Return on Capital Employed in Hindi

स्टॉकब्रोकर रिसर्च की अन्य समीक्षा

रिटर्न ऑन कैपिटल एम्प्लॉइड (Return on Capital Employed in Hindi) एक वित्तीय अनुपात (Financial Ratio) है, जो किसी बिज़नेस पर लगी कुल पूंजी से उत्पन्न लाभ प्रतिशत (Profit Percentage) को मापने में मदद करता है।

दूसरे शब्दों में, यह मापता है कि कंपनी अपनी पूंजी का उपयोग व्यवसाय में रिटर्न प्राप्त करने के लिए कितनी अच्छी तरह कर रही है। शेयरों का फंडामेंटल एनालिसिस करने वाले निवेशक के लिए निवेश करने से पहले उसे जांचने का, यह सबसे जरूरी पैमाना है।

मूल रूप से, एक इन्वेस्टर के लिए Share Market Analysis in Hindi के बारे में जरुरी बातें पता होनी चाहिए। लेकिन Share Market Kya Hai, ये जानना है तो अच्छे से हमारे Blog को पढ़िए.


रिटर्न ऑन कैपिटल एम्प्लॉइड से जुड़ी बुनियादी बातें:

इसके अलावा, यह व्यावसायिक उद्यम के फंड के उपयोग की पूरी व्याख्या करता है यानी समस्त पूंजी की कितनी राशि का प्रयोग शोध, संचालन गतिविधियों, व्यवसाय विस्तार आदि में किया जा रहा है।

तकनीकी रूप से, रिटर्न ऑन कैपिटल एम्प्लॉइड (ROCE) अंतिम संस्कार समय की पूंजी संख्या का उपयोग करता है। दूसरी ओर, यदि हम समय अवधि के खुलने और बंद होने के औसत का उपयोग करते हैं, तो उस स्थिति में, वे पूंजी पर रिटर्न ऑन एवरेज कैपिटल एम्प्लॉइड औसत (ROACE) को प्राप्त करते हैं।

यह एक मुख्य लाभ प्राप्ति का अनुपात है और इसकी गणना प्रतिशत के रूप में की जाती है।

ROCE के इस विस्तृत ट्यूटोरियल में, हम कुछ इस तरह के पहलुओं पर बात करेंगे:

  • ROCE फॉर्मूला
  • ROCE उदाहरण
  • ROCE व्याख्या
  • ROCE आदर्श रिटर्न
  • ROCE की सीमाएँ

Return on Capital Employed in Hindi: फॉर्मूला 

ROCE की गणना के लिए प्रयोग किया जाने वाला फॉर्मूला कुछ इस प्रकार है:

रिटर्न ऑन कैपिटल एम्प्लॉइड: ब्याज और टैक्स से पहले का लाभ/ कैपिटल एम्प्लॉइड 

जहां,

कैपिटल एम्प्लॉइड: शेयरधारक के फंड + डिबेंचर + लंबी अवधि के ऋण

या

कैपिटल एम्प्लॉइड: नॉन- करंट एसेट + कार्यशील पूंजी

आइये, अब इन शब्दों को संक्षेप में समझते हैं:

ब्याज और टैक्स से पहले का लाभ:

ब्याज और टैक्स से पहले का लाभ ब्याज और कर में कटौती से पहले होने वाला  संचालित लाभ है।

संचालित लाभ एक फर्म के लिए सभी संचालित खर्चों पर संचालित आय की अधिकता है। कर और ब्याज से पहले का लाभ प्राप्त करने के लिए हमें फर्म के शुद्ध लाभ में कर और ब्याज को जोड़ना होगा।

कैपिटल एम्प्लॉइड:

कैपिटल एम्प्लॉइड का मतलब है कि व्यवसाय में नियोजित दीर्घावधि फंड। कैपिटल एम्प्लॉइड की गणना दो तरीकों से की जा सकती है:

विधि #1:

शेयरहोल्डर्स फंड, डिबेंचर और लॉन्ग टर्म लोन का कुल योग कैपिटल एम्प्लॉइड है।

आइए, उनमें से हर एक के बारे में हम संक्षेप में चर्चा करें।

शेयरधारक का फंड :

शेयरधारक का फंड कुल दायित्वों की तुलना में कुल संपत्ति की अधिकता को दर्शाता है। शेयरधारकों की इक्विटी वह राशि है जो यह दर्शाती है कि इक्विटी और वरीयता शेयरों की मदद से कंपनी को किस तरह से वित्त सहायता दी गई  है।

डिबेंचर:

यह एक कंपनी द्वारा अपनी समान मुहर के तहत जारी किया गया एक दस्तावेज है जो ऋण को स्वीकार करता है और इसमें एक निश्चित दर पर ऋण को चुकाने का निर्धारित समय और ब्याज के भुगतान की दर भी शामिल होती है।

