Stop Loss Meaning in Hindi

ऑनलाइन शेयर ट्रेडिंग के बारे में और भी

शेयर मार्केट में निवेश करने के लिए निवेशक अनेक प्रकार के ट्रेडिंग ऑर्डर्स का प्रयोग करता है जिनमें से एक स्टॉप लॉस ऑर्डर है। आइये जाने Stop Loss Meaning in Hindi क्या होता है। 

ट्रेडिंग ऑर्डर के ऐसे कई प्रकार हैं,  जो एक ट्रेडर ब्रोकर को अपनी ओर से शेयर खरीदने या बेचने के निर्देश देने के लिए उपयोग कर सकते हैं।

ट्रेडिंग ऑर्डर को पूरा करने के लिए इसके विभिन्न प्रकार हो सकते हैं और इन्हीं ट्रेडिंग ऑर्डर के प्रकार में से एक स्टॉप लॉस ऑर्डर है।

आइए, इस समीक्षा में इसके मीनिंग, बाय/सेल ऑर्डर की स्ट्रेटेजी और कुछ उदाहरणों के साथ इसके लाभ को समझने की कोशिश करते हैं। 

लेकिन हमेशा की तरह आइए, कुछ बुनियादी बातों के साथ शुरू करते हैं!  


Stop Loss Meaning in Share Market in Hindi

स्टॉप लॉस ऑर्डर (Stop Loss Order) तब तक निष्क्रिय(Inactive) रहता है जब तक कि कोई ऑर्डर एक विशेष प्राइस पर नहीं पहुँच जाता और जैसे ही ऑर्डर टारगेट प्राइस को हिट करता वैसे ही यह स्टॉप लॉस ऑर्डर एक्टिव हो जाता है।

यह टारगेट प्राइस, ट्रेडर द्वारा तय किया जाता है। स्टॉप लॉस का उद्देश्य नुकसान को सीमित करना और मुनाफे को बनाए रखना है।

स्टॉप लॉस(Stop Loss Meaning in Hindi)  के पीछे मूल अवधारणा ट्रेड को तुरंत रोकना है, क्योंकि मार्केट, ट्रेडर द्वारा अपेक्षित मूवमेंट के खिलाफ आगे या पीछे बढ़ना शुरू कर देता है, ताकि ट्रेडर को ज्यादा नुकसान नहीं उठाना पड़े और उसके द्वारा कमाया हुआ लाभ बना रहे।

उदाहरण के लिए, यदि कोई ट्रेडर ₹150 पर एक विशेष शेयर लेता है और वह स्टॉप लॉस ₹130 पर लगाता है, तो शेयर अपने आप ₹130 पर बिक जाएगा ताकि ट्रेडर को ज्यादा नुकसान न हो।

स्टॉप लॉस ऑर्डर, खरीदने और बेचने दोनों के लिए हो सकते हैं। 


Stop Loss Kaise Lagaye?

यहाँ आगे हम बात Buy Stop Order और Sell Stop Order के बारे में बात करेंगे। आप स्टॉप लॉस ऑर्डर लगाने के लिए अलग अलग ट्रेडिंग ऐप का भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

वहां आप किसी एक स्टॉक का चयन करके एडवांस फीचर्स में जाकर स्टॉप लॉस ऑर्डर सेट कर सकते है। उसके बाद जैसे ही आपका प्राइस ट्रिगर होगा, उसके बाद आपका ऑर्डर पूरा हो जाएगा।

बाय स्टॉप ऑर्डर:

स्टॉप लॉस ऑर्डर (Stop Loss Order), स्टॉप प्राइस पर शेयर खरीदने के लिए ब्रोकर (फ़ोन या ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म द्वारा) के लिए एक निर्देश है। 

यह करंट मार्केट प्राइस से ऊपर रखा जाता है और यह सुनिश्चित करता है कि ट्रेडर बहुत अधिक कीमत पर शेयर को नहीं खरीदे।

इसका ज्यादातर उपयोग तब किया जाता है जब एक ट्रेडर बदलाव के बाद मार्केट के नीचे आने पर बाहर निकलना चाहता है और एक शॉर्ट ट्रेड से बाहर निकलना चाहता है।

यह रेजिस्टेंस लेवल के ऊपर ब्रेकआउट खरीदने के लिए भी उपयोगी होता है, जब ट्रेडर सही मूल्य को लेकर निश्चित नहीं होता है तो वह शेयर को खरीदता है।

सेल स्टॉप ऑर्डर:

