स्टॉक ब्रोकर और सब ब्रोकर में अंतर

अन्य सब-ब्रोकर के विश्लेषण

शेयर मार्केट में निवेश करने वाले नए और पुराने ट्रेडर्स को स्टॉक ब्रोकर और सब ब्रोकर में अंतर स्पष्ट नहीं हो पता है। 

इसलिए, आज हम आपको इन दोनों के बीच के अन्तर को बताएंगे। 

स्टॉकब्रोकर और सबब्रोकर भारत में स्टॉकब्रोकिंग स्पेस में दो अलग-अलग स्टेकहोल्डर हैं यानि दोनों कि जोखिम उठाने की अपनी अपनी क्षमता है। 

हालांकि, दोनों पक्षों की अलग-अलग स्तर की जिम्मेदारियाँ हैं और उससे संबंधित रेवेन्यू रणनीति है। इसलिए, हम इस समीक्षा में स्टॉकब्रोकर और सब ब्रोकर के बीच अंतर को जानेंगे।

प्रश्न: अगर आपको शेयर मार्केट में निवेश करना है तो आप कहां जाएंगे?

यह बात तो निश्चित है कि आप कोई स्टॉक मार्केट ऑर्डर खरीदने के लिए सीधे एक्सचेंज के पास नहीं जा सकते। वास्तव में, केवल एक्सचेंज के साथ रेजिस्टर्ड सदस्य ही ऐसा कर सकते हैं। इन ट्रेडिंग मेंबर को स्टॉक ब्रोकर कहा जाता है।

स्टॉकब्रॉकर्स यह सुनिश्चित करते हैं कि मार्केट में हमेशा लिक्विडिटी होती है जो उन्हें कैपिटल मार्केट में बहुत महत्वपूर्ण बनाती है। यदि स्टॉक ब्रोकर ना हो तो खरीदारों और विक्रेताओं के बीच की कड़ी टूट जाती है।  

इसके अलावा, एक अन्य महत्वपूर्ण शब्द से इसका अंतर है और वो शब्द सब ब्रोकर (क्या आप इसके बारे में जानते हैं? यदि आप नहीं हैं तो लिंक पर क्लिक करें) है।


What is a Stock Broker in Hindi ?

आइए, अब स्टॉक ब्रोकर और सब ब्रोकर में अंतर को समझते हैं। 

एक स्टॉकब्रोकर एक व्यक्ति या एक फर्म है जो निवेशकों की ओर से उनके शेयर के बाय सेल ऑर्डर को एक्सीक्यूट करता है। 

वे कमीशन के लिए काम करते हैं जिसे ब्रोकरेज फीस के रूप में जाना जाता है, जो ग्राहकों द्वारा निवेश की गई कैपिटल की कुल राशि का एक प्रतिशत है।

आमतौर पर दो प्रकार के ब्रोकर होते हैं: फुल-सर्विस ब्रोकर, उच्च कमीशन और अलग अलग प्रकार के प्रोडक्ट पर चार्ज करते हैं, दूसरी और डिस्काउंट ब्रोकर, फुल सर्विस ब्रोकर की तुलना में कम कमीशन लेते हैं।

हाल ही में ऐसे ब्रोकर हैं जो हाइब्रिड मॉडल पर काम करते हैं और साथ ही वे फ़्लैट रेट ब्रोकरेज रेट पर फुल-सर्विस ब्रोकर की सभी सेवाएँ प्रदान करते हैं।


What is Sub Broker in Hindi ?

स्टॉक ब्रोकर और सब ब्रोकर में अंतर को समझने के लिए दोनों को एक एक करके समझते हैं। 

देखा जाए तो सब ब्रोकर एक एजेंट के रूप में स्टॉकब्रोकर की ओर से काम करता है। वे स्टॉकब्रोकर और क्लाइंट के बीच एक कड़ी के रूप में काम करते हैं। 

सोर्सिंग के बाद सब ब्रोकर ग्राहकों को आगे की रिसर्च और ग्राहक प्रबंधन के लिए भी जिम्मेदार होगा। सब-ब्रोकर ब्रोकरेज का एक हिस्सा लेते हैं जो स्टॉकब्रोकर प्राप्त करते हैं। 

एक स्टॉकब्रोकर और एक सब ब्रोकर के बीच एक-से-कई मैपिंग है। आम तौर पर, एक स्टॉकब्रोकर के पास अपने सब ब्रोकर पार्टनर्स के माध्यम से देश के विभिन्न हिस्सों में उपस्थिति होती है। 

ये सभी सब ब्रोकर अपने भौगोलिक(Geographical) स्थान में स्टॉकब्रोकर के लिए नए ग्राहकों का अधिग्रहण करते हैं और इस प्रकार, स्टॉकब्रोकर के लिए नए बिज़नेस लाते हैं।


स्टॉक ब्रोकर और सब ब्रोकर में अंतर की डिटेल्स 

 वैसे तो दोनों के बीच काम समान है, फिर भी उनके बीच थोड़े बहुत अंतर हैं जिन पर ध्यान देना ज़रूरी है:

