शेयर मार्केट का गणित

एक देश की अर्थव्यवस्था को शेयर मार्केट के प्रदर्शन के आधार पर भी समझा जा सकता सकता है। लेकिन आज भी भारत जैसे देश में चंद मुठी भर लोगों को ही शेयर मार्केट का गणित पता है।

अगर आप स्टॉक मार्केट के बारे में अधिक जानकारी चाहते हैं तो Share Market in Hindi की विस्तृत समीक्षा देख सकते हैं।

लोगों के मन में एक आम आवधारणा बन चुकी है की शेयर मार्केट एक गैंबलिंग है या हर कोई शेयर बाजार में निवेश नहीं कर सकते है।

यह पूरी तरह से मिथ्या है।

आप शेयर मार्केट को अच्छी तरह से समझ कर और उसमें निवेश करके शेयर बाजार से करोड़पति बन सकते हैं। शेयर मार्केट भी अन्य बिज़नेस की तरह ही एक लोकप्रिय बिज़नेस सेगमेंट है। अगर आप इसे सही से शोध करते है जैसे इन्वेस्टमेंट करने से पहले आप इसके लिए कोई स्टॉक मार्केट कोर्स करते है या बेहतर रिसर्च करते है तो रिस्क को बहुत कम किया जा सकता है और प्रॉफिट को डबल कर सकते है।

इसलिए शेयर मार्केट में अच्छा रिटर्न प्राप्त करने के लिए शेयर मार्केट में रिस्क का विश्लेषण करने के लिए Share Market Risk in Hindi को पड़े।

यह भी पढ़ें : स्टॉक एक्सचेंज क्या है ?

और आपको ये बात भी पता होना चाहिए की शेयर मार्केट अन्य इंवेस्टमेंट की तुलना में आपको ज्यादा रिटर्न देता है।

लेकिन एक व्यक्ति के लिए जरुरी है की वह शेयर मार्केट का गणित को समझें।  क्योंकि अक्सर आपने सुना होगा की सेंसेक्स का भाव कभी ऊपर जाता है तो कभी औंधे मुँह नीचे गिरता है।

यह भी पढ़ें: सेंसेक्स कंपनी लिस्ट 

इन सभी घटनाओं को  अख़बार या टीवी न्यूज़ चैनल पर प्रमुखता के साथ दिखाई जाती है। अब आप अनुमान लगा सकते है की शेयर मार्केट किसी देश  के इकॉनमी के लिए कितना महत्वपूर्ण है।

चलिए फिर आज अपने सभी रीडर्स को शेयर मार्केट का गणित के बारे में समझते है और आपको पता लगेगा की आपके लिए यह कितना उपयोगी है।

ये भी पढ़े: शेयर मार्केट टिप्स


शेयर मार्केट का गणित को कैसे समझें 

शेयर मार्केट एक प्रॉफिटेबल सेगमेंट है जहां बेहतर रिटर्न की संभावना बनी रहती है। अगर आप सही स्टडी या रिसर्च करके जाएं तो एक दिन में भी अच्छी कमाई कर सकते है।

लेकिन, यहां सबसे महत्वपूर्ण है की आपको शेयर मार्केट का गणित से रिलेटेड सभी कॉन्सेप्ट स्पष्ट होना चाहिए।

चलिए शुरू करते है।

Share Meaning in Hindi

शेयर का सरल अर्थ हिस्सा है। जब कोई बड़ी-बड़ी कंपनियां कोई बिज़नेस शुरू करती है, तब वह कंपनी आम पब्लिक के द्वारा अतिरिक्त पूँजी (Capital) जुटाने के लिए शेयर ऑफर करती है।

इस तरह कोई भी आम व्यक्ति शेयर्स खरीदकर उस कंपनी में अपनी हिस्सेदारी रख सकता है। इसे तकनीकी रूप से शेयरहोल्डर्स भी कहते है।

हालाँकि, आपको शेयर और स्टॉक के बीच बुनियादी अंतर को भी समझना होगा। शेयर किसी कंपनी के सबसे छोटा हिस्सा को दर्शाता है जो शरहोल्डर्स के ओनरशिप के रूप में हाईलाइट करता है।

