है।


एलआईसी आईपीओ डेट 

हालाँकि LIC का आईपीओ को फरवरी 2020 के हालिया बजट में घोषित किया गया था, लेकिन IPO की सही तारीख का अभी खुलासा नहीं किया गया है।

सरकार ने हाल ही में स्टॉक एक्सचेंज में लिस्टिंग एलआईसी पर प्रकाश डाला है। इसके साथ, भारतीय जीवन बीमा निगम एक आईपीओ के लिए जाएगा।

एलआईसी आईपीओ डेट और प्राइस बैंड 

आईपीओ कब खुलेगा  वित्तीय वर्ष 2020 – 2021
आईपीओ कब बंद होगा  वित्तीय वर्ष 2020 – 2021
आईपीओ साइज  ₹1.20 लाख करोड़*
फेस वैल्यू ₹ 10 प्रति इक्विटी शेयर
प्राइस बैंड ₹ [●] से ₹ [●] प्रति शेयर
लिस्टिंग बीएसई और एनएसई
रिटेल हिस्सेदारी [●] %
इक्विटी शेयर

एलआईसी आईपीओ मार्केट लॉट

आईपीओ के लिए बोली लगाते समय निवेशक को मार्केट लॉट और न्यूनतम आर्डर संख्या (Minimum Order Quantity) के बारे में जानना आवश्यक है।

जैसा कि नाम से दर्शाया गया है, मार्केट ऑर्डर क्वांटिटी का मतलब न्यूनतम शेयरों की संख्या है जो निवेशक आईपीओ में बोली लगाते समय लगा सकते हैं।

यदि निवेशक अधिक शेयरों के लिए बोली लगाने का इच्छुक है, तो उसे आईपीओ मार्केट लॉट के मल्टीप्ल में आवेदन करना होगा।

नीचे दी गई टेबल में एलआईसी आईपीओ मार्केट लॉट की जानकारी प्राप्त करें:


एलआईसी आईपीओ अलॉटमेंट और लिस्टिंग 

आईपीओ का अलॉटमेंट(आवंटन) आधार एक आईपीओ के रजिस्ट्रार द्वारा शेयर आवंटन को अंतिम रूप देने के बाद प्रकाशित दस्तावेज है।

आईपीओ आवंटन और लिस्टिंग से जनता के बीच आईपीओ स्टॉक की मांग के बारे में जानकारी मिलती है।

यहाँ आप एलआईसी आईपीओ आवंटन और सूची के बारे में जानकारी पा सकते हैं।

एलआईसी आईपीओ अलॉटमेंट और लिस्टिंग

अलॉटमेंट का बेस  वित्तीय वर्ष 2020 – 2021
रिफंड वित्तीय वर्ष 2020 – 2021
डीमैट अकाउंट में क्रेडिट वित्तीय वर्ष 2020 – 2021
लिस्टिंग डेट वित्तीय वर्ष 2020 – 2021

एलआईसी आईपीओ ग्रे मार्केट प्रीमियम 

आईपीओ ग्रे मार्केट को एक ऐसे प्लेटफॉर्म के रूप में परिभाषित किया गया है, जहां खरीद और बिक्री एक अधिकृत चैनल या प्राधिकरण से की जाती है।

संक्षेप में, यह कंपनी के हिस्से का ट्रेड करने का एक अनौपचारिक तरीका है।

वर्तमान में, एलआईसी आईपीओ ग्रे मार्केट प्रीमियम ₹1000 है

Kostak ₹ 3000 है

Sauda के अधीन ₹10000 है

हालांकि, आईपीओ का ग्रे मार्केट मूवमेंट तेज दर से बदलता है और अत्यधिक अस्थिर है। इसलिए, यह ग्रे मार्केट आईपीओ दरों पर निवेश निर्णय लेने के लिए चुनौतीपूर्ण है।


एलआईसी आईपीओ विश्लेषण और रेटिंग 

एलआईसी आईपीओ में निवेश का निर्णय लेते समय, कंपनी की समीक्षाओं और रेटिंग को जानना आवश्यक है।

यहां विभिन्न मानदंडों में विभिन्न वित्तीय संस्थानों, ब्रोकर और अन्य सेबी पंजीकृत विश्लेषकों द्वारा प्रदान की गई एलआईसी आईपीओ रेटिंग और समीक्षाएं हैं।


एलआईसी आईपीओ: अप्लाई कैसे करे?

