ऑनलाइन ट्रेडिंग 

ऑनलाइन शेयर ट्रेडिंग के बारे में और भी

आज के समय में, ऑनलाइन ट्रेडिंग भी ऑनलाइन खरीदारी की तरह आसान हो गई है। निवेशक एक स्मार्ट फोन के मदद से कहीं भी बैठकर ट्रेडिंग कर सकता है।

निवेशक को इसके लिए सिर्फ एक अच्छा इंटरनेट कनेक्शन, 3-इन -1 अकाउंट, मोबाइल बैंकिंग ऐप और बैंक खाते में पर्याप्त धन की आवश्यकता है।

आज के इस बढ़ती टेक्नोलॉजी के युग में, आप सभी व्यस्त पेपरवर्क मोबाइल स्क्रीन पर एक क्लिक या टच के जरिए कर सकते है। ट्रेड के लिए कई फ्री और पेड मोबाइल और वेब एप्लिकेशन और पोर्टल इंटरनेट पर उपलब्ध हैं।

अगर ऑनलाइन ट्रेडिंग का सही तरीके से उपयोग किया जाए तो शेयर ट्रेडिंग आर्थिक रूप से फायदेमंद हो सकती है। 

भारत में ऑनलाइन ट्रेडिंग की शुरुआत के बाद से निवेश करना सुविधाजनक हो गया है। शेयर मार्केट में निवेश करने से मार्केट  में विभिन्न उतार-चढ़ाव चलता रहता है। जिसे निवेशक अपने फ़ोन पर देख सकते है

स्टॉक मार्केट में लॉन्ग-टर्म से मुनाफा कमाने की बात आती है तो ऑनलाइन ट्रेडिंग एक शानदार विकल्प है। हालाँकि, आपको इसमें अच्छा होने के लिए थोड़ा समय लग सकता है।

इसमें आप ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म, रिसर्च रिपोर्ट, स्टॉक के मूल्य विश्लेषण, बाजार समाचार, आदि के लिए सुरक्षित वास्तविक समय तक पहुंच प्रदान करके सभी आवश्यक सहायता और सहायता प्रदान करते हैं।

यदि आपके पास ट्रेडिंग अकाउंट और इंटरनेट कनेक्शन है तो आप शेयर खरीद या बेच सकते हैं। इतना ही नहीं, आप एक ही ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म के माध्यम से करेंसी, कमोडिटी आदि में ट्रेड कर सकते हैं।

प्लेटफ़ॉर्म आपको बिना किसी कठिनाई के ट्रेड करने में मदद करते हैं क्योंकि ये प्लेटफ़ॉर्म उच्च गति वाले ट्रेड को सक्षम करते हैं। 

इन प्लेटफॉर्म ने ट्रेडिंग करने के तरीके में क्रांति ला दी है। आप बस इन्हें अपने सिस्टम या मोबाइल पर डाउनलोड कर सकते हैं और ट्रेडिंग शुरू कर सकते हैं।

लेकिन आप इन सभी तकनीक का सही तरह से तभी इस्तेमाल कर पाएंगे जब आपको Share Market Meaning in Hindi की पूरी समझ हो।

आपको शेयर बाजार में निवेश करने के साथ-साथ भविष्य में होने वाले उतार चढ़ाव के बारे में पूरी जानकारी होना बहुत जरुरी है। Stock Market Prediction in Hindi में बाजार को लेकर कुछ ऐसी ही चीजों के बारे में बताया गया है.

अब आप यहाँ इस टॉपिक में नीचे ऑनलाइन ट्रेडिंग के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त करें  


ऑनलाइन शेयर ट्रेडिंग 

आप अपने घर बैठकर अपनी मर्जी से ट्रेड ऑर्डर दे सकते हैं या ऑर्डर रद्द कर सकते हैं। यह आपको ब्रोकर के किसी भी हस्तक्षेप के बिना ट्रेड के संबंध में अपना निर्णय लेने की अनुमति देता है।

आप शेयर खरीद सकते हैं या आईपीओ में निवेश कर सकते हैं या म्यूचुअल फंड भी खरीद सकते हैं।

किसी भी ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म की मदद से ट्रेडिंग (खरीदने या बेचने) की प्रक्रिया को ही ऑनलाइन शेयर ट्रेडिंग कहते हैं।

ऑनलाइन ट्रेडिंग के लिए प्रमुख सिक्योरिटीज में इक्विटी, कमोडिटी, और फॉरेक्स सेगमेंट शामिल है।

