Growth Stock in Hindi

शेयर मार्केट के अन्य लेख

 शेयर मार्केट में विभिन्न प्रकार के स्टॉक्स है और उनमे से ही एक ग्रोथ स्टॉक (Growth Stocks in Hindi) है। 

चलिए सबसे पहले इसी के ऊपर चर्चा करते हैं कि ग्रोथ स्टॉक क्या है? 

ग्रोथ स्टॉक (Growth Stocks in Hindi) वे स्टॉक होते हैं जिनकी मार्केट में अन्य स्टॉक की तुलना में काफी हाई रेट से बढ़ने की उम्मीद होती है।

इस विस्तृत समीक्षा में, हम इस बात पर एक नज़र डालेंगे कि आपके निवेश के लिए इस प्रकार के स्टॉक क्या हैं?

यह भी पढ़ें: स्टॉक्स का तकनीकी विश्लेषण कैसे करें?


ग्रोथ स्टॉक मीनिंग (Growth Stocks Meaning in Hindi)  

जब निवेशक के शेयरों की स्टॉक कीमतें बहुत अच्छी गति से बढ़ जाती हैं तब वे अपने प्रॉफिट को कैपिटल लाभ (gains) के माध्यम से बढ़ाने पर ध्यान केंद्रित करते हैं। 

ये निवेशक, डिविडेंट इनकम के माध्यम से कमाई करने पर ध्यान केंद्रित नहीं करते हैं, क्योंकि ये कंपनियाँ बहुत ज्यादा ग्रोथ रेट पर बढ़ रही होती हैं और बढ़ने के उद्देश्यों से अपने मुनाफे को फिर से निवेश करते हैं।

वे आमतौर पर अपने निवेशकों को डिविडेंट का भुगतान नहीं करते हैं।

ये भी पढ़ें: वैल्यू स्टॉक, डिविडेंड स्टॉक

शेयर मार्केट में रिटर्न हमेशा जोखिम के साथ आते हैं। जितना ज्यादा लाभ आप चाहते है उसके निवेश में उतना ही अधिक जोखिम होगा।

ग्रोथ स्टॉक(Growth Stocks in Hindi) आम तौर पर युवा और बढ़ती कंपनियों से संबंधित हैं, जो बड़ी, स्थिर और अनुभवी कंपनियों की तुलना में जोखिम भरा भी हैं। बड़ी, स्थिर और अनुभवी कंपनियों में निवेश अधिक सुरक्षित है लेकिन रिटर्न भी उसी अनुपात में हैं।

ऐसी कंपनियों के शेयर की कीमतें आमतौर पर थोड़े समय में नाटकीय रूप से नहीं बढ़ती हैं। दूसरी तरफ, ऐसा होने की संभावना छोटी, युवा और बढ़ती कंपनियों के मामले में काफी अधिक है।

भारत में ग्रोथ स्टॉक (Growth Stocks in India)

भारत में स्टॉक के प्रकार की पहचान करने के लिए कोई पक्का फार्मूला नहीं है।

किसी के पोर्टफोलियो के लिए ग्रोथ स्टॉक्स (Growth Stocks in Hindi) के चयन में हमेशा कुछ चीज़ों की व्याख्या और सही निर्णय लेने की आवश्यकता होगी।

आइए,  उन कुछ मुख्य संकेतकों (Indicators) पर चर्चा करें जो ग्रोथ स्टॉक की पहचान करने में हमारी सहायता कर सकते हैं:

1. प्रति शेयर कमाई या EPS:

EPS का एक कंपनी की स्टॉक कीमतों के साथ सीधा संबंध है। EPS की गणना बकाया शेयरों की कुल संख्या से टैक्स के बाद लाभ को विभाजित करके की जाती है।

EPS = नेट प्रॉफिट या टैक्स के बाद लाभ / बकाया शेयरों की कुल संख्या

कंपनी की EPS बढ़ जाती है तो स्टॉक का मूल्य भी बढ़ता है। EPS संख्या की तुलना पिछले वर्षों के EPS की संख्याओं से की जानी चाहिए।

