What is IOC in Share Market in Hindi

शेयर मार्केट के अन्य लेख

यदि आप भी ऐसे ट्रेडर हैं जो दिन के समय सिक्योरिटीज को बेचना या खरीदना चाहते हैं तो आप स्टॉक प्राइस को ट्रैक करने के लिए थोड़े कन्फ्यूज़ हो सकते हैं। इसलिए इसकी तुलना में आपके लिए IOC ऑर्डर हैं। अब आप सोच रहे होंगें कि आईओसी (What is IOC in Share Market in Hindi) क्या है?

IOC एक “पीरियड” ऑर्डर है जो डे ट्रेडर द्वारा उपयोग किया जाता है। इसमें ट्रेडर यह तय करता है कि ऑर्डर को कब तक एक्टिव रखना है। इसको “जीरो पीरियड” ऑर्डर भी कह सकते हैं क्योंकि निवेशक द्वारा ऑर्डर प्लेस करने और ऑर्डर एक्सीक्यूट करने में कुछ ही समय का अन्तर होता है।

यह ट्रेड करने का सबसे तेज़ तरीका है। लेकिन इसकी पूरी जानकारी के बिना इसमें ट्रेडिंग नहीं करनी चाहिए।

इसलिए, आज इस आर्टिकल में हम आपको IOC की फुल-फॉर्म, IOC ऑर्डर के प्रकार, और IOC ऑर्डर कब प्लेस करना चाहिए आदि के बारे में बताएंगें।

चलिए, जानते हैं कि IOC (What is IOC in Share Market in Hindi) के बारे में जानते हैं।


IOC Full Form in Share Market in Hindi

IOC (What is IOC in Share Market in Hindi) के बारे में डिटेल्स में जानने से पहले इसका पूरा नाम जानना ज़रूरी है।

पहले देखते हैं कि शेयर मार्केट में आईओसी (IOC) का फुल फॉर्म क्या है?

आईओसी(IOC) का अर्थ है, इमिडिएट ऑर कैंसिल ऑर्डर।

यह एक रिटेंशन ऑर्डर प्रकार है, जिसका उपयोग ऑर्डर की समय अवधि को फिक्स करने के लिए किया जाता है। 

ऑर्डर को निष्पादित करने की समय अवधि इमिडिएट (IMMEDIATE) या कैंसिल (CANCEL) है। 

इसलिए, जब आप आईओसी (IOC) ऑर्डर देते हैं, तो ऑर्डर या तो निष्पादित होगा या तुरंत कैंसिल हो जाएगा।

यदि आपको समझ नहीं आया है तो चलिए एक उदाहरण की मदद से समझते हैं:

उदाहरण के लिए, मान लें कि आप 100 शेयरों के लिए एक आईओसी IOC ऑर्डर देते हैं, और उस समय में, मार्केट में कोई शेयर उपलब्ध नहीं हैं। ऐसे मामलों में,ऑर्डर तुरंत रद्द कर दिया जाता है।

IOC ऑर्डर में, आंशिक यानि कुछ मैच भी संभव है।

आइए, ऊपर के उदाहरण को ध्यान में रखते हुए समझते हैं कि पार्शियल मैच कैसे किया जाए।

मान लें कि मार्केट में 30 शेयर उपलब्ध थे।

जैसा कि, आपके ऑर्डर की मात्रा का केवल एक आंशिक हिस्सा उपलब्ध है, केवल उस हिस्से के “30 शेयरों” को निष्पादित किया जाएगा और शेष 70 शेयरों के अनमैच हिस्से को कैंसिल कर दिया जाएगा।

आइए, अब जानते हैं कि ये IOC (What is IOC in Share Market in Hindi) ऑर्डर कितने प्रकार के हैं।


आईओसी ऑर्डर (IOC) के प्रकार

आप आईओसी (What is IOC in Share Market in Hindi) ऑर्डर को लिमिट ऑर्डर और मार्केट ऑर्डर के साथ जोड़ सकते हैं:

  • जब आप लिमिट आईओसी ऑर्डर का उपयोग करते हैं, तो ऑर्डर को आपकी पसंद के विशिष्ट मूल्य पर निष्पादित किया जाएगा।
  • जब आप मार्केट आईओसी ऑर्डर का उपयोग करते हैं, तो ऑर्डर मार्केट में वर्तमान सर्वोत्तम उपलब्ध प्राइस पर निष्पादित किया जाएगा।

अन्य रिटेंशन ऑर्डर

डे ऑर्डर: यह एक प्रकार का ऑर्डर है, जो आपके द्वारा निर्दिष्ट मूल्य तक पहुंचने या रद्द किए जाने तक एक दिन के लिए एक्टिव होगा।

जीटीसी ऑर्डर: यह एक प्रकार का ऑर्डर है, जो एक महीने के लिए तब तक सक्रिय रहेगा जब तक कि आपके द्वारा विशिष्ट मूल्य प्राप्त या कैंसिल नहीं किया जाता है।

