Secondary Market in Hindi

शेयर मार्केट के अन्य लेख

सेकेंडरी मार्केट (Secondary Market in Hindi) एक ऐसा प्लेटफॉर्म है, जिसमें इन्वेस्टर के बीच कंपनियों के शेयर का ट्रेड होता है। इसका मतलब है कि इन्वेस्टर जारीकर्ता कंपनी (Issuer Company) के हस्तक्षेप के बिना शेयर को खरीद और बेच सकते हैं। 

अगर बात इनकम की कि जाए तो शेयर के इन लेन-देन में कंपनी का कोई हिस्सा नहीं होता। यानी कि ट्रेडर्स के द्बारा आपस में होने वाले लेन-देन का प्रॉफिट सिर्फ इन्वेस्टर को ही होता है।

इस मार्केट में इनकम एक इन्वेस्टर से दूसरे इन्वेस्टर में शेयरों की बिक्री के माध्यम से उत्पन्न होती है।

सेकेंडरी मार्केट में निम्नलिखित संस्थाएं कार्य करती है:  

  • रिटेल इन्वेस्टर
  • एडवाइजरी सर्विस प्रोवाइडर और ब्रोकर जिनमें कमीशन ब्रोकर और सिक्योरिटी डीलर और अन्य शामिल हैं।
  • नॉ-बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनी, इश्योरेंस कंपनी, बैंक और म्यूचुअल फंड सहित फाइनेंशियल ब्रोकर।

आइये अब Secondary Market in Hindi में वित्तीय साधन पर नजर डालते हैं।


सेकेंडरी मार्केट के वित्तीय साधन 

सेकेंडरी मार्केट (Secondary Market in Hindi) में फिक्स्ड इनकम इंस्ट्रूमेंट, वेरिएबल इनकम इंस्ट्रूमेंट और हाइब्रिड इंस्ट्रूमेंट जैसे इंस्ट्रूमेंट में ट्रेड किया जाता हैं।

  • फिक्स्ड इनकम इंस्ट्रूमेंट

फिक्स्ड इनकम इंस्ट्रूमेंट्स मुख्य रूप से डेब्ट इंस्ट्रूमेंट्स हैं, जिसे नियमित रूप से इंटरेस्ट और मैच्योरिटी पर प्रिंसिपल के रूप में भुगतान किया जाता है। फिक्स्ड इनकम सिक्योरिटीज के उदाहरण हैं – डिबेंचर, बॉन्ड और प्रेफर्ड शेयर

डिबेंचर को एक रिस्की डेब्ट इंस्ट्रूमेंट माना जाता हैं, अर्थात यह कोलैटरल द्वारा सुरक्षित नहीं माना जाता है। डिबेंचर से मिलने वाला रिटर्न जारीकर्ता की विश्वसनीयता पर निर्भर करते हैं।

बॉन्ड की बात करें तो, यह दो पक्षों के बीच होने वाला एक कॉन्ट्रैक्ट हैं, जिसके तहत एक सरकार या कंपनी इन फाइनेंशियल इंस्ट्रूमेंट (वित्तीय साधन) को जारी करती है। 

इन्वेस्टर इन बॉन्ड को खरीदते हैं, जिससे जारीकर्ता संस्था को बड़ी मात्रा में फंड जमा करने की अनुमति मिलती है।

इन्वेस्टर को एक निश्चित अंतराल पर ब्याज का भुगतान किया जाता है, और मैच्योरिटी पर प्रिंसिपल अमाउंट दिया जाता है।

किसी कंपनी में प्रेफरेंस शेयर वाले शेयरधारक को इक्विटी शेयरधारकों को भुगतान करने से पहले डिविडेंड प्राप्त होता है।

यदि कोई कंपनी दिवालिया होने के कगार पर है, तो प्रेफरेंस शेयरहोल्डर्स को अन्य शेयरधारकों से पहले भुगतान करने का अधिकार है।

  • वेरिएबल इनकम इंस्ट्रूमेंट 

वेरिएबल इनकम इंस्ट्रूमेंट में निवेशकों को अपने निवेश पर एक उचित रेट ऑफ़ इंटरेस्ट प्राप्त होता है।  इस तरह के रिटर्न को विभिन्न फैक्टर निर्धारित करते हैं।

यह सिक्योरिटीज इन्वेस्टर को हाई रिस्क के साथ-साथ हाई रिवॉर्ड भी प्रदान करती हैं।

वेरिएबल इनकम इंस्ट्रूमेंट के उदाहरण हैं- इक्विटी और डेरिवेटिव

इक्विटी शेयर ऐसे इंस्ट्रूमेंट हैं, जो किसी कंपनी को फाइनेंस जुटाने में मदद  देते हैं। इसके अलावा, इक्विटी शेयर रखने वाले इन्वेस्टर का एक कंपनी के नेट प्रॉफिट पर दावा होता है, अगर यह लिक्विडेशन में चला जाता है।

