Assets Meaning in Hindi

शेयर मार्केट के अन्य लेख

एक इन्वेस्टर शेयर मार्केट में लॉन्ग टर्म इन्वेस्टमेंट करने से पहले सबसे पहले किन चीजों पर गौर करता है? इसका सीधा सा जवाब स्टॉक का फंडामेंटल एनालिसिस है। इन्वेस्टर जिस भी कंपनी में इन्वेस्टमेंट करना चाहता है वह उस कंपनी की बैलेंस शीट निकालता है, जहाँ Assets (संपत्ति) और Liabilities (देनदारियां) होते हैं। लेकिन क्या आपको Liabilities and Assets Meaning in Hindi के बारे में जानकारी है?

Assets Meaning in Hindi की जानकारी के बिना लॉन्ग टर्म इन्वेस्टमेंट के लिए सही निर्णय लेना मुश्किल हो सकता है। 

लॉन्ग टर्म इन्वेस्टमेंट के लिए सबसे जरुरी कंपनी की बैलेंस शीट को समझना है। आप बैलेंस शीट को तभी पढ़ सकते हैं जब आपको Assets और Liabilities का मतलब पता हो। 

बैलेंस शीट के बारे में अधिक जानकारी के लिए, हमारे How to read Balance Sheet in Hindi की समीक्षा को पढ़ सकते हैं। यहाँ बैलेंस शीट से लेकर Assets और Liabilities की उपयोगिता के बारे में समझाया गया है। 

इस Article में हमने केवल Assets Meaning in Hindi के ऊपर चर्चा की है। 

Liabilities के बारे में हम अपनी अगली पोस्ट में बात करेंगे। फिलहाल हम Assets का मतलब Share Market के संदर्भ में समझने की कोशिश करेंगे।  

चलिए, अब Assets Meaning in Hindi की बुनियादी पहलू को समझते हैं।


एसेट्स मीनिंग इन हिंदी 

Assets का सीधा सा अर्थ संपत्ति है।

संपत्ति का मतलब है कि कोई भी ऐसी वस्तु जो हमें वर्तमान समय में या भविष्य में लाभ दे।

यह संपत्ति आपकी या मेरी या एक कंपनी की भी हो सकती है.


उदाहरण के तौर पर आपके पास किसी बड़े शहर में एक बड़ी बिल्डिंग है, जो आपने बहुत पहले बनवाई थी। 

तब उस बिल्डिंग की कोई ज्यादा वैल्यू नहीं थी। 

लेकिन आज के समय में आपने अपनी बिल्डिंग को एक कमर्शियल उद्देश्य के लिए एक बड़े बिज़नेसमैन को रेंट पर दे दिया है। 

और अब आपकी उस बिल्डिंग से बहुत ज्यादा कमाई हो रही है.

अब आपके पास मौजूद बिल्डिंग को ही एसेट्स या संपत्ति कहा जाएगा.


Types of Assets in Hindi

Assets को अलग-अलग आधार पर बांटा गया है. जैसे Assets कितने समय में रिटर्न देगी, इस आधार पर Assets के दो प्रकार है,

  • Current Assets 
  • Non-Current Assets (लॉन्ग-टर्म एसेट्स)


Current Assets Meaning in Hindi

Current Assets का अर्थ है कि आपके पास वर्तमान समय में कितनी संपत्ति है। 

इस तरह के Assets से आपको 1 साल या उससे कम समय में रिटर्न मिलता है। जैसे आपका बैंक बैलेंस जिससे आपको ब्याज मिलता है या कोई ऐसी वस्तु जिसे बेचकर एक साल के अंदर मुनाफा बना सकते हैं। 

उपरोक्त इमेज में Current Assets के उदाहरण को दिखाया गया है.

अगर आपके पास एक कंपनी है तो फिर Current Assets आपके कंपनी की प्रोडक्ट होगी। जिसे आप एक साल या उससे कम समय में बेचकर मुनाफा बना सकते हैं।


Non Current Assets Meaning in Hindi

Non-Current Assets और Current Assets में कुछ बुनियादी अंतर है। 

जबकि Current Assets ऐसी संपत्ति है जो अगले 12 महीनों या एक बिज़नेस साइकल के अंदर नकदी में परिवर्तित होने की उम्मीद है। 

दूसरे शब्दों में, ये ऐसी संपत्तियां हैं जिनसे एक वर्ष से अधिक समय में आर्थिक लाभ उत्पन्न होने की उम्मीद है।

दूसरी तरफ, Non-Current Assets का अर्थ है, जिससे रिटर्न मिलने में 1 साल से ज्यादा का समय लगे।

इसका उदाहरण बिल्डिंग, कमर्शियल प्रॉपर्टी, लॉन्ग टर्म के लिए खरीदी गई जमीन इत्यादि हो सकती है। 

इसके अलावा, कोई लॉन्ग-टर्म इन्वेस्टमेंट भी हो सकती है। जैसे लॉन्ग टर्म इन्वेस्टमेंट में एक साल से अधिक समय के लिए Fixed Deposit या कोई बीमा करवाया हो। 

अभी तक हमने Assets Meaning in Hindi और Non Current Assets Meaning in Hindi को समझा है, लेकिन इसके अलावा भी Assets के दो अन्य प्रकार हैं। 

  1. Tangible Assets 
  2. Intangible Assets 

Tangible Assets Meaning in Hindi

Tangible Assets Meaning in Hindi का मतलब भौतिक संपत्ति है.  