जबकि इक्विटी में कंपनियों के शेयर शामिल तो है कमोडिटी में गोल्ड, सिल्वर, क्रूड आयल, कॉपर इत्यादि शामिल है।

फॉरेक्स ट्रेडिंग में दो देशो के करेंसी पेअर के बीच ट्रेड की जाती है। इसमें INR-USD, INR- EURO, INR-YEN जैसे करेंसी पेअर शामिल है।

इसके साथ ही अगर आप इक्विटी और कमोडिटी के बारे में डिटेल में जानकरी लेना चाहते हैं तो आप Equity vs Commodity in Hindi लेख की समीक्षा करें। 

इसके अलावा अगर आप लंबे समय तक बाजार में अपनी मौजूदगी बना कर लाभ अर्जित करना चाहते हैं तो आप पोजिशन ट्रेडिंग कि तरफ जा सकते हो। अगर आप पोजिशन ट्रेडिंग के बारे में अधिक जानकारी लेना चाहते हैं तो आप Positional Trading Meaning in Hindi की समीक्षा कर सकते हैं।


ऑनलाइन शेयर ट्रेडिंग कैसे शुरू करें

ऑनलाइन ट्रेडिंग करने के लिए भी कुछ बुनियादी बातों को समझना बहुत महत्वपूर्ण है

ऑनलाइन ट्रेडिंग किसी भी सेबी पंजीकृत ब्रोकर के साथ केवल डीमैट और ट्रेडिंग खाता खोलकर किया जा सकता है। खाता खोलने का काम 15 मिनट में किया जा सकता है। 

इसके साथ खाता खोलने के लिए आवश्यक दस्तावेज पैन कार्ड, एड्रेस प्रूफ, आधार कार्ड, आधार से जुड़ा मोबाइल नंबर, बैंक स्टेटमेंट, रद्द किया गया चेक पत्ता और पासपोर्ट फोटोग्राफ हैं।

ट्रेडिंग मेंबर / ब्रोकर द्वारा जारी किए गए दस्तावेज़:

कॉन्ट्रैक्ट नोट:

ट्रेडिंग मेंबर या ब्रोकर को ट्रेड के पूरा होने के 24 घंटे के अंदर कॉन्ट्रैक्ट नोट जारी करना होता है। इन दिनों डिजिटल कॉन्ट्रैक्ट नोट जारी किए जाते हैं। 

आपको नियमित रूप से कॉन्ट्रैक्ट नोट्स की जांच करनी होगी और किसी भी डिस्क्रिपन्सी को तुरंत ब्रोकर के पास ले जाना होगा। ब्रोकर डिजिटल फॉर्मेट में फंड्स का तिमाही स्टेटमेंट भी जारी करता है।


ऑनलाइन ट्रेडिंग टूल्स

ऑनलाइन ट्रेडिंग के पीछे सफलता का राज एडवांस टेक्नोलॉजी रहा है। नयी टेक्नोलॉजी आने के बाद से एक ट्रेडर बिना स्टॉक ब्रोकर की मदद से भी ट्रेड कर सकता है।

यहाँ हमने एक सूची बनाई है जिसके मदद से एक निवेशक या ट्रेडर भी ट्रेड कर सकता है।

वेब ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म:

वेब ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म को एक्सेस करने के लिए एक स्टेबल इंटरनेट कनेक्शन होना चाहिए।

आपको बस अपने सर्विस प्रोवाइडर की वेबसाइट पर जाना होगा और अपना लॉगिन और पासवर्ड दर्ज करना है।

इसके बाद कोई भी ट्रेडर अपना ट्रेडिंग अकाउंट की सारी एक्टिविटी को एक्सेस कर सकता है। वेब ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म का बेहतर इस्तेमाल पर्सनल कंप्यूटर भी किया जा सकता है। जबकि इसे मोबाइल, टैबलेट पर भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

ये मूल रूप से स्लो इंटरनेट कनेक्शन वाले यूजर के लिए डिज़ाइन किया गया है।


डीलर-सहायक ट्रेडिंग 

यह ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म उनके लिए उपयुक्त है, जिनके पास अधिक समय नहीं होता है।

इसमें इन्वेस्टर पोजीशन लेने के लिए मार्केट एक्सपर्ट यानी डीलर की सहायता लेते है। ऐसे ट्रेडर ज्यादातर एक्टिव ट्रेडर नहीं होते और सेकेंडरी सोर्स के रूप में ट्रेड करते है।


