IPO क्या है? जानें इसका मतलब, इस्तेमाल

आईपीओ का क्या अर्थ है?

आईपीओ या ‘इनिशियल पब्लिक ओफ्फेरिंग’ मूल रूप से एक ऐसा माध्यम है जिसके ज़रिये एक कंपनी ‘सार्वजनिक’ हो जाती है और अपने शेयर की खरीद बेच, रिटेल निवेशकों और कारोबारियों के लिए खोल देती है। यह ऐसा पहला अवसर होता है जब एक कंपनी सामान्य जनता के लिए अपने शेयर की खरीद बेच का मौका उपलब्ध कराती है और सामान्य जनता को कंपनी के हिस्से में भागीदारी का अवसर प्राप्त होता है। कोई भी कंपनी, आईपीओ का आवेदन देने से पहले , अपने निजी माध्यमों से अपने लिए निवेश और धनराशि जुटाने का प्रयास करती है

आईपीओ के माध्यम से जुटाई गई धनराशि सामान्य रूप से कंपनी के विस्तार, उसके तकनीकी विकास, नई संपत्ति खरीदने हेतु, कर्जे समाप्त करने हेतु, इत्यादि के लिए उपयोग में लाई जाती है

जैसे ही एक आईपीओ लांच किया जाता है या आर्थिक जगत में उसका प्रस्ताव लाया जाता है, कंपनी के शेयर  विभिन्न निवेशकों और कारोबारियों को उपलब्ध हो जाते हैं और वो शेयर बाज़ार जिसे की ‘सेकेंडरी मार्केट’ के नाम से भी जाना जाता है, में खरीदे बेचे जा सकते हैं

एक कंपनी के लिए आईपीओ का क्या अर्थ है?

किसी भी कंपनी द्वारा आईपीओ का आवेदन देने उपरांत, कुछ प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष परिणाम निकलते हैं| इन्हें नीचे विस्तार से बताया गया है :

  • आईपीओ के माध्यम से कोई भी कम्पनी अपनी पूँजी बढ़ा सकती है और उसे विभिन्न ज़रूरतों के लिए उपयोग में ला सकती है
  • जिन कंपनियों के पास कम धनराशि और छोटा बजट होता है, एक आईपीओ के माध्यम से उसे सुधारा जा सकता है और कंपनी की छवि या ब्रांड इमेज को भी ठीक किया जा सकता है
  • लोगों का कंपनी के प्रति भरोसा बढ़ जाता है।
  • कंपनी के प्रबंधन की छवि उभर कर आती है और उद्योग जगत में उसका नाम होता है।

इस सब के साथ साथ, कंपनी के कुछ तथ्य और जानकारी के सम्बन्ध में निम्नलिखित बदलाव आते हैं :

  • कंपनी के बहीखाते और सारी आर्थिक जानकारी सार्वजनिक हो जाती है।
  • कंपनी को सेबी द्वारा निर्धारित नियमों के अनुसार ही काम करना होता है।
  • समय समय पर ऑडिट और जांच पड़ताल के लिए उपलब्ध रहना पड़ता है ताकि बाज़ार में उसकी अच्छी छवि बनी रह सके।

निवेशकों के लिए आईपीओ का क्या अर्थ है?

आईपीओ के माध्यम से कारोबारी और निवेशक, शेयर बाज़ार से अच्छे मुनाफे कमाने की उम्मीद रख सकते हैं। एक इंट्राडे ट्रेडर, आईपीओ के माध्यम से जल्द लाभ कमाने की उम्मीद रखता है और एक निवेशक इसे एक लम्बे समय के निवेश के तौर पर ले कर चलता है

इसलिए यदि आप एक ऐसे निवेशक हैं जो की अपने पैसे को लम्बे समय के लिए निवेश में बनाए रखने की सोच रहा है तो आपको आईपीओ सम्बंधित पूरी जानकारी हासिल कर लेनी चाहिए और कंपनी के विषय में सब समझ लेना चाहिए

हालाँकि इस समय भारतीय शेयर बाज़ार नई ऊंचाईयों को छू रहा है ( यह लेख अक्टूबर, 2017 में लिखा गया है ) लेकिन यदि आप निवेश के बारे में सोच रहें हैं तो यह जानना बहुत ज़रूरी है कि आप अपनी मेहनत की कमाई को किस तरह और कौन से क्षेत्र में निवेश करने जा रहें हैं।

आईपीओ सम्बंधित शब्दावली

जब भी कोई कंपनी अपने आईपीओ को बाज़ार में लाती हैं तो उसकी बोली लगते समय कुछ विशेष तकनीकी शब्दावली का उपयोग होता है , जो की इस प्रकार है:

चलिए इसे एक एक कर के समझते हैं:

प्राइस बैंड: सामान्य रूप से प्राइस बैंड वह दायरा होता है जिसके अनुसार आप एक आईपीओ के लिए बोली लगा सकते हैं

बिड लाट– बिड लाट का तात्पर्य उस न्यूनतम शेयर मात्रा से होता है जिसके अनुसार या फिर उसके गुणाकार में ही ग्राहकों को आईपीओ के लिए बोली लगानी होती है

रजिस्ट्रार- रजिस्ट्रार वह विशेष कंपनी निकाय होता है जिसे की आईपीओ के काम से सम्बंधित ज़िम्मेवारी दी जाती है। वह सेबी के अनुसार निवेश करवाना, ग्राहकों के पैसे की वापसी और पूरी आईपीओ प्रक्रिया को संभालता है

इशू साइज़: इससे तात्पर्य है उन कुल शेयर की मात्रा का जिन पर आप बोली लगा सकते हैं।

क्यूआईबी- जितना शेयर प्रतिशत निवेशक संस्थाओं के बोली लगाने के लिए रखा जाता है, उसे क्यूआईबी कहते हैं।

एनआईबी- जितना शेयर प्रतिशत गैर निवेशक संस्थाओं के बोली लगाने के लिए रखा जाता है, उसे एनआईबी कहते हैं।

रिटेल- जितना शेयर रिटेल निवेशकों के बोली लगाने के लिए रखा जाता है, उसे रिटेल कहते हैं।

लिस्टिंग- जिन सूचियों पर आईपीओ खुलता है और कारोबार के लिए उपलब्ध होता है उसे, लिस्टिंग कहते हैं।


क्या आप खाता खुलवाना चाहते हैं ?

अपनी जानकारी नीचे भरें और कॉल प्राप्त करें|

स्टॉक ब्रोकर से कॉल

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

eighteen − 11 =