पिछले पांच से 10 वर्षों में मजबूत कमाई की ग्रोथ का ट्रैक रिकॉर्ड होना चाहिए। ऐसा इसलिए है क्योंकि अगर पिछले 5-10 वर्षों में कंपनी ने लगातार अच्छी बढ़ोतरी देखी है, तो संभवतः यह प्रदर्शन को बनाए रखेगी। 

इसके अलावा, एक ही इंडस्ट्री में साथ की कंपनियों के साथ तुलना भी एक कंपनी के वित्तीय प्रदर्शन(financial performance) के बारे में बता सकती है।

2. कॉम्पिटिटिव में बढ़त:

हाई रेट वाली कंपनियां आम तौर पर अपने प्रतिस्पर्धियों पर कॉम्पिटिटिव बढ़त का फ़ायदा प्राप्त कर लेती हैं। इस तरह के कई संभावित उदाहरण हो सकते हैं –

यूनिक प्रोडक्ट या पेटेंट तकनीक – यह स्टॉक की कीमतों में महत्वपूर्ण बढ़ोतरी करता है।

 कम लागत वाली प्रोडक्ट – यह सस्ता कच्चे माल या अच्छी प्रक्रियाओं और उपकरणों के प्रकार या बेहतर और ज्यादा अच्छी वितरण नेटवर्क तक पहुंच जैसे कई कारणों से हो सकती है।

बेहतर सर्विस क्वालिटी– यह बेहतर बिक्री के बाद सर्विस नेटवर्क और कस्टमर-अनुकूलित वारंटी शर्तों के संदर्भ में हो सकता है।

3. एक कंपनी के बढ़ते परिणाम

एक कंपनी के रिजर्वेशन वे हैं जो हमें प्रॉफिट आफ्टर टैक्स से डिविडेंड इनकम घटाकर मिलते हैं। 

यदि पिछले कुछ वर्षों में रिजर्वज़ नंबर्स में वृद्धि हुई है, तो यह एक कंपनी के लिए बहुत ही सकारात्मक और अच्छा संकेत है। ऐसा इसलिए है क्योंकि रिजर्वज़ किसी कंपनी की आत्मनिर्भर होने की क्षमता को दर्शाता है।

अच्छी कैपिटल वाली कंपनियों को अपने पूंजीगत खर्चों और विस्तार योजनाओं के निष्पादन के लिए डेब्ट पर निर्भर नहीं रहना पड़ता है।

इसलिए, वे डेब्ट से संबंधित लागतों की बहुत बचत कर रहे हैं, और इस प्रकार, एक कंपनी के शेयर की कीमत और ओवरऑल लाभप्रदता(Profitability)  में बढ़ोतरी होती है।

4. डेब्ट टू इक्विटी रेश्यो:

यह कंपनी के वित्तीय स्थिति का विश्लेषण करने के लिए सबसे महत्वपूर्ण रेश्यो में से एक है।

यह जरूरी नहीं कि डेब्ट बुरी चीज हो। वास्तव में, कुछ इंडस्ट्री में, डेब्ट की कमी एक नकारात्मक संकेत(negative sign) लगता है क्योंकि यह सही विस्तार योजनाओं की कमी को दिखाता है। इक्विटी रेश्यो के लिए डेब्ट एक अच्छा सिग्नल है।

आंकड़ों की कोई निश्चित संख्या नहीं है जिसे सभी कंपनियों के लिए माना जा सकता है। इस रेश्यो के लिए आंकड़े उस कंपनी के प्रकार पर निर्भर करता है जिस पर कंपनी काम कर रही है।

उदाहरण के लिए, चीनी विनिर्माण कंपनी (sugar manufacturing company) का इक्विटी रेश्यो डेब्ट IT कंपनी से बहुत अलग हो सकता है।

 इसलिए, बेहतर रेश्यो बनाने के लिए, इस रेश्यो की तुलना उसी इंडस्ट्री में अन्य कंपनियों के साथ की जानी चाहिए।

5. प्रॉफिट मार्जिन:

किसी कंपनी के प्री-टैक्स प्रॉफिट मार्जिन की गणना,  बिक्री से सभी खर्चों, टैक्स के अलावा घटाकर और बिक्री से विभाजित करके की जाती है।

