ADX Indicator in Hindi

टेक्निकल इंडिकेटर के अन्य लेख

स्टॉक मार्केट में सही ट्रेंड की जानकारी के लिए तो कई प्रकार के टेक्निकल इंडिकेटर है लेकिन कौन सा ट्रेंड कितने समय तक रह सकता है, या सरल भाषा में ट्रेंड कितना ताकतवर है उसके लिए आप एवरेज डायरेक्शनल मूवमेंट इंडेक्स (ADX indicator in hindi) जैसे स्ट्रेंथ इंडिकेटर का उपयोग कर सकते है।

ADX Indicator Strategy in Hindi

वेलेस वाइल्डर द्वारा विकसित, ADX Indicator इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए सर्वश्रेष्ठ इंडिकेटर है (best indicator for intraday trading in hindi) जो आपको स्टॉक के  डायरेक्शनल मूवमेंट की जानकारी और मूल्य आंदोलनों और उनकी ताकत को मापता है। 

ADX, एवरेज डायरेक्शनल इंडिकेटर है जो ट्रेंड की स्ट्रेंथ को बताता है। यह सीधे खरीदने या बेचने के संकेत प्रदान नहीं करता है बल्कि ट्रेंड के मूवमेंट की ताकत का प्रतिनिधित्व करता है। इसकी वैल्यू  0 और 100 के बीच होती है, जिसमे 25 या उससे ऊपर की वैल्यू ट्रेंड की मजबूती का संकेत देता है। 

जैसे की अगर स्टॉक अपट्रेंड में है और उसके ADX की वैल्यू 30 है तो वह ये ट्रेंड की मजबूती की जानकारी देता है और एक ट्रेडर दूसरे इंडिकेटर की मदद से एक सही प्राइस पर लॉन्ग पोजीशन ले सकता है। 

वही अगर इसी अपट्रेंड स्टॉक के ADX वैल्यू 25 से नीचे आती है तो ये अपट्रेंड की समाप्ति का संकेत देता है

इसी तरह से डाउनट्रेंड में ADX की वैल्यू 25 से ऊपर स्ट्रांग डाउनट्रेंड और उससे कम होने पर कमज़ोर ट्रेंड का संकेत देता है

इस इंडिकेटर में ADX लाइन के साथ दो और लाइन होती है जो आपको पॉजिटिव और नेगेटिव मार्केट डायरेक्शन की जानकारी देता है

  • नेगेटिव डायरेक्शनल इंडेक्स (DMI-)
  • पॉजिटिव डायरेक्शनल इंडेक्स (DMI +)

इस लेख में आगे जानेंगे कि किस प्रकार आप इन रेखाओं का इस्तेमाल कर एक सही ट्रेड कर सकते है


ADX Indicator Formula in Hindi 

शेयर मार्केट का गणित ADX इंडिकेटर (ADX indicator in hindi) की गणना करने के लिए भी उपयोगी होता है। यहाँ पर ट्रेंड की जानकारी के लिए डायरेक्शनल मूवमेंट यानी की +DI और -DI की गणना करनी होती है। अब यहाँ पर पॉजिटिव डायरेक्शनल मूवमेंट (DI) की गणना करने के लिए आपको स्टॉक का नवीनतम हाई प्राइस से पिछले हाई प्राइस को माइनस करना होता है।

यहाँ पर अगर हाई प्राइस का अंतर लॉ प्राइस के अंतर से ज़्यादा होता है तो वह पॉजिटिव डायरेक्शनल मूवमेंट का संकेत देता है। यहाँ पर हाई प्राइस का अंतर अगर पॉजिटिव है तो वह आपको +DI की वैल्यू प्रदान करता है और अगर नेगेटिव हो तो उसे 0 से रखा जाता है।

दूसरी तरफ नेगेटिव डायरेक्शनल मूवमेंट के लिए पिछले लॉ प्राइस से नवीनतम लॉ प्राइस को घटाना है और अगर लॉ प्राइस का अंतर पॉजिटिव है तो वह आपको नेगेटिव डायरेक्शनल मूवमेंट (-DI) की वैल्यू प्रदान करता है।

अब ADX की गणना 14 पीरियड मूविंग एवरेज और +DI और -DI की वैल्यू से की जाती है

तो यहाँ पर ADX के संकेत को समझने के लिए मूविंग एवरेज इंडिकेटर की जानकारी होना आवश्यक है। मूविंग एवरेज (moving average in hindi) आपको मार्केट के क्लोजिंग प्राइस के आधार पर एक औसत प्राइस की जानकारी देता है। 14-पीरियड मूविंग एवरेज को अगर 1-मिनट चार्ट में इस्तेमाल किया जाए तो ये आपको पिछले 14 मिनटों के क्लोजिंग प्राइस के आधार पर एवरेज  देता है।

अब इस वैल्यू को नीचे दिए गए फार्मूला में इस्तेमाल कर आप ADX इंडिकेटर की वैल्यू की गणना कर सकते है

