सीडीएसएल

शेयर मार्केट के अन्य लेख

अगर आप शेयर मार्केट में नियमित रूप से निवेश कर रहे हैं तो आपको सीडीएसएल के बारे में जानकारी ज़रूर होगी।  

लेकिन यह प्रत्येक नए और अनुभवी निवेशक के लिए ज़रूरी है कि उन्हें पता हो कि सीडीएसएल क्या है

यह भी पढ़ें: Stock Exchange Meaning in Hindi

आइए इस पोस्ट के माध्यम से CDSL Meaning in Hindi को विस्तृत रूप से जानते हैं और इसके निम्नलिखित विषयों को कवर करने की कोशिश करते हैं जैसे :

चलिए, शुरू करते हैं।


CDSL Meaning in Hindi 

सीडीएसएल का गठन वर्ष 1999 में एक प्राथमिक काम के साथ किया गया था, जिसमें शेयर, स्टॉक और सिक्योरिटीज के डीमैटिरियलाइज्ड फॉर्म और सर्टिफिकेट दोनों को रखा गया था।

देशभर में 17,000 साइट के माध्यम से इनके पास 1,78,12,144 एक्टिव डीमैट अकाउंट का नेटवर्क है।

नए आंकड़ों के अनुसार कुल 599 स्टॉक ब्रोकर सीडीएसएल से जुड़े हुए हैं।

इस डिपॉजिटरी को हाल ही में बीएसई स्पेस में कुछ प्रमुख मान्यता मिली है।

सीडीएसएल से संबंधित कुछ आँकड़े यहां दिए गए हैं जिनके बारे में आपको अवश्य जानकारी होनी चाहिए: 


CDSL Full Form in Hindi

सीडीएसएल की फुल फॉर्म – सेंट्रल डिपॉजिटरी सर्विसेज लिमिटेड है।

सीडीएसएल को बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई), स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई), बैंक ऑफ इंडिया (बीओआई), बैंक ऑफ बड़ौदा, स्टैंडर्ड चार्टर्ड बैंक, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया, एक्सिस बैंक और एचडीएफसी बैंक द्वारा संयुक्त(jointly) रूप से प्रमोट किया जाता है।

यह एनडीएसएल के बाद भारत के पब्लिक सेक्टर में दूसरी सबसे लोकप्रिय डिपॉजिटरी सर्विस है।

पुराने समय में स्टॉक और सिक्योरिटी को फिजिकल रूप में रखा जाता था। 

इसके परिणामस्वरूप, सीडीएसएल की डिपॉजिटरी सर्विस ‘सर्टिफिकेट्स‘ को भौतिक(Physical) रूप से सँभालने और इनके करंट अकाउंट होल्डर के नाम पर परिवर्तन करने के लिए ट्रांसपोर्टेशन जैसी सेवाएं प्रदान नहीं करता है। 

ओनरशिप और डिविडेंट के लिए एक्सपायरी डेट से पहले इसे करना होता है।


सीडीएसएल कैसे काम करता है?

सीडीएसएल भी बैंक के समान कार्य करता है लेकिन यह पैसे नहीं रखता बल्कि यह लोगों के शेयरों और सिक्योरिटीज को अपने पास रखता है।

इसलिए, एक ट्रेडर या निवेशक के रूप में जब आप शेयर मार्केट से सिक्योरिटीज या स्टॉक खरीदते हैं, तो आपके ब्रोकर की डिपॉजिटरी के साथ संबद्धता के आधार पर उन शेयरों को रखा जाता है।

बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज या किसी अन्य एक्सचेंज के एक सदस्य के माध्यम से एक शेयर खरीदने पर और सदस्य को उचित भुगतान के बाद, स्टॉक डिजिटल रूप में डीपी या सदस्य के डिपॉजिटरी पार्टिसिपेंट को ट्रांसफर कर दिया जाता है।

यह डीपी,  सेबी के द्वारा निवेशकों के लिए गठित किया गया डिपॉजिटरी है जो भारत में फाइनेंशियल ट्रांजेक्शन के लिए सरकार की निगरानी में सेवाएं प्रदान करता है।

आइए,  एक कदम पीछे जाकर इन संस्थाओं पर एक नज़र डालते हैं:  

डिपॉजिटरी पार्टिसिपेंट

डीपी, एक बैंक खाता धारक, बीओ (बेनेफिशियल ऑनर), सिक्योरिटीज को जारी करने वाली कंपनी, सीडीएसएल, बेनेफिशरी ऑनर के ब्रोकर और स्टॉक एक्सचेंज के बीच एक ब्रिज का काम करता है।