डेरिवेटिव्स इंस्ट्रूमेंट में, दो अलग-अलग पार्टियों के बीच एक कॉन्ट्रैक्ट किया जाता हैं, जिसमे कुछ बाध्यता भी शामिल है और बेहतर प्रदर्शन करने पर भुगतान किया जाता है। 

  • हाइब्रिड इंस्ट्रूमेंट

हाइब्रिड इंस्ट्रूमेंट को बनाने के लिए दो या अधिक विभिन्न फाइनेंशियल इंस्ट्रूमेंट को मिलाया जाता है। कनवर्टिबल डिबेंचर, हाइब्रिड इंस्ट्रूमेंट के एक उदाहरण के रूप में काम करते हैं।

कनवर्टिबल डिबेंचर लॉन और डेब्ट सिक्योरिटीज के रूप में उपलब्ध हैं, जिन्हें पूर्व-निर्धारित अवधि के बाद इक्विटी शेयरों में परिवर्तित किया जा सकता है


सेकेंडरी मार्केट के कार्य

  • स्टॉक एक्सचेंज निवेशकों को बॉन्ड, शेयर, डिबेंचर और ऐसे अन्य फाइनेंशियल इंस्ट्रूमेंट के लिए ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म प्रदान करता है।
  • इसमें लेनदेन किसी भी समय किया जा सकता है। मार्केट आपको एक्टिव ट्रेडिंग की अनुमति देती  है, ताकि विभिन्न लेनदेन के बीच कीमत में कम परिवर्तन के साथ तत्काल खरीद या बिक्री हो सके।
  • इसके अलावा, ट्रेडिंग में निरंतरता आती है, जो इस मार्केट में ट्रेड करने वाली एसेट की लिक्विडिटी  को बढ़ाता है।
  • इन्वेस्टर को एक उचित मंच मिलता है, जैसे होल्डिंग्स को लिक्विड करने के लिए एक संगठित एक्सचेंज। उनके पास मौजूद सिक्योरिटीज को विभिन्न स्टॉक एक्सचेंजों में बेचा जा सकता है।
  • एक सेकेंडरी मार्केट मांग और आपूर्ति के अनुरूप ट्रांसजेक्शन में एसेट के मूल्य निर्धारण के माध्यम के रूप में कार्य करता है। ट्रांसजेक्शन के प्राइस की जानकारी पब्लिक डोमेन के भीतर है, जो इन्वेस्टर को उसके अनुसार निर्णय लेने में सक्षम बनाती है।
  • यह एक देश की अर्थव्यवस्था का भी संकेत है। यह बचत और निवेश के बीच एक कड़ी के रूप में भी कार्य करता है। जैसा कि, सिक्योरिटीज के माध्यम से निवेश के माध्यम से बचत की जाती है।

सेकेंडरी मार्केट के प्रकार 

सेकेंडरी मार्केट (Secondary Market in Hindi) मुख्य रूप से दो प्रकार की होते हैं – स्टॉक एक्सचेंज और ओवर-द-काउंटर मार्केट ।

  • स्टॉक एक्सचेंज

स्टॉक एक्सचेंज सेंट्रलाइज़्ड प्लेटफॉर्म हैं, जहां सिक्योरिटीज का ट्रेड होता है। इसमें खरीदार और विक्रेता के बीच कोई संपर्क नहीं होता है। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) और बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) ऐसे प्लेटफॉर्म के उदाहरण हैं।

स्टॉक एक्सचेंजो में ट्रांसजेक्शन सिक्योरिटीज के ट्रेड में कड़े नियमों के अधीन होती हैं। एक स्टॉक एक्सचेंज स्वयं एक गारंटर के रूप में कार्य करता है।

इसमें प्रतिपक्ष जोखिम लगभग न के बराबर होता है। इस तरह का सेफ्टी नेट कमीशन और एक्सचेंज फीस के रूप में निवेश पर लगाए जाने वाले हाई ट्रांसजेक्शन कॉस्ट के माध्यम से प्राप्त किया जाता है।

  • ओवर द काउंटर (ओटीसी) मार्केट 

ओवर-द-काउंटर मार्केट डीसेंट्रलाइज़्ड होती हैं, जिसमें पार्टिसिपेंट आपस में ट्रेडिंग के लिए जुड़े होते हैं। ओटीसी मार्केट पार्टिसिपेंट के बीच धोखाधड़ी के जोखिम को कम करता है, जहाँ दोनों पार्टियां एक दूसरे के साथ डीलिंग करती हैं।