आमतौर पर, भारत में ब्रोकरेज फर्म जीटीसी ऑर्डर को एक महीने के लिए सक्रिय करने की अनुमति देते हैं। यदि ऑर्डर को ट्रिगर नहीं किया जाता है, तो यह ऑटोमैटिक रूप से कैंसिल कर दिया जाता है।


Day और IOC के बीच अंतर

यदि आप एक ऑर्डर देते हैं और इसे तुरंत निष्पादित नहीं किया जाता और डे ऑर्डर के मामले में, यह दिन के अंत तक पेंडिंग रहेगा, जबकि आईओसी ऑर्डर में इसे तुरंत कैंसिल कर दिया जाता है।

GTC और IOC के बीच अंतर

यदि आप एक ऑर्डर देते हैं और इसे तुरंत निष्पादित नहीं किया जाता है:

जीटीसी ऑर्डर के मामले में, यह एक महीने के लिए पेंडिंग रहेगा, जबकि आईओसी ऑर्डर में, इसे तुरंत कैंसिल कर दिया जाता है।


आईओसी (IOC) ऑर्डर टाइप कब करें?

IOC (What is IOC in Share Market in Hindi) ऑर्डर प्लेस करने के लिए यहाँ कुछ टिप्स दी गयी है जैसे:

  1. जल्दी खरीदें और बेचें: ऑप्शन ट्रेडिंग में कीमतें बहुत तेज़ी से बढ़ती है और अपने द्वारा तय कीमत पर ऑप्शन खरीदना या बेचना मुश्किल है। ऐसे मामलों में, आप वांछित मूल्य और मात्रा पर तुरंत ऑप्शन खरीदने या बेचने के लिए आईओसी (IOC) ऑर्डर एक लिमिट पर रख सकते हैं। 
  2. बड़ी मात्रा: बाजार आईओसी ऑर्डर टाइप का उपयोग बड़ी मात्रा में शेयर खरीदते समय किया जाता है ताकि ऑर्डर को कई कीमतों पर ना रखा जा सके।
  3. मल्टीपल स्टॉक्स: जब तक बाजार मैन्युअल रूप से बंद नहीं होता है, तब तक डे ऑर्डर एक्टिव रहेगा। इसलिए जो लोग मल्टीप्ल शेयरों में ट्रेड करते हैं, वे मैन्युअल रूप से ऑर्डर को कैंसिल करने के लिए भूलने के जोखिम से बचने के लिए आईओसी ऑर्डर का उपयोग करते हैं।
  4. इलिक्विड स्टॉक्स: इलिक्विड स्टॉक्स में, बहुत कम और ना के बराबर खरीददार और विक्रेता होते हैं। ऐसे मामलों में, आप करंट मार्केट प्राइस पर स्टॉक पाने के लिए आईओसी ऑर्डर कर सकते हैं या यदि ऑर्डर मेल नहीं खाता है तो स्वचालित रूप से कैंसिल कर सकते हैं।

भारत में आईओसी (IOC)ऑर्डर देने वाले टॉप ब्रोकर: 


निष्कर्ष:

  • आईओसी (IOC) ऑर्डर का अर्थ है, इमीडियेट या कैंसिल आर्डर। आपका ऑर्डर या तो तुरंत निष्पादित हो जाएगा या मिलीसेकेंड में रद्द हो जाएगा।
  • पार्शियल मैच के मामले में, ऑर्डर के एक निश्चित हिस्से को निष्पादित किया जाएगा, और एक अनमैच हिस्सा कैंसिल कर दिया जाएगा।
  • आप एक विशेष प्राइस पर शेयर खरीदने या बेचने के लिए आईओसी(IOC) लिमिट ऑर्डर का उपयोग कर सकते हैं। आईओसी(IOC) मार्केट ऑर्डर को करंट मार्केट पर खरीदने या बेचने के लिए इसका उपयोग कर सकते है।
  • आईओसी(IOC), डे (Day) और जीटीसी(GTC) ऑर्डर के बीच का अंतर केवल ऑर्डर की वैलिडिटी है।
  • आईओसी ऑर्डर हाई वोलैटिलिटी या लिक्विडिटी के दौरान सबसे सही है, और जब आप अधिक मात्रा में या मल्टीप्ल स्टॉक में ट्रेडिंग करते हैं तो उसके लिए यह सबसे सही है। 

हमें उम्मीद है कि आपको What is IOC in Share Market in Hindi के बारे में पूरी जानकारी मिल गई होगी।


यदि आप शेयर बाजार में ट्रेडिंग करना चाहते हैं तो डीमैट खाता खोलें :

डीमैट खाता खोलने के लिए नीचे दिए गए फॉर्म को देखें:

यहाँ अपना बुनियादी विवरण भरें और उसके बाद आपके लिए कॉलबैक की व्यवस्था की जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

seventeen + 4 =