इन नंबर्स को देखना बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि यह काफी संभव है कि किसी कंपनी की बिक्री में ग्रोथ सबसे अच्छी है, लेकिन लागत(costs)और रेवेन्यू को नियंत्रित करने के बेकार प्रबंधन के कारण कमाई में प्रॉफिट खराब होता है।

यह अकुशल प्रबंधन प्रणाली(management system) का संकेतक हो सकता है और निश्चित रूप से एक कंपनी के वित्तीय विवरणों पर एक खतरा हो सकता है।

प्री-टैक्स प्रॉफिट मार्जिन जितना अधिक होगा, कंपनी को उतना ही लाभ होगा।

कंपनी के लाभप्रदता(profitability) की दिशा जानने के लिए पिछले कुछ वर्षों के आंकड़ों के साथ कंपनी के प्री-टैक्स प्रॉफिट मार्जिन आंकड़ों की तुलना की जानी चाहिए।

6. इक्विटी पर रिटर्न (Return on Equity in Hindi):

इक्विटी पर रिटर्न (ROE) या नेट वर्थ पर रिटर्न (RONW) शेयरधारकों की इक्विटी के प्रतिशत के रूप में वापिस की गई नेट इनकम की राशि है। यह शेयरधारकों द्वारा निवेश किए गए धन की राशि को ध्यान में रखकर कंपनी की लाभप्रदता(profitability) का एक परिमाण है।

ROE = नेट इनकम / शेयरधारक की इक्विटी 

इन नंबर्स की तुलना उसी इंडस्ट्री में साथी कंपनियों के साथ की जानी चाहिए, जिससे कंपनी और उसके शेयरधारकों के लिए अधिक लाभ और ग्रोथ में नकदी को परिवर्तित करने की प्रभावशीलता दिखती है।

कुल लागत पर रिटर्न जितनी अधिक होगी, उतना ही कुशल कंपनी के संचालन उन फंडों का उपयोग कर रहे हैं।

वर्ष 2018 में भारत में सबसे तेजी से बढ़ती कंपनियों में से कुछ हैं –

  • मिंडा इंडस्ट्रीज लिमिटेड
  • सफारी इंडस्ट्रीज (इंडिया) लिमिटेड
  • अवंती फीड्स लिमिटेड
  • HEG लिमिटेड
  • बजाज फाइनेंस लिमिटेड
  • पांडी ऑक्साइड एंड केमिकल्स लिमिटेड
  • GM ब्रेवरीज लिमिटेड
  • अक्षर केमिकल (इंडिया) लिमिटेड

प्रत्येक सिक्के में दो पहलु होते हैं, इसलिए ग्रोथ शेयरों में निवेश करते समय भी रिस्क फैक्टर आता है। 

ग्रोथ शेयरों में किसी की कमाई के निवेश में जोखिम यह है कि डिविडेंट के माध्यम से लगभग कोई इनकम नहीं है, इसलिए निवेशकों को केवल अपने शेयरों की कीमतों में अच्छी ग्रोथ पर निर्भर होना होता है।

यदि किसी भी तरह से, ऐसा नहीं होता है, तो निश्चित रूप से शेयर मार्केट में अनिश्चितता(unpredictability) की मात्रा के कारण, निवेशक को अपने शेयरों को बेचने पर नुकसान उठाना पड़ सकता है।

यह भी पढ़ें: स्टॉक मार्केट क्या है ?


ग्रोथ स्टॉक में रिस्क

जाहिर है, जब आप शेयर मार्केट में निवेश करते हैं, तो इसमें अधिक जोखिम होता है। यह कहने के बाद कि, जब आप ग्रोथ स्टॉक्स के बारे में बात कर रहे हैं, तो जोखिम उतना सीधा नहीं है जितना कि यह दिखाई देता है। 

उदाहरण के लिए, यदि इंडस्ट्री के बारे में सर्किट के आसपास कोई विशेष नेगेटिव न्यूज़, या सरकार की कोई नई नीति जो डायरेक्ट या इनडायरेक्ट रूप से इस क्षेत्र के शेयर को प्रभावित करती है, तो स्टॉक की कीमत में अचानक गिरावट आती है। 

हालांकि, स्टॉक मौलिक रूप से मजबूत है, इसलिए इसमें जोखिम कम होता है और इसकी कीमत बहुत जल्द वापस होने वाली है या कहें कि यह बहुत जल्द वापिस आ जाएगी।

