डिपॉजिट के बिना सब ब्रोकरशिप

अन्य सब-ब्रोकर के विश्लेषण

जैसा कि हम जानते हैं एक सब ब्रोकर, निवेशक और भारत के या कंपनी में एक शीर्ष शेयरब्रोकर के बीच मध्यस्थ के रूप में कार्य करता है। आईये इस लेख में, बिना डिपॉजिट के बिना सब ब्रोकरशिप के बारे में चर्चा करते हैं।

इसलिए, यह समझ में आता है कि वे जो समझौता करते हैं, वह ग्राहक, सब ब्रोकर और स्टॉकब्रोकिंग कंपनी के बीच एक तृतीय-पक्ष(Third-Party) समझौता है।

ऐसे सेट-अप हैं जहां डिपॉजिट काम के बिना सब ब्रोकरशिप है और बहुत से हैं, जहां यह नहीं है।

फिर भी, सब ब्रोकर द्वारा बनाया गया रेवेन्यू अनुबंध के समय तय किए गए रेवेन्यू शेयरिंग प्रतिशत के आधार पर मुख्य स्टॉकब्रोकर द्वारा दिया जाता है।

इसके अलावा ,आई.आई.एफ.एल फैन और आई.आई.एफ.एल फैन के लाभ के बारे में जानें


डिपॉजिट के बिना सब ब्रोकरशिप – शुरूआती कीमत 

समझौते के अनुसार प्रमुख आवश्यकताओं में से एक है की शेयर ब्रोकर कंपनी को सब ब्रोकर द्वारा एक राशि का प्रारंभिक भुगतान करना करना होगा, जिसके साथ वे पार्टनर बनने जा रहे हैं।

यह जमा राशि सब ब्रोकर को स्टॉकब्रोकर के नाम पर ट्रेड करने का अधिकार देता है। इसके अलावा, समझौते के अनुसार, नैतिक आचरण के कुछ नियमों और नीतियों को भी सब ब्रोकर पार्टनर द्वारा पालन किया जाना चाहिए।

यह जमा राशि सब ब्रोकर को स्टॉकब्रोकर के नाम पर ट्रेड करने का अधिकार देता है। इसके अलावा, समझौते के अनुसार, नैतिक आचरण के कुछ नियमों और नीतियों को भी सब ब्रोकर पार्टनर द्वारा पालन किया जाना चाहिए।

आमतौर पर, शुरू में जमा की जाने वाली राशि एक बार का निवेश है और यह 50,000 से 3,00,000 रूपए के बीच हो सकता है। यह परिभाषित सीमा से थोड़ा कम या अधिक हो सकता है लेकिन अधिकांश स्टॉकब्रोकर को इस सीमा के भीतर राशि की आवश्यकता होती है।


प्रारंभिक खर्चे – कुछ विशेषताएँ 

प्रारंभिक जमा राशि और संबंधित औपचारिकताओं के संबंध में आपके लिए यहां कुछ महत्वपूर्ण विशेषताएं बताई गई हैं:

  • प्रारंभिक मार्जिन को नकद या शेयरों के रूप में भी स्वीकार किया जा सकता है।
  • लगभग सभी ब्रोकर फर्म अनुबंध में निर्देशित अवधि के बाद वापसी योग्य जमा की सेवा प्रदान करती हैं।
  • जमा राशि का उपयोग सब ब्रोकर द्वारा भुगतान न करने की स्थिति में सुरक्षा के रूप में किया जाता है।
  • कुछ मामलों में, प्रारंभिक जमा राशि भी निर्धारित करती है कि रेवेन्यू की हिस्सेदारी कितने प्रतिशत रहने वाली है।
  • आधिकारिक लेन-देन की सुविधा के लिए ब्रोकर फर्म के साथ सब ब्रोकर या पार्टनर एक डीमैट खाता या एक ट्रेडिंग खाता भी खोल सकता है।

सब ब्रोकर बिज़नेस मॉडल

अब तक यह सब-ब्रोकर बिज़नेस के लिए एक लोकप्रिय मॉडल रहा है, लेकिन क्या इस डिपॉजिट का भुगतान किए बिना यही बिज़नेस करने का कोई तरीका है?