बैंक, फाइनेंशियल इंस्टीटूशन, कस्टोडियन और स्टॉकब्रोकर , सेबी के द्वारा जारी दिशानिर्देशों के अनुसार डीपी (डिपॉजिटरी पार्टिसिपेंट) बन सकते हैं।

सेंट्रल डिपॉजिटरी सर्विसेज लिमिटेड ने ‘डीपी’ को पूरे भारत में सिक्योरिटी के डिजिटल रूप से अपने समस्याओं का समाधान पाने में निवेशकों की मदद करने के लिए अधिकार दिया है।

डीमैट खाता

सीडीएसएल की सेवाओं का लाभ उठाने के लिए डीमैट (डिमैटिरियलाइजेशन) खाता खोलना अनिवार्य है।

खाता खोलने के लिए बैंक द्वारा लागू किये जाने वाले केवाईसी नियम, डीमैट खाता खोलने के लिए जरूरी है।

यह डीमैट खाता ना केवल सीडीएसएल की सेवाओं का लाभ उठाने के लिए है बल्कि, आजकल स्टॉक और सिक्योरिटीज में  ट्रेडिंग करने के लिए भी महत्वपूर्ण है।

यह सिक्योरिटीज की डिजिटल सर्विस के लिए सभी फ़ाइनेंशियल ट्रांजेक्शन का हिस्सा और माध्यम बन गया है।

एक बैंक खाते की तरह ही इसका भी एक डीमैट खाता नंबर होता है और केवल खाताधारक ही डीमैट खाते से सिक्योरिटीज को जोड़ या हटा सकता है।


सीडीएसएल के उदाहरण

आइए, सीडीएसएल के कांसेप्ट को समझने के लिए एक उदाहरण को देखते हैं। 

किसी भी बिज़नेस डे के दौरान, रिलायंस कंपनी के 1000 शेयरों को खरीदने के लिए स्टॉक मार्केट एक्सचेंज के सदस्य को किसी विशेष रेट पर शेयरों के दाम के साथ-साथ व्यक्ति को ब्रोकरेज का भुगतान करना पड़ता है।

खरीदी गई राशि का भुगतान करने पर उस शेयर को T + 1 दिन में सदस्य के डीमैट खाते में ट्रांसफर कर दिया जाएगा। यह सिक्योरिटी का ट्रेडेड डे और दूसरा वर्किंग डे है।

यदि बेनेफिशरी ओनर या शेयर खरीदने वाला व्यक्ति इसे बेचना चाहता है तो वह ब्रोकर या स्टॉक एक्सचेंज के सदस्य के साथ सेलिंग ऑर्डर को प्लेस कर सकता है और इसे मार्केट में बेच सकता है।

शेयरों को बेचने पर बीओ अपने डीमैट खाते से बेचे गए शेयरों को हटाने के लिए एक एडवाइजरी स्लिप पर साइन करता है।

एक बार जब साइन वेरिफाइ हो जाता है, तो शेयर खाते से हटा दिए जाते हैं और ब्रोकर शेयरों के बदले एक्सचेंज से पेमेंट प्राप्त कर लेता है और उस राशि को बीओ खाते में जमा कर देता है।


सीडीएसएल के शुल्क 

कोई भी इंटरमेडियरी,  डिपॉजिटरी पार्टिसिपेंट या कोई भी बिज़नेस संस्था जो खुद को किसी भी रूप में सीडीएसएल के साथ जुड़ना चाहती है तो उसे एक विशेष शुल्क का भुगतान करना होगा। 

यह शुल्क कई प्रकार के होते हैं और यह उनकी सेवाओं के आधार पर लागू होते हैं।

यहां सीडीएसएल के शुल्क का विवरण दिया गया है:

 

एंटिटी सब-एंटिटी शुल्क
सूचीबद्ध जारीकर्ताओं के लिए वार्षिक शुल्क: नामांकित सिक्योरिटीज का न्यूनतम मूल्य ₹5 करोड़ तक ₹9000
₹5 करोड़ से ₹10 करोड़  ₹22,500
₹10 करोड़ से ₹20 करोड़ ₹45,000
₹20 करोड़ से अधिक ₹75,000
बिना सूची वाले जारीकर्ताओं के लिए वार्षिक शुल्क: नामांकित सिक्योरिटीज का न्यूनतम मूल्य ₹2.5 करोड़ तक ₹5000
₹2.5 करोड़ से ₹5 करोड़  ₹9000
₹5 करोड़ से ₹10 करोड़ ₹22,500
₹10 करोड़ से ₹20 करोड़ ₹45,000
₹20 करोड़ से अधिक ₹75,000
डिपॉजिट सर्टिफिकेट का एडमिशन ₹1000 प्रति अलॉटमेन्ट
कमर्शियल पेपर का एडमिशन ₹10000 प्रति वर्ष 
बीओआईडी(सीए, आईपीओ, एफपीओ, एनएफओ) की वेरिफिकेशन  ₹10 करोड़ तक ₹ ₹10000 
₹10 करोड़ से ₹100 करोड़  ₹25000 
₹100 करोड़ से 1000 करोड़  ₹50,000 
1000 करोड़ से अधिक  ₹1,00,000 