  • ब्रोकर एक व्यक्ति या ज्यादातर एक फर्म है जो स्वतंत्र रूप से काम करता है जबकि सब-ब्रोकर एक एजेंट के रूप में काम करने वाले ब्रोकर के तहत काम करता है।
  • ब्रोकर एक्सचेंज का एक ट्रडिंग मेंबर है, जबकि सब-ब्रोकर को केवल ब्रोकर्स से संबद्ध (Affiliated) होना अनिवार्य है, हालांकि उन्हें अपने बिज़नेस को चलाने के लिए  एक्सचेंज से सर्टिफिकेट लेने की आवश्यकता हो सकती है।
  • सब-ब्रोकर और ब्रोकर दोनों को सेबी से रेजिस्टर्ड होने की आवश्यकता होती है, सब-ब्रोकर भी अपने ब्रोकर और ग्राहक के बीच एग्रीमेंट में थर्ड पार्टी के रूप में रहता है।
  • केवल स्टॉक ब्रोकर को ही सीधे ग्राहकों को ब्रोकरेज चार्ज करने की अनुमति है क्योंकि सब ब्रोकर ऐसा नहीं कर सकते। कुल ब्रोकरेज की गणना होने के बाद ही उन्हें ब्रोकर से ब्रोकरेज का एक हिस्सा प्राप्त होता है। 

स्टॉक ब्रोकर और सब ब्रोकर का महत्व 

स्टॉक ब्रोकर और सब ब्रोकर में अंतर को समझने के लिए उनके महत्त्व को जानते हैं।  

जैसा कि ऊपर पहले भी चर्चा की गई है कि स्टॉक ब्रोकर शेयर मार्केट में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

साथ ही सब ब्रोकर भी उतने ही महत्वपूर्ण है। वे ब्रोकर्स को अधिक ग्राहकों तक पहुँचने में मदद करते हैं। स्टॉकब्रोकर फर्म ग्राहकों के अच्छे नेटवर्क वाले लोगों को सब-ब्रोकर के रूप में पार्टनर बनने के लिए बढ़ावा देती है। 

इसके आलावा, निवेशक भी स्थानीय सब ब्रोकर के पास जा सकते हैं जो उन्हें ब्रोकर के संपर्क में ला सकते हैं।

स्टॉक ब्रोकर के फायदे 

एक स्टॉकब्रोकर सही सब-ब्रोकर के साथ पार्टनरशिप करके अधिक ग्राहक आधार का लाभ उठा सकता है और इस तरह उनका बिज़नेस बढ़ सकता है। 

वे अपने अनुसार ग्राहकों से ब्रोकरेज शुल्क ले सकते हैं। इसके अलावा, ग्राहक प्रबंधन और पूरी रिसर्च की जिम्मेदारी सब ब्रोकर को दी जा सकती है।

हालाँकि, इसका एक नकारात्मक पहलू भी है। क्योंकि सब ब्रोकर बहुत अधिक जिम्मेदारी लेते हैं, इसलिए ब्रोकर्स को उन्हें भी कमीशन का एक हिस्सा देना पड़ता है।

सब-ब्रोकर के फायदे 

सब ब्रोकर्स को ग्राहकों को निवेश करने और रिसर्च करने के लिए एक हाई रेवेन्यू  हिस्सा मिलेगा मिलता है 

इसके लिए, वे ब्रोकर फर्मों की मार्केटिंग सामग्री और ट्रेडिंग टूल का एक्सेस प्रदान करते हैं। इनिशियल डिपॉजिट के अलावा, इनके साथ ट्रेडिंग शुरू करने के लिए निवेश कम होता है। 

सब-ब्रोकर, ब्रोकर बिज़नेस में बड़े ब्रांड नामों के साथ काम करने के लिए एडवाइजरी सपोर्ट प्रदान करता है जो फायदेमंद हो सकता है।

इनका एक नुकसान यह हो सकता है कि ग्राहक आधार बनाना, उनको मैनेज करना और पूरी रिसर्च करने में वक्त लग सकता है। 

यह बहुत जरुरी है कि आप सही ब्रोकर फर्म के साथ पार्टनरशिप करें, जो आपको कमीशन का उचित हिस्सा देता है और यह एक प्रसिद्ध ब्रांड हो। खासकर जब सब-ब्रोकर अपने दम पर ग्राहकों को चार्ज नहीं कर सकते हैं।


निष्कर्ष 

ब्रोकर और सब-ब्रोकर, सिक्योरिटीज की खरीद और बिक्री में एक महत्वपूर्ण स्थान रखते हैं। उनमें बहुत सी समानताएं हैं लेकिन फिर भी दोनों अलग अलग सेवाएं प्रदान करते हैं।

एक निवेशक के रूप में, सही निर्णय लेने के लिए आपको स्टॉक ब्रोकर और सब ब्रोकर में अंतर जानना महत्वपूर्ण है।


यदि आप स्टॉक-ब्रोकिंग स्थान में सब-ब्रोकर या किसी अन्य पार्टनर के साथ बिज़नेस करना चाहते हैं, तो आगे बढ़ने में हमारी सहायता करें।

यदि आप सब ब्रोकर बिज़नेस शुरू करना चाहते हैं, तो आपको निम्नलिखित चरणों का पालन करना होगा:

आप नीचे प्रदर्शित फार्म में भरकर भी शुरुआत कर सकते हैं और आपको शीघ्र ही एक कॉलबैक प्राप्त होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

twenty − 3 =