एक स्टॉप लॉस ऑर्डर ब्रोकर को स्टॉप प्राइस के नीचे कीमत गिरने के बाद सबसे अच्छी उपलब्ध कीमत पर शेयर  बेचने का निर्देश है।

यह करंट मार्केट प्राइस से नीचे रखा जाता है ताकि ट्रेडर इस तरह की कीमत पर शेयर बेच सकें जिससे उसे बहुत अधिक नुकसान नहीं हो और फिर भी उसका लाभ बरकरार रहें ।

जब ट्रेडर मूल्य के बारे में सुनिश्चित नहीं होता है तब लॉन्ग मार्केट से बाहर निकलने के लिए या सपोर्ट लेवल के नीचे ब्रेकआउट पर बेचने के लिए इसका उपयोग किया जाता है।

जैसे ही ऑर्डर टारगेट प्राइस पर पहुंच जाता है वैसे ही स्टॉप लॉस ऑर्डर मार्केट ऑर्डर में परिवर्तित हो जाता है और ऑर्डर तुरंत पूरा हो जाता है।

इस मामले में, यदि मार्केट बहुत ज्यादा वोलेटाइल है, तो मार्केट ऑर्डर का बाय/सेल ऑर्डर स्टॉप लॉस प्राइस पर बंद हो सकता है और नहीं भी हो सकता है। 

चूँकि ऑर्डर पूरा होने और स्टॉप-लॉस(Stop Loss Meaning in Hindi) के ट्रिगर होने के अवधि के दौरान सिक्योरिटीज के वोलेटाइल नेचर के कारण कीमतें बदल भी सकती है या नहीं भी बदल सकती है। 

स्टॉप-लॉस ऑर्डर निश्चित रूप से भर जाता है।

अगर लिमिट प्राइस का उल्लेख किया गया हो तो एक स्टॉप ऑर्डर भी लिमिट ऑर्डर में बदल सकता है।

इस मामले में जब कीमत, स्टॉप लॉस प्राइस तक पहुंच जाती है, तो ट्रेडिंग तुरंत पूरी नहीं होती, लेकिन जब कीमत एक तय की हुई सीमा पर पहुँच जाती है तब ट्रेडिंग पूरी होती है।

इसलिए, एक स्टॉप लिमिट ऑर्डर पूरा सकता है या नहीं भी हो सकता है,या आधा हो सकता है या पूरी तरह से हो सकता हैं लेकिन यह इस पर निर्भर करता है कि मार्केट आपको स्टॉप लॉस(Stop Loss Meaning in Hindi) प्राइस पर ट्रेडिंग करने की अनुमति देती है या नहीं।

यह ध्यान में रखा जाना चाहिए कि स्टॉप लॉस ऑर्डर हमेशा स्वीकार नहीं किए जा सकते हैं। 

एक्सचेंज में मार्केट निर्माताओं और विश्लेषकों के पास कुछ बाजार स्थितियों के तहत स्टॉप-लॉस ऑर्डर स्वीकार करने से इंकार करने का अधिकार है। साथ ही, सभी सिक्योरिटीज पर स्टॉप लॉस(Stop Loss Meaning in Hindi) लागू नहीं होते हैं।

सभी मामलों में, सलाह दी जाती है कि बहुत बड़े नुकसान से खुद को बचाने और कमाए हुए लाभ को बनाए रखने के लिए स्टॉप लॉस का उपयोग करना उचित होता है।


Stop Loss Strategy in Hindi 

जब आप अपने ट्रेडों में स्टॉप लॉस(Stop Loss Meaning in Hindi) का उपयोग करते हैं, तो इस कांसेप्ट का उपयोग करने के लिए कई रणनीतियों को रखा जा सकता है।

लेकिन क्या आप ऐसा करते हैं?

या आप स्टॉप लॉस के रूप में उपयोग कर रहे “सटीक” प्राइस पॉइंट को लेकर कंफ्यूज हैं।  यहाँ कुछ रणनीतियाँ दी गई हैं जिनका आप पालन कर सकते हैं:

वन साइज नेवर फिट्स ऑल (One Size NEVER fits all)

खैर,स्टॉप लॉस(Stop Loss Meaning in Hindi) की इस रणनीति को समझने के लिए, हम एक उदाहरण लेंगे।

मान लीजिए कि आप एक अस्थिर स्टॉक(volatile stock) के माध्यम से ट्रेड कर रहे हैं, उदाहरण के लिए – एबीसी कॉर्प जो कुछ नकारात्मक मीडिया रिपोर्टों के लिए चर्चा में रहा है। स्टॉक आमतौर पर 40 से 45 पीआईपी की सीमा में ट्रेड करता है।