फॉरेन एक्सचेंज मार्केट (FOREX) ओवर-द-काउंटर मार्केट का एक उदाहरण है।

एक ओटीसी मार्केट में, हाई वॉल्यूम प्राप्त करने में जबरदस्त मुक़ाबला होता है। इस फैक्टर के कारण, सिक्योरिटीज की कीमत एक विक्रेता से दूसरे विक्रेता में भिन्न होती है।

स्टॉक एक्सचेंज और ओटीसी मार्केट के अलावा, अन्य प्रकार के सेकेंडरी मार्केट में ऑक्शन मार्केट और डीलर मार्केट शामिल हैं।

यह एक अनिवार्य मंच है, जो खरीदारों और विक्रेताओं को उस रेट के बारे में बताता है, जिस पर सिक्योरिटीज का ट्रेड किया जाना है।

मूल्य निर्धारण से संबंधित जानकारी पब्लिक डोमेन में डाल दी जाती है, जिसमें प्रस्ताव का बोली मूल्य भी शामिल है।

डीलर मार्केट एक अन्य प्रकार की सेकेंडरी मार्केट है, जिसमें विभिन्न डीलर ट्रांसजेक्शन  के लिए विशिष्ट सिक्योरिटीज की कीमतों का संकेत देते हैं।

फॉरेन एक्सचेंज ट्रेड और बॉन्ड का ट्रेड मुख्य रूप से एक डीलर मार्केट में किया जाता हैं।


सेकेंडरी मार्केट लेनदेन के उदाहरण 

सेकेंडरी मार्केट (Secondary Market in Hindi) ट्रांजेक्शन में सभी प्रकार के निवेशकों को लिक्विडिटी प्रदान करते हैं। हाई वॉल्यूम ट्रांसजेक्शन के कारण, उनकी लागत काफी कम हो जाती है।

सिक्योरिटीज की ट्रांसजेक्शन से संबंधित कुछ सेकेंडरी मार्केट उदाहरण इस प्रकार हैं।

एक सेकेंडरी मार्केट में, एक निवेशक अन्य निवेशक के साथ सिक्योरिटीज की ट्रांजेक्शन में प्रवेश करते हैं, लेकिन वह जारीकर्ता नहीं होता है।

यदि कोई इन्वेस्टर लार्सन एंड टुब्रो (L&T) के स्टॉक खरीदना चाहता है, तो उसे दूसरे इन्वेस्टर से खरीदना होगा, जो ऐसे शेयरों का मालिक है।

वह L&T से सीधे शेयर नहीं खरीद सकता। इस प्रकार कंपनी ट्रांसजेक्शन में शामिल नहीं होगी।

इंडिविजुअल और कॉर्पोरेट इन्वेस्टर, इन्वेस्टमेंट बैंकों के साथ, सेकेंडरी मार्केट में बॉन्ड और म्यूचुअल फंड की खरीद और बिक्री में आपस में जुड़े हुए  हैं।  


सेकेंडरी मार्केट की विशेषताएं 

चलिए, अब सेकेंडरी मार्केट (Secondary Market in Hindi) की विशेषताओं के बारे में बात करेंगे। 

  • इन्वेस्टर सेकेंडरी मार्केट में अपनी लिक्विडिटी की समस्याओं को आसानी से कम कर सकते हैं। जैसे, लिक्विड कैश की जरूरत होने पर निवेशक इन्वेस्टर अपने शेयर को आसनी से बेच सकते हैं, क्योंकि सेकेंडरी मार्केट में इसके बड़ी संख्या में खरीदार मौजूद होते हैं।
  • सेकेंडरी मार्केट एक विशेष कंपनी के उचित मूल्यांकन के लिए एक बेंचमार्क दर्शाता है।
  • एक सेकेंडरी मार्केट में सिक्योरिटीज का मूल्य समायोजन कंपनी के बारे में नई जानकारी के साथ एक छोटी अवधि में होती है।
  • सेकेंडरी स्टॉक मार्केट के सख्त नियमों के कारण इन्वेस्टर के फंड अपेक्षाकृत सुरक्षित रहते हैं। इसमें नियम सख्त हैं, क्योंकि मार्केट इन्वेस्टर और कंपनियों दोनों के लिए लिक्विडिटी और पूंजी निर्माण का एक स्रोत है।
  • बचत करना आसान हो जाता है, क्योंकि इन्वेस्टर का पैसा सिक्योरिटीज के रूप में होता है।

