Share Market in Hindi

शेयर मार्केट के अन्य लेख

भारत में 2 प्रतिशत से भी कम लोग ऑनलाइन ट्रेडिंग में रूचि रखते है। हमारे देश में बहुत कम लोग ही Share Market in Hindi में समझना चाहते हैं।ऐसा इसलिए है क्योंकि शेयर बाजार के बारे में लोगों के बीच काफी मिथक है।

कुछ लोग शेयर बाजार को गैंबलिंग से जोड़ते है। जी हाँ, सच में। 

जबकि कुछ लोगों को शेयर बाजार एक मुश्किल सब्जेक्ट लगता है।

इसलिए, एक स्टॉक मार्केट वेबसाइट होने के नाते हमारा फ़र्ज़ बनता है कि हम अपने सभी पाठकों को इन मिथक के बारे में स्पष्ट करें।  

इस पोस्ट में, हम आपके साथ Share Market in Hindi के सभी कॉन्सेप्ट को बहुत ही सरल और आसान तरीके से समझाने का प्रयत्न करेंगे। ताकि आपके मन में स्टॉक मार्केट से लेकर कोई भी भ्रम न हो और आप निश्चिंत होकर शेयर बाजार में निवेश कर पाएं। 

यह भी पढ़ें: BTST Trade in Hindi और डेब्ट मार्किट 


About Share Market in Hindi

शेयर बाजार – एक ऐसा बाजार है जहां विभिन्न व्यक्तियों, संस्थानों और निगमों द्वारा शेयर खरीदे और बेचे जाते हैं।ये शेयर अलग-अलग कंपनियों के होते हैं जो शेयर बाजार में विभिन्न एक्सचेंज पर लिस्टेड होते हैं। 

शेयर” शब्द का उपयोग किसी एक कंपनी या फर्म की हिस्सेदारी को दर्शाने के लिए करते हैं और बाजार उस स्थान को कहते हैं जहां खरीद-बिक्री या लेन-देन होती हैं।

इस खरीद-बिक्री को आम भाषा में ट्रेडिंग भी कहते है।

चलिए Share Market in Hindi को और आसान कर देते हैं।

इस तरह यह शेयर मार्केट बनता है जहाँ लोग शेयर की खरीदारी करते है। लेकिन शेयर मार्केट केवल यहीं तक सिमित नहीं है।

शेयर मार्केट एक बहुत बड़ा मार्केट है जहाँ शेयर, करेंसी, कमोडिटी इत्यादि जैसे अलग-अलग क्षेत्र में निवेश करने का विकल्प उपलब्ध होता है।

शेयर मार्केट देश की आर्थिक व्यवस्था के गति के बारे में भी एक रुझान देता है। इसलिए आप भले ही शेयर बाजार में ट्रेडिंग नहीं करते हो लेकिन देश की आर्थिक व्यवस्था को समझने के लिए शेयर बाजार के बारे में जानकारी रखना जरुरी है।


स्टॉक मार्केट और शेयर मार्केट के बीच अंतर क्या है?

अब बहुत से निवेशकों को शेयर मार्केट और स्टॉक मार्केट एक जैसी लगती हैं। हालांकि मूल रूप से कुछ ख़ास फर्क नहीं है लेकिन कुछ बातों का ध्यान रखना ज़रूर है।

शेयर मार्केट और स्टॉक मार्केट के बीच कोई मौलिक अंतर नहीं है। यह दोनों टर्म एक ही मार्केट को दर्शाने के लिए किया जाता है। इसमें बुनियादी अंतर शेयर और स्टॉक के बीच फ़र्क़ को समझना है।

जहाँ शेयर किसी कंपनी के एक शेयर को दर्शाने के लिए किया जाता है। जबकि स्टॉक मल्टीप्ल कंपनी के शेयर को दर्शाने के लिए करते है।

एक उदहारण की मदद से समझते हैं. मान लीजिये आपने रिलायंस कंपनी का शेयर खरीदा हो। तो आप बोलेंगे की आपके पास केवल रिलायंस का शेयर है।

दूसरी तरफ, अगर आपने रिलायंस के साथ TCS, अडानी का शेयर खरीदा है तो आपके पास कई कंपनी के स्टॉक है। बस इतना समझ लीजिये, के अगर एक कंपनी में आपने पैसा लगाया है तो उसके शेयर आपके पास हैं लेकिन अगर बहुत से कंपनीओं में आपने निवेश किया है तो आपके पास विभिन्न स्टॉक्स हैं.

इस प्रकार, आप शेयर मार्केट और स्टॉक मार्केट के बीच अंतर को समझ सकते है।

आपको शेयर बाजार से रिलेटेड एक और आवश्यक जानकारी साझा करते है। आपने अक्सर शेयर बाजार में बुल और बेयर मार्केट के बारे होगा। लेकिन क्या आपको इनका मतलब पता है?

चलिए जानते है बुल और बेयर मार्केट क्या है।    

शेयर मार्किट का एक और महत्वपूर्ण पहलू, मार्केट ट्रेंड को समझना है। जैसे, बाजार में तेजी या मंदी के रुझान को जानना महत्वपूर्ण है।

एक ट्रेडर को इस बात एक ज्ञानं भी होना चाहिए कि शेयर कब खरीदे

हालांकि, यह ट्रेंड माइक्रो और मैक्रोइकॉनॉमिक्स, उद्योग समाचार, कॉर्पोरेट मूवमेंट आदि सहित कई आंतरिक और बाहरी कारकों पर निर्भर करती है। जब बाजार में तेजी है या एक अपट्रेंड पर है, तो इसे एक बुल मार्केट कहा जाता है या आमतौर पर, हम कहते हैं कि बुलिश मार्केट है।