स्टॉक ओवरऑल आर्थिक स्थितियों के कारण बहुत कम संवेदनशील होने जा रहा है और लॉन्ग-टर्म रिटर्न प्रदान करने वाला है।


ग्रोथ स्टॉक रिटर्न

आइए, अब आपके निवेश पर रिटर्न के बारे में बात करते हैं। अगर आप अपने पोर्टफोलियो में एक या दो ग्रोथ स्टॉक को क्रैक किया है, तो ये कंपनियाँ आपको किसी भी डिविडेंट का भुगतान नहीं कर सकती हैं क्योंकि वे अपने मुनाफे को बिज़नेस में वापिस निवेश करने के नज़रिये से देखती हैं।

हालांकि, यह प्राइमरी कारण है कि वे आते हैं और बिज़नेस में ग्रोथ स्टॉक के रूप में बने रहते हैं। 

इस प्रकार,  यदि आप अपने निवेश पर एक बड़े रिटर्न की तलाश कर रहे हैं तो, इस लम्बी रेस में बने रहें। कभी-कभी, सामान्य मार्केट में अपने निवेशकों को देने के लिए विभिन्न प्रकार का रिटर्न होता है।

स्टॉक मार्केट में तभी निवेश करें जब आपको सच में पैसों की ज़रूरत हो और आपने  हर तरफ से निवेश कर लिया हो। ग्रोथ स्टॉक के मामले में होल्डिंग की अवधि (Period) आम तौर पर 10 साल + होती है।


ग्रोथ स्टॉक्स का उदाहरण 

अब हम, आपको नए ग्रोथ स्टॉक के कुछ उदाहरण देने जा रहे हैं। हालांकि, इससे पहले कि आप अपने निवेश को आगे बढ़ाएं, आइए, स्टॉक्स का एक विस्तृत मौलिक विश्लेषण करें।

यह साधारण कारण के लिए है कि अगर इस तरह के टिप्स इतनी आसानी से उपलब्ध होते तो हर कोई ग्रोथ स्टॉक में निवेश कर रहा होता। 

निश्चित रूप से, ज़्यादातर बिज़नेस ने एक ग्रोथ स्टॉक के पैटर्न की नकल की होगी और एक दिन, अधिकांश स्टॉक ग्रोथ स्टॉक होंगे।

 यहाँ, आपके संदर्भ के लिए कुछ ग्रोथ स्टॉक के उदाहरण हैं:

जमना ऑटो इंडस्ट्रीज

  • पीई रेश्यो: 21.63
  • 3 वर्षों में नेट प्रॉफिट ग्रोथ: 62.17%
  • अपसाइड पोटेंशियल: 40%

कल्पतरु पावर 

  • पीई रेश्यो: 15.24
  • 3 वर्षों में नेट प्रॉफिट ग्रोथ : 32.23%
  • अपसाइड पोटेंशियल : 53%

केईसी इंटरनेशनल

  • पीई रेश्यो: 15.59
  • 3 वर्षों में नेट प्रॉफिट ग्रोथ: 41.94%
  • अपसाइड पोटेंशियल: 40%

सीईएससी

  • पीई रेश्यो: 14.96
  • 3 वर्षों में नेट प्रॉफिट ग्रोथ:: 79.71
  • अपसाइड पोटेंशियल: 18%

यूपीएल(UPL)

  • पीई रेश्यो: 18.10
  • 3 वर्षों में नेट प्रॉफिट ग्रोथ: 21.07
  • अपसाइड पोटेंशियल: 11%

सुप्रजीत इंजीनियरिंग

  • पीई रेश्यो: 22.33
  • 3 वर्षों में नेट प्रॉफिट ग्रोथ: 40.16%
  • अपसाइड पोटेंशियल: 29%

इन सभी शेयरों का पीई रेश्यो अपने विशिष्ट क्षेत्रों में उनकी साथी कंपनियों की तुलना में बहुत अच्छी तरह से रखा गया है। उसी समय में, इन बिज़नेस ने अपने वर्ष के नेट प्रॉफिट में लगातार बढ़ोतरी दिखाई है।