इसलिए, स्टॉक प्राइस एवरेज मूवमेंट लगभग 5 PIP रहता है।

इस प्रकार, यदि स्टॉक में निवेश किया जाता है, तो 35-38 की रेंज में स्टॉप लॉस रखना समझदारी होगी।

उसी समय, मान लें कि आप एक कमोडिटी IRON (मेड-अप) में निवेश कर रहे हैं, जिसकी कीमत ₹500 है। इस कमोडिटी का एवरेज डेली मूवमेंट 30-40 PIP की रेंज में है।

अब, आप इस मामले में 5 PIP के समान नियम का उपयोग नहीं कर सकते हैं क्योंकि यहाँ मूवमेंट का लेवल और साइज अलग है।

इसलिए, कभी भी  अपने आप को पीआईपी इकाइयों की संख्याओं पर निर्भर न करें जो आपके द्वारा निवेश किए गए प्रत्येक प्रोडक्ट के लिए स्टॉप-लॉस(Stop Loss Meaning in Hindi) स्तर के रूप में काम करता है।

बहुत सारे नए ट्रेडर इस गलती को करते हैं और अंत में ट्रेडर को बहुत जल्दी से समाप्त कर देते हैं। 

लार्जर द स्टॉप लॉस, स्मॉलर योर पोजीशन (Larger the Stop Loss, Smaller Your Position)

यह स्ट्रैटजी समझने में आसान है।

स्टॉप-लॉस(Stop Loss Meaning in Hindi) वह प्राइस पॉइंट है जो आपको ट्रेड से बाहर निकलने में केवल विशिष्ट इकाइयों से दूर होता है। यदि आप एक बड़ा स्टॉप-लॉस लगाते हैं, तो आप करंट मार्केट प्राइस के पास आ रहे हैं और इस प्रकार, ट्रेडिंग में बने रहने के लिए बहुत कम जगह छोड़ते हैं।

हां, यह पूरे ट्रेड को कम जोखिम भरा बनाता है, लेकिन साथ ही, आपको वास्तव में मार्केट प्राइस के करीब छोड़ देता है। यदि मार्केट में मामूली उतार-चढ़ाव है, तो सबसे पहली बात यह है कि आप ट्रेड से बाहर निकल रहे हैं।

जबकि इस अस्थिर मार्केट(volatile market) में स्टॉक ने ट्रेंड को उलट दिया है और आपके टारगेट प्राइस को हिट किया है, जिससे आपको अपनी इच्छा अनुसार लाभ मिल रहा है। 

यदि आप ज्यादा जोखिम लेते हैं तो उच्च जोखिम के साथ साथ आपके प्रॉफिट की सम्भावना भी बढ़ जाती है। 

बाकी, यह आपके लिए जोखिम की क्षमता पर भी निर्भर करता है।

इसलिए, यह ज्यादातर यह सलाह दी जाती है कि आप हर बार जब आप अपने स्टॉप लॉस(Stop Loss Meaning in Hindi) और ट्रेड के लिए संबंधित टारगेट प्राइस को तय कर रहे हों, तो उससे पहले आप  विश्लेषण करें।

यह हमेशा ध्यान रखें कि आप यहां प्रॉफिट कमाने के लिए हैं और साथ ही स्टॉक में निवेश करते रहें। 

यूज़ वोलैटिलिटी स्टॉप्स (Use Volatility Stops)

जैसा कि नाम से पता चलता है, इस स्ट्रैटजी का मार्केट की अस्थिरता के साथ सीधा संबंध है। वास्तव में, आप मार्केट की मौजूदा अस्थिरता के आधार पर स्टॉप लॉस तय करते हैं।

उदाहरण के लिए, यदि मार्केट में उतार-चढ़ाव अधिक है, तो आप अपने स्टॉप लॉस और बड़े मार्केट स्विंग के लिए टारगेट प्राइस पॉइंट्स रखने में थोड़ा बढ़ते जा सकते हैं।

यदि अस्थिरता कम है, तो यह रेंज को सीमित रखने के लिए प्रयोग होता है (जैसा कि ऊपर की रणनीति में चर्चा की गई है)। 

यह समझना महत्वपूर्ण है कि जब आप एक वाइड स्टॉप लॉस(Stop Loss Meaning in Hindi) लगा रहे हैं, तो आपको स्टॉक को एक वाइड टारगेट प्राइस में रखना चाहिए ताकि आप रिस्क-रिवॉर्ड रेश्यो के मामले में संतुलित रहें।