इसे समझने के लिए, हमें आज प्रचलित विभिन्न सब ब्रोकिंग मॉडल को देखना होगा।

  • मास्टर फ्रेंचाइज

इस परिदृश्य में, एक ब्रोकर फर्म के नाम के तहत किसी विशेष क्षेत्र या शहर के लिए फ्रेंचाइजी प्रदान करती है।

शुरुआत के लिए फ्रैंचाइज़ी शुल्क के रूप में एक प्रारंभिक राशि जमा करना आवश्यक है। उनके पास एक भौतिक स्थान भी होना चाहिए।

  • अधिकृत व्यक्ति (Authorized Person)

एक प्रकार का फ्रैंचाइज़ जहाँ एक व्यक्ति को फ्रैंचाइज़ के रूप में नियुक्त किया जाता है, लेकिन एक्सचेंज के एक ट्रेडिंग सदस्य द्वारा भी।

पिछले मॉडल के समान ब्रोकर फर्म के नाम के तहत बिज़नेस करने के लिए प्रारंभिक जमा राशि आवश्यक है।

  • रिमाइजर 

स्टॉकब्रोकर फर्म का एक एजेंट प्रतिनिधि के रूप में कार्य करता है और कमीशन के आधार पर काम करता है, हालांकि रेवेनुए का हिस्सा छोटा होगा। इस मामले में एक छोटी जमा राशि आवश्यक है।

  • परिचयकर्ता(Introducer)

स्टॉकब्रोकिंग हाउस का एक एजेंट जो केवल ग्राहकों को फर्म या फर्म को ग्राहक का रेफरेन्स देता है।

एक बार जब ग्राहक फर्म के साथ जुड़ जाता है तो एजेंट को प्रति ग्राहक के अनुसार एक निर्धारित शुल्क या लेनदेन की लागत का प्रतिशत प्राप्त होता है।

इस मामले में, आमतौर पर, कोई जमा राशि की आवश्यकता नहीं होती है।


शुरुआती जमा राशि के उदहारण 

कई कंपनियां इन दिनों उपर्युक्त मॉडलों में से कई का उपयोग करती हैं और उसके अनुसार चार्ज एक प्रारंभिक जमा चार्ज करती हैं या नहीं करती हैं।

उदाहरण के लिए, फेयरवेल्थ सिक्योरिटीज(Fairwealth securities) जिसमें अलग-अलग बिजनेस मॉडल के लिए प्रारंभिक जमा राशि के अलग-अलग नियम होते हैं यानी मास्टर फ्रैंचाइज़ी के लिए 2,00,000 से 4,00,000 की जमा राशि की आवश्यकता होती है।

इसी तरह, एक एपी के लिए, 50,000 से 1,00,000 रूपए के बीच और एक रिमाइजर के लिए 10,000 रूपए। परिचयकर्ता या रेफरल कार्यक्रम के लिए कोई जमा राशि आवश्यक नहीं है।

एक और उदाहरण Tradeeasy होगा जो कई मॉडल सेवाएं प्रदान करता है।

फिर मुख्यधारा के फुल सर्विस स्टॉकब्रोकर जैसे कि एंजेल ब्रोकिंग, आई.आई.एफ.एल  या आई.सी.आई.सी.आई डायरेक्ट हैं जिन्हें कम से कम 50,000 की प्रारंभिक जमा राशि की आवश्यकता होती है।


डिपॉजिट के बिना सब ब्रोकरशिप-हो सकता है?

ब्रोकर फर्म, आज, सब ब्रोकर को प्रारंभिक निवेश पर कम लागत प्रदान करने के लिए प्रतिस्पर्धा कर रहे हैं।इसमें पहला कदम प्रारंभिक जमा की आवश्यकता को पूरी तरह से दूर करना है।

हालाँकि, अन्य कारकों को भी जमा राशि के लिए आधार माना जाता है जैसे कि सब ब्रोकर का आकार और ग्राहक आधार या न्यूनतम ट्रेड की आवश्यकता यदि कोई हो जो सब ब्रोकर को दिया जाता है।

इसलिए, एक अच्छी प्रतिष्ठा और एक बड़े ग्राहक आधार के साथ एक सब ब्रोकर, जो न्यूनतम ट्रेड की एक निश्चित राशि की गारंटी दे सकता है, उनकी प्रारंभिक जमा आवश्यकता समाप्त हो सकती है।

यह कहने के बाद कि, यदि आप उद्योग में एक विश्वसनीय ब्रांड के साथ पार्टनर बनने के लिए गंभीर हैं, तो यह वापसी योग्य जमा राशि होने वाले अनुबंध के बीच में समस्या नहीं होनी चाहिए।

उच्च संभावनाएं हैं कि सीमित उपस्थिति और ब्रांड इक्विटी वाले ब्रोकर बिना किसी लागत के आपके साथ पार्टनरशिप करने की कोशिश करेंगे, लेकिन क्या यह एक लम्बे समय के लिए सही है?


