पाइवोट पॉइंट

बाकी चार्टिंग पैटर्न्स

पाइवोट पॉइंट ट्रेडिंग को ख़ासतौर पर शेयर मार्केट चार्ट के माध्यम से मार्केट में समय समय पर होने वाले बदलावो की निगरानी के लिए नियोजित किया जाता है। जबकि इसमें कोई भी ट्रेडर अपने स्टॉक का तकनीकी विश्लेषण के आधार पर काम कर सकता है।

कैसे?

वित्तीय मार्केट में, ट्रेडर पाइवोट पॉइंट ट्रेडिंग चार्ट्स को उस समय की क़ीमतों के स्तर का संकेत देने वाले टूल के रूप में देख सकता है, जिससे उसे मार्केट किस दिशा में और कैसे आगे बढ़ेगा यह समझने में मदद मिलेगी।

जिसकी गणना के लिए, आप मार्केट के पिछले दिन का Low, High और Closing प्राइस के औसत का उपयोग कर सकते है।

पाइवोट पॉइंट ट्रेडिंग मीनिंग 

पाइवोट पॉइंट, जिसे एक अन्य रूप पाइवोट लेवल्स के नाम से भी जाना जाता है, जो सपोर्ट  और रेजिस्टेंस का इंडिकेटर हैं जिसके द्वारा आप ज़्यादा मेहनत किए बिना कोई भी गणना कर सकते है और चार्ट भी बना सकते हैं।

सीधे शब्दों में बोले तो, पाइवोट पॉइंट बुनियादी रूप से एक औसत संकेतक है जब आप पिछले ट्रेडिंग सत्र की High, Low और Closing प्राइस पर विचार करते है।

इसके अलावा, यदि अगले ट्रेडिंग सत्र में, ट्रेडिंग आख़िरी दिन की पाइवोट पॉइंट गणना से अधिक हो तो , निश्चित रूप से इसमें निरंतर तेज़ी का भाव है। इसी प्रकार, यदि ट्रेडिंग पाइवोट पॉइंट गणना से कम हो तो, उसमें अपेक्षाकृत मंदी का भाव है।

वास्तव में यही कारण है कि पाइवोट पॉइंट ट्रेडिंग चार्ट्स मार्केट में समय समय पर होने वाले बदलाव पर निगरानी रखने में आपकी मदद करते है। इसमें हम यह जोड़ दे की पाइवोट पॉइंट ट्रेडिंग चार्ट्स दिन में की जाने वाली ट्रेडिंग के लिए उपयोग किए जाने वाले संकेतको में से एक सबसे लोकप्रिय संकेतक है।

 इसमें चार्ट्स 7 तरह के अलग अलग स्तरों पर मिलने वाले सपोर्ट और रेजिस्टेंस की एक सारणी के साथ आते है, जो इंट्राडे मार्केट में नया टर्निंग पॉइंट (Turning Point) ढूँढ़ने के लिए प्रत्याशित होता है। 

साथ ही इसमें ट्रेडर भी अक्सर वर्तमान मार्केट में पहले से ढूँढ़े हुए सपोर्ट और रेजिस्टेंस स्टार का निरीक्षण करते रहते है। जिससे पाइवोट पॉइंटस का प्लॉट स्वचालित रूप से रोज़ाना अपने आप हो जाता है।

इसका तात्पर्य यह है की कोई भी ट्रेडर किसी भी ट्रेडिंग सत्र के सम्भावित टर्निंग पॉइंट का पता लगने के लिए पाइवोट पॉइंट चार्ट्स का उपयोग करने के साथ साथ तकनीकी संकेतको का भी प्रयोग कर सकता है।

ये चार्ट्स एक मार्किंग पॉइंट (Marking Point) की तरह भी काम कर सकते है जिससे स्टॉप-लॉस लेवल और पुल-आउट पॉइंट के लाभ के साथ की पहचान की जा सकती है।

इसका उपयोग आप ट्रेड एंट्री पॉइंट (Trade Entry Point) को निर्धारित करने के लिए भी कर सकते है क्यूँकि यह सपोर्ट और रेजिस्टेंस के स्तर को समझने में आपकी मदद करता है।


पाइवोट पॉइंट ट्रेडिंग रणनीति 

इसमें जब हम पाइवोट पॉइंटस की गणना करते है, तब ये पॉइंटस ही ट्रेडिंग करने के प्राथमिक समर्थन के रूप में कार्य करते है।

