Is Intraday Trading Good for Beginners in Hindi

FAQs के अन्य लेख

हर एक ट्रेडर स्टॉक मार्केट से जल्द-से-जल्द मुनाफा कमाना चाहते है और इसलिए वह शुरुआत से ही इंट्राडे ट्रेडिंग करना चाहते है। लेकिन क्या एक शुरूआती ट्रेडर के लिए ये सही है (is intrada trading good for beginners in hindi). 

इस लेख में हम ट्रेडर्स की कुछ चुनोतियों की बात करेंगे जो ज़्यादातर एक शुरुआती ट्रेडर के लिए इंट्राडे ट्रेडिंग मुश्किल बना सकता है और साथ में हम बात करेंगे की किस तरह से आप सही समझ के साथ डे ट्रेड में मुनाफा कमा सकता है

इंट्राडे ट्रेडिंग क्या है?

इंट्राडे ट्रेडिंग में एक ही दिन में यानी कि शेयर मार्केट खुलने और बंद होने के बीच ही स्टॉक खरीदना और बेचना शामिल है। यहां पर हमारा मकसद निवेश करना नहीं बल्‍कि मुनाफा कमाना होता है। इस दौरान स्‍टॉक के चार्ट पर बारीकी से नजर रखनी होती है  और स्टॉक में हो रहे उतारचढ़ाव के आधार पर हमें निर्णय लेने होते हैं। 

नए ट्रेडर के लिए इंट्राडे ट्रेडिंग एक पेंचीदा और तकनीकी काम होता है इसलिए बिना पूरी जानकारी के इंट्राडे ट्रेडिंग नहीं करना चाहिए। चार्ट के ट्रेंड को समझे बगैर आपके लिए इंट्राडे ट्रेडिंग मुश्किल और जोखिम भरा हो सकता है। 

इसी मुश्किल को आसान बनाने के लिए Angel One आपके साथ है। एंजेल वन अपने शैक्षिक उपक्रमों स्मार्ट मनी और नॉलेज सेंटर के जरिए नए निवेशकों को इंट्राडे ट्रेडिंग की जानकारी देता है। इसके अलावा यहां पर आपको हर तरह के ट्रेडिंग की जानकारी भी मिलेगी। आपको इंट्राडे ट्रेडिंग करनी चाहिए या नहीं, यह जानने के लिए इस लेख को पूरा पढ़ें।

शुरुआती ट्रेडर के लिए इंट्राडे ट्रेडिंग

किसी भी प्रकार के ट्रेडिंग में शामिल होने से पहले आपको उसके अधिकतम और न्‍यूनतम जोखिम के बारे में अनुमान होना चाहिए। इंट्राडे ट्रेडिंग में बहुत बड़े पैमाने पर स्‍टॉक की खरीद-बिक्री होती है। इसलिए जोखिम भी अधिक रहता है। नए निवेशकों को इंट्राडे ट्रेडिंग से पहले नीचे दिए गए पहलुओं ध्‍यान देने की जरूरत है। 

1. शेयर बाजार की अस्थिरता

उन कारणों को जानना बहुत जरूरी है जो शेयर बाजार को अस्थिर करते हैं। हालांकि बाजार की अस्थिरता से ही इंट्राडे में लाभ कमाया जाता है।

नए निवेशकों को इंट्राडे ट्रेडिंग टाइम का अधिक ध्यान रखना चाहिए क्योंकि बाजार खुलते ही तुरंत ट्रेडिंग से बचना चाहिए। चार्ट के ट्रेंड को समझने के बाद अगले कुछ मिनटों या घंटों में बाजार की क्‍या स्थिति रहने वाली है इसका अनुमान लगाना चाहिए। बाजार की अस्थिरता को ध्‍यान रखते हुए हमें अपने नुकसान को नियंत्रित करने का हुनर भी होना चाहिए।

स्‍टॉप लॉस नुकसान को काफी हद तक नियंत्रित करता है। इसलिए ऑर्डर के साथ ही स्‍टॉप लॉस भी लगाना चाहिए।

2. सीखें कैसे सुरक्षित रखें अपनी पूंजी

इंट्राडे ट्रेडिंग में लाभ कमाने के साथ ही सबसे बुनियादी और जरूरी काम होता है अपनी पूंजी सुरक्षित रखना। निगेटिव रिटर्न की स्थिति में हमारी पूंजी का कम से कम नुकसान हो यही इंट्राडे ट्रेडिंग की सफलता है।