भौतिक संपत्ति का मतलब जिसे आप देख या छू सकते हैं. जैसे जमीन, बिल्डिंग,मशीनरी, प्लांट्स, मोटर 44इत्यादि.

इन Assets को Physical Assets भी कहा जाता है.

Intangible Assets meaning in Hindi

Intangible Assets का मतलब जो भौतिक रूप में नहीं हो या जिसे छू नहीं सकते. जैसे कंपनी का Patents, Trademarks, Loan या Copyright. 

इसके साथ ही कंपनी के ब्रांड को भी एक Intangible Assets माना जाता है. 

इस तरह के Assets आपको डायरेक्टली नहीं दिखते हैं जैसे बैंक में रखा हुआ पैसा जो आपको दिखता तो नहीं लेकिन हर महीने इंटरेस्ट का भुगतान करती है.

अभी हम Assets Meaning in Hindi को विस्तारपूर्वक समझा है, लेकिन अब आगे Assets के विपरीत Liabilities के बारे में बात करेंगे। 


Liabilities Meaning in Hindi

Assets का मतलब संपत्ति होता है, उसके विपरीत Liabilities का अर्थ देनदारियां, दायित्व, कर्जा या ऋण है।

Liabilities का मतलब है कि आपके ऊपर किसी तरह का दायित्व है जैसे ऋण जो आपको किसी दूसरे पक्ष को देना है.

अगर इसे शेयर मार्केट के संदर्भ में समझें तो कोई कंपनी या संस्था किसी दूसरी संस्था या कंपनी को कोई अमाउंट या प्राइस का भुगतान करती है तो उसे Liabilities कहते है। 

आसान शब्दों में समझें तो कोई एक कंपनी अपने Assets को दूसरी कंपनी को देती है तो उसे ही Liabilities कहते हैं। 

इस तरह से यह एक कंपनी के लिए Assets बन जाएगी और दूसरी कंपनी के लिए Liabilities हो जाएगी। 

अब,Liabilities के दो प्रकार होते हैं:

  1. Current Liabilities 
  2. Non-Current Liabilities  

Current Liabilities Meaning in Hindi

इस तरह की Liabilities को एक सीमित समय में यानि 1 साल या उससे कम समय में भुगतान करना पड़ता है.

ये एक तरह का Short Term Liabilities भी है. 

उदाहरण के लिए, जैसे आपने किसी रिश्तेदार से कुछ समय के लिए उधार लिया हो वो आपके लिए एक Liabilities बन जाएगी.

जबकि एक कंपनी के लिए रोजमर्रा की गतिविधियों को ऑपरेट करने के लिए जाने वाले कर्ज को Current Liabilities कहते हैं.

Non Liabilities Meaning in Hindi

इस तरह की Liabilities को एक Financial Year या उसे कम समय में चुकाना होता है. इसे हम Long-term Liabilities भी कह सकते हैं.

इसका उदाहरण बैंक से लिया गया लोन है जिसे आप भविष्य में ब्याज के साथ चुकाते हैं। 


निष्कर्ष

इस पोस्ट का निष्कर्ष यह है कि जब भी हम किसी कंपनी की फंडामेंटल एनालिसिस करते हैं तो कंपनी की Assets और Liabilities को चेक करते हैं.

Assets और Liabilities की जानकारी कंपनी की बैलेंस शीट से पता करते हैं। Assets और Liabilities कंपनी की वित्तीय ताकत को दर्शाता है.

जब Assets की तरफ देखते हैं तो पता चलता है कि कंपनी के पास इतना पैसा आता है, लेकिन Liabilities के मामले इसका उल्टा होता है। यहाँ कंपनी से पैसा बाहर जाता है।

इस तरह Assets Meaning in Hindi का अर्थ संपत्ति होता है और Liabilities Meaning in Hindi का मतलब कर्जा, देनदारियां या ऋण होता है।

दोस्तों हमें उम्मीद है कि आपको Assets Meaning in Hindi की जानकारी पसंद आई होगी। अगर आपको ये पोस्ट पसंद आया है तो इसे Share करना ना भूलें.


अगर आपने भी शेयर मार्केट में निवेश करने का मन बना लिया है तो फिर डीमैट अकाउंट खुलवाना न भूलें।

अभी डीमैट अकाउंट खुलवाने के लिए नीचे दिए फॉर्म में अपना नाम और मोबाइल नंबर दर्ज करें।

अपनी बुनियादी जानकारी दर्ज करने के बाद आपको शीघ्र ही एक कॉलबैक प्राप्त होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

1 × two =