इसी प्रकार, यदि शेयर बाजार में गिरावट या मंदी का ट्रेंड है, तो बाजार को बेयर मार्केट के रूप में जाना जाता है।

क्या आप शेयर बाजार के इतिहास के बारे में जानते है? शेयर बाजार की शुरुआत कब और कैसे हुई? चलिए अब आगे इसी विषय पर बात करते हैं।


Share Market History in Hindi 

भारत में शेयर मार्केट की शुरआत 18 वीं शताब्दी के आसपास शुरू हुई थी। जब कुछ ट्रेडर मुंबई के टाउन हॉल के सामने एक बरगद के पेड़ के नीचे ट्रेडिंग की शुरुआत की थी।

ये कुछ ट्रेडर तब कॉटन का व्यापर करना शुरू किया था।

चूँकि, मुंबई एक व्यस्तम ट्रेडिंग पोर्ट था और ज्यादातर आवश्यक कमोडिटी का लेनदेन यही से होता था। लगभग दो दशक बाद ब्रोकर की संख्या बढ़ने लगा और फिर दलाल स्ट्रीट में एक ट्रेडर का ग्रुप बनाया गया। इस ग्रुप का नाम द नेटिव शेयर एंड स्टॉक ब्रोकर्स एसोसिएशन” दिया गया। 

इसके बाद निरंतर बदलाव किये गए और 1956 में पहला मान्यता प्राप्त स्टॉक एक्सचेंज अस्तित्व में आया।  1986 में, बीएसई स्टॉक एक्सचेंज की स्थापना हुई जो 30 स्टॉक का एक एक एक्सचेंज है। 

वर्तमान में, बीएसई दुनिया 10 वां सबसे बड़ा स्टॉक एक्सचेंज है।  


Share Market Basics in Hindi

अगर आप शेयर मार्केट (Share Market in Hindi) की मूलभूत बातों को समझना चाहते हैं तो शुरुआत अपने सेविंग अकाउंट के प्रबंधन से करना होगा।

चूँकि, शेयर बाजार में लाभ और जोखिम दोनों शामिल हैं, इसलिए अपने मेहनत की जमा-पूँजी को मैनेज करना आना चाहिए।यदि आप शेयर बाजार में प्रवेश करने की योजना बना रहे हैं तो आपको यह ध्यान में रखना होगा की शेयर बाजार कुछ निर्धारित नियम, जोखिम, रिटर्न और बाहरी कारकों पर निर्भर करता है।

साथ ही आपको निवेश करने का उद्देश्य, रिटर्न की संभावना, जोखिम लेने की क्षमता, बाजार की समझ, ब्रोकर पर निर्भरता का स्तर जैसी महत्वपूर्ण बातों को जरूर नोट करना चाहिए।

इसके अलावा, आपको शेयर बाजार में निवेश से संबंधित उतार-चढ़ाव (Volatility) को समझने की आवश्यकता है।

उदाहरण के लिए, शेयर बाजार रियल एस्टेट, फिक्स्ड डिपॉजिट (FD), गोल्ड में निवेश आदि की तुलना में अधिक वोलेटाइल/अस्थिर है। जबकि यह क्रिप्टोक्यूरेंसी या तेल और गैस ड्रिलिंग की तुलना में कम अस्थिर है।

चलिए अब Types of Share Market in Hindi की तरफ बढ़ते हैं।

शेयर मार्केट में निवेश करने का पहला नियम यह होता है कि आपके पास शेयर मार्केट अकाउंट होना चाहिए और अगर आप भी इस बात की जानकारी लेना चाहते है की शेयर मार्किट में अकाउंट कैसे खोले तो ये आर्टिकल आपकी मदद करेगा

Also Read: Share Market Investment in Hindi


शेयर बाजार के प्रकार (Types of Share Market in Hindi)

शेयर मार्केट में दो अलग-अलग प्रकार के बाजार हैं:

  • प्राइमरी शेयर मार्केट
  • सेकेंडरी शेयर मार्केट

जब कोई कंपनी किसी भी एक्सचेंज में सूचीबद्ध नहीं होती है और पब्लिक से पैसा जुटाना चाहती है, तो वे एक आईपीओ (इनिशियल पब्लिक ऑफरिंग) लेकर आते हैं।

आईपीओ के साथ, एक कंपनी को आपके और मेरे जैसे सामान्य निवेशकों से फंडिंग मिलता है जबकि निवेशकों को बदले में कंपनी में एक विशिष्ट हिस्सेदारी मिलती है। आईपीओ के माध्यम से यह शेयर एलोकेशन प्राइमरी मार्केट में किया जाता है।

दूसरी तरफ, जब हम शेयर बाजार में सामान्य ट्रेडिंग के बारे में बात करते हैं, जहां ट्रेडर एक-दूसरे से स्टॉक खरीदते हैं और बेचते हैं, तो इस तरह का बाजार सेकेंडरी शेयर मार्केट है. लिस्टेड कंपनियों के शेयरों की कीमत सेकेंडरी बाजार में नियंत्रित होती है।


Share Market Kaise Kaam Karta Hai?

शेयर मार्केट एक इलेक्ट्रॉनिक मार्केट है जहाँ ट्रेडर्स एक दूसरे से शेयर खरीदते और बेचते हैं। 

बीएसई और एनएसई स्टॉक एक्सचेंज पर लिस्टेड कंपनियों के शेयर ब्रोकर्स के माध्यम से ट्रेड किये जाते हैं।  अब आप सोच रहे होंगें कि शेयर मार्केट अपने काम को कैसे करती है?

