शेयर बाजार में नुकसान से बचने के टिप्स

शेयर मार्केट के अन्य लेख

आज के दौर में हर दूसरा व्यक्ति पैसा कमाना चाहता है और उन्हें ऐसा लगता है कि इसका सबसे आसान विकल्प शेयर बाजार में निवेश करना है। इस जल्दबाजी में व्यक्ति कुछ गलतियां कर बैठता है जिसके लिए आपको शेयर बाजार में नुकसान से बचने के टिप्स के बारे में पता होना जरूरी है। 

देखा जाए तो तो इस साल हर छोटे-बड़े वर्ग को नुकसान का सामना करना पड़ा है फिर चाहे वह कोई व्यापारी हो या फिर कोई मजदूर हो। कोरोना महामारी की वजह से लोगों को बहुत सी समस्याएं झेलनी पड़ी जिनमें से एक आर्थिक समस्या अधिक उभर कर आई।   

जो लोग नियमित रूप से शेयर बाजार में निवेश करते हैं उन्हें बहुत भारी नुकसान उठाना पड़ा जिसकी वजह से लोग शेयर बाजार में पैसा लगाने से हिचकिचाने लगे। 

लेकिन शेयर मार्केट में अगर सही तरह और ज्ञान के साथ निवेश किया जाए तो आप नुक्सान से बच सकते है।  लेकिन यहाँ बात आती है कि शेयर मार्केट कैसे सीखे?

इसके लिए आप अलग अलग जगह से ज्ञान प[प्राप्त कर सकते है जैसे की अलग-अलग-किताबे पढ़ सकते है, स्टॉक मार्केट कोर्स या फिर ऑनलाइन एप्लीकेशन से भी शेयर बाजार में निवेश कर सकते है। 

आइए आपके निवेश करने की योजना को सरल बनाए, आज इस पोस्ट में जानेंगे की शेयर बाजार में नुकसान से बचने के टिप्स क्या है जिससे ट्रेड में जोखिम कम कर आप अपनी इस इच्छा को आसानी से पूरा करके शेयर मार्केट से करोड़पति बन सकते हैं। 

चलिए, शुरू करते हैं। 


शेयर बाजार में नुकसान से बचने के 5 टिप्स 

यदि आप शेयर बाजार में निवेश करके ज्यादा मुनाफा कमाना चाहते हैं और आप चाहते हैं कि आपको कोई नुकसान न हो या फिर कम नुकसान हो। फिर,  यहाँ दिए गए टिप्स का पालन करके अपने नुकसान को सीमित कर सकते हैं। 

एक निवेशक या ट्रेडर को यहाँ निम्नलिखित 5 टिप्स का बहुत सख्ती से पालन करना चाहिए। शेयर बाजार में नुकसान से बचने के टिप्स इस प्रकार हैं: 

  • एसेट एलोकेशन 
  • निवेश पोर्टफोलियो बनाएं 
  • स्टॉप लॉस लगाएं 
  • कैंडलस्टिक चार्ट्स 
  • फंडामेंटल एनालिसिस करें  

#1 एसेट एलोकेशन जरुरी है

लाभ हर कोई कामना चाहता है लेकिन अगर आप शेयर मार्केट में पैसे कैसे कमाए के लिए सही दिशा देख रहे है तो उसके लिए एसेट एलोकेशन एक लाभदायक टिप है। ये नुकसान को कम कर आपके मुनाफे को कई गुना तक बढ़ाने में काम आता है।

यदि आप इस टर्म को नहीं जानते हैं तो हम आपको बता देते हैं कि एसेट एलोकेशन का मतलब है कि अलग अलग प्रकार के सेग्मेंट्स में निवेश करना।

इसका मतलब है एक दो जगह पैसे लगाने के बजाए निवेशक को थोड़े थोड़े पैसे अलग-अलग जगह इन्वेस्ट करने चाहिए। यदि आप सारे पैसे को एक जगह ही निवेश करते हैं तो आपके नुकसान की सम्भावना बढ़ जाती है। 

यही कारण है कि निवेशक को शेयर बाजार में सारा पैसा इन्वेस्ट नहीं करना चाहिए। आपको अलग अलग सेगमेंट जैसे कि इक्विटी, कमोडिटी, म्यूच्यूअल फंड, डेरीवेटिव और बॉन्ड आदि में भी थोड़ा-थोड़ा पैसा लगाना चाहिए। 

ऐसा करने से आपको सभी जगह से फायदा होगा और इसके साथ ही यदि नुकसान हुआ तो आपका सारा पैसा नहीं डूबेगा। 

एसेट एलोकेशन को निवेश के लिए सबसे बेहतर विकल्पों से एक है।

आइए, अब हम एक उदाहरण के जरिये बताते हैं कि एसेट एलोकेशन जरुरी क्यों है ? 

चलिए, मान लीजिये यदि आपने अपना सारा पैसा रियल एस्टेट में लगाया होगा तो कोरोना काल में यह बिज़नेस बंद पड़ा था इसलिए आपका सारा पैसा डूब गया होगा।  

लेकिन इसके विपरीत यदि जिस व्यक्ति ने अपना कुछ पैसा फार्मा कंपनी में लगाया है और कुछ पैसा रियल एस्टेट में तो उसे नुकसान के साथ-साथ कहीं से मुनाफा भी मिला है। 

इसलिए, यदि आप अपनी मेहनत की कमाई को डूबोना नहीं चाहते हैं तो आपके लिए एसेट एलोकेशन करना जरुरी है। इससे आप यह समझ सकते हैं कि एसेट एलोकेशन करना कितना महत्वपूर्ण है।

