ऑप्शन ट्रेडिंग टिप्स

डेरीवेटिव के बारे में और जानें

ऑप्शन के बारे में यह एक व्यापक मिथक है कि वे जटिल और जोखिम भरे होते हैं। हालांकि, वास्तविकता यह है कि विभिन्न तरीकों से शेयरों में ट्रेड करने के लिए ऑप्शन एक साधन से ज्यादा कुछ नहीं हैं। अगर आप ऑप्शन ट्रेडिंग सीखने की शुरुआत कर रहे है तो ये 5 ऑप्शन ट्रेडिंग टिप्स आपके लिए बहुत उपयोगी होने वाली है। 

Option Trading Tips in Hindi

ऑप्शन ट्रेडिंग में सफलता प्राप्त करने के लिए चाहिए ऑप्शन ट्रेडिंग बेसिक्स (option trading basics in hindi), इस्तेमाल होने वाली स्ट्रेटेजी और ट्रेडिंग के नियमों की जानकारी होनी चाहिए। 

अब बहुत से ट्रेडर्स इस असमंजस में रहते है कि ऑप्शन ट्रेडिंग कैसे करते हैं और इसकी जटिलताओं को देखते हुए शुरुआत में ही डर जाते है, लेकिन अगर ऑप्शन ट्रेडिंग टिप्स का सही से इस्तेमाल किया जाए तो ये आपके मुनाफे को कई गुना तक बढ़ा सकता है

टिप 1: ऑप्शन ट्रेडिंग करने के उद्देश्य को जाने

स्टॉक मार्केट में निवेश करना हो या ट्रेड, ज़रूरी है सही उद्देश्य के साथ प्रवेश करना। अब अगर आप ऑप्शन में ट्रेडिंग करना चाह रहे है तो यहाँ पर ये समझना काफी ज़रूरी हो जाता है कि हम अपने ट्रेडिंग की ज़रुरत और उद्देश्य को समझे।

अब ऑप्शन ट्रेडिंग के मीनिंग (option trading in hindi) को समझे तो इसमें बायर मार्केट में पोजीशन लेने के लिए प्रीमियम अमाउंट देता है। अब अगर मार्केट बायर के अनुसार एक्सपायर होती है तो उन्हें मुनाफा होता है लेकिन इसके विपरीत उनको पूरे प्रीमियम का नुकसान होता है। 

ऐसे में बहुत ज़रूरी है कि आप मार्केट में प्रवेश करने से पहले अपने लक्ष्य और जोखिमों का सही से आंकलन करें।

जैसे की आप ऑप्शन ट्रेडिंग बुलिश या बेयरिश मार्केट से मुनाफा कमाने के लिए कर रहे है या आप अपनी ट्रेडिंग पोजीशन को हेज करने के लिए ऑप्शंस में ट्रेड कर रहे है।

एक तरफ जहाँ ऑप्शन ट्रेडिंग सेलर को प्रीमियम से पैसा कमाने का अवसर लेकर आता है वही दूसरी तरफ बायर को अपनी पोजीशन को हेज करने का विकल्प प्रदान करता है जिससे वह अपने ट्रेडिंग रिस्क को कम कर सके

तो एक तरह से बायर और सेलर के लिए ऑप्शन अलग-अलग तरह से काम करता है और इसलिए अपने उद्देश्य को निर्धारित कर उसमे ट्रेड करना काफी आवश्यक हो जाता है

अगर आप ऑप्शन में इंट्राडे ट्रेडिंग (option intraday trading hindi) करना चाह रहे है तो उसके लिए मार्केट की वोलैटिलिटी और रिस्क को जाने क्योंकि ये दोनों ही ट्रेड में जोखिम कई गुना होता है