सीडीएसएल के लाभ

सेंट्रल डिपॉजिटरी सर्विसेज लिमिटेड से मिलने वाले लाभ यहां दिए गए हैं जैसे :

  • सीडीएसएल की सर्विस का लाभ लेने पर सिक्योरिटीज को खरीदारों के नाम पर ट्रांसफर करने के लिए शेयर सर्टिफिकेट को संभालने और ऐसे मुश्किल कार्य की जरूरत यहां नहीं पड़ती है।
  • डीमैट खाता,  सेंट्रल डिपॉजिटरी सेवाओं की प्रमुख विशेषता है, जिसमें सिक्योरिटीज को डिजिटल या डीमैटिरियलाइज्ड रूप में लम्बे समय तक रखा जाता है। 
  • बेनेफिशरी ऑनर के अनुमोदित(approved) और सत्यापित प्राधिकरण(verified authorization) पर ही उन्हें डीमैट खाते से ट्रांसफर किया जा सकता है। 
  • कंपनी के घोषणाओं के अनुसार सिक्योरिटीज के डिविडेंट और बोनस को ऑटोमैटिक तरीके से  डीमैट खाते में जमा कर दिया जाएगा क्योंकि डीमैट खाते में जमा राशि पर इंट्रस्ट मिलता है।
  • कंपनी का मैनेजमेंट फोल्डिंग के रियल टाइम जानकारी प्राप्त कर सकता है और सिक्योरिटीज से संबंधित किसी भी प्रकार के विवरण में परिवर्तन कर सकता है।
  • सीडीएसएल अपने तकनीकी आर्किटेक्चर में एक टॉप स्टोरेज सिस्टम के साथ एंटरप्राइज़-क्लास सुपर कंप्यूटर का उपयोग करता है। सरल शब्दों में, तकनीकी भाग बहुत जटिल है।

सीडीएसएल की कमियां 

सीडीएसएल कई मायनों में लाभ पहुंचाने वाला है लेकिन इससे कुछ निश्चित नकारात्मक पहलुओं को नीचे दिया गया है:

  • ग्रामीण लोग (rural people) जो शेयर की खरीद पर फिजिकल सर्टिफ़िकेट रखने के लिए उपयोग किए जाते हैं, वे डिपॉजिटरी सेवाओं की प्रक्रियाओं के बारे में अधिक जानकारी नहीं रखते हैं।
  • सभी निवेश डिजिटल रूप में होते हैं और डीमैट खाते में सभी वित्तीय लेनदेन और उसमें जमा होने वाले धन को सरकार की निगरानी में होना जरूरी है।
  • डिपॉजिटरी द्वारा लेन-देन को जारी रखने के लिए बहुत सारे नियमों, नीतियों और नियमों का पालन करना होता है।

निष्कर्ष

अब भारतीय मार्केट में अर्थव्यवस्था में वैश्वीकरण के साथ विदेशी निवेशक भी निवेश कर सकते है। सीडीएसएल के द्वारा उन निवेशकों को बहुत मदद प्राप्त होती है। 

यह अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देता है और लेनदेन की प्रक्रिया और सिक्योरिटीज के होल्डिंग्स को नियंत्रण करना आसान बनाता है। इसने कई निवेशकों के लिए शेयर मार्केट में निवेश करने का रास्ता आसान बना दिया है।

डिपॉजिटरी के खुलने के बाद पिछले कुछ वर्षों में एक्सचेंजों के इंडेक्स में बहुत अधिक बदलाव देखने को मिला है।


यदि आप सीडीएसएल के साथ ब्रोकर के माध्यम से ट्रेडिंग करना चाहते हैं, तो आगे के कदम उठाने में हम आपकी सहायता करेंगे:

यहां बुनियादी विवरण दर्ज करें और आपके लिए कॉलबैक की व्यवस्था की जाएगी!

Summary
Review Date
Reviewed Item
सीडीएसएल
Author Rating
51star1star1star1star1star

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

4 × two =