#2 निवेश पोर्टफोलियो बनाएं

आइए, अब शेयर बाजार में नुकसान से बचने के टिप्स में दूसरी टिप्स को देखते हैं। 

लोगों को लगता है कि यदि वे ब्रोकर से सलाह लेंगे या उनकी टिप्स का पालन करेंगे तो उन्हें मुनाफा होगा।

लेकिन, यह बात गलत है। 

आज कल कुछ ब्रोकर ऐसे हैं जो आपको गलत सलाह देते हैं, वे सिर्फ पैसा बनाना चाहते हैं। यदि आपका पैसा डूब जाये तो उन्हें फर्क नहीं पड़ता। 

इसलिए, आपको अपने एसेट और इक्विटी शेयरों के लिए सही पोर्टफोलियो को चुनना चाहिए। साथ ही आपको बिना किसी प्लान के स्टॉक का चयन नहीं करना चाहिए। 

#3 स्टॉप लॉस का उपयोग करें 

शेयर बाजार में नुकसान से बचने के टिप्स में से एक स्टॉप लॉस लगाना है। यदि आप शेयर बाजार में नियमित रूप से निवेश कर रहे हैं तो आपको पता होना चाहिए कि आपको ट्रेडिंग करते हुए कब स्टॉप लॉस लगाना है। 

स्टॉप लॉस का मुख्य उद्देश्य नुकसान को सीमित करना है और मुनाफे को बनाए रखना है। 

स्टॉप लॉस ऑर्डर तब तक इनएक्टिव रहता जब तक ऑर्डर एक विशेष प्राइस पर नहीं पहुँच जाता लेकिन फिर जैसे यह ऑर्डर एक टारगेट प्राइस को हिट करता है तो स्टॉप लॉस ऑर्डर अपने आप एक्टिव हो जाता है।  

स्टॉप लॉस ऑर्डर, बाय और सेल दोनों पर लगाया जाता है। 

स्टॉप लॉस आर्डर का उपयोग करके आप शेयर बाजार में नुकसान से बच सकते है या अपने नुकसान को सीमित कर सकते हैं। 

#4 कैंडलस्टिक चार्ट्स पैटर्न का पालन करें 

यह एक टेक्निकल टर्म है इसलिए हो सकता है कि शुरुआती स्तर के निवेशकों को यह समझने में थोड़ी मुश्किल हो। 

आइए, इसे आसान शब्दों में समझने की कोशिश करते हैं और शेयर बाजार में नुकसान से बचने के टिप्स को समझते हैं। 

आज-कल बहुत से अनुभवी निवेशक निवेश के लिए कैंडलस्टिक चार्ट पैटर्न (candlestick pattern in hindi) को फॉलो करते हैं। 

कैंडलस्टिक चार्ट का उपयोग स्टॉक, इक्विटी, फॉरेक्स और कमोडिटी ट्रेडिंग में किया जाता है जो मूल्य में उतार-चढ़ाव पर नज़र रखने में मदद करता है।  

तकनीकी विश्लेषण करने के लिए यह चार्ट पैटर्न सबसे अच्छा तरीका है।  यह स्टॉक के मूल्यों की सारी जानकारी देता है। 

कैंडलस्टिक चार्ट पैटर्न, बुल मार्केट और बेयरिश मार्केट को दर्शाता है। 

इसलिए, यदि आप निवेश करने के लिए कैंडलस्टिक चार्ट पैटर्न का पालन करते हैं तो आप अपने लाभ की सम्भावना को बढ़ा देते हैं। 

इसके साथ ही यह आपको नुकसान से बचने में भी सहायता करता है।        

#5 फंडामेंटल एनालिसिस

शेयर बाजार में नुकसान से बचने के टिप्स में यह एक अन्य महत्वपूर्ण टिप्स है।  इसका उपयोग स्टॉक के वास्तविक डाटा को देखने के लिए किया जाता है। 

किसी कंपनी की वित्तीय हालत और उसके विकास आदि का मूल्यांकन करने के लिए मौलिक विश्लेषण होता है। 

यदि आप पहले से पहले से किसी कंपनी का मौलिक विश्लेषण कर लेंगे तो आपके लिए उस कंपनी में निवेश करने के बारे फैसला लेना आसान हो जाएगा। 

आपको पहले से उस कंपनी की वित्तीय स्थिति का पता होगा।  

उदाहरण के लिए यदि आपको उस कंपनी की स्थिति का ना पता हो और कंपनी नुकसान में हो तो आपका नुकसान भी जरूर होगा। 

इसलिए, शेयर मार्केट में निवेश करने से पहले फंडामेंटल एनालिसिस जरूर करें और अपने शेयर बाजार में नुकसान से बचें।


निष्कर्ष 

लोग तेज़ी से पैसा बनाने के लिए शेयर बाजार में निवेश करने को एक बहुत ही आसान विकल्प मानते हैं। लेकिन तेज़ी से पैसा बनाने की होड़ में वे बहुत सी गलतियां कर बैठते हैं जिससे उन्हें नुकसान उठाना पड़ता है। 

इसलिए, शेयर बाजार में नुकसान से बचने के टिप्स में से कुछ टिप्स के बारे में हमने ऊपर बताया है जिनका पालन करके आप अपने नुकसान को सीमित कर सकते हैं और मुनाफे को बढ़ा सकते हैं। 

हमें उम्मीद है कि आप ऊपर बताई हुई बातों से समझ गए होंगे कि यदि आप नुकसान से बचना चाहते हैं तो आपके लिए किन किन बातों को जानना जरूरी है।

यदि आप भी शेयर मार्केट में निवेश करके मुनाफा कमाना चाहते है तो नीचे दिए गए फॉर्म में अपनी बुनियादी जानकारी भरें। 

इसके बाद आपके लिए एक कॉल बैक की व्यवस्था की जाएगी। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

six − 3 =