टिप 2: अपने रिस्क को समझे और उसके अनुसार रिटर्न की गणना करें 

मानो या न मानो, ऑप्शन ट्रेडिंग आपको कम जोखिम के साथ ज्यादा मुनाफा करने की अनुमति देता है, जिसका अर्थ है कि आप ऐसे ट्रेड कर सकते हैं जहां स्टॉक ट्रेडिंग करने पर आपके लाभदायक होने की संभावना 50% हो वही ऑप्शन में आपके जोखिम को कम कर स्टॉक की तुलना में ऑप्शन को अधिक लाभप्रद बना सकते हैं। 

यहाँ पर ऑप्शन ट्रेडिग टिप्स का पालन करते हुए अगर ऑप्शन ट्रेडिंग के सही प्रकार (call and put option in hindi), सही स्ट्रेंजी और रिस्क को मैंनेज कर ट्रेड करते है तो बुलिश, बेयरिश या स्थिर मार्केट में भी आप मुनाफा कमा सकते है।

लेकिन फिर भी एक सही ट्रेड के लिए आपको अपने जोखिम लेने की क्षमता और उसके साथ रिटर्न रेश्यो की जानकारी होना ज़रूरी है। उदाहरण के लिए अगर आप एक अग्ग्रेसिव ट्रेडर है और ऑप्शन राइटिंग या ज़्यादा मात्रा में बाय करना चाहते है तो deep OTM आपके लिए फायदेमंद हो सकता है।

आप जो भी ऑप्शन स्ट्रेटेजी (option trading strategies in hindi) चुने, वह पर ध्यान दे कि आप सब बातो का आंकलन कर ही उसमे ट्रेड करें


टिप 3: सही स्ट्रेटेजी से मार्केट की हर स्थिति में मुनाफा कमाए 

वॉरेन बफेट का मानना है कि “जब लोग डरे हो तब आप लालची बन जाओ, और जब लोग लालची हो तब आप डर कर रहे।” सबसे लाभदायक ट्रेड ढूंढने की लिए इस कहावत का उपयोग किया जा सकता है। ऐसे समय होते हैं जब स्टॉक के लिए दृष्टिकोण बेहद निराशाजनक होता है और ऑप्शन ट्रेडर्स के लिए बड़ा मुनाफा करने का अवसर होता है। 

आपने कोविड के समय देखा होगा कि जब मार्केट बहुत बुरी तरह क्रैश हुआ था और सभी लोग डरे हुए थे, तब दूसरी तरफ कुछ ऐसे ऑप्शन ट्रेडर्स भी थे जिन्होने उसी दौरान इतना पैसा कमा लिया जितना कि उन्होने पूरे साल में मुनाफा नही किया होगा। और जब मार्केट अपने बॉटम पर था सभी लोग अपने होल्डिग्स डर की वजह से बेच रहे है और दूसरी तरफ कुछ लोग भारी खरीददारी कर रहे थे। और फिर अभी आप देख ही सकते है मार्केट अभी कहा है।

इसलिए जब लोग डरे हो वही मौका है कुछ बड़ा करने का।  

हम सभी ने देखा है कि समाचार रिपोर्टों, बाजार के शोर आदि पर शेयरों में उछाल और गिरावट आता है – इस तरह की घटनाओं के दौरान ऑप्शन का उपयोग करने में सक्षम होने से आकर्षक लाभ की अपेक्षा की जा सकती हैं जहां लालच और भय जानकार ट्रेडर्स को अवसर को पहचानने की जरुरत हैं। बाजार की अस्थिरता का लाभ उठाने के लिए तैयार रहना एक ऐसी संपत्ति है जिसका उपयोग एक अनुभवी ट्रेडर जानता है।

आप हमेशा लाभ के पक्ष में नहीं होंगे, लेकिन यदि आप लगातार सही अवसरों की तलाश करते हैं तो आपको सफल ऑप्शन ट्रेडर बनने से कोई नही रोक सकता है। और ट्रेडिंग एक लंबा गेम है इसलिए अपना ध्यान “गेमलिंग” से हटाकर एक सफल ट्रेडर बनने पर लगाए। 