लम्बे समय के ऋण:

ऋण जिन्हें चुकाने की तय अवधि काफी लंबी होती है। ये ऋण चुकाने की अवधि आम तौर पर 3 साल या उससे अधिक की होती है।

विधि #2:

कैपिटल एम्प्लॉइड की गणना नॉन-करंट एसेट्स और कार्यशील पूंजी के कुल योग के रूप में भी की जा सकती है।

नॉन-करंट एसेट्स:

नॉन-करंट एसेट्स वे परिसंपत्तियां हैं जो एक वर्ष से अधिक समय के लिए व्यापार में निवेशित हैं। उनका और कंपनी के साथ एक लम्बे समय तक सहयोग बना रहता है।

वर्किंग कैपिटल:

वर्किंग कैपिटल से तात्पर्य उस पूंजी से है जो दिन-प्रतिदिन के कारोबार के लिए उपयोग की जाती है। यह वर्तमान देनदारियों से अधिक वर्तमान परिसंपत्तियों की अधिकता है।


रिटर्न ऑन कैपिटल एम्प्लॉइड गणना

बैलेंस शीट

Return On Capital Employed

रिटर्न ऑन कैपिटल एम्प्लॉइड:

इंटरेस्ट और टैक्स से पहले का लाभ = टैक्स के बाद का नेट प्रॉफिट + ऋण ब्याज + टैक्स

:₹(1,50,000 + 40,000 + 50,000)

:₹2,40,000

कैपिटल एम्प्लॉइड: = इक्विटी शेयर पूंजी + वरीयता शेयर पूंजी + रिज़र्व + डिबेंचर

:₹(4,00,000 + 1,00,000 + 1,84,000 + 4,00,000)

:₹10,84,000

वैकल्पिक रूप से

कैपिटल एम्प्लॉइड: नॉन- करेंट एसेट्स + वर्किंग कैपिटल

(वर्किंग कैपिटल: करंट एसेट्स – करंट लायबिलिटीज)

:₹9,50,000 + ₹(2,34,000 – 1,00,000)

:₹(9,50,000 + 1,34,000)

:₹10,84,000

रिटर्न ऑन कैपिटल एम्प्लॉइड= टैक्स और डिविडेंड से पहले का शुद्ध लाभ/ कैपिटल एम्प्लॉइड 

:(2,40,000 / 10,84,000) * 100

:22.14%

रिटर्न ऑन कैपिटल एम्प्लॉइड की व्याख्या

रिटर्न ऑन कैपिटल एम्प्लॉइड 22.14% है, जो कि एक अच्छा प्रतिशत है। यह बताता है कि कंपनी कुशलतापूर्वक अपनी पूंजी का उपयोग कर रही है। पहले ही लम्बे समय तक की वित्तीय सुदृढ़ता के लिए, यह रिटर्न, फर्म द्वारा भुगतान किये जाने वाले ब्याज से ज्यादा होना चाहिए।

इस मामले में, फर्म डिबेंचर पर 10% का ब्याज दे रहा है, इसलिए रिटर्न 22.14% है, जो कि ब्याज से अधिक है। इससे यह साबित होता है कि कंपनी आर्थिक रूप से काफी स्थिर हालत में है।

  • रिटर्न ऑन कैपिटल एम्प्लॉइड शेयरधारकों, डिबेंचर धारकों और लम्बे समय वाले ऋण को सौंपे गए फंड के उपयोग में व्यवसाय की दक्षता को प्रकट करता है।
  • यह इस बात का विश्लेषण करने में मदद करता है कि फर्म भुगतान की गई ब्याज दर की तुलना में अधिक ROCE कमा रही है या नहीं।
  • रिटर्न ऑन कैपिटल एम्प्लॉइड, पूंजीगत लागत से अधिक होना चाहिए, अन्यथा, इससे पता चलता है कि कंपनी अपनी पूंजी का सही उपयोग नहीं कर पा रही है और न ही शेयरधारक से अच्छी  कीमत उत्पन्न कर पा रही है।
  • उच्च ROCE का अर्थ है पूंजी का अधिक किफायती उपयोग।
  • रिटर्न ऑन कैपिटल को लाभ प्राप्त करने का एक अच्छा उपाय माना जाता है।
  • रिटर्न ऑन कैपिटल एम्प्लॉइड के मामले में अंतर-फर्म तुलना को तुलना एक अच्छा तरीका माना जाता है।
  • रिटर्न ऑन कैपिटल एम्प्लॉइड के मामले में उद्योग का एक बेंचमार्क निर्धारित करना महत्वपूर्ण है क्योंकि यह फर्म के मूल्यांकन को काफी आसान बना देता है।
  • कई मामलों में, कंपनी ROCE की गणना के लिए नेट ऑपरेटिंग प्रॉफिट आफ्टर टैक्स (NOPT) यानी कर के बाद के शुद्ध संचालित लाभ का प्रयोग अंश के रूप में करती हैं।
  • पूंजी- गहन कंपनियों की तुलना करते वक्त रिटर्न ऑन कैपिटल एम्प्लॉइड काफी उपयोगी सिद्ध होता है।
  • ROCE अधिक भरोसेमंद है क्योंकि दूसरे अनुपातों से अलग, यह ऋण, इक्विटी और लम्बे समय के ऋण के सभी घटकों को ध्यान में रखता है।
  • ROCE का उपयोग लाभ प्राप्ति के दूसरे अनुपातों जैसे इक्विटी पर रिटर्न और एसेट्स पर रिटर्न के साथ कंपनी की वित्तीय लाभप्रदता की तुलना के लिए किया जा सकता है।
  • निवेशकों के दृष्टिकोण से ROCE अनुपात सबसे बेहतरीन अनुपातों में से एक है।