डिपॉजिट के बिना सब ब्रोकरशिप-उदाहरण 

अब तक शून्य-जमा मॉडल केवल रेफरल प्रोग्राम या इंट्रोड्यूसर के लिए आरक्षित था, लेकिन अब इसे अन्य मॉडलों के लिए भी तेजी से लाया जा रहा है।

आइए वास्तविक में उपयोग हो रहे इस मॉडल के कुछ और उदाहरण देखें:

कैशबॉक्स भारत की एक ऐसी फर्म है जिसमें फ्री सब ब्रोकरशिप प्लान है। संक्षेप में, वे अपने साथ पार्टनर बनने के लिए शून्य जमा राशि की सुविधा प्रदान करते हैं।

वे रेवेन्यु के बंटवारे के 80:20 के स्तर के साथ ज्यादा फायदे वाली और कम लागत वाली सब ब्रोकरशिप के विचार को बढ़ावा दे रहे हैं।

हालांकि, यह बाजार में एक नया ब्रांड है और अभी भी इसकी ब्रांडिंग और छवि की दिशा में काम करने की जरूरत है।

एडलवाइस(Edelweiss) अपने बिज़नेस मॉडल पर शून्य डिपॉजिट सब ब्रोकर मॉडल प्रदान करता है, जिसे एडलवाइस एलायंस(Edelweiss Elliance) के नाम से जाना जाता है, जो रिमाइजर के समान मॉडल है।

अधिक जानकारी के लिए एडलवाइस फ्रैंचाइज़ की समीक्षा देखें।

ज़ेरोधा एक बैंगलोर में स्थापित ब्रोकर फर्म है जो हालांकि सब-ब्रोकर पार्टनर के दो मॉडल का उपयोग करती है –

  • रिमाइजर मॉडल
  • रेफरल मॉडल

चूंकि, यह दोनों के लिए शून्य जमा शुल्क लेता है, इस प्रकार यह डिपॉजिट के बिना सब ब्रोकरशिप की  पेशकश करता है।

यह डिस्काउंट स्टॉकब्रोकर ग्राहकों की संख्या में तेजी से वृद्धि देख रहा है, Zerodha सब ब्रोकरशिप तेजी से सब ब्रोकर के लिए एक आकर्षक बन रहा है।

अधिक जानकारी के लिए जेरोधा फ्रैंचाइज़ की समीक्षा देखें।


निष्कर्ष

कई ब्रोकर फर्म हैं और इनमे सब-ब्रोकर के लिए भयंकर प्रतिस्पर्धा है जो एक अच्छा ग्राहक प्राप्त कर सकते हैं। किसी भी अन्य बिज़नेस प्रतियोगिताओं की तरह, इसमें मूल्य एक प्रमुख फोकस बन गया है।

इस प्रकार, हम देख सकते हैं, बढ़ती प्रतिस्पर्धा के दौर में, फर्मों को पारंपरिक मॉडलों के साथ प्रयोग करने के लिए मजबूर किया जा रहा है।

सबसे अच्छे सब ब्रोकर को आकर्षित करने के लिए प्रारंभिक निवेश पर कम लागत या यहां तक कि शून्य जमा राशि फ्रैंचाइज़ को एक प्रमुख तरीके के रूप में  देखा जाता है।


यदि आप सब ब्रोकर बिज़नेस शुरू करना चाहते हैं, तो आपको निम्नलिखित चरणों का पालन करना होगा:

आप नीचे प्रदर्शित फार्म में भरकर भी शुरुआत कर सकते हैं और आपको शीघ्र ही एक कॉलबैक प्राप्त होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

seventeen + 8 =