ऑप्शन क्यों उपयोग करते हैं?

हर निवेशक कम जोखिम के साथ अधिक रिटर्न चाहता है। लेकिन, शेयर बाजार में कई निवेशक यह भी मानते है कि अधिक जोखिम का मतलब रिटर्न मिलने की संभावना भी अधिक है।

खैर, ऐसी मान्यता हमेशा भी सही नहीं होती है।

फिर भी, ऑप्शन ट्रेडिंग एक ऐसा सेगमेंट है जो अधिक रिटर्न दे सकता है, यदि आपको ऑप्शन का उपयोग करने आता हो।

जैसा कि आप जानते हैं कि कई निवेशक और ट्रेडर  स्टॉक मार्केट में भाग लेने के लिए ऑप्शन  का उपयोग करते हैं। वे डेरिवेटिव की तुलना में ऑप्शन ट्रेडिंग में जाना पसंद करते हैं।

अब, अहम सवाल यह उठता है कि ज्यादातर निवेशक और ट्रेडर ऑप्शन क्यों उपयोग करते हैं?

इसका जवाब बहुत सरल है, ऑप्शन आपको कम जोखिम के साथ अधिक मुनाफा कमाने का अवसर देते हैं। यह न केवल बाजार के अपट्रेंड में बल्कि बाजार के डाउनट्रेंड में भी रिटर्न देते हैं।

ये भी पढ़ें: ऑप्शन कैसे काम करता है?

इसके अलावा, यदि आपको कॉल और पुट ऑप्शन से संबंधित कोई भी जानकारी चाहिए तो Call and Put Option in Hindi पर क्लिक करें।

ऑप्शन का उपयोग क्यों करें – मुख्य कारण 

यहां हम ऑप्शन के उपयोग के बारे में कुछ महत्वपूर्ण कारकों के ऊपर पर चर्चा करेंगे :

  • 1. ऑप्शन खरीदने या बेचने के लिए अधिकार देते हैं

ऑप्शन सिक्योरिटीज हैं जिनके सख्त नियम और शर्तें हैं। ऑप्शन  आपको अधिकार  देता है, लेकिन आपको निश्चित तिथि से पहले या एक निश्चित मूल्य के साथ एक अंतर्निहित एसेट  खरीदने या बेचने के लिए बाध्य नहीं करता है।

आपकाअधिकार उपयोग की अवधि एक्सपायरी की अंतिम तिथि के बाद समाप्त हो जाता है ।

आइये इसे एक उदाहरण से समझते हैं।

मान लीजिए, आप ₹5 लाख की कार खरीदना चाहते हैं, लेकिन आपके पास अगले 3 महीनों के लिए पैसे नहीं हैं।

इस हालत में, आप क्या करेंगे?

आप कार मालिक को तीन महीने के अंदर कार खरीदने के लिए इंतजार करने के लिए मनाने की कोशिश करेंगे, और इसके लिए आपको ₹ 50,000 की टोकन राशि का भुगतान करना होगा।

इस टोकन राशि के साथ, मालिक आपको बाकी के पैसे प्राप्त करने और सौदे को पूरा करने के लिए 3 महीने तक इंतजार करने के लिए बाध्य होगा।

हालांकि, यह आपकी मर्जी है कि कार को 3 महीने बाद खरीदना है या नहीं (हालांकि, इस मामले में, आप सबसे अधिक संभावना है की आप ऐसा ही करेंगे)।

2. कम  जोखिम के साथ बाजार भागीदारी:

यह समझने के लिए कि ट्रेडर ऑप्शन का उपयोग क्यों करते हैं, आपको यह जानना होगा कि यदि आप कम  जोखिम वाले शेयर बाजार में भाग लेना चाहते हैं, तो आप ऑप्शन का उपयोग कर सकते हैं।

ऑप्शन में बाजार की गतिविधियों के बारे में पर्याप्त समझ की आवश्यकता होती है और यदि आपके पास पर्याप्त विशेषज्ञता है, तो आपके लिए स्टॉक मार्केट में प्रवेश करने के लिए  ऑप्शन सबसे अच्छा टूल है।

यहां, कॉल ऑप्शन और पुट ऑप्शन को खरीदने से आपको ऑप्शन सेलर को न्यूनतम राशि का भुगतान करके निवेश करने की अनुमति देता है जिसे ऑप्शन प्रीमियम कहा जाता है। यदि ऑप्शन एक्सपायरी समाप्त होने तक आपकी बाजार के बारे में आकलन काम नहीं करती है, तो फिर आपको केवल प्रीमियम राशि खोना पड़ेगा।

3. अस्थिरता (VERSATILITY):

ऑप्शन ट्रेडिंग से केवल मार्केट अपट्रेंड में मुनाफा कमाने तक सीमित नहीं है। बल्कि, यहां आप बाजार के दोनों ट्रेंड से लाभ अर्जित कर सकते हैं, चाहे वह ऊपर या नीचे जाए। ऑप्शन की अस्थिरता (versatility) के कारण, आप बाजार नीचे जाने या में एकतरफा जाने पर भी लाभ बना सकते हैं।

यदि आप एक ऑप्शन सेटलमेंट करते हैं, तो आप एक खरीदार या विक्रेता होंगे। यदि आप कॉल ऑप्शन के धारक हैं तो आपको खरीदने का अधिकार होगा।

और यदि आप पुट ऑप्शन के धारक हैं, तो आप खरीदने या बेचने के लिए बाध्य हैं।

खरीदार के दृष्टिकोण से ऑप्शन का उपयोग करने के दो मुख्य कारण हैं।

1. मार्केट मूवमेंट पर आकलन (अटकलें):

ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट खरीदने का मतलब है कि आप मार्केट मूवमेंट पर दावं लगा रहे हैं। इसके लिए आपको वित्तीय बाजार के बारे में अधिक से अधिक जानकारी की आवश्यकता होती है, तभी आप सफल होने की उच्च संभावना के साथ दांव लगा सकते हैं।

ऑप्शन  ट्रेडिंग में सफलता पाने के लिए आपको पता होना चाहिए कि मार्केट किस दिशा में जा रहा है। इतना ही नहीं इसके  लिए मूल्य परिवर्तन और समय सीमा के बारे में भी सही जानकारी होनी चाहिए।

यदि आप एक ऑप्शन  खरीद रहे हैं तो इसका मतलब है कि आपको लीवरेज का उपयोग करने की अनुमति है।

लीवरेज आपको ₹500 के शेयर पर ₹10 रूपये का न्यूनतम भुगतान करने की अनुमति देता है। इसका मतलब है कि लीवरेज आपको न्यूनतम निवेश के साथ बड़ी मात्रा में लाभ कमाने की पेशकश