ट्रेडिंग टर्मिनल 

ऐसे ट्रेडर जो हाई क्वांटिटी में ट्रेडर करते है उनके लिए ट्रेडर टर्मिनल उपयुक्त है। ये विशेष रूप से डे-ट्रेडर द्वारा इस्तेमाल किया है।

यह एक ट्रेडिंग सॉफ्टवेयर होता है जिसमे सभी जरुरी टेक्निकल इंडिकेटर, रिसर्च रिपोर्ट जैसे ऐड-ऑन शामिल है


मोबाइल ट्रेडिंग

ऑनलाइन ट्रेडिंग में मोबाइल ट्रेडिंग बहुत लोक्रपिय है। यह ट्रेडर को ट्रेडिंग करने का अनुभव बहुत आसान कर दिया है।

इसके जरिए आप कहीं भी बैठ कर आसानी से ट्रेड कर सकते हैं।


इसके अलावा भी कई ट्रेडिंग टूल है जो आपको ट्रेडिंग एक्सपीरियंस को सुखद बनाती है। ये ट्रेडिंग टूल निम्नलिखित हैं:

  • कॉल एंड ट्रेड
  • एसएमएस अलर्ट
  • स्मार्ट वॉच ट्रेडिंग

ऑनलाइन ट्रेडिंग के लाभ

  • आसान
  • किफायती
  • तेज और और कम समय
  • पूर्ण नियंत्रण
  • गलतियों की संभावना कम है
  • हर समय निवेश की निगरानी करें
  • रिपोर्ट एक्सेस करें

1. सरल:

यह एक ट्रेडर को परेशानी मुक्त ट्रेड अनुभव करने में सक्षम बनाता है। कोई भी इन प्लेटफार्मों का उपयोग कर सकता है क्योंकि ऑनलाइन ट्रेडिंग करने के लिए Specific Skill की आवश्यकता नहीं होती है।

2. कम खर्चीला है:

यह ट्रेड के पारंपरिक मोड की तुलना में कम खर्चीला है। ब्रोकर ऑनलाइन ट्रेडिंग को भी बढ़ावा देते हैं क्योंकि यह ब्रोकर द्वारा किए गए रखरखाव और अन्य लागतों को कम करता है।

3. जल्दी और कम समय लेने वाला:

ट्रेड सहज तरीके से और कम समय में किया जा सकता है। ऑनलाइन टेक्नोलॉजी  के आने से पहले, ट्रेड एक जटिल प्रक्रिया थी, क्योंकि आपको ट्रेड के ऑर्डर्स को रखने या रद्द करने के लिए ब्रोकर से मिलने या अपने ब्रोकर को बुलाना पड़ता था।

अब, आप सरल तरीके से स्मार्टफोन के माध्यम से भी ट्रेडिंग कर सकते हैं।

4. पूर्ण नियंत्रण

यह आपको अपने पोर्टफोलियो पर पूरा नियंत्रण रखने की अनुमति देता है। आप कभी भी कहीं से भी ट्रेड के ऑर्डर दे सकते हैं। यह ऑनलाइन ट्रेडिंग के कारण आपको मिलने वाली फ्लेक्सीबिलटी है।

5. गलतियों की संभावना कम है

ट्रेडिशनल  ऑफ़लाइन ट्रेडिंग के मामले में, ट्रेडर्स और ब्रोकर्स के बीच गलतफहमी के कारण गलतियों  की अधिक संभावना थी।

लेकिन ऑनलाइन ट्रेडिंग में, आप ब्रोकर के हस्तक्षेप के बिना ट्रेड आर्डर दे सकते हैं या रद्द कर सकते हैं और इसलिए अपने आप से ट्रेड लेनदेन को मैनेज  कर के भी रख सकते हैं।

6. हर समय निवेश की निगरानी करें:

आप कभी भी निवेश की निगरानी कर सकते हैं। आपके स्मार्टफोन में मोबाइल ट्रेडिंग एप्स डाउनलोड किए जा सकते हैं, जो आपको बाजारों के संपर्क में रहने में मदद करते हैं और कभी भी आपके निवेश की निगरानी करते हैं और उसी के अनुसार उचित रणनीतिक जानकारी लेते हैं।

जोखिम वाले स्टॉक को हटाया जा सकता है और मार्केट मूव्स के तरीके को देखते हुए प्रॉफिट मेकिंग स्टॉक्स को आपके पोर्टफोलियो में जोड़ा जा सकता है।

7. एक्सेस रिसर्च रिपोर्ट

आप विभिन्न चार्टों के आधार पर शेयर की कीमत पर शीर्ष अनुसंधान सिफारिशों, रिपोर्ट, विश्लेषण तक पहुंच प्राप्त कर सकते हैं। 