ए निवेशकों को इंट्राडे में ट्रेड करने से पहले नुकसान के बारे आकलन कर लेना चाहिए। यह पहले से ही तय कर लेना चाहिए कि वह किसी शेयर में किस हद तक जोखिम उठाने की क्षमता रहता हैं। मुनाफे की स्थिति में भी आपने टॉरगेट को पहले से ही तय करना चाहिए। 

3. जानें नए निवेशक बाजार से कब दूर रहें

नए निवेशकों को सबसे ज्‍यादा इस बात पर ध्‍यान देना चाहिए कि इंट्राडे ट्रेडिंग कब नहीं करनी है। ट्रेडिंग के दौरान तीन बातें सबसे महत्‍वपूर्ण हैं। कब बेचना है,  कब खरीदना है और कब ट्रेड नहीं करना है।

नए निवेशक तेजी से पैसा बनाने के चक्‍कर में जोखिम भरा कदम उठा लेते हैं। बाजार में जब अनियंत्रित उथल-पुथल रहती है तो इस समय नए निवेशकों को इंट्राडे ट्रेडिंग से बचना चाहिए।


इंट्राडे ट्रेडिंग टिप्स

एक शुरूआती ट्रेडर को  निम्नलिखित बातो को ध्यान में रखकर ट्रेड करना चाहिए:

  •  इंट्राडे ट्रेडिंग की शुरूआत करने से पहले पेपर ट्रेडिंग से प्रैक्टिस करें। इससे अनुभव तो आएगा ही साथ ही आप पूंजी में जोखिम से भी बचे रहेंगे।
  • शुरू में थोड़ी सी पूंजी के साथ निवेश करें और अनुभव प्राप्त करने के बाद ही निवेश बढ़ाएं।
  • शेयर बाजार में संभावनाओं को तलाशने के लिए पुराने आंकड़ों के विश्लेषण से जानकारी जुटाएं और उसी के आधार पर ट्रेड की रणनीतियां बनाएं।
  • ट्रेड से पहले ही प्रॉफिट का टारगेट सेट करें और स्‍टॉपलॉस भी तय करें। इसमें ट्रेड के दौरान बदलाव न करें। ऐसा करना जोखिम भरा हो सकता है। 

इंट्राडे ट्रेडिंग कहाँ से सीखे?

नए निवेशकों को हमेशा अपना ज्ञान बढ़ाने के संसाधनों पर फोकस करना चाहिए। यहां हम आपको सबसे बेहतर संसाधन के बारे में जानकारी देंगे। 

एंजेल वन की वेबसाइट में ज्ञान केंद्र पर क्लिक करें

यह वेबसाइट नए निवेशकों को शेयर बाजार से जुड़ी शैक्षिक सामग्री प्रदान करती है। जैसे ‘नॉलेज सेंटर’ जो निवेशकों को इंट्राडे ट्रेडिंग और रणनीतियां बनाने के बारे में मदद करता है।

नए निवेशकों से इंट्राडे ट्रेडिंग में होने वाली गलतियों के बारे में यहां जानने को मिलता है। इसके अलावा ट्रेड पर लगने वाले टैक्‍स के बारे में बताया गया है। ‘नॉलेज सेंटर’ से मिलने वाली जानकारियां आपको साधारण निवेशक से अलग बनाने में मदद करती हैं।


निष्कर्ष

एंजल वन की वेबसाइट पर जाएं और इंट्राडे ट्रेडिंग में इस्‍तेमाल होने वाली शब्दावली और तकनीकों की जानकारी करें। यह सब आपको ‘नॉलेज सेंटर’ में मिलेगा। जब आप आप सभी ऑर्डर को समझ लेते हैं, तो आसानी से स्टॉप लॉस की गणना कर सकते हैं,  रणनीतियां बना सकते हैं। यही ज्ञान ही शेयर बाजार में आपकी सफलता की सीढ़ी है। 


डिस्‍क्‍लेमर

  1. यह ब्लॉग विशेष रूप से शैक्षिक उद्देश्य के लिए है
  2. प्रतिभूति बाजार में निवेश बाजार जोखिम के अधीन हैं, निवेश करने से पहले सभी संबंधित दस्तावेजों को ध्यान से पढ़ें। ब्रोकरेज सेबी द्वारा निर्धारित सीमा से अधिक नहीं होगा। https://bit.ly/2VBt5c5

स्टॉक मार्केट में निवेश करने के लिए एक सही स्टॉकब्रोकर को चुने। नीचे दिए गए फॉर्म में अपना विवरण भरे और निःशुल्क अपना डीमैट खाता खोल कर स्टॉक मार्केट में निवेश करें 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ten − nine =