Share Market Me Kitne Sector Hote Hai

शेयर मार्केट के अन्य लेख

शेयर मार्केट  की बढ़ती लोकप्रियता के बारे में सभी जानते हैं। इसकी इस लोकप्रियता के साथ, विभिन्न सेक्टर शेयर मार्केट के सेक्टर के रूप में उभरे हैं। यदि आप भी जानना चाहते हैं कि Share Market Me Kitne Sector Hote Hai तो आप बिलकुल सही जगह पर हैं 

शेयर मार्केट ने कई सेक्टर जैसे कि हेल्थ केयर, संचार, टेक्नोलॉजी और यहां तक कि रियल एस्टेट जैसे सेक्टर को भी बनाया है।

शेयर मार्केट के बारे में अधिक जानकारी के लिए, यहाँ Share market in Hindi इन विस्तृत समीक्षा देख सकते हैं।

इस आर्टिकल के अंत तक आपको पता चल जाएगा कि Share Market Me Kitne Sector Hote Hai और निवेश करने के लिए कौन से सेक्टर बेस्ट है।

तो चलिए, शुरू करते हैं।


भारतीय स्टॉक मार्केट में सेक्टर 

शेयर बाजार की दुनिया हर किसी को आकर्षित करती है। share market me kitne sector hote hai इस प्रश्न के उत्तर से पहले हम आर्टिकल के इस सेक्शन में भारतीय स्टॉक मार्केट में सेक्टर की बात करेंगें।

दूसरे देशों की तरह, भारत ने भी शेयर मार्केट के सेक्टर में एक जगह बनाई है।

इस बढ़ती लोकप्रियता के साथ अब अलग-अलग स्टॉक मार्केट सेक्टर हैं जो सभी निवेशकों की जरूरतों को पूरा कर सकते हैं और उनके लिए अपने पोर्टफोलियो का प्रबंधन करना आसान बना सकते हैं।

स्टॉक मार्केट में किस सेक्टर पर निवेश करना है? इस पर चर्चा करने से पहले, शेयर मार्केट में कितने प्रकार के सेक्टर होते हैं यह जानना आवश्यक है।

यदि आप शेयर बाजार में रुचि रखते हैं तो आप शेयर मार्केट सेक्टर को जान सकते हैं  लेकिन सवाल है कि क्या शेयर मार्केट में सभी सेक्टर उपलब्ध हैं?

भारतीय शेयर मार्केट विभिन्न सेग्मेंट में विभाजित है जो विभिन्न पब्लिक ट्रेडिंग कंपनियों के लिए केटेगरी के रूप में काम करते हैं।

सेक्टर, निवेशकों और पोर्टफोलियो प्रबंधकों के लिए संबंधित पोर्टफोलियो में फंड को सही प्रकार से आवंटित करने के लिए सुविधाजनक बनाते हैं। 

आइए, अब हम शेयर मार्केट में उन सेक्टर की संख्या और उनकी भूमिका पर नजर डालते हैं।


स्टॉक मार्केट में कितने सेक्टर हैं?

शेयर मार्केट जबरदस्त दर से बढ़ रहा है और इस तरह इसे विभिन्न सेक्टर में बाँटा गया है। लेकिन यहां सवाल यह है कि share market me kitne sector hote hai?

शेयर मार्केट को 11 प्रमुख सेक्टर में विभाजित किया गया है। व्यापक श्रेणियां पोर्टफोलियो प्रबंधकों को अपना काम आसान बनाने में मदद करती हैं।

ट्रेडर अपनी आवश्यकताओं के अनुसार चयन कर सकते हैं और फिर कई सेक्टर चुनकर अपने पोर्टफोलियो को कस्टमाइज़ कर सकते हैं।

शेयर मार्केट के प्रत्येक सेक्टर में सार्वजनिक रूप से ट्रेड करने वाली कंपनियां हैं। इस सेक्टर की सभी कंपनियों में अलग गतिशीलता है जो बदले में लाभप्रदता को प्रभावित करती है।

इन सेक्टर में अलग-अलग ईटीएफ यानी एक्सचेंज ट्रेडेड फंड हैं जो आपको एसेट  एलोकेशन गोल्स को प्राप्त करने में मदद करते हैं।

आप विभिन्न पैरामीटर का उपयोग कर सकते हैं जो आपको स्टॉक का उचित विश्लेषण करने में आपकी सहायता करते हैं और इसलिए आप सही दिशा में निवेश करते हैं।

यदि आप शेयर मार्केट में कम जोखिम लेकर निवेश करना चाहते हैं तो आपको ब्लू चिप कंपनियों में निवेश करना शुरू करना चाहिए जो कम जोखिम और उच्च रिटर्न देते हैं।