इन पॉइंटस का तात्पर्य यह होता है की सबसे महत्वपूर्ण प्राइस मूवमेंट (Price Movement) फिलहाल अभी हो सकता है। जिसके सामने बाक़ी रेजिस्टेंस लेवल कम कुशल होते है लेकिन फिर भी वो पर्याप्त प्राइस मूवमेंट को उत्पन कर सकते है।

पाइवोट पॉइंटस का उपयोग मार्केट में आने वाली तेज़ी या मंदी को समझने के लिए भी किया जा सकता है।

इसी तरह से आप इस ट्रेडिंग रणनीति का उपयोग कर सकते है: जैसे यदि पाइवोट पॉइंट मूल्यों मे ऊपर की और बढता हुआ दिखता है या फिर किसी भी तरह से अस्थिर हो गया हो, तो मार्केट निश्चित रूप से तेज़ है।

इसके विपरीत, यदि पाइवोट पॉइंट पॉइंट नीचे की और जाते दिखे तो इसे पाइवोट पॉइंट ट्रेडिंग चार्ट्स में एक बुलिश मूवमेंट (Bullish Movement) के रूप में जाना जाता है।


पाइवोट पॉइंट ट्रेडिंग चार्ट्स कैसे काम करते है?

जैसा की आप सब पहले से जानते है कि पाइवोट पॉइंट ट्रेडिंग चार्ट्स स्टॉक मार्केट में टर्निंग पॉइंटस की पहचान करने के लिए एक बहुत ही अच्छा उपकरण है, और इसी की व्याख्या के आधार पर, एक ट्रेडर ट्रेडिंग के लिए अपेक्षित से उल्टी दिशा में अनुसार भी अपनी रणनीति बना सकता है।

Pivot point charts

बेहतर परिणामों के लिए और पाइवोट पॉइंट ट्रेडिंग चार्ट की व्याख्या की वास्तविक संभावनाओं को बढ़ाने के लिए, एक ट्रेडर इन्हें आमतौर पर कई अन्य ट्रेडिंग इंडिकेटर के साथ भी जोड़ सकता हैं।

इसे और भी अच्छे और सटीक तरीक़े से समझने के लिए आपको 50 दिनो की एक सिम्पल मूविंग एवरेज व्याख्या को देखना चाहिए जिसे जब आप केवल उसी दिशा में ट्रेड करेंगे तो आपको इसके Trend और Bias भी समझ आ जायेंगे।

आपको कभी कभी यह पुष्टि करने के लिए दूसरे स्तर पर जाने की भी आवश्यकता हो सकती है, कि आप जिस स्तर तक पहुँचे है, उसे सच में एक टर्निंग पॉइंट के रूप में वर्गीकृत किया जा सकता है।

इसे आप पाइवोट स्तर के प्राइमरी टच को साथ में रख कर विचार कर सकते है।

ऊपर दिखाया हुआ 5 मिनट का यूरो / यूएसडी चार्ट एक उदाहरण है, जो ट्रेड के बुनियादी स्पर्श पहले ही उसके वैध स्तर को सबसे अच्छा सुनिश्चित करेगा।

ऐसे ट्रेडर्ज़ जो फॉरेक्स ट्रेडिंग में ज़्यादा व्यस्त रहते है, वो ही पाइवोट पॉइंट ट्रेडिंग चार्ट्स को मार्केट प्रचलन की पहचान करने के लिए एक ज़ोरदार संकेतक मानते है। लेकिन यह इंट्राडे ट्रेडर के लिए उपयुक्त है पर लॉंग-टर्म ट्रेडर के लिए यह ज़्यादा मददगर नही होता।

हाल ही के कुछ दिनो में पाइवोट पॉइंट बहुत लोकप्रिय हो गए क्यूँकि वे मार्केट में होने वाले सम्भावित समर्थन और प्रतिरोधों का पता लगने का सबसे तीव्र और आसान तरीक़ा है। इसमें आपको कई पाइवोट पॉइंट सहायक प्लेटफार्म मिल सकते है। 

यदि आप इस काम के लिए किसी ऐसे प्लेटफार्म पर निर्भर होते है, जो पाइवोट पॉइंट का समर्थन नही करता है तो भी आप एक साधारण सी गणना करके भी इसका उपयोग कर सकते है। इनमे कंप्यूटिंग पाइवोट स्तरों के लिए पिछले दिन में से तीन प्रकार की जानकारी का इस्तेमाल किया जाता है जो इस प्रकार है :