तो, चलिए आपको शेयर मार्किट में होने वाले कामों के बारे में विस्तार से बताएंगें। 

शेयर मार्केट सेक्टर 

शेयर मार्केट को 11 सेक्टर में बाँटा गया है और ट्रेडर अपनी आवश्यकता के अनुसार इन सेक्टर में से किसी को चुन सकता है। 

यह विभिन्न सेक्टर इस प्रकार हैं।

  • फाइनेंशियल 
  • कस्टमर डिस्क्रिशनरी 
  • उपयोगिताओं
  • सूचना प्रौद्योगिकी
  • हेल्थकेयर 
  • इंडस्ट्री
  • संचार
  • एनर्जी 
  • रियल एस्टेट
  • मैटेरियल्स 
  • कंज्यूमर स्टेपल्स  

शेयर मार्किट के साथ-साथ ये सेक्टर्स भी तेज़ी से ग्रोथ कर रहे हैं और यह अलग-अलग इंडस्ट्री को कवर करते हैं। इन सेक्टर में से किसी बेस्ट सेक्टर का चुनाव करना थोड़ा मुश्किल हो सकता है। लेकिन कुछ ऐसे सेक्टर हैं जिनमें निवेश करके आप अच्छा रिटर्न प्राप्त कर सकते हैं।


शेयर बाजार का विकास

जब हम शेयर बाजार के ग्रोथ की बात करते हैं, तो इसे कई दृष्टिकोणों से देखा जा सकता है। यह विकास संस्थाओं की हो सकती है जैसे:

  • बाजार में कुल ट्रेडर की संख्या
  • स्टॉकब्रोकिंग कंपनियों की संख्या, जो ट्रेडिंग सेवाएं प्रदान करती हैं। 
  • नयी एक्सचेंज की संख्या
  • लेन-देन का मौद्रिक पैमाना
  • पूरे किये गए लेनदेन की संख्या
  • विभिन्न सूचकांकों का ओवरऑल मूल्यांकन

शेयर मार्केट के विकास को आंकने के लिए कुछ पैमाना भी हो सकते हैं। इस संदर्भ के लिए, पिछले कुछ वर्षों में सेंसेक्स के बारे में बात करते हैं। नीचे दी गई टेबल में पिछले 12 वर्षों में बीएसई सेंसेक्स कैलकुलेशन का उल्लेख किया गया है और यह अपने पैमाने पर कैसे बढ़ा है।

इसके अलावा, यहां बाजार के ट्रेंड और गति के आधार पर बीएसई के अपेक्षित पूर्वानुमान पर एक त्वरित नज़र है। यह पूर्वानुमान कुछ महीनों के लिए किया जाता है:


शेयर बाजार की अस्थिरता (Stock Market Volatility)

शेयर बाजार में अस्थिरता आपको संबंधित स्टॉक या इंडेक्स से जुड़े जोखिम का आंकलन देती है। उच्च अस्थिरता का मतलब उच्च जोखिम है।

यदि स्टॉक या किसी भी इन्वेस्टमेंट प्रोडक्ट के वैल्यू में अधिक उतार-चढ़ाव होता है, तो यह एक अत्यधिक वोलेटाइल/अस्थिर स्टॉक माना जाता है। अगर बाजार (Share Market in Hindi) में इस तरह के बहुत उतार-चढ़ाव हो रहे हैं, तो इसका मतलब यह होगा कि स्टॉक में पर्याप्त मात्रा में जोखिम है और साथ ही ट्रेडर अपनी पूँजी को निवेश कर रहे हैं।

इस प्रकार, यदि आपकी जोखिम क्षमता अधिक है, तो आप ऐसे शेयरों में निवेश कर सकते हैं जो अत्यधिक वोलेटाइल हैं।

इसके साथ ही, यदि आप कम लेकिन लगातार रिटर्न में विश्वास करते हैं, तो आप अधिक स्थिर और कम वोलेटाइल शेयरों में निवेश करना चुन सकते हैं। किसी स्टॉक की वोलैटिलिटी का पता लगाने के लिए, उस स्टॉक के ऐतिहासिक रुझानों (Historical Trend) को विभिन्न चार्ट के माध्यम से देखें।

आप चार्ट में टाइमलाइन को 6 महीने से लेकर कुछ साल तक के रुझान का पता लगा सकते हैं। इस प्रकार, यह आपको एक आईडिया देगा कि कैसे विभिन्न शेयर एक-दूसरे की तुलना में व्यवहार करते है।

इसके प्राइस पॉइंट में जितना अधिक परिवर्तन होगा, उतना ज्यादा वोलैटिलिटी के साथ उच्च जोखिम और अधिकतम संभावित रिटर्न होगा। 


शेयर मार्केट रिटर्न

जैसे फिक्स्ड डिपॉजिट या गोल्ड के मामले में, कोई भी विशिष्ट रिटर्न प्रतिशत की गारंटी नहीं दे सकता है।

हालाँकि, यदि आप रिटर्न को केवल एक “आईडिया” प्राप्त करना चाहते हैं, तो आप भारत में शेयर बाजार (Share Market in Hindi) से लगभग 15% से 18% तक रिटर्न की उम्मीद कर सकते हैं।

यह इस धारणा पर आधारित है कि आपने स्टॉक मार्किट में अपनी पूंजी निवेश करने से पहले एक अपेक्षित रिसर्च किया है या किसी पेशेवर से सलाह ली है। अगर आपके पास एक क्वालिटी पोर्टफोलियो है तो यह रेंज ज्यादा भी हो सकता है। जबकि, एक उद्देश्यहीन पोर्टफोलियो को नुकसान भी हो सकता है।

इसके अलावा, शेयरों में रिटर्न उस क्षेत्र पर भी निर्भर कर सकता है, जिसमें आप निवेश कर रहे हैं। जबकि एक क्षेत्र आकर्षक हो सकता है, तो दूसरे में नतीजे आ सकते हैं। यहां कुछ सेक्टर से प्राप्त सालाना रिटर्न के बारे में एक त्वरित जानकारी दी गयी है:


शेयर की मार्केट वैल्यू

शेयर मार्केट से संबंधित एक और महत्वपूर्ण कांसेप्ट है और वह शेयर की मार्केट वैल्यू है। 

जब कोई कंपनी आईपीओ के माध्यम से पहली बार शेयर बाजार में सूचीबद्ध होती है, तो एक विशेष इशू प्राइस होता है जिसे आईपीओ कंपनी के लिए काम करने वाले अंडरराइटर द्वारा स्थापित किया जाता है।

हालांकि, सेकेंडरी मार्केट में समय के साथ शेयर के मूल्य में बहुत उतार-चढ़ाव होता रहता है। यह बिज़नेस की गतिशीलता, इंडस्ट्री या सेक्टर, इंडस्ट्री पर सरकारी नियामक, मैक्रो और माइक्रोइकॉनॉमिक प्रभावों, वैश्विक कारकों के साथ-साथ प्रबंधन की आंतरिक गति के साथ बहुत कुछ निर्भर करता है।

उदाहरण के लिए, सिम्फनी लिमिट्स, शेयर की कीमत वर्ष 2008 में 2.33 थी जबकि इसकाकरंट मार्केट 1011.45 है। इसी तरह, बजाज फाइनेंस उस समय 6.75 पर था और अब इसे 2593.75 के बाजार मूल्य पर रखा गया है।

इसका एक और तरीका है।

उदाहरण के लिए, रिलायंस इंफ्रा को 2014 में 562.50 पर रखा गया था, जबकि अब यह 20.90 पर है। वहीं, 2014 में वीडियोकॉन इंडस्ट्रीज का स्टॉक 159.35 था और फिलहाल 2.59 है।इस प्रकार, ये उदाहरण “शेयर बाज़ार क्या है”  के पूरे कांसेप्ट को समझने में मदद करता है।


Share Market Timing in Hindi

जब आप शेयर बाजार (Share Market in Hindi) में ट्रेड करते हैं, तो कुछ बातों से अवगत होना आवश्यक है:

  • लेनदेन की तारीख।
  • सेटलमेंट की तारीख।

उदाहरण के लिए, यदि आपने डिलीवरी ट्रेड के रूप में मंगलवार, 1 मार्च 2005 को इंफोसिस के 100 शेयर खरीदते है।

फिर, एक T + 2 (ट्रेडिंग डे + 2 कार्य दिवस) सेटलमेंट साइकिल में ट्रेड को प्लेस करना होगा।

इसका मूल रूप से तात्पर्य है कि आपके द्वारा खरीदे गए शेयर 2 ट्रेडिंग कार्य दिवस के बाद आपके डीमैट खाते में दिखाई देंगे यानी 3 मार्च 2005 (ये मान कर चलें की इन तिथियों के बीच कोई स्टॉक मार्केट छुट्टियां नहीं हैं)।

किसी समय पर ट्रेड को प्लेस करने के लिए T +5 (ट्रेडिंग डे + 5 कार्य दिवस) का समय लगता था, लेकिन ऑपरेशनल प्रक्रियाओं सुधार और टेक्नोलॉजी में प्रगति के साथ, अब यह T + 2 दिनों में दिया जाता है।

याद रखें, आपको इन सेटलमेंट साइकिल से सावधान रहना होगा, यदि आप कोई एक ऑर्डर डाल रहे हैं जिसके लिए आपको वास्तव में एक शेयर की आवश्यकता होती है और फिर इसे अपने डीमैट खाते में जमा किया जाता है।

उदाहरण के लिए, यदि आप एक इंट्राडे आधारित ट्रेड दे रहे हैं और आप दिन के अंत तक अपनी पोजीशन को बंद / बाहर निकलने जा रहे हैं, तो उस मामले में – कोई सेटलमेंट नहीं होगा।

जहां तक ट्रेडिंग अवधि का संबंध है, माना जाता है कि एक्सचेंज के आधार पर एक अलग-अलग अवधि होती है।

उदाहरण के लिए, BSE या बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज के लिए, ट्रेडिंग अवधि हर कारोबारी दिन 9:15 से 3:39 बजे के बीच होता हैं, जबकि NSE  टाइमिंग 9:15am से 3:30 pm के बीच है।


शेयर मार्केट खुलने का समय 

शेयर बाजार सभी कार्यदिवस पर सुबह 09:15 AM में ट्रेडिंग के लिए नियमित आधार पर खुलता है।

हालाँकि, कुछ समयसीमाएँ हैं जिनसे आपको अवगत होना आवश्यक है। ऑर्डर एंट्री और बदलावों के लिए प्रातः 09:00 बजे से प्रे-ओपनिंग सेशन होता है जो सुबह 09:08 बजे तक रहता है।

और इससे पहले 08:45 AM से 09:00 AM के बीच ब्लॉक डील सेशन होता है। इन 15 मिनटों के दौरान, दो पक्षों के बीच डील को ब्लॉक किया जाता हैं जहां लेनदेन का आकार न्यूनतम ₹5 लाख शेयरों या न्यूनतम मूल्य ₹5 करोड़ होता है।

इन सौदों का विवरण स्टॉकब्रोकर द्वारा ट्रेडिंग सत्र के अंत में अपने ट्रेडिंग ग्राहकों को दिया जाता है।

इस पर अधिक जानकारी विश्लेषण के बाद में दिया गया है।

शेयर मार्केट बंद होने का समय

जहां तक नियमित ट्रेडिंग सत्र का सवाल है, शेयर बाजार दोपहर 03:30 बजे बंद हो जाता है।