टिप 4: ऑप्शन की वोलैटिलिटी पर नज़र रखे 

इम्प्लॉइड वोलैटिलिटी जो ऑप्शन की वोलैटिलिटी को जानने में मदद करता है, आपको उसकी पूरी जानकारी रख ऑप्शन ट्रेड में कदम रखना चाहिए। इसके लिए आप स्टॉक की इम्प्लॉइड वोलैटिलिटी (IV in option chain in Hindi) की हिस्टोरिकल वोलैटिलिटी के साथ तुलना कर सकते है। 

इसके सही विश्लेषण से आप जान सकते है कि आगे चलकर स्टॉक या इंडेक्स में क्या ट्रेंड देखा जा सकता है। ज़्यादा इम्प्लॉइड वोलैटिलिटी से प्रीमियम काफी तेज़ी से बढ़ता है जिससे आप सही समय में ऑप्शन सेल कर कई गुना मुनाफा कमा सकते है। 

दूसरी तरफ कम इम्प्लॉइड वोलैटिलिटी से आप काफी कम प्रीमियम के साथ ऑप्शन को खरीद सकते है जिससे एक बायर ऑप्शन ट्रेडिंग से मुनाफा कमा सकता है। 


टिप 5: देश और कंपनी के इवेंट से अवगत रहे 

अगली ऑप्शन ट्रेडिंग टिप्स है जिसमे एक ट्रेडर को हमेशा मार्केट या स्टॉक में होने वाले आयोजन से वाकिफ रहना काफी आवश्यक होता है क्योंकि ये ऑप्शन मार्केट को कई तरह से प्रभाव करते है

अब यहाँ पर मार्केट लेवल के आयोजन का मतलब इकॉनमी, इलेक्शन या दूसरे ग्लोबल इशू से जुड़ा हो सकता है दूसरी तरफ स्टॉक इवेंट किसी भी कंपनी की वार्षिक या तिमाही रिपोर्ट, कोई नए प्रोडक्ट का मार्केट में आना आदि हो सकता है।

अब ऐसे में ऑप्शन मार्केट में इम्प्लॉइड वोलैटिलिटी और स्टॉक प्राइस पर काफी प्रभाव पड़ता है जिसका लाभ ट्रेडर उठा सकते है

तो आपको ऑप्शन में मुनाफा कमाने के लिए सही अवसर और इवेंट को पहचानना है जिससे ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट्स में असर पड़े और सही एक्सपायरी और टाइम फ्रेम के अनुसार उसमे ट्रेड करना है
अगर आप मार्केट में नए है तो जाने की शेयर मार्केट में एक्सपायरी क्या होती है (what is expiry in share market in hindi) और ऑप्शन में इसका क्या महत्व होता है

निष्कर्ष 

ऊपर दी गई सभी ऑप्शन ट्रेडिंग टिप्स एक ही तरह इशारा करती है कि एक ऑप्शन खरीददार सिर्फ़ तभी पैसा बना सकता है जब मार्केट में तेज मोमेंटम हो, चाहे वह ऊपर की तरफ हो या नीचे की तरफ्। वही ऑप्शन बैचने बाला तब भी पैसा कमायेगा जब मार्केट कही नही जा रहा होगा।

तो अगर आप ऑप्शन सैलर है तभी टिप -5 को फोलो करे और अगर आप ऑप्शन खरीददार है तो आप अब तक समझ ही गए होंगे कि समय आपका सबसे बड़ा दुश्मन है। तो कैसे लगे आपको 5 ऑप्शन ट्रेडिंग टिप्स हमें जरुर बताएं।


ऑप्शन ट्रेडिंग या शेयर मार्केट में निवेश करने के लिए यदि आप एक सही स्टॉकब्रोकर ढूंढ रहे है तो हमे संपर्क करे और हम आपको एक सही ब्रोकर और उसके साथ अकाउंट खोलने में मदद करेंगे:

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

2 × 3 =