  • High Price 
  • Low Price 
  • पिछले दिन का Closing Price 

स्पष्ट रूप से कहे तो, आपको पिछले दिन की High, Low और Closing Price का पता लगाने के लिए, उस दिन की कैंडलस्टिक की जांच करने की आवश्यकता पड़ सकती है।

जिसके लिए अधिकांश ट्रेडर्स छोटी अवधि के चार्ट्स जैसे प्रति घंटे और पंद्रह मिनट के अनुसार पाइवोट पॉइंटस की ओर रख करते है।

पाइवोट प्राइस आपको जागरूक रखते है, जब मार्केट अपनी दिशा बदल कर उल्टी दिशा में चलने लगता है जो शॉर्ट-टर्म ट्रेडर्स की भी मदद कर सकता है।

पाइवोट पॉइंट ट्रेडिंग चार्ट्स आपको यह भी बताता है कि मूल्य कब और कैसे पलटेंगे और अपनी प्रवति दिशा को बदले देंगे, जिस से दिन में ट्रेडिंग करने वाले ट्रेडर्स को ट्रेडिंग गतिविधियों के लिए रणनीति बनाने में मदद मिलती है।

पाइवोट पॉइंटस की गणना के लिए निम्नलिखित फॉर्मूला का उपयोग किया जाता है:

पाइवोट पॉइंट=(पिछले दिन का High+पिछले दिन का Low)/3

रेजिस्टेंस 1=(पाइवोट पॉइंटx2)-पिछले दिन का Low 

सपोर्ट  1=(पाइवोट पॉइंटx2)- पिछले दिन का High 

रेजिस्टेंस 2= पाइवोट पॉइंट+(पिछले दिन का High -पिछले दिन का  Low)

सपोर्ट  2= पाइवोट पॉइंट-(पिछले दिन का High – पिछले दिन का Low )

चूँकि इसमें मूल्यों का स्तर ज़्यादातर पिछले दिन के High, Low और Closing Price पर निर्भर करता है, इसलिए हम यह निष्कर्ष निकाल सकते है कि इन मूल्यों के बीच की दूरी जितनी अधिक होगी उतना ही अगले दिन की ट्रेडिंग के स्तरों में भी अंतर होगा।

इसी तरह, इसमें ट्रेडिंग रेंज जितनी छोटी होगी, अगले दिन आप उतना ही ट्रेडिंग के स्तरों के बीच के अंतर को कम कर सकते है।

इसी के साथ यह भी ध्यान दिया जाना चाहिए की बिना किसी देरी के सभी स्तर एक साथ एक बार में ही पाइवोट पॉइंट ट्रेडिंग चार्ट पर दिखाई देने चाहिए । जिसका मतलब यह है कि कुछ मूल्यों स्तरों को चार्ट के पैमाने के हिसाब से व्यू विंडो के भीतर शामिल नही किया जाता है।


पाइवोट पॉइंट स्क्रीनर के लिए उदाहरण

मार्केट के भाव को जाने के उद्देश्य से, चाहे मंदी हो या तेज़ी और उनके साथ हाई मार्केट की सपोर्ट और रेजिस्टेंस स्तिथि को समझने के लिए, ट्रेडर पाइवोट पॉइंट ट्रेडिंग चार्ट्स का उपयोग करते है।

इसे उपयोग करने का एक साधारण सा कारण यह है, की यह ट्रेडिंग के लिए उपयोग किए जाने वाला सबसे अच्छा टूल है जिसे आमतौर पर कई सफल ट्रेडर्ज़ इस्तेमाल करते है।

Pivot point charts

यह फॉरेक्स ट्रेडर के द्वारा बड़े पैमाने पर उपयोग किया जाता है, क्योंकि ये ऐसे विशेष टूल्स में से एक है जो शॉर्ट-टर्म ट्रेडिंग रुझानों की भविष्यवाणी करने लिए अत्यधिक फ़ायदेमंद होते है, और मुख्य रूप से जब वे किसी तेज़ ट्रेडिंग माहौल के साथ जुड़े होते है।

विभिन्न दैनिक मार्केट के प्रचलन जैसे कि High, कैसे और पिछले दिन के क्लोजिंग ट्रेंड के आधार पर उनकी व्याख्या को अगले दिन की शुरुआत में पाइवोट पॉइंट, सपोर्ट और रेजिस्टेंस लेवल की गणना करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

यह ट्रेडिंग के दौरान ट्रेडिंग रणनीति का सपोर्ट करने के लिए एक मार्गदर्शक के रूप में काम करता है।