हालाँकि, इस मामले में भी कुछ आवश्यक जानकारी हैं जिनसे आपको अवगत होना चाहिए। जैसे सुबह के सत्र के मामले में, दोपहर में एक ब्लॉक डील सेशन होता है, जो दोपहर 02:05 बजे से 2:20 बजे के बीच होता है।

इसके अलावा, अपराह्न 03:30 बजे से 03:40 बजे के बीच एक क्लोजिंग सेशन के साथ-साथ शाम 03:40 से शाम 04:00 बजे के बीच एक कंसोलिडेशन सेशन भी है।

Share Market Holidays in Hindi

शेयर बाजार आम तौर पर सार्वजनिक अवकाश और छुट्टियों पर बंद होता है जो राज्य या केंद्रीय चुनाव आदि पर आधारित होते हैं।

यहाँ शेयर बाजार द्वारा घोषित छुट्टियों में से कुछ पर एक त्वरित नज़र है:

आप विभिन्न इंडेक्स के लिए उपरोक्त टेबल से पता लगा सकते हैं कि शेयर बाजार आज बंद है या नहीं।


शेयर मार्किट के पार्टिसिपेंट

शेयर बाजार के ओवरऑल मैनेजमेंट में कई पार्टिसिपेंट हैं, जिनमें प्रत्येक इकाई अपने कार्य को पूरा करती है। आइए देखें कि स्टॉक मार्केट कैसे काम करता है:

शेयर मार्केट रेगुलेटर

हमारे देश में बैंकिंग सेक्टर को RBI (भारतीय रिज़र्व बैंक) द्वारा नियंत्रित किया जाता है, इसी तरह भारतीय शेयर बाजार को सेबी द्वारा नियंत्रित किया जाता है।

SEBI Ka Full Form सिक्योरिटीज एंड एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया होता है।  

इस रेगुलेटरी बॉडी का सबसे पहला काम, निवेशकों के बीच शेयर मार्केट को बढ़ावा देने और विकसित करते हुए शेयर मार्केट इन्वेस्टमेंट के लिए अनुकूल और सुरक्षात्मक वातावरण प्रदान करना है।

सेबी की स्थापनासेबी एक्ट 1992 के अनुसार की गई थी।

जिसे कानूनी अधिकार क्षेत्र के तहत रखने के लिए स्थापित किया गया था। भारत के कुछ अन्य महानगरों में भी आज मौजूद है और इसका मुख्यालय मुंबई में है।

अजय त्यागी सेबी के वर्तमान अध्यक्ष हैं।

मुख्य रूप से, सेबी का कार्य शेयर बाजार के नियम तय करने है जिससे बाजार सही ढंग से काम कर सके।


शेयर बाजार एक्सचेंज

विभिन्न शेयर मार्किट (Share Market in Hindi) एक्सचेंज हैं जो संभावित निवेशकों के लिए अलग-अलग निवेश और ट्रेडिंग विकल्प प्रदान करते हैं। उनमें से कुछ नीचे सूचीबद्ध हैं:

NSE या नेशनल स्टॉक एक्सचेंज भारत में सबसे बड़ा एक्सचेंज है। इसे वर्ष 1992 में शामिल किया गया था और वास्तव में यह भारत में पहला एक्सचेंज था। यह भौतिक शेयरों के उपयोग के बिना स्क्रीन-आधारित इलेक्ट्रॉनिक ट्रेड प्रदान करता था।

NSE पर कुल 1696 कंपनियां सूचीबद्ध हैं। लेकिन टॉप 50 कंपनियों को प्रमुख रूप से ट्रेडिंग और ऑर्डर प्लेसमेंट के लिए उपयोग किया जाता है।

इंडेक्स निफ्टी 50 एनएसई के तहत सबसे प्रमुख इंडेक्स में से एक है। एनएसई का मौद्रिक साइज़ (Monetary Size) 1.5 ट्रिलियन डॉलर के करीब है जो एनएसई को दुनिया के टॉप 10 एक्सचेंजों में से एक बनाता है।

यदि आप NSE सूचीबद्ध कंपनियों में निवेश करना चाहते हैं, तो इक्विटी ट्रेडिंग के अलावा, आप कमोडिटी, करेंसी, डेरिवेटिव आदि जैसे अन्य सेगमेंट में ट्रेड कर सकते हैं।

क्विक फैक्ट: NSE हर दिन 500 मिलियन से अधिक के ऑर्डर संसाधित करता है और 99.99% का अपटाइम होने का दावा करता है।

बीएसई या बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज दुनिया में सबसे पुराने स्टॉक एक्सचेंजों में से एक है और वास्तव में, पहला एशियाई स्टॉक एक्सचेंज है।

इसे वर्ष 1855 में वापस लॉन्च किया गया था और अंततः 1957 में भारत सरकार द्वारा ईसे मान्यता प्राप्त हुई थी। कुल मिलाकर, इस एक्सचेंज में 5749 कंपनियां सूचीबद्ध हैं और ट्रेडर इन सूचीबद्ध कंपनियों में इस एक्सचेंज पर ट्रेड करते हैं।

इन 5000+ सूचीबद्ध कंपनियों में से, सेंसेक्स इंडेक्स को एक घटक के रूप में उपयोग किया जाता है जो मार्केट के मूवमेंट को दर्शाता है। इस निगरानी के लिए सेंसेक्स कुल सूचीबद्ध कंपनियों में से 30 का उपयोग करता है।

बीएसई की कुल मार्केट कैप ₹175+ लाख करोड़ है।

क्विक फैक्ट: बीएसई सेंसेक्स 6 माइक्रोसेकंड के ट्रेड की औसत गति के साथ दुनिया में सबसे तेज़ एक्सचेंज होने का दावा करता है।

  • MCX (मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज)