इसके अलावा, बुनियादी बातों और ऐतिहासिक प्रदर्शन के आधार पर, फाइनेंशियल हाउस जैसे आर्थिक समय के विश्लेषकों(analysts) का मानना है कि इन शेयरों में उचित निवेश की संभावना है।

आपके द्वारा इन स्टॉक्स में निवेश करने से पहले अपने खुद के विश्लेषण के आधार पर इन शेयरों की पुष्टि करनी चाहिए।


ग्रोथ स्टॉक – निष्कर्ष

अब हम जानते हैं कि विकास निवेशक उन शेयरों में निवेश करने में विश्वास करते हैं जो अपेक्षाकृत कम समय में स्टॉक की कीमतों में भारी बढ़ोतरी के साथ उन्हें रिवॉर्ड देने जा रहे हैं।

ग्रोथ निवेश उन कंपनियों पर ध्यान केंद्रित नहीं करता है जो लगातार अपने शेयरधारकों को डिविडेंट दे रहे हैं लेकिन स्टॉक की कीमतों में वृद्धि प्रभावशाली नहीं है।

ग्रोथ स्टॉक की पहचान करने के लिए, किसी को उन कंपनियों की तलाश करनी चाहिए जो किसी ना किसी तरह से यूनिक हैं।

सरल शब्दों में, ग्रोथ निवेशक उन कंपनियों की तलाश करते हैं जिनके पास सस्ते और बेहतर गुणवत्ता वाले प्रोडक्ट्स, पेटेंट तकनीक या बेहतर ऑफ्टर सर्विस सेल और ग्राहक के अनुकूल नीतियों के बाद बेहतर प्रकार की प्रतिस्पर्धी बढ़त हैं।

ग्रोथ स्टॉक की पहचान करने में, किसी को भी कंपनियों के वित्तीय विवरणों की जानकारी होनी चाहिए।  

पिछले कुछ सालों में कंपनी की ग्रोथ रेट की तुलना करने के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले विभिन्न फाइनेंशियल रेश्यो पर एक अच्छी समझ होनी चाहिए और उसी इंडस्ट्री के अपने प्रतिस्पर्धियों के साथ ग्रोथ रेट की तुलना में  अच्छा करते है।

कंपनी के प्रबंधन को देखना चाहिए और कोशिश करनी चाहिए की प्रबंधन चर्चा को पढ़कर और पिछले कुछ वर्षों में कंपनी के प्रदर्शन का विश्लेषण करके इसकी प्रभावशीलता को जानने का प्रयास करना चाहिए।

इससे यह पता चलता है कि कंपनी प्रबंधन को कंपनी द्वारा सामना की जा रही किसी भी समस्या के बारे में पता है या नहीं।

यह भी देखा जाना चाहिए कि प्रबंधन कितनी कुशलता से समस्याओं को हल कर रहा है और क्या वह अपने शेयरधारकों के वादे निभाने में सक्षम है।

सभी विश्लेषणों के बाद भी, कभी-कभी, चीज़ों में मंदी होती है जिससे स्टॉक की कीमतें अनुकूल दिशा में नहीं बढ़ पाती हैं।

शेयरों में निवेश में शामिल जोखिम का एक तत्व हमेशा होता है।

ग्रोथ स्टॉक इस मायने में जोखिम भरा है कि जिस तरह से निवेशक इनवेस्टमेंट करके कमा सकते हैं वह एक महत्वपूर्ण स्टॉक प्राइस है। किसी भी डिविडेंट इनकम में ग्रोथ स्टॉक से ज्यादा होने की उम्मीद नहीं है।

इसलिए, पैसे खोने का जोखिम प्रतिकूल परिस्थितियों में रहता है।

यदि आप स्टॉक मार्केट में निवेश या सामान्य रूप से ट्रेडिंग के साथ शुरुआत करना चाहते हैं, तो हम आपको अपने अगले कदम आगे बढ़ाने में सहायता करते हैं:

यहां अपना बुनियादी विवरण दर्ज करें और आपके लिए एक कॉल बैक की व्यवस्था की जाएगी।शेयर बाजार कैसे सीखे

Summary
Review Date
Reviewed Item
ग्रोथ स्टॉक
Author Rating
51star1star1star1star1star

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

two × 5 =