उपरोक्त पाइवोट पॉइंट ट्रेडिंग चार्ट दो ट्रेडिंग दिनों के ट्रेडिंग रुझान को दर्शा रहा है। जिसमें गुलाबी वाली लम्बी लाइनें प्रत्येक दिन अलग अलग होती हैं। हम पहले ट्रेडिंग दिन पर आने से पहले पिछले दिन के दैनिक निम्न, दैनिक उच्च और समापन मूल्यों तक पहुंचने के लिए इनका उपयोग कर सकते हैं।

दैनिक High Price 14.39 आलेखित किया गया है।

  • दैनिक Low Price   = 14.28
  • Closing Price  = 14.37

इन मूल्यों को पाइवोट पॉइंट की गणना के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले फॉर्मूला में प्रयोग करे।

Pivot point charts

पाइवोट पॉइंट सबसे ठीक पाइवोट स्तर है, जिसमें औसतन तीन स्तर होते है, जैसे Low,High  और पिछले दिन का समापन मूल्य। गणितीय रूप से, इसे [(पिछले दिन का उच्च + पिछले दिन का समापन + पिछले दिन का निम्न)/3] के बराबर देखा जा सकता है।

दिन में होने वाली ट्रेडिंग में अगर मूल्य इस स्तर से नीचे खुलता है, तो इसे मज़बूती से मंदी की और जाने वाली ट्रेडिंग प्रवृति माना जाता है।

उदाहरण के लिए, हम एक सिम्पल सेलिंग सिस्टम से ले सकते है। जिसमें बुल्ज़ एक मज़बूत स्तिथि का संकेत देते है जब मूल्य पाइवोट स्तर से ऊपर खुलता है। इसलिए जब आपको कोई मज़बूत स्तिथि के संकेत मिलते है तो आप मार्केट में प्रवेश करने की योजना बना सकते है। बाक़ी स्तर आपको समर्थन और प्रतिरोध की स्तिथि के बारे में बता सकते है। इसलिए जब मूल्य वह तक पहुँचे तब आपको थोड़ा सावधान रहना होगा।

ऊपर दिए गए पाइवोट पॉइंट ट्रेडिंग चार्ट में, जिसमें आप पाइवोट पॉइंट से ठीक ऊपर खोले जाने वाले मूल्य को देख सकते है और अपने तीव्र प्रवृति दिखा सकते है। यह अधिक से अधिक आर 1 स्तर तक हाई ऊपर जा सकता है और फिर नीचे आ जाता है। इसमें जो ट्रेडर्ज़ लम्बे समय तक उपयुक्त स्थान पर रहना चाहते है, वो भी पाइवोट चार्ट स्तर का उपयोग कर सकते है।

एक ट्रेडिंग रणनीति के अनुसार, इसमें आप किसी विस्तारित स्थिति के लिए चयन करने से पहले ही वेज से ऊपर जाने वाले प्राइस ब्रेक तक देख सकते हैं।


पाइवोट पॉइंट ट्रेडिंग की खूबियां 

यहा कुछ ऐसी सकारात्मकताएं निम्नलिखित है जिनको ट्रेड नियुक्त करने से पहले आपको तकनीकी विश्लेषण करके पाइवोट पॉइंट ट्रेडिंग चार्ट में उपयोग करना होगा।

  • पाइवोट पॉइंट ट्रेडिंग चार्ट इंडेक्स को ख़रीदने और बेचने के बारे में बताने के प्रमुख इंडिकेटर है, और साथ ही ये आपको आपके लक्ष्यों को तय करने भी मदद करते है।
  • इसमें आप साधारण इंट्राडे ट्रेडिंग ट्रिक्स को अपना कर पूरी मार्केट की भावनाओं को जान सकते है। जैसे उदाहरण के तौर पर, अगर ट्रेडिंग मूल्य पाइवोट पॉइंट से ऊपर है तो उसे हम तेज़ी कहेंगे, और यदि ट्रेडिंग मूल्य पाइवोट पॉइंट से नीचे है तो उसे हम मंदी कहेंगे।
  • यदि आप ख़रीदने और बेचने के लिए पाइवोट पॉइंट ट्रेडिंग चार्ट्स का उपयोग करते है, तो आप बिलकुल सफल ट्रेडिंग कर सकते है।
  • स्टॉक का मूल्य प्रदर्शन करके प्रतिक्रिया देगा।
  • पाइवोट पॉइंट की गणना बहुत आसान है, और इसकी गणना करने के लिए किसी भी सॉफ्टवेयर की आवश्यकता नही होती।
  • बहुत से ट्रेडिंग प्लेटफ़ोर्म पाइवोट पॉइंट का समर्थन करते है, जिनका पालन करना, और उनसे गणना करना आसान है।
  • इसमें जल्दी लाभ की अधिक सम्भावना होती है।
  • इसमें ब्रेकआउटस की पहचान करना आसान होता है जो आपको ज़रूरी क़दम उठाने में मदद करता है।