MCX या मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज ऑफ इंडिया लिमिटेड, जैसा कि नाम से पता चलता है, एक स्वतंत्र कमोडिटी डेरीवेटिव आधारित एक्सचेंज है। इसका मुख्यालय मुंबई में है और इसे 2003 में स्थापित किया गया था। हालांकि, यह सितंबर 2015 तक सेबी के नियमों के तहत आया था।

इस एक्सचेंज का 2017 में कुल कारोबार लगभग 13 ट्रिलियन दर्ज किया गया था, जो इसे दुनिया के सबसे बड़े कमोडिटी एक्सचेंजों में से एक बनाता है।

इस एक्सचेंज द्वारा प्रस्तावित कई कमोडिटी प्रकारों में मेटल, एनर्जी, बुलियन, एग्रो कमोडिटीज शामिल हैं।

क्विक फैक्ट: MCX भारत का पहला सार्वजनिक रूप से सूचीबद्ध विनिमय है।

  • NCDEX (नेशनल कमोडिटी एंड डेरिवेटिव्स एक्सचेंज लिमिटेड)

NCDEX एक अपेक्षाकृत छोटा एक्सचेंज है और MCX की तरह, यह एक कमोडिटी आधारित स्टॉक एक्सचेंज है। यह एक्सचेंज 2003 में स्थापित किया गया था और इसमें लगभग 900 पंजीकृत सदस्य हैं जिनमें 25 लाख से अधिक ग्राहक आधार हैं।

NCDEX की दिल्ली, मुंबई, हैदराबाद, कोलकाता आदि सहित देश के 7 मेट्रो शहरों में मौजूदगी है। यदि आप स्टॉक ब्रोकर की तलाश में हैं जो NCDEX का सदस्य है, तो आप कृषि और गैर-कृषि दोनों स्थित वस्तुओं में ट्रेड कर सकते हैं।


शेयर बाजार इंडेक्स

जैसा कि ऊपर बताया गया है, प्रत्येक एक्सचेंजों में 1000 तक सूचीबद्ध कंपनियां शामिल होती है। जाहिर है, बाजार का औसतन मूल्य प्राप्त करने के लिए इन सभी कंपनियों को ट्रैक करना असंभव है।

यही कारण है कि शेयर बाजार में विभिन्न एक्सचेंजों के तहत अलग-अलग सूचकांक हैं जो निवेशकों और ट्रेडर को उस रुझान को समझने में मदद करते हैं जिसमें बाजार चल रहा है।

उदाहरण के लिए, सेंसेक्स और निफ्टी नामक सूचकांक हैं। इनमें से प्रत्येक सूचकांक कुछ कंपनियों के मौजूदा बाजार मूल्य के सारांश से बना है। ये कंपनियां यह सुनिश्चित करने के लिए विभिन्न क्षेत्रों और डोमेन से आती हैं कि किसी विशेष कंपनी या व्यावसायिक क्षेत्र की ओर कोई झुकाव नहीं है।

एक शेयर बाजार (Share Market in Hindi) सूचकांक नीचे उल्लिखित निम्नलिखित तरीकों से सहायता करता है:

  • उन सभी कंपनियों को फ़िल्टर करना जो सभी कंपनियों को ट्रैक करने के बजाय गति को बना या तोड़ सकते हैं।
  • सूचकांक, बाजार के मानक के रूप में कार्य करते हैं। दूसरे शब्दों में, यदि आप एक समग्र स्तर पर इंडेक्स द्वारा प्रदान किए गए रिटर्न को हासिल कर लेते हैं, तो आप बाजार में बहुत अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं।
  • सूचकांक ट्रेडर की भावना को यथासंभव समझने में मदद करता हैं।

भारतीय शेयर बाजार में कुछ सूचकांक सेंसेक्स, निफ्टी 50, निफ्टी BSE बैंकेक्स, BSE स्मॉल कैप, BSE एनर्जी इत्यादि हैं।


शेयर मार्केट टिप्स 

जब आप ट्रेड या निवेश करने के लिए शेयर बाजार में प्रवेश करते हैं, तो कुछ Tips For Share Market in Hindi हैं जिन्हें आपको याद रखना चाहिए:

मूल विचार यह है कि अपने जोखिमों को कम से कम रखें (हालाँकि, यह आपकी जोखिम क्षमता पर भी निर्भर करता है) और मुनाफे की संभावना को अधिकतम बनायें।

इन टिप्स के अलावा कुछ ओर शेयर मार्केट के टिप्स है जिनके बारे में नीचे चर्चा की गई है:


शेयर मार्केट कैसे सीखें?

Share Market in Hindi सीखने से पहले आपको यह जान लेना चाहिए कि शेयर मार्केट में उसी निवेशक को ट्रेड करना चाहिए जिसमें जोखिम उठाने की क्षमता हो।

हम ऐसा इसलिए कह रहे हैं क्योंकि शेयर मार्केट में फायदे के साथ-साथ नुकसान भी होता है। शेयर मार्केट में निवेश के लिए समझ और स्ट्रैटजी के साथ-साथ धैर्य बेहद जरूरी है क्योंकि यह अच्छा रिटर्न कमाने का मूलमंत्र है। यदि आप इन बातों को ध्यान में रखते हैं तो ये आपको अच्छा रिटर्न तो देती ही है और इसके साथ-साथ आपके पैसे डूबने से बचाती हैं। 

शेयर मार्केट की कुछ महत्वपूर्ण बातें हैं जिनको ध्यान में रखकर ही आपको निवेश करना चाहिए, जैसे कि:

  1. अपने फाइनेंशियल गोल्स को ध्यान में रखें। 
  2. शेयर मार्केट में निवेश करने के अलग-अलग तरीकों को समझें।
  3. उतना ही जोखिम उठाएं जितनी आप में जोखिम उठाने की क्षमता हो।
  4. एडवाइजरी से सलाह लें।
  5. फाइनेंशियल सेगमेंट के बारे में पूरी तरह से जानकर उसमें निवेश करें।

यदि आप ऊपर बताई बातों को दिमाग में रखकर ट्रेड करेंगें तो आप अच्छा लाभ कमा सकते हैं।

शेयर मार्केट में निवेश कैसे करें?