आप एक ऐसे ट्रेड को देख सकते हैं जिसमें अधिक जोखिम की क्षमता है लेकिन सीमित लाभ की संभावना है।


स्टॉप लॉस ऑर्डर का उदाहरण 

हालाँकि, हमने ऊपर एक उदाहरण दिया है, लेकिन यह सुनिश्चित करने के लिए कि आप कांसेप्ट को अच्छी तरह समझते हैं कि नहीं उसके लिए एक और उदाहरण लेते हैं।

बता दें कि आपके पास ABC के 1000 शेयर हैं और प्रत्येक प्राइस की कीमत ₹200 हैं। 

 यदि आपके विश्लेषण के अनुसार मार्केट अस्थिर है तो मार्केट किसी भी दिशा में आगे बढ़ सकती है।

इस प्रकार, आपने उन शेयरों में से 500 शेयर में से बाहर निकलने का फैसला किया है।

तो इस मामले में आप क्या करेंगे?

यहाँ आपने ₹180 पर स्टॉप लॉस(Stop Loss Meaning in Hindi) लगाते हुए अपना टारगेट प्राइस ₹250 पर सेट किया है।  दूसरे शब्दों में, आपने मार्केट के बुलिश होने का अनुमान किया है, लेकिन आपके विश्लेषण के गलत होने पर आप नुकसान को सीमित करने की कोशिश कर रहे हैं।

इन प्राइस पॉइंट्स के साथ, यदि आपका विश्लेषण सही है, तो मार्केट नीचे की ओर जा रही है और 40% के संभावित लाभ के मामले में आप 10% की हानि देख रहे हैं।

हालांकि, इन दो प्राइस पॉइंट का चुनाव उपरोक्त में बताई गई रणनीतियों के आधार पर किया जाना चाहिए।

ट्रेलिंग स्टॉप लॉस 

एक ट्रेलिंग स्टॉप-लॉस आपके नुकसान को सीमित करने की सबसे कम मूल्यांकन(Rate) वाली तकनीकों में से एक है यह एक सामान्य स्टॉप लॉस(Stop Loss Meaning in Hindi) का विस्तार रूप है। 

यदि स्टॉक तेजी से बढ़ता है और आपके संभावित टारगेट प्राइस को हिट करता है, तो इस तकनीक के साथ आप अपने स्टॉप लॉस प्राइस पॉइंट को ड्रैग कर सकते हैं ।

सबसे अच्छी बात यह है कि यह अपने आप से प्रतिशत के आधार पर काम करता है और आपको हर बार इस टारगेट प्राइस को मैन्युअल रूप से ठीक नहीं करना होगा।

आइए, अच्छे से समझने के लिए एक और उदाहरण लेते हैं।

मान लें कि आप ₹500 की कीमत वाले प्रत्येक पैरेट ऑटो के 100 शेयर रख रहे हैं।

यदि आप 5% यानि 525 पर ट्रेलिंग स्टॉप-लॉस(Stop Loss Meaning in Hindi) को लगाते हैं, जबकि आपका टारगेट प्राइस ₹590 की सीमा में होता है।

अब, जाहिर है, अगर स्टॉक ₹525 के प्राइस पॉइंट को हिट करता है, तो आप ओवरऑल ₹2500 को हिट करते हुए ट्रेड से बाहर निकल जाएंगे।

लेकिन,

यदि स्टॉक मूल्य ₹570 में चला जाता है, तो आपका ट्रेलिंग स्टॉप-लॉस ₹541.5 पर स्टॉप-लॉस लाएगा।

तो, हाँ

यदि स्टॉक मूल्य  ₹525 के बजाय ₹541.5 के मूल्य को हिट करता है, तो आप ट्रेड से बाहर निकल जाएंगे।

क्या यह आपके संभावित नुकसान के खिलाफ ₹16.5 के विपरीत नहीं है ?  

यह वह स्टॉप लॉस है जो आपकी ट्रेड व्यवस्था को नुकसान पहुंचाता है। इस प्रकार, यह सलाह दी जाती है कि आप अपने ट्रेडों में जोखिम को कम करने के इस रूप का उपयोग करें।


इसके अलावा, यदि आप ऑनलाइन ट्रेडिंग करना चाहते हैं, लेकिन यह नहीं जानते कि आपके लिए कौन सा स्टॉक ब्रोकर सबसे अच्छा है, तो नीचे दी गई जानकारी भरें।

इसके बाद आपके लिए एक कॉल बैक की व्यवस्था की जाएगी।

Summary
Review Date
Reviewed Item
स्टॉपलॉस
Author Rating
51star1star1star1star1star

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

seven + fourteen =