एक अच्छा रिटर्न ऑन कैपिटल एम्प्लॉइड वैल्यू क्या होगा?

कैपिटल एम्प्लॉइड पर आदर्श रिटर्न वह है, जो ज्यादा रिटर्न देता है।

जितना ज्यादा ROCE हो, यह फर्म के लिए उतना ही बेहतर है, क्योंकि यह फर्म की वित्तीय सुदृढ़ता के बारे में बेहतर तरीके से बताता है।

लेकिन रिटर्न ऑन कैपिटल एम्प्लॉइड की उद्योग के बेंचमार्क के साथ तुलना करना भी काफी महत्वपूर्ण है।

चलिए, एक उदाहरण की मदद से समझते हैं: फर्म 1 के लिए ROCE  15% है और फर्म 2 के लिए ROCE 19% है, इसलिए इनकी व्याख्या नियोजित पूंजी अनुपात पर एक अच्छे रिटर्न के रूप में की जा सकती है, लेकिन उद्योग का बेंचमार्क 30% है, इसलिए इस मामले में उद्योग की औसत लाभप्रदता की तुलना में, दोनों की ही लाभप्रदता काफी कम है।

इसलिए ये उद्योग की बाकी फर्मों की तुलना में बहुत अच्छे नहीं हैं।


Return on Capital Employed in Hindi: कमियां

रिटर्न ऑन कैपिटल एम्प्लॉइड का उपयोग करते समय इसकी कई सीमाएं देखने को मिलती हैं। उनमें से कुछ नीचे बताई गई हैं:

  • इस अनुपात का उपयोग एक ही उद्योग से तुलना करने के बहुत जरूरी है, रिटर्न ऑन कैपिटल एम्प्लॉइड का प्रयोग अलग अलग उद्योगों के बीच तुलना करने  के लिए नहीं किया जा सकता है।
  • इसकी सबसे बड़ी सीमाओं में से एक यह है कि उनकी गणना एसेट्स की बुक वैल्यू पर की जाती है और इसलिए अगर जब कैश का आना एक जैसा भी बना रहता है तो भी एसेट्स कम होती हुई ही दिखती हैं जो वहां मौजूद न होने पर भी ज्यादा रिटर्न उत्पन्न करेंगी।
  • एक ही समय के अनुपातों की तुलना करना काफी जरूरी है।
  • किसी अलग समय की अवधि के अनुपातों की तुलना करने से  गलत व्याख्याएं हमारे सामने आ सकती है।

Return on Capital Employed in Hindi: निष्कर्ष 

रिटर्न ऑन कैपिटल एम्प्लॉइड फर्म की वित्तीय लाभप्रदता को मापने के लिए प्रयोग किये जाने वाले सबसे अच्छे अनुपातों में से एक है।

यह न केवल अलग अलग समय अवधियों के माध्यम से तुलना करते हुए फर्म की अच्छी तस्वीर देता है, बल्कि जब हम उसी  उद्योग की दूसरी कंपनियों के साथ भी फर्म की तुलना करते हैं, तब भी ये सही आंकड़ें बताता है।

निवेशक जब भी किसी कंपनी में अपने फंड का निवेश करने के बारे में निर्णय लेते हैं, तो वे ज्यादातर इसी अनुपात को एक बेंचमार्क के रूप में उपयोग करते हैं।

यदि आप शोध और शेयर मार्केट टिप्स के माध्यम से स्टॉक मार्केट ट्रेडिंग में निवेश करना  चाहते हैं, तो हमें अपने अगले कदम को आगे बढ़ाने में आपकी सहायता करने का मौका दें:

यहां अपनी जानकारी दर्ज करें और आपके लिए एक कॉलबैक की व्यवस्था की जाएगी!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

1 × five =