यदि आपके पास डीमैट खाता है, तो फिर आप बैंक से सीधे “ASBA”  नामक ऑनलाइन आईपीओ सुविधा के जरिये अप्लाई कर सकते हैं।


यदि आप स्टॉक मार्केट ट्रेडिंग या निवेश के साथ शुरुआत करना चाहते हैं, तो आगे के कदम उठाने में हम आपकी सहायता कर सकते हैं।

अभी मुफ्त में डीमैट अकाउंट खुलवाएं।

यहां अपनी जानकारी दर्ज करें और आपके लिए एक कॉलबैक की व्यवस्था की जाएगी!


एलआईसी आईपीओ के लिए आवेदन करने के लिए आप अपने संबंधित ब्रोकर से संपर्क कर सकते हैं।

ASBA के माध्यम से LIC IPO के लिए आवेदन

ASBA या ब्लॉक अमाउंट द्वारा सपोर्टेड एप्लिकेशन (अवरुद्ध राशि द्वारा समर्थित एप्लीकेशन) बैंक द्वारा प्रदान किया गया एक एप्लिकेशन है जो आपको आईपीओ के लिए अप्लाई करने की अनुमति देता है।

इसमें, आपका बैंक उस राशि की व्यय आवश्यकता को पूरा करेगा जो कि आईपीओ के लिए अप्लाई करने के लिए आवश्यक है और आपके खाते से धन केवल तभी डेबिट किया जाएगा जब आपको शेयरों का अंतिम आवंटन मिल जाएगा।

इसके लिए 30 से अधिक बैंक हैं जो ASBA सुविधा प्रदान करते हैं। इसमें सिटी बैंक, बैंक ऑफ बड़ौदा, एक्सिस बैंक, सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया, कॉरपोरेशन बैंक, आईसीआईसीआई बैंक, आईडीबीआई बैंक लिमिटेड, इंडियन बैंक, पंजाब नेशनल बैंक आदि सभी प्रमुख बैंक शामिल हैं।

ये बैंक आवंटन को अंतिम रूप देने तक आईपीओ आवेदन पर खर्च की गई राशि को अवरुद्ध करने के लिए अधिकृत हैं।

एएसबीए के माध्यम से एलआईसी आईपीओ के लिए आवेदन करने के लिए निवेशकों को निवेशक की तरह बुनियादी पात्रता मानदंडों को पूरा करना चाहिए:

  • 2 लाख रुपये के शेयर या सिक्योरिटी के लिए अप्लाई कर रहा है।
  • डीमैट खाता होना चाहिए।
  • किसी आरक्षित श्रेणी के तहत बोली नहीं लगानी चाहिए।
  • हमें बोली को संशोधित नहीं करने का वादा करना चाहिए।
  • उस बैंक के माध्यम से आवेदन करें जो SCSBs के साथ बनाए रखा गया है।
  • अपने डीमैट फॉर्म में शेयर रखें और डीमैट फॉर्म में इश्यू में एंटाइटेलमेंट के लिए आवेदन करें।

ASBA के माध्यम से LIC IPO के लिए आवेदन करने की प्रक्रिया 

आप ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरीकों से ASBA के माध्यम से एलआईसी आईपीओ के लिए आवेदन कर सकते हैं।

ऑफ़लाइन मोड के लिए:

आपको कुछ आवश्यक विवरणों के साथ ASBA फॉर्म भरना आवश्यक है:

  • नाम
  • पैन नंबर
  • डीमैट खाता संख्या
  • बोली की मात्रा
  • बिड प्राइस
  • बैंक में फॉर्म जमा करें।
  • बैंक इसे आगे बिडिंग प्लेटफॉर्म पर भेज देगा जहां इसे संसाधित किया जाता है।

ऑनलाइन विधि के लिए:

  • ASBA के माध्यम से एलआईसी आईपीओ के लिए आवेदन करने के लिए आपके पास ऑनलाइन बैंकिंग सक्रिय होना चाहिए।
  • अपने अकाउंट में साइन इन करें।
  • मेनू पेज पर, रिक्वेस्ट बटन पर क्लिक करें।
  • यह आपको आईपीओ एप्लिकेशन नामक लिंक पर रीडायरेक्ट करेगा।
  • आईपीओ का चयन करें जिसे आप लागू करना चाहते हैं और फिर बोली लगा सकते हैं (3 बोलियों तक प्रवेश कर सकते हैं)।
  • अन्य डिपॉजिटरी विवरण भरें।
  • ऑर्डर कन्फ़र्म करें।

इसके अलावा, आप विभिन्न डिस्काउंट ब्रोकर या फुल-सर्विस ब्रोकर के माध्यम से एलआईसी आईपीओ के लिए आवेदन कर सकते हैं।

यहां कुछ शीर्ष स्टॉकब्रोकर हैं जिनके साथ आप आईपीओ के लिए आवेदन करने के लिए डीमैट खाता खोल सकते हैं।