सेकेंडरी मार्केट के नुकसान 

  • एक सेकेंडरी मार्केट में सिक्योरिटीज की कीमतें हाई वोलैटिलिटी के अधीन होती हैं। इस तरह की कीमत में उतार-चढ़ाव से इन्वेस्टर  को अचानक और अप्रत्याशित नुकसान हो सकता है।
  • एक सेकेंडरी मार्केट में खरीदने या बेचने से पहले, इन्वेस्टर को सभी प्रक्रियाओं को विधिवत रूप से  पूरा करना होता है, जो कि बहुत लंबी  प्रक्रिया होती है।
  • सिक्योरिटीज की खरीद या बिक्री के प्रत्येक ट्रांसजेक्शन पर लगाए गए ब्रोकरेज कमीशन के कारण निवेशकों को लाभ मार्जिन में सेंध का अनुभव होता है।
  • एक सेकेंडरी कैपिटल मार्केट में इन्वेस्टमेंट पर कई बाहरी कारकों के प्रभाव के कारण हाई रिस्क होता हैं, और मौजूदा वैल्यूएशन कुछ मिनटों के भीतर बदल सकती है।

प्राइमरी और सेकेंडरी मार्केट के बीच में अंतर 

चलिए, अब आगे बढ़ते हैं और देखते हैं कि प्राइमरी और सेकेंडरी मार्केट के बीच क्या अंतर है:

प्राइमरी मार्केट  सेकेंडरी मार्केट 
सिक्योरिटीज को शुरू में एक प्राइमरी मार्केट में जारी किया जाता है। इसको जारी करने के बाद, ऐसी सिक्योरिटीज  को बाद की ट्रेडिंग  के लिए स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध किया जाता है। पहले से जारी सिक्योरिटीज का ट्रेड एक सेकेंडरी मार्केट  में होता है।
इन्वेस्टर प्राइमरी मार्केट में जारीकर्ता (Issuer) से सीधे शेयर खरीदते हैं।  इन्वेस्टर सिक्योरिटीज की खरीद या बिक्री के लिए आपस में ट्रांसजेक्शन करते हैं। जारीकर्ता इस तरह की ट्रेडिंग में शामिल नहीं होते हैं।
एक प्राइमरी मार्केट में स्टॉक इश्यू प्राइस फिक्स रहता है। एक सेकेंडरी मार्केट में ट्रेड की गई सिक्योरिटीज की कीमतें उसी की डिमांड और सप्लाई के अनुसार भिन्न होती हैं।
प्राइमरी मार्केट में सिक्योरिटीज की बिक्री जारीकर्ता के लिए फंड जेनेरेट करती है। इस मार्केट में किए गए ट्रांसजेक्शन इन्वेस्टर के लिए इनकम जेनेरेट करते हैं।
सिक्योरिटी का इशू केवल एक और पहली बार होता है। यहां, सिक्योरिटीज का ट्रेड मल्टीप्ल समय के लिए किया जाता है।
प्राइमरी मार्केट में भौगोलिक उपस्थिति का अभाव है; इसे किसी भी संगठनात्मक सेट-अप के लिए जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता है। इसके विपरीत, एक सेकेंडरी मार्केट में स्टॉक एक्सचेंज  के रूप में एक संगठनात्मक उपस्थिति है।

एक सेकेंडरी मार्केट द्वारा प्रदान किए गए प्लेटफॉर्म में स्टॉक ट्रेडिंग की सुविधा के साथ-साथ सिक्योरिटीज को कैश में परिवर्तित करने में भी सक्षम बनाता है।

एक सेकेंडरी मार्केट में लगातार ट्रेडिंग से भी ट्रेडेड एसेट की लिक्विडिटी बढ़ती है।

इस प्रकार इन्वेस्टर को पर्याप्त पूँजी निर्माण के लिए सेकेंडरी मार्केट में उपलब्ध वित्तीय साधन में निवेश करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है।

वोलेटाइल मार्केट के परिदृश्य में इन्वेस्टमेंट का अधिकतम लाभ उठाने के लिए फंड मैनेजर की सहायता लेना उचित होता  है।


निष्कर्ष

उम्मीद है आपको सेकेंडरी मार्केट से रिलेटेड सभी क्वेरी का जवाब मिल गया है। स्टॉक मार्केट के ऐसे ही अन्य लेख के लिए हमारे पेज के साथ जुड़े रहिये।

अगर आप भी शेयर मार्केट में ट्रेडिंग शुरू करना चाहते है तो आपको केवल यहाँ नाम और मोबाइल नंबर दर्ज करना होगा।

इसके बाद हमारी टीम की तरफ से आपको तुरंत ही कॉलबैक प्राप्त होगी। जो आपको डीमैट अकाउंट से लेकर ट्रेडिंग करने में सहायता करेगी।

नीचे दिए फॉर्म में नाम और नंबर एंटर करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

five × four =