विभिन्न ब्रोकरेज वेबसाइटें हैं जिनके माध्यम से आप रिसर्च विशेषज्ञों के साथ भी चर्चा कर सकते हैं। आप वित्तीय सलाहकारों की मदद से भी सर्वश्रेष्ठ कदम उठा सकते हैं।


ऑनलाइन ट्रेडिंग के मामले में किए जाने वाले सुरक्षा उपाय:

  • ट्रेड ऑर्डर को पीसी या साइबर कैफे से शेयर नहीं करना चाहिए।
  • अपने खाते के किसी भी दुरुपयोग से बचने के लिए ट्रेड करने के बाद हमेशा लॉग आउट करें।
  • पर्सनल कंप्यूटर को एंटी-वायरस सॉल्यूशन लगाकर वायरस से बचाव करना होता है।
  • जब आप किसी भिन्न स्थान से अपने ट्रेडिंग खाते में प्रवेश करते हैं तो “रिमेम्बर मी” विकल्प पर क्लिक न करें।
  • कई ब्रोकरों द्वारा वित्तीय एसेट्स में निवेश की पेशकश की जाती है। आप यह चुन सकते हैं कि सेवाओं, ब्रोकरेज शुल्क आदि के आधार पर ब्रोकर्स की तुलना के बाद आपकी आवश्यकताओं और मांगों के अनुरूप क्या है। ऑनलाइन ट्रेडिंग आपको सबसे सुरक्षित तरीके से ट्रेड या निवेश करने में मदद करती है। ऑनलाइन ट्रेड करने के लिए सरल, आसान और तेज है।

निष्कर्ष 

यदि आप ऑनलाइन ट्रेडिंग करते है या करना चाहते है तो यहां इसके साथ कई निवेश विकल्प उपलब्ध हैं और आप अपनी आवश्यकताओं और सुविधा के अनुसार उन्हें चुन सकते हैं। 

लेकिन अगर आप अधिक मुनाफा कमाना चाहते है तो आपको अच्छा रिटर्न  पाने के लिए कम उम्र से ही अपना निवेश शुरू करना होगा।

आज की व्यस्त दुनिया में, तकनीकी विकास ने निवेश की पूरी प्रक्रिया को बिना किसी परेशानी के निवेश को शुरू करना आसान बना दिया है। 

स्मार्टफोन के जरिए भी निवेशक निवेश की पूरी जानकारी रख सकता है। आप बाजार के साथ हमेशा जुड़े रह सकते हैं क्योंकि शेयरों में निवेश करने के लिए शेयर बाजार की निरंतर निगरानी की आवश्यकता होती है।

यदि अपने इस टॉपिक लास्ट तक पूरा पढ़ा है  तो आप ऑनलाइन ट्रेडिंग के बारे में सारी जानकारी से अवगत हो चुके होंगे। 

ऑनलाइन  ट्रेडिंग शुरू करने  से पहले आपको एक डीमैट खाता खुलवाना होगा। 


इसलिए यदि आप शेयर मार्केट  में निवेश के लिए डीमैट खाता खुलवाना चाहते हैं, तो नीचे दिए गए फॉर्म में अपना विवरण दर्ज करें और आपके लिए कॉलबैक व्यवस्थित किया जाएगा: 


Online Trading FAQs in Hindi

क्या मैं ट्रेडिंग अकाउंट ऑनलाइन खोल सकता हूँ?

जी हाँ, आप केवल 15 मिनट के अंदर अपना ऑनलाइन अकाउंट खोल सकते हैं। 

ऑनलाइन अकाउंट खुलवाने के लिए क्या डॉक्युमेंट्स चाहिए? 

  1. पैन कार्ड 
  2. आधार कार्ड 
  3. आधार से जुड़ा मोबाइल नंबर
  4. एड्रेस प्रूफ 
  5. बैंक स्टेटमेंट 
  6. रद्द चेक 
  7. पासपोर्ट साइज फोटो

क्या ऑनलाइन ट्रेडिंग करना जोखिम से भरा है?

ऑनलाइन ट्रेडिंग ट्रेड करने का सबसे सुरक्षित तरीका है और यह बहुत ही सरल और आसान भी है।

क्या मुझे ऑनलाइन ट्रेडिंग शुरू करने के लिए अनुभव प्राप्त करना होगा?

नहीं। आप सही समय पर सही कदम उठाने के लिए फाइनेंशियल एडवाइजरी और रिसर्च रिपोर्ट की मदद ले सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

20 − nineteen =