ZORODHA KITE के साथ एलआईसी आईपीओ के लिए अप्लाई करे

ASBA के अलावा आप जेरोधा कंसोल के माध्यम से LIC IPO के लिए भी अप्लाई कर सकते हैं।

सेबी के दिशानिर्देशों के अनुसार, अब आने वाले आईपीओ के लिए UPI 2.0 द्वारा समर्थित होना अनिवार्य है और इस प्रकार Zerodha अब IPO एप्लिकेशन का समर्थन करता है।

इसने प्रक्रिया को त्वरित और सरल बना दिया है।

जेरोधा के माध्यम से आईपीओ के लिए आवेदन करने के लिए नीचे दिए गए चरणों का पालन करें:

  • कंसोल पर लॉगिन करें
  • पोर्टफोलियो मेनू में ‘आईपीओ’ चुनें
  • खुले मुद्दों की सूची से एलआईसी आईपीओ का चयन करें।
  • अपनी जेरोधा UPI ID दर्ज करें और वेरीफाई पर क्लिक करें।
  • एक बार वेरीफाई होने के बाद, बिड को उस क्वांटिटी में प्लेस करे, जो लॉट साइज की एक मल्टीप्ल है, फिर निवेशक प्रकार का चयन करें।
  • चेकबॉक्स पर क्लिक करें (यह पुष्टि करने के लिए कि आप RHP और अन्य दस्तावेज़ पढ़ते हैं)।
  • अपना विवरण जमा करें।

MOTILAL OSWAL के साथ LIC IPO अप्लाई करे 

यदि आप पहले से ही ग्राहक हैं या मोतीलाल ओसवाल के साथ डीमैट खाता खोलने की सोच रहे हैं तो आप दो अलग-अलग तरीकों से आईपीओ के लिए आवेदन कर सकते हैं।

1. वेबसाइट या मोबाइल एप्लिकेशन के द्वारा  

मोतीलाल ओसवाल की ट्रेडिंग वेबसाइट या मोबाइल ऐप आपको आईपीओ के लिए आवेदन करने का प्रावधान देता है।

  • अप्लाई करने के लिए, ऑनलाइन आईपीओ प्रोडक्ट के लिए खुद को पंजीकृत करवाएं।
  • रजिस्ट्रेशन के लिए, स्थानीय शाखा पर जाएँ और आवेदन पत्र जमा करें।
  • रजिस्ट्रेशन के बाद, आप कुछ ही क्लिक में आईपीओ के लिए आवेदन कर सकते हैं।

2. मोतीलाल ओसवाल शाखाओं के द्वारा

ऑनलाइन विधि के अलावा, आप पास के मोतीलाल ओसवाल शाखा में जाकर भी आईपीओ के लिए ऑफ़लाइन आवेदन कर सकते हैं।

  • नजदीकी शाखा पर जाएँ।
  • ASBA एप्लीकेशन फॉर्म भरें।
  • बैंक खाता, पैन नंबर और डीमैट खाता जैसी जानकारी दर्ज करें।
  • ब्रोकर आवेदन को आगे की प्रक्रिया के लिए एक्सचेंज को भेज देता है।

कई और ब्रोकर हैं जो आईपीओ के लिए आवेदन करने के लिए एक सुविधाजनक तरीका प्रदान करते हैं।

अपने ब्रोकर की खोज शुरू करें और सुनिश्चित करें कि वे ऐसी सेवाएं प्रदान करते हैं।


एलआईसी कंपनी की जानकारी

जीवन बीमा निगम, LIC का 1956 में राष्ट्रीयकरण किया गया था जब 245 बीमा कंपनियों को एक-साथ समामेलित किया गया था और फंड सोसाइटीज की पेशकश की गई थी।

एलआईसी 1 सितंबर, 1956 को LIC अधिनियम 1956 के तहत लागू हुई और भारत सरकार से 5 करोड़ रुपये की प्रारंभिक पूंजी के साथ अपनी यात्रा शुरू की। कंपनी का प्रमुख उद्देश्य देश के प्रत्येक शहर और कस्बों तक बीमा का संदेश फैलाना था।

इसके बाद से, कंपनी अपने उद्देश्य को पूरा करने और लगातार बढ़ने के लिए तत्पर है।

वर्ष 2009 में, जीवन बीमा निगम संशोधन विधेयक (2009) पारित किया गया, जिसने एलआईसी की भुगतान की गई पूंजी को 100 करोड़ तक बढ़ा दिया।

कोई आश्चर्य नहीं कि एलआईसी भारत का सबसे बड़ा वित्तीय संस्थान है जो स्टॉक एक्सचेंज बिंदुओं पर सूचीबद्ध होने के बाद देश की शीर्ष सूचीबद्ध कंपनी बन जाएगी।


