Option Trading Strategies for Indian Market in Hindi

ऑप्शन ट्रेडिंग एक मुश्किल टर्म है लेकिन अगर आपके पास इसकी सही जानकारी और ज्ञान है तो आप इससे कई गुना तक अपना मुनाफा बढ़ा सकते है।

ऑप्शन ट्रेडिंग में कई तरह की स्ट्रेटेजी का उपयोग किया जा सकता है जिससे एक ट्रेडर लाभ कमा सकता है, तो आइये आज हम इंडियन स्टॉक मार्केट में इस्तेमाल होने वाली कुछ विशेष ऑप्शन ट्रेडिंग स्ट्रेटेजी के बारे में जानेंगे।

तो चलिए शुरुआत करते है स्टॉक ऑप्शन के मतलब से।

इंडियन शेयर मार्केट में स्टॉक ऑप्शन काफी मशहूर है जो ट्रेडर्स को अपनी सम्पति बढ़ाने का अद्भुत मौका प्रदान करता है। स्टॉक ऑप्शन एक ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट की तरह है जहां पर स्टॉक एक अन्तर्निहित परिसम्पति होती है और ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट की वैल्यू की गणना करने के लिए इस्तेमाल की जाती है। 

इसमें कॉन्ट्रैक्ट के मुताबिक होलडर के पास यह सुविधा होती है कि वह शेयर को कॉन्ट्रैक्ट की तारीख खत्म होने तक पूर्वनिर्धारत मूल्य पर बेच या खरीद सकता है। 

जिस तरह से ऑप्शन ट्रेडिंग पॉपुलर हो रही है उसी तरह से इसकी नीतियों के बारे में जानकारी प्राप्त करना बहुत जरुरी है । Angel One की वेबसाइट के नॉलेज सेण्टर पर इन्वेस्टिंग और ट्रेडिंग के बारें आपको इससे जुड़ी बहुत सी जानकारी मिल जाएगी। 

Option Trading Strategies in Hindi

एक बिगिनर के लिए मार्केट के मूवमेंट को समझना और उसके मुताबिक फैसला लेना हमेशा एक चैलेंज होता है। अगर आप के साथ भी यही समस्या है तो यहाँ पर अलग-अलग ट्रेंड के अनुसार बुलिश, बेयरिश और न्यूट्रल स्ट्रेटेजी का संक्षिप्त विवरण दे रहें है जिनसे आप एक ऑप्शन ट्रेडिंग में जीत प्राप्त कर सकते हैं। 

बुलिश स्ट्रेटजीस फॉर ऑप्शन ट्रेडिंग 

अगर ट्रेडर को किसी अन्तर्निहित परिसम्पति के स्टॉक का मूल्य बढ़ने का अनुमान है तो वह निम्नलिखत स्ट्रेटजीस को इस्तेमाल कर सकता है। 

लॉन्ग कॉल :- मार्केट में अगर तेज़ी की आशंका हो तो बायर कॉल ऑप्शन खरीदने पर विश्वास रखता है।  इस स्थिति में ट्रेडर को सिर्फ प्रीमियम अमाउंट का नुकसान उठाना पड़ सकता है।  

शार्ट पुट :- स्टॉक के बढ़ते हुए दामों से मुनाफा कमाने के लिए पुट ऑप्शन को बेच दिया जाता है

बुल काल स्प्रेड :- इस स्ट्रेटेजी में दो ट्रेड एक साथ किये जाते है, जिसमे एक जिनका स्ट्राइक मूल्य कम होता है खरीदा जाता है और अधिक स्ट्राइक मूल्य वाले कॉल ऑप्शन को बेचा जाता है।  


बेयरिश स्ट्रेटजीस फॉर ऑप्शन ट्रेडिंग 

अगर ट्रेडर को किसी अन्तर्निहित परिसम्पति के स्टॉक का मूल्य कम का अनुमान है तो वह निम्नलिखत स्ट्रेटजीस को इस्तेमाल कर सकता है। 

लॉन्ग पुट :- पुट ऑप्शन खरीदने पर,  आप अन्तर्निहित परिसम्पति के स्टॉक मूल्य के  मार्केट के मूल्य से कम होने से फायदा कमाते हैं। 