भारतीय स्टॉक मार्केट में अलग-अलग सेक्टर 

आइए, अब हम अपने मुख्य प्रश्न यानी कि share market me kitne sector hote hai पर बात करते हैं। 

यहाँ हम सेक्टर और उनकी आवश्यकता के बारे में जानते हैं, तो आइए हम भारतीय शेयर मार्केट में विभिन्न सेक्टर और उनके उपयोग को देखें।

शेयर मार्केट में 11 विभिन्न सेक्टर इस प्रकार हैं।

  • फाइनेंशियल 
  • कस्टमर डिस्क्रिशनरी 
  • उपयोगिताओं
  • सूचना प्रौद्योगिकी
  • हेल्थकेयर 
  • इंडस्ट्री
  • संचार
  • एनर्जी 
  • रियल एस्टेट
  • मैटेरियल्स 
  • कंज्यूमर स्टेपल्स  

आइए, अब हम हर सेक्टर को बेहतर तरीके से समझने के लिए थोड़ा विस्तार से बात करते हैं 

फाइनेंशियल 

निवेश, फाइनेंस और मनी से संबंधित हर चीज फाइनेंशियल का एक हिस्सा है। फाइनेंशियल में बीमा कंपनियां, बैंक, रियल एस्टेट, फंड, क्रेडिट कार्ड जारी करने वाले आदि शामिल हैं।

लोन्स और मॉर्गेज दो ऐसे सेक्टर हैं जो इंटरेस्ट रेट में वृद्धि होने पर अधिकतम लाभ प्राप्त करते हैं।

शेयर मार्केट का फाइनेंशियल सेक्टर एक लोकप्रिय सेक्टर है और यह सभी स्थापित और मैच्योर फर्म और कंपनियों को समायोजित करता है।

कस्टमर डिस्क्रिशनरी 

इंडस्ट्री जिसमें बढ़ती उपभोक्ता मांगों पर इकोनॉमी को शामिल किया जाता है, उसे कस्टमर डिस्क्रिशनरी में बाँटा जाता है।

इस सेक्टर में मीडिया फर्म, अपैरल कंपनियां आदि शामिल हैं, जो ग्राहकों के लिए एक लक्जरी के रूप में काम करती हैं और सर्वाइवल डिमांड नहीं करती 

उपयोगिता (यूटिलिटी)

जैसा कि नाम से पता चलता है, उपयोगिता वे कंपनियां हैं जो दूसरों के बीच गैस, बिजली, नवीकरणीय ऊर्जा प्रदान करती हैं। 

यूटिलिटी सेक्टर एक ऐसा सेक्टर है जो अपने उपभोक्ताओं को कुछ मनी चार्ज करके रेगुलर इनकम का उत्पादन करता है।

उदाहरण के लिए, एक बिजली कंपनी एक विशेष क्षेत्र में बिजली वितरित करती है, फिर से उसके बदले में उपभोगताओं से पैसे लेते हैं। बदले में, रेकरिंग इनकम आय का उत्पादन करेगा।

सूचना प्रौद्योगिकी

सभी तकनीकी इंडस्ट्री, फर्म, सॉफ्टवेयर डेवलपर्स और सूचना प्रौद्योगिकी कंपनियों को स्टॉक मार्केट के टेक्नोलॉजी सेक्टर के अंतर्गत बाँटा गया है।

कंप्यूटर पार्ट्स, माइक्रोप्रोसेसरों, और ऑपरेटिंग सिस्टम सभी सूचना प्रौद्योगिकी में शामिल हैं। Microsoft जैसी कंपनियाँ शेयर मार्केट के टेक्नोलॉजी सेक्टर से जुड़ी हैं।

हेल्थ केयर

हेल्थ केयर, हर इकोनॉमी का एक अनिवार्य हिस्सा है, जिससे यह एक महत्वपूर्ण शेयर मार्केट सेक्टर बन जाता है। 

दवाएँ, अस्पताल प्रबंधन, दवा कंपनियाँ, चिकित्सा उपकरणों के निर्माता आदि, सभी शेयर मार्केट के हेल्थ केयर सेक्टर में शामिल हैं।

जॉन्सन और जॉन्सन, बड़ी कंपनियों में से एक है जो हेल्थ केयर सेक्टर का हिस्सा है। कई इंप्लांट मैन्युफैक्चरिंग कंपनियां भी शेयर मार्केट के हेल्थ केयर सेक्टर का हिस्सा हैं।