शेयर बाजार में निवेश करने के लिए सबसे पहले आपका डीमैट खाता होना आवश्यक है। डीमैट खाता खोलने के लिए आवश्यक दस्तावेज़ होते हैं जिन्हें जमा करना जरूरी होता है।जिसमें पैन कार्ड एक महत्त्वपूर्ण दस्तावेज़ है, इसके बिना आप आगे की प्रक्रिया को पूरा नहीं कर सकते। 

डीमैट खाता खोलने के बाद अपने लिए एक स्टॉकब्रोकर को चुनें। ध्यान रखें कि हर स्टॉकब्रोकर अलग-अलग सर्विसेज प्रदान करता है। इसलिए स्टॉक ब्रोकर पर रिसर्च करने के बाद ही उपयुक्त स्टॉक ब्रोकर का चयन करें। 

निवेश करने के लिए सबसे पहले यह तय करें कि आपको किस सेगमेंट में, कितने समय तक तक निवेश करना है। इतना ही नहीं, आपको निवेश करने के लिए कैपिटल और जोखिम क्षमता को भी ध्यान में रखना होगा। एक बार जब आप स्टॉक मार्किट में प्रवेश लेते हैं तो आपको यह भी सुनिश्चित करना होगा कि आपको कब शेयर खरीदने है और कब बेचने हैं। 

अपने ऑर्डर प्लेस करने के लिए आप कुछ ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म का भी उपयोग कर सकते हैं। आखिर में, यदि Share Market in Hindi में निवेश करते हुए आपको नुकसान भी हो तो उससे घबराएं नहीं बल्कि अपनी गलती से सीख लें। 

ट्रेडिंग करते हुए स्टॉप लॉस और टारगेट प्राइस रूल को फॉलो करें। इससे नुकसान की सम्भावना कम हो जाती है। 

Share Market Books in Hindi:

आप उपरोक्त बताई बातों के अलावा शेयर बाजार की किताब पढ़ कर भी जानकारी हासिल कर सकते हैं। बाजार में शेयर बाजार से संबंधित बहुत सारी किताबें हैं, जो आपको शेयर बाजार में निवेश करने में सहायक होगी।

निम्नलिखित कुछ चुनिंदा किताबों की सूची है:

  1. द इंटेलिजेंट इन्वेस्टर 
  2. हाउ टू मेक मनी ट्रेडिंग विथ कैंडलस्टिक्स चार्ट्स 
  3. एवरीथिंग यू वांट टू नो अबाउट स्टॉक मार्केट इन्वेस्टिंग 
  4. कैसे स्टॉक मार्केट में निवेश करें?
  5. इंट्राडे ट्रेडिंग की पहचान 

शुरुआती ट्रेडर ये गलतियाँ ना करें:

नए ट्रेडर अन्य ट्रेडर्स की देखादेखी में बहुत सी गलतियां कर बैठते हैं। 

इसलिए निवेशकों को कुछ बातों को ध्यान में रखना चाहिए, जैसे कि:

  • मार्केट की जानकारी के बिना ट्रेडिंग ना करें।
  • अन्य ट्रेडर्स को फॉलो ना करें।
  • स्टॉप लॉस और टारगेट प्राइस का पालन करें।
  • एक्सपोज़र का ज्यादा उपयोग ना करें।
  • किसी रणनीति बिना ट्रेडिंग ना करें।
  • अफवाहों से बचें और हर व्यक्ति से सलाह ना लें।

यदि आप ये गलतियां करने से बच गए, तो आप जल्द ही शेयर मार्केट में विशेषज्ञ बन जाएंगें।


शेयर मार्केट में निवेश करने के फायदे 

आपको जानकर हैरानी होगी कि Share Market in Hindi में निवेश करने पर आपको बैंक या फिक्स्ड डिपॉजिट से अधिक रिटर्न मिलता है।

यदि आप शेयर बाजार के माध्यम से अपनी पूंजी निवेश करना चुनते हैं, तो निम्नलिखित कुछ लाभ बताये गए हैं:

  • आपके निवेश पर लाभ पोर्टफोलियो गणना करने के बाद मिलता है
  • प्राप्त रिटर्न के अलावा संभावित डिविडेंड इनकम आय।
  • महंगाई के खिलाफ सुरक्षा।
  • अपने निवेश की दिशा में आसानी।
  • विभिन्न ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म के माध्यम से खरीदना और बेचना आसान हो जाता है।

इसके अलावा, शेयर मार्केट में निवेश करने के कुछ अन्य लाभ भी है जिन पर हम नीचे चर्चा करेंगे। 

चलिए, शुरू करते हैं।


 शेयर बाजार से करोड़पति बनें

हमने कई लोगों को कहते सुना है कि शेयर मार्केट में बस नुकसान होता है, इससे मुनाफा नहीं कमाया जा सकता। लेकिन, यह अवधारणा बिलकुल गलत है। एक दिन में तो कोई करोड़पति नहीं बन सकता, लेकिन सही स्टॉक और सही टिप्स का पालन करके आप कम समय में पैसा कमा सकते हैं। 