ADX= 14 पीरियड मूविंग एवरेज [{(+DI)-(DI)}/{(+DI)+(-DI)}]*100 

अब देखने में और समझने में ये आपको काफी मुश्किल लग रहा होगा, लेकिन आपको ये सब फार्मूला और कैलकुलेशन की आवश्यकता नहीं है, आप अपने ट्रेडिंग चार्ट मे सीधे इस इंडिकेटर का इस्तेमाल कर मार्केट के ट्रेंड की स्ट्रेंथ की जानकारी ले सकते हो और चाहे तो अपनी स्ट्रेटेजी के अनुसार ADX की वैल्यू को 14 से कम ज़्यादा भी कर सकते है


How to Use ADX Indicator in Hindi?

आप इस शेयर मार्केट इंडिकेटर (share market indicator in hindi) को एक पंक्ति के रूप में प्लॉट कर सकते हैं इसकी वैल्यू 0 से 100 की रेंज में होती है और जैसे की बताया गया है कि इस इंडिकेटर में ADX के साथ दो और लाइन +DI और -DI का उपयोग किया जाता है। 

तो, ये लाइन्स हमें क्या बताती हैं?

  • यदि DMI+ रेखा DMI- रेखा को ऊपर की ओर काटती है, तो इसका अर्थ है कि कीमतें ऊपर चल रही हैं। एडीएक्स लाइन की कीमत अगर 25 से ऊपर है तो ये ट्रेंड की ताकत को मापती है।
  • यदि DMI- लाइन DMI+ को ऊपर की ओर काटती है, तो यह दर्शाता है कि कीमतें नीचे की ओर चल रही हैं, ADX लाइन डाउनट्रेंड की ताकत को मापती है।
  • जब एडीएक्स 20 से नीचे होता है तो ये ट्रेंड की कमज़ोरी की जानकारी देता है।
  • जब एडीएक्स 25 से ऊपर होता है, तो एक मजबूत रुझान मौजूद होता है।
  • यदि ADX लाइन अपने उच्च मूल्यों से नीचे की ओर मुड़ना शुरू कर रही है, तो यह एक ऊपर या नीचे की ट्रेंड के अंत का संकेत देती है।
  • यदि एडीएक्स लाइन बढ़ना शुरू हो रही है, तो बाजार में मजबूती का रुझान दिख रहा है।

इस तरह से एडीएक्स इंडिकेटर (ADX indicator in hindi) की सही समझ के साथ आप मार्केट में आने वाले रेवेर्सल की जानकारी प्राप्त कर सकते है


निष्कर्ष

एडीएक्स संकेतकों (ADX indicator in Hindi) का उपयोग करके ट्रेड कैसे करें, यह देखते हुए हमने पहले से ही कुछ मुख्य बिंदुओं को ध्यान में रखा है। उदाहरण के लिए, 25 से अधिक एडीएक्स एक मजबूत ट्रेंड  को इंगित करता है, जबकि 20 से नीचे एडीएक्स कमजोर प्रवृत्ति को ट्रेंड करता है।

ट्रेडर्स के लिए यह क्या मायने रखता है? घटते हुए ADX आपको दिखा सकते हैं कि बाजार का रुझान कमजोर हो रहा है, जिसका अर्थ है कि आपको इस ट्रेंडलाइन के आधार पर ट्रेडिंग से बचना चाहिए। दूसरी ओर, जब ADX चार या पांच इकाइयों से बढ़ना शुरू करता है, तो यह दर्शाता है कि इस प्रवृत्ति के अनुसार ट्रेड  करने का समय आ गया है।

किसी भी स्थिति में, ADX स्टॉक इंडिकेटर को हमेशा कीमत के साथ देखा जाना चाहिए। मूल्य में उतार-चढ़ाव देखने के मुख्य संकेत हैं, लेकिन ADX इन प्रवृत्तियों की ताकत को इंगित करके मदद कर सकता है। जब सामान्य मूल्य सीमा से अचानक ब्रेकआउट होते हैं, तो आप यह निर्धारित करने के लिए ADX संकेतक को देख सकते हैं कि ये एक बार की घटना है, या एक सतत प्रवृत्ति है।

कुल मिलाकर, मजबूत रुझानों की पहचान करने की क्षमता ट्रेडर्स के लिए अत्यंत मूल्यवान है। कीमत के साथ एडीएक्स का उपयोग करके, आप ट्रेंडिंग स्थितियों की पहचान कर सकते हैं और कम जोखिम वाले अधिक लाभदायक ट्रेडों को शामिल कर सकते हैं।


अगर आप स्टॉक मार्केट में निवेश या ट्रेड कर मुनाफा कमाना चाहते है तो शुरुआत करने के लिए अभी डीमैट खाता खोले। एक सही स्टॉकब्रोकर का चयन करने के लिए और फ्री डीमैट खाता खोलने के लिए नीचे दिए गए फॉर्म में अपना विवरण भरे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

five × 1 =