एलआईसी आईपीओ: क्या सही और क्या गलत है 

अगर LIC के विकास करे तो यह तेजी से विकास कर रहा है या कहें कि यह कंपनी का सबसे अच्छा समय है।

इस साल एलआईसी बिज़नेस ने पहली बार 1.5 लाख करोड़ रुपये का लक्ष्य पार किया है।

इसके साथ ही प्रीमियम के मामले में कंपनी का बाजार हिस्सा 80% तक ऊंचा है।

कंपनी की लिस्टिंग पर वापस आते हैं, इससे कंपनी के पॉलिसीधारक पर कोई सकरात्मक या नकरात्मक प्रभाव नहीं पड़ेगा।

एलआईसी कई वर्षों से निवेश में है और उसने संतुलित तरीके से एक शानदार भूमिका निभाई है। अभी तक, किसी ने इसकी विश्वसनीयता या निवेश क्षमताओं पर सवाल नहीं उठाया।

ये सभी सख्त दिशानिर्देशों और बहुस्तरीय निगरानी प्रणाली के कारण हैं जो कंपनी का अनुसरण करती है।

इसके अलावा, LIC IPO को SEBI की निगरानी और स्कैनिंग प्रणाली के तहत रखा जाएगा जो निवेश में अधिक पारदर्शिता लाती है।

कुल मिलाकर, LIC का एक्सचेंज पर लिस्टिंग होने से काफी हद तक पारदर्शिता आएगी और शेयरधारक को अपने दिन-प्रतिदिन की गतिविधियों पर नजर रखने में मदद मिलेगी, जिससे लंबे समय में निगम में और स्थिरता आएगी।

आखिर में, LIC के अध्यक्ष एम. आर. कुमार ने एलआईसी आईपीओ के संबंध में कुछ तथ्य रखे। य़े निम्नलिखित हैं:

  • एलआईसी आईपीओ किसी भी तरह से कर्मचारियों या ग्राहकों को प्रभावित करने वाला नहीं है।
  • यह एलआईसी आईपीओ के बाद भी संप्रभु सुरक्षा को बनाए रखेगा।
  • LIC का लगभग एक दशक से निजीकरण हो रहा है, लेकिन फिर भी जनवरी 2020 में पहली प्रीमियम आय और नीतियों के मामले में कंपनी का बाजार हिस्सा 80% और 77.6% था।
  • यह इस विश्वास की ओर इशारा करता है कि जनता का भारत के एलआईसी पर अधिकार है।

इस प्रकार, यदि आप अपने फंड को निवेश करने के लिए एक सुरक्षित प्लेटफ़ॉर्म की तलाश कर रहे हैं, तो यह आपके लिए जाने वाले सर्वोत्तम विकल्पों में से एक है।


एलआईसी आईपीओ FAQs

# LIC IPO क्या है?

भारत सरकार ने LIC के प्रदर्शन का विश्लेषण करने के बाद अब IPO के माध्यम से LIC में हिस्सेदारी बेचने का प्रस्ताव रखा है।

# LIC IPO कब खुलेगा?

नवीनतम अपडेट के अनुसार, LIC IPO वित्त वर्ष 2020-21 तक आने की संभावना है।

# किस श्रेणी में, पात्र उम्मीदवार एलआईसी आईपीओ में बोली लगा सकते हैं?

आईपीओ के लिए पात्र सभी एलआईसी कर्मचारियों के लिए, तीन श्रेणियों के अंतर्गत बोली लगा सकते हैं:

  • खुदरा श्रेणी (यदि निवेश 2 लाख रुपये से कम है)
  • शेयरधारक श्रेणी (यदि निवेश 2 लाख रुपये से कम है)
  • कर्मचारी श्रेणी

# मैं एलआईसी आईपीओ के लिए कैसे आवेदन कर सकता हूं?

आप निम्नलिखित तरीकों से LIC IPO के लिए आवेदन कर सकते हैं:

  • एएसबीए ऑनलाइन का उपयोग करना (लोकप्रिय बैंकों के माध्यम से; एचडीएफसी, आईसीआईसीआई, एसबीआई, आदि)
  • स्टॉक ब्रोकर्स ट्रेडिंग अकाउंट (Zerodha, Sharekhan) के माध्यम से भुगतान विधि के रूप में UPI का उपयोग कर।

# LIC IPO के लिए सबसे अपेक्षित तारीख क्या है?

एलआईसी आईपीओ की अपेक्षित तिथि की कोई घोषणा नहीं हुई है। हालाँकि, ऐसे कयास लगाए जा रहे हैं की यह साल के अंत तक आएगी।


आईपीओ के बारे में अधिक जानकारी के लिए नीचे टेबल पर जाएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

sixteen − 8 =