शेयर मार्किट से करोड़पति बनने के लिए सबसे जरुरी है कि बाजार पर भरोसा बनाए रखें। हमेशा शेयर की कीमत को ही महत्व ना दें बल्कि कंपनी की परफॉरमेंस पर भी ध्यान दें।जैसा कि आपको पता है शेयर मार्किट में बहुत जोखिम है, इसलिए रिसर्च करने के बाद ही मार्केट में इन्वेस्ट करें। 

डिविडेंट प्रदान करने वाली कंपनियों पर पैसा लगाना बेहतर है, इसके विपरीत उन कंपनियों से दूर रहे जिनपर कर्ज हो। 

सही रणनीति का चयन करें और मार्केट टिप्स को फॉलो करें। यदि आप इन बातों को दिमाग में रखकर निवेश करते हैं तो आप जल्द से जल्द करोड़पति बन सकते हैं। 

शेयर मार्केट में पैसा कैसे कमाए

शेयर मार्केट में निवेश करके पैसा कमाने के लिए कुछ बुनियादी बातों का होना जरुरी है जैसे कि:

  1. धैर्य बनाए रखें। 
  2. शेयर मार्केट की पूरी जानकारी रखें
  3. एक्स्ट्रा पैसे का ही उपयोग करें.
  4. निवेश करने से पहले कंपनी की रिसर्च करें
  5. टेक्निकल इंडिकेटर उपयोग करें
  6. इसे सट्टा न समझकर बिज़नेस समझें

इन बातों को ध्यान में रखकर निवेश करें और अधिक से अधिक पैसा कमाए। 

शेयर बाजार में करियर बनाए

आज देश के हर शहर में शेयर मार्केट है और इन सभी स्टॉक एक्सचेंजों में अच्छी-खासी ट्रेडिंग भी हो रही है। शेयर मार्केट में आप कई तरह से करियर बना सकते हैं जैसे कि:

इकोनॉमिस्ट, एकाउंटेंट, फाइनेंशियल एनालिस्ट, इन्वेस्ट एनालिस्ट, कैपिटल मार्केट एनालिस्ट, फ्यूचर प्लानर्स, सिक्योरिटी एनालिस्ट, इक्विटी एनालिस्ट आदि

इसके अलावा, शेयर मार्केट में सबसे महत्वपूर्ण व्यक्ति होता है स्टॉक ब्रोकर। यह कमीशन लेकर किसी व्यक्ति या संस्था के लिए सिक्योरिटीज खरीदने का काम करता है।  स्टॉक ब्रोकर बनने के लिए शेयर मार्केट में रुचि होनी चाहिए। शेयर मार्केट के करियर में प्रॉफिट के साथ-साथ रिस्क भी है। 


शेयर मार्केट ऐप

कई शेयर बाजार ऐप हैं जो आपके ट्रेड को ऑर्डर देने या प्लेस करने में सहायता कर सकते हैं। स्टॉक मार्केट में आपके निवेश का ध्यान रखने के लिए अधिकांश स्टॉकब्रोकर संबंधित मोबाइल ट्रेडिंग ऐप प्रदान करते हैं।

निम्नलिखित कुछ टॉप मोबाइल ट्रेडिंग ऐप के नाम बताए गए हैं:

ये मोबाइल ट्रेडिंग ऐप आपको निम्नलिखित सुविधाएँ प्रदान करते हैं:

  • ऑर्डर देने और पूरा करने की सुविधा
  • चार्ट विश्लेषण
  • टेक्निकल इंडिकेटर
  • मार्केट ट्रेंड और न्यूज़
  • रिसर्च, टिप्स और सिफारिश
  • पेमेंट ट्रांसफर

इसके अलावा, आपको स्टॉक पाठशाला” नामक एक ऐप डाउनलोड करने का सुझाव दिया गया है जो मूल रूप से एक शेयर बाजार एजुकेशनल ऐप है। 

यह ऐप आपको फ्री स्टॉक मार्केट कोर्स, ऑडियो पॉडकास्ट, वीडियो, मार्केट ट्रेंड और भी बहुत कुछ प्रदान करता है।

आप इस ऐप के द्वारा भी Share Market in Hindi में जानकारी हासिल कर सकते हैं।


निष्कर्ष

शेयर बाजार एक ऐसा स्थान है जहां शेयरों की खरीद-बिक्री होती है और इस लेनदेन को पूरा करने के लिए बिचौलियों की सहायता ली जाती है। यह एक बहुत ही वोलेटाइल या अस्थिर बाजार है।

शेयर बाजार को सेबी द्वारा नियंत्रित किया जाता है। यह विभिन्न एक्सचेंज जैसे BSE, NSE आदि के माध्यम से काम करता है। यदि आपके पास पर्याप्त जमा पूँजी और जोखिम लेने की क्षमता है तो शेयर बाजार आपको अच्छे रिटर्न के साथ निवेश करने के लिए एक बेहतर प्लेटफॉर्म है. लेकिन, साथ में यह भी ध्यान रखें की इसमें जोखिम भी बहुत है तो बिना सही जानकारी और परामर्श के शेयर बाजार में प्रवेश न करें।

इस पोस्ट में Share Market in Hindi में सभी पहलुओं पर चर्चा करने की कोशिश की है , यदि आपको शेयर बाजार से संबंधित किसी भी प्रकार के प्रश्न है तो नीचे दिए कमेंट बॉक्स में अपनी प्रतिक्रिया जरूर दर्ज करें।

उम्मीद है आपको Share Market in Hindi से जुड़ी सभी जानकारी पसंद आयी होगी। मार्केट 

यदि आप भी ट्रेडिंग की शुरुआत करना चाहते हैं, तो आपको बस एक डीमैट खाता खोलना होगा।

आप नीचे दिए गए फॉर्म में अपना विवरण दर्ज करें और आपके लिए कॉलबैक व्यवस्थित किया जाएगा:

इस लेख में पाएं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

14 − 7 =