पुट स्प्रेड्स:- यहाँ पर आप एक हायर स्ट्राइक प्राइस वाला पुट ऑप्शन खरीदते है और साथ ही साथ कम स्ट्राइक प्राइस वाला पुट ऑप्शन बेच देते हो।  

शार्ट कॉल :अगर स्टॉक का दाम लगातार नीचे गिर रहा हो या गिरने की आशंका हो तो वहां पर कॉल ऑप्शन को बेच कर मुनाफा कमाया जाता है


ऑप्शन ट्रेडिंग की नॉन डायरेक्शनल स्ट्रेटजीस 

जब ट्रेडर को इस बात का अंदाज़ा न हो कि मूल्य बढ़ने वाला है या गिरने वाला है तब वह न्यूट्रल या नॉन डायरेक्शनल स्ट्रेटजीस का इस्तेमाल करते हैं। 

बटरफ्लाई :- यहाँ पर बुल्ल स्प्रेड को बेयर पुट स्प्रेड के साथ जोड़ा जाता है। 

स्ट्रैडल :-ऑप्शन को एक ही स्ट्राइक प्राइस पर बेचा और ख़रीदा जाता है। 

स्ट्रांगेल  :- ऑप्शन जिनका स्ट्राइक प्राइस ज्यादा है उन्हें खरीदा जाता है और कम स्ट्राइक प्राइस वाले पुट ऑप्शन को बेचा जाता है जिससे एक ट्रेडर दोनों तरह के कॉन्ट्रैक्ट के प्राइस के उतार चढ़ाव से मुनाफा कमा सकता है। 

अगर आप ऑप्शन ट्रेडिंग के बारे में और जानना चाहते हैं तो आप को एंजेल वन के  नॉलेज सेण्टर पर जा सकते है। यहाँ पर स्टॉक ट्रेडिंग से जुड़ी सभी प्रकार की जानकारी बहुत ही आसान भाषा में समझाई गई है जिसे किसी भी तरह का ट्रेडर आसानी से समझ कर ट्रेड कर सकता है। 

एंजेल वन Streak1 के साथ भी पार्टनर है जो यूजर के लिए स्ट्रेटजिक ट्रेड की सुविधा भी देती है। यह प्लेटफॉर्म आप को बिना किसी मुश्किल के बहुत ही आसान तरीके से ट्रेड को करने और समझने में मदद करता है। 

यह पलेटफोर्म आप को न सिर्फ ट्रेडिंग स्ट्रेटजीस बनाने, बैकटेस्ट करने की और एक्सीक्यूट करने की बल्कि आप को मार्केट की रियल टाइम जानकारी भी प्रदान करता है। यूजर इससे मार्केट से संबधित अलर्ट प्राप्त कर  सकते हैं और उन अलर्ट को मैनेज भी कर सकते हैं।   


डिस्क्लेमर 

  • Streak, एक्सचेंज से मान्यता प्राप्त नहीं है, एवं एंजेल वन लिमिटेड एक डिस्ट्रीब्यूटर की तरह कार्य करता है। किसी भी तरह के। रेड्रेसल फोरम एवं आर्बिट्रेशन मेकेनिज़म के मुताबिक  डिस्ट्रीब्यूशन एक्टिविटी से संबधित किसी भी मसले के लिए एक्सचेंज इवेस्टर के पास एक्सेस नहीं है।
  • यह जानकारी सिर्फ शिक्षा के उदेश्य से दी गयी है। 
  • सिक्योरिटीज में निवेश मार्केट रिस्क के अधीन है, निवेश से पहले सभी डाक्यूमेंट ध्यान पूर्वक पढ़ लें।ब्रोकरेज सेबी द्वारा बताई गयी लिमिट से ज्यादा नहीं होगी। 

शेयर मार्केट में निवेश करने हेतु और उससे जुड़ी किसी भी तरह की जानकारी प्राप्त करने के लिए नीचे दिए गए फॉर्म में अपना विवरण भरे और हम आपको आपका डीमैट खाता ऑनलाइन खोलने में मदद प्रदान करेंगे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

four × 1 =