इंडस्ट्री

हर इकोनॉमी, सबसे अच्छी और संपन्न इंडस्ट्री पर काम करती है। जब शेयर मार्केट की बात आती है, तो इंडस्ट्रियल सेक्टर में बहुत सारी कंपनियां होती हैं।

यह रेलवे, हवाई जहाज और यहां तक कि हथियार बनाने वाली इंडस्ट्री  / कंपनियाँ तक हो सकती है।

इंडस्ट्रीज सेक्टर, व्यापक इंडस्ट्री में से एक है और इस प्रकार इसमें 14 विभिन्न सेक्टर शामिल हैं। कंपनियों में ज्यादातर रसद, उपकरण के प्रकार और परिवहन कंपनियां शामिल हैं।

संचार

संचार हर समाज का आधार है, और इस प्रकार टेलीकम्युनिकेशन सेक्टर विभिन्न लोगों को जुड़े रहने में मदद करता है। कम्युनिकेशन सेक्टर को मोटे तौर पर दो भागों में विभाजित किया जा सकता है।

पहले भाग में वायरलेस सेवाएं, केबल और यहां तक कि पुराने तार वाले टेलीफोन कनेक्शन शामिल हैं, जिससे लोगों को जुड़ने में मदद मिलती है। 

इस  सेक्टर का नाम पिछले कुछ सालों से ही बढ़ा है क्योंकि इसमें मीडिया और मनोरंजन उद्योग का भी समावेश है। यह कम्युनिकेशन सेक्टर का दूसरा भाग है।

नेटफ्लिक्स, प्राइम वीडियो जैसे मनोरंजन पोर्टल कम्युनिकेशन सेक्टर का एक हिस्सा हैं।

एनर्जी 

विभिन्न कंपनियां आम जनता को तेल और गैस उपलब्ध कराती हैं। शेयर मार्केट का  एनर्जी सेक्टर ऐसी कंपनियों को कवर करता है।

इंडस्ट्री में गैस और तेल कंपनियां और इथेनॉल और कोयला जैसे विभिन्न अन्य नवीकरणीय संसाधनों के निर्माता शामिल हैं।

यह सेक्टर विभिन्न कंपनियों को भी शामिल करता है जो एनर्जी के इन स्रोतों के लिए उपकरणों का निर्माण करती हैं। 

ऐसी कंपनियों द्वारा जेनरेट रेवेन्यू अक्सर नेचुरल तेल, कच्चे तेल और ऐसे अन्य वस्तुओं की कीमत से जुड़ा होता है।

रियल एस्टेट

रियल एस्टेट शेयर मार्केट में विभिन्न सेक्टर में से एक है। रियल एस्टेट सेक्टर में मोटे तौर पर दो डिवीजन शामिल हैं। नई प्रॉपर्टी और आवासों की स्थापना में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के लिए विभिन्न शेयर उपलब्ध हैं।

इसके अलावा, इन्हें किराए पर दिया जाता है, और बाद में रेवेन्यू जेनरेट होता है। इन आवासीय, प्रोफेशनल या अन्य स्थानों से किराया रियल एस्टेट सेक्टर में प्राइमरी इनकम स्रोत है।

मैटेरियल्स 

यह सेक्टर सामग्री प्रणाली के तहत वर्गीकृत किये जाने वाले मैन्युफेक्चरिंग और विभिन्न अन्य उपयोगों के लिए सामान प्रदान करता है।

यह माइनिंग कंपनियों और केमिकल बनाने वाली कंपनियों सहित कंपनियों की एक विस्तृत श्रृंखला है।

इस सेक्टर के अंतर्गत आने वाली कंपनियों को रेगुलर साईकल के बहुत प्रारंभिक स्थान पर रखा गया है। इसका मतलब है कि यह पूरे ट्रेडिंग साईकल में कुछ बदलाव ला सकता है।

कंज्यूमर स्टेपल्स  

विभिन्न प्रोडक्ट अपने खर्चों से उपभोक्ताओं को हटाने में असमर्थ हैं। इसमें खाद्य  कंपनियां और पेय कंपनियां शामिल हैं। ये कंपनियां कंज्यूमर स्टेपल के तहत आती हैं।

अगर आर्थिक वृद्धि में कोई समस्या है, तो भी ये कंपनियां इसका सामना कर सकती हैं। सुपरमार्केट, पर्सनल प्रोडक्ट आदि सभी कंज्यूमर स्टेपल सेक्टर का एक हिस्सा हैं।