दूसरी ओर,एक कंपनी में किसी शेयरहोल्डर के शेयरों के समूह को स्टॉक के रूप में जानते है।

इसलिए जब आप शेयर मार्केट का गणित समझते है तो फिर आपको  सभी बुनियादी अंतर पता होना चाहिए।


चलिए अब आपको शेयर मार्केट का गणित को आसान शब्दों में समझाते है। मान लीजिये की आपके पास एक शहर में एक दुकान है। आपके दुकान की कुल वैल्यू 1 लाख है। अब यह दुकान खोलने के लिए आपके पास खुद के पैसे नहीं थे।

आपने दुकान खोलने के लिए  शहर के कुछ लोगों से मदद के रूप में पैसे मांगे और अपने दूकान की हिस्सेदारी बेच दी। अब शहर के लोगों ने 100 रूपये प्रति शेयर के हिसाब से आपके दुकान में हिस्सेदारी खरीद ली।

अब जब आप मुनाफा कमायेंगे तो एक शेयर का भाव 100 रूपये से बढ़ जाएगा और प्रॉफिट का एक हिस्सा बढ़कर ज्यादा हो जाएगा।

इस तरह से शेयर मार्केट का गणित काम करता है।

अब ये एक  वास्तविक उदाहरण के माध्यम से आपको शेयर मार्केट का गणित समझाया है। आगे बढ़ते है और यह देखते है की यह बाजार कैसे काम करता है।

शेयर मार्केट का गणित से कैसे करें कमाई 

अगर आपको लगता है के केवल आपको पता नहीं के शेयर मार्केट में कितने पैसे लगाने चाहिए या शेयर मार्केट में आप कम से कम कितना पैसा लगा सकते है, तो आप अकेले नहीं है। ज़्यादातर लोगों की यही दिक्कत होती है।

शेयर बाजार का सही कैलकुलेशन करके ही बढ़िया कमाई की जा सकती है। लेकिन इसके लिए शेयर मार्केट का गणित समझना जरुरी है।

आप केवल स्पेकुलेशन या अनुमान के भरोसे पैसा नहीं कमा सकते है। आपको निवेश करने के लिए शेयर बाजार की रणनीति (Share Market Strategies in Hindi) पर काम करना चाहिए।

इसलिए किसी भी कंपनी पर पैसा लगाने से पहले  सम्पूर्ण रिसर्च कर लेना चाहिए। इसके लिए कंपनी का बिज़नेस मॉडल, बैलेंस शीट, कंपनी के चेयरमैन, मैनेजमेंट, उसके प्रोडक्ट, पिछले ट्रैक रिकॉर्ड सहित सभी आवश्यक जानकारी देखना चाहिए।

वहीं आपको शेयर बाजार के नियम भी ध्यान में रखना होगा। अब शेयर बाजार का गणित समझने के लिए नियम पर बात करते है।

ये भी पढ़े: शेयर मार्केट अकाउंट


शेयर मार्केट गाइड 

अक्सर कई लोग शेयर मार्केट में पैसा गवां देते है। इसके पीछे मुख्य कारण संपूर्ण जानकारी का अभाव होना। यह एक  मिथक है की शेयर बाजार में कम समय में पैसा कमाया जा सकता है।

ऐसे लोग जो शेयर मार्केट को सट्टेबाजी समझकर पैसा लगाते है उनको हमेशा ही नुकसान होता है। आपको शेयर मार्केट का गणित समझने के लिए इनसब मिथक से भी दूर रहना चाहिए।

मार्केट में निवेश हमेशा लॉजिक और विवेक के अनुसार करें। चलिए आपको कुछ महत्वपूर्ण बिंदुओं के बारे में समझाते है।

शेयर बाजार के नियम

आमतौर पर कई निवेशक बाजार में निवेश करने से डरता है। ऐसे निवेशकों के मन में सवाल होता है की कहां निवेश करे और कैसे निवेश करें। इसके लिए जरुरी है की शेयर मार्केट कैसे सीखे जैसे सवालों के बारे में सोचना चाहिए।