पाइवोट पॉइंट ट्रेडिंग की कमियां 

इन सब के साथ ही, यहा सिक्के का एक दूसरा पहलु भी है,जिसमें आपको कुछ चिंताओ का सामना करना पड़ सकता है: जैसे

यदि किसी स्टॉक का उच्च और निम्न छोटा है, तो आपको बहुत सारे ग़लत संकेत प्राप्त हो सकते है, जिनके लिए आपको सतर्क रहना चाहिए।

इसमें किसी भी स्टॉक का मूल्य उसके डेरिवेटिव के मूल्य से हमेशा अलग होता है।

इसमें बहुत व्यवस्थापन की आवश्यकता होती है क्यूँकि इसमें दिन के ट्रेडर को मौक़े पर जल्द ही फ़ैसला लेना होता है।


पाइवोट पॉइंट ट्रेडिंग चार्ट का निष्कर्ष

ऊपर दी गई जानकारी के अनुसार, आपको अपनी ट्रेडिंग गतिविधियों में पाइवोट पॉइंट का उपयोग करने का पूरा ज्ञान होना चाहिए। पाइवोट पॉइंट ट्रेडिंग चार्टस मार्केट में भविष्य में मिलने वाले सम्भावित सपोर्ट और रेजिस्टेंस लेवल की एक संक्षिप्त विवरण प्रदान करते है।

पाइवोट पॉइंट ट्रेडिंग चार्टस के साथ ट्रेडिंग करना ट्रेडर्स के लिए बहुत उपयोगी होता है, क्योंकि यह एक महत्वपूर्ण इंडिकेटर है उन्हें यह बताने के लिए की कब मूल्य बढ़ेगा और कम होगा।

Pivot point charts

आपको यह जाना भी आवश्यक है की इन चार्ट्स का उपयोग बहुत स्टॉप-लॉस या लाभ लेने के स्तर को जाने के लिए भी किया जा सकता है। अगर आप डे-ट्रेडर है, तो पाइवोट पॉइंट ट्रेडिंग चार्टस आपके लिए सबसे उपयुक्त है।

कुछ चार्टिंग प्लेटफॉर्म ट्रेडर को अन्य निर्धारित समय-सीमा के अनुसार रणनीति बनाने की अनुमति देते हैं, जैसे साप्ताहिक या मासिक।

इसके परफॉरमेंस को ध्यान में रखने के लिए, आप पाइवोट पॉइंट ट्रेडिंग चार्ट को अपने ट्रेड टूलकिट में जोड़ सकते है, जिसे आप सर्वश्रेष्ठ ट्रेडिंग विकल्पों को पुनः प्राप्त कर सकते है।

अंत में, यह ट्रेडर को मूल्य रणनीतियो के स्तरों की शीघ्रता से गणना करके उन पर तीव्र निर्णय के लिए सक्षम बनता है।

पाइवोट पॉइंट सिस्टम की योग्यता एक ट्रेडर के कंधो पर काफ़ी हद तक निर्भर करती है, और साथ ही ये भी उसकी कार्य क्षमता पर निर्भर करता है की वो अन्य तकनीकी विश्लेषण के साथ पाइवोट पॉइंट चार्ट्स सिस्टम का उपयोग कितनी संबद्धता के साथ करता है।

हम आपको शुभकामनाएं और सुझाव देते हैं कि आप अपने विश्लेषणो में भी सतर्क रहते हुए इन चार्टिंग फ़ॉर्म का उपयोग अपने शॉर्ट-टर्म ट्रेड के लिए ही करे।

यदि आप हमारे किसी कार्यकारी से बात करना चाहते है, जो आपको आपके ट्रेडिंग खाते के साथ साथ पाइवोट पॉइंट ट्रेडिंग चार्ट के उपयोग के बारे में भी अधिक जानकारी प्रदान करे तो बस नीचे दिखने वाले फ़ॉर्म को भरे:

कृपया यहा अपना कुछ बुनियादी विवरण दर्ज करे जिसके बाद आपके लिए एक कॉलबैक की व्यवस्था की जायगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

fifteen − 1 =