भारतीय शेयर मार्केट में निवेश करने के लिए बेस्ट सेक्टर  

जैसा कि आपको पता चल गया है कि share market me kitne sector hote hai, तो हम आपको बता दें कि  ये सभी सेक्टर, निवेशकों को सही सेक्टर चुनकर निवेश करने की अनुमति देते है। शेयर मार्केट में निवेश करने के लिए बेस्ट सेक्टर को चुनना कई बार थोड़ा मुश्किल हो सकता है।

यहां आपको बेस्ट सेक्टर में स्टडी और निवेश करने में मदद करने के लिए गाइड किया गया है ताकि यह आपको सही मात्रा में रिटर्न दे। हम यह भी देखेंगे कि शेयर मार्केट में कौन सा सेक्टर अच्छी परफॉरमेंस दे रहा है।  

आईटी सेक्टर: हम आपको बता दें कि हर बीतते दिन के साथ शेयर मार्केट आगे बढ़ रहा है। हर रोज अधिक से अधिक लोग इस इंडस्ट्री के साथ जुड़ रहे हैं। कुछ लोगों के लिए ये स्टॉक्स थोड़े महँगे हो सकते हैं लेकिन इसकी लगातार ग्रोथ को देखते हुए इसमें निवेश करना एक बेहतर विकल्प हो सकता है।

हेल्थकेयर:  बढ़ते समय के साथ हेल्थ केयर सेक्टर में एडवांस तकनीक भी आई है। यह सम्भावना होती है कि हेल्थ केयर सिस्टम हमेशा एडवांस और एक्सपैंड होगा। इसलिए यह सलाह दी जाती है कि हेल्थ केयर सेक्टर में निवेश करना चाहिए क्योंकि इसमें प्रॉफिट की गारंटी होती है। 

कंज्यूमर स्टेपल: खाद्य और पेय इंडस्ट्री, कंज्यूमर स्टेपल सेक्टर का महत्वपूर्ण हिस्सा है जो इस बिज़नेस से कभी बाहर नहीं हो सकता है। इस सेक्टर में होने वाली इन्वेस्टमेंट कभी बर्बाद नहीं हो सकती। 

कंज्यूमर स्टेपल वह कमोडिटी है जिसमें निवेशक अपने बजट से बाहर निवेश नहीं कर सकता है। 

कंज्यूमर स्टेपल सेक्टर की सबसे अच्छी बात यह है कि अगर इकोनॉमी में गिरावट आती है तो एक निवेशक होने के नाते आपको नुकसान नहीं सहना पड़ेगा। 


निष्कर्ष

स्टॉक मार्केट बहुत ज़्यादा ग्रोथ कर रही है जिस वजह से ये विभिन्न सेक्टर भी ग्रोथ कर रहे हैं। स्टॉक मार्केट सेक्टर बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि यह निवेशकों और पोर्टफोलियो मैनेजर के लिए मैनेजमेंट को थोड़ा आसान बनाते हैं। 

यह सेक्टर, निवेशक को सही पोर्टफोलिओ में सही फंड निवेश करने में मदद करते हैं। इन सेक्टर से लोगों को सलाह मिलती है कि निवेशक को सफलता के विभिन्न सेक्टर में निवेश करना चाहिए। 

भारतीय शेयर मार्केट में 11 सेक्टर हैं जो अपने आपको इंडस्ट्री और कंपनी में समायोजित करती है। इन 11 कंपनियों में फाइनेंशियल, हेल्थकेयर, रियल एस्टेट, एनर्जी, कंज्यूमर स्टेपल, कम्युनिकेशन आदि शामिल हैं। 

ये विभिन्न सेक्टर अलग-अलग इंडस्ट्री को कवर करते हैं। हालाँकि, कुछ सेक्टर को छोड़कर इन  सेक्टर की ग्रोथ समान ही है। 

ग्रोइंग ट्रेंड, निवेशकों के लिए हेल्थ केयर, कंज्यूमर स्टेपल, और सूचना प्रौद्योगिकी यानी की इन तीन टॉप सेक्टर की सफलता का गवाह है। इनके रिटर्न स्थिर हैं और नुकसान कम है। 

यदि आप सही सेक्टर में निवेश करते हैं तो स्टॉक मार्केट आपके लिए लगातार इनकम कमाने का सही साधन हो सकता है। यह बहुत जरुरी है कि आप सबसे पहले सेक्टर को समझे उसमें रिसर्च करें और उसके बाद निवेश करें। 


यदि आप डीमैट खाता खोलना चाहते हैं तो कृपया नीचे दिए गए फॉर्म को देखें :

यहाँ दिए गए फॉर्म में अपना बुनियादी विवरण भरें और उसके बाद आपके लिए कॉलबैक की व्यवस्था की जाएगी। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

fifteen − 2 =