चलिए आपको शेयर बाजार के नियम से रूबरू करवाते है। निम्नलिखित कुछ नियम दिए गए है:

  • सही प्लानिंग: आपको निवेश करने से पहले सही प्लानिंग करना चाहिए। इसमें आप इंवेस्टमेंट गॉल, जोखिम लेने की क्षमता, अपने पूँजी इत्यादि के बारे में सोचना चाहिए।
  • कम पूँजी से शुरुआत: एक नए निवेशक के लिए हमेशा कम पूँजी के साथ शुरुआत करना चाहिए। ये आपको बड़े जोखिमों से बचाएगा और आप एक बार में ही सारी पूँजी नहीं गवायेंगे।
  • शेयर मार्केट की सम्पूर्ण जानकारी:  किसी भी बिज़नेस में इन्वेस्टमेंट करने से पहले उस बिज़नेस के बारे में सही स्टडी करें। इससे आप मार्केट से जुड़े रिस्क को कम कर सकते है। इसके लिए आप शेयर मार्केट कोर्स कर सकते है।

अगर आप भी शेयर बाजार में करियर बनाना चाहते है तो आप स्टॉक पाठशाला ऐप की सहायता ले सकते हैं।


शेयर मार्केट कोर्स करने के लिए स्टॉक पाठशाला जैसे प्लेटफॉर्म उपलब्ध है। यहाँ आपको बेसिक से लेकर एडवांस कोर्सेज टेक्स्ट, पॉडकास्ट और वीडियो फॉर्मेट में उपलब्ध मिलेगा। यह ऐप नए ट्रेडर के लिए किसी जैकपॉट से कम नहीं है। 

अगर आप स्टॉक मार्केट कोर्स करना चाहते है तो अभी स्पेशल डिस्काउंट के तहत स्टॉक पाठशाला के एक साल की सब्सक्रिप्शन केवल 499 में ले सकते है। 


  • स्टॉप लॉस: स्टॉप-लॉस एक लोकप्रिय तकनीक है जो आपके जोखिमों को कम करता है। यह एक पूर्व निर्धारति राशि है जो आप अपने टारगेट प्राइस पर लगाते है।
  • अफवाहों पर ध्यान ना दें: कभी भी अफवाहों को मानकर बाजार में निवेश नहीं करते है। कई बार बड़ी कंपनियां बाजार में अपने मुनाफा के लिए अफवाह फैलते है, लेकिन ऐसे अफवाहों के कारण छोटे निवेशकों को नुकसान हो जाता है। किसी दोस्तों या रिश्तेदारों के कहने पर शेयरों में निवेश ना करें। हमेशा स्टॉक में निवेश करने से पहले एक एक्सपर्ट की एडवाइस लें।
  • पोर्टफोलियो में विविधता: कभी भी किसी एक विशेष सेगमेंट में ट्रेड न करें। कई बार बाजार में कुछ बाहरी फैक्टर जैसे वैश्विक कारण, राजनीतिक उठापटक, आपदा इत्यादि जैसे कारणों से उतार-चढ़ाव होता है। ऐसे में जोखिम से बचने के लिए अपने पोर्टफोलियो में विविधता लेकर आएं।

निष्कर्ष

शेयर मार्केट का गणित कोई राकेट साइंस नहीं है। यहाँ आपको बाजार के महत्वपूर्ण पहलुओं को समझाना है।

यह मुख्य रूप से आपको एक कंपनी के शेयर में निवेश  करने से पहले गणित करने के बारे में बताता है। आप शेयर में निवेश करने के लिए पर्याप्त रिसर्च कर लें। आप उस शेयर के कंपनी का मार्केट शेयर देख लें,  उसके तिमाही और वार्षिक रिपोर्ट को देखें।

अगर आप उपरोक्त बातों को पालण करते है तो निश्चित रूप से जोखिम को कम कर सकते है।


यदि आप शेयर बाजार में करियर बनाने के लिए शुरुआत करना चाहते है तो आप डीमैट खाता (demat account in hindi) खोल सकते है:

डीमैट खाता खोलने के लिए निचे दिए गए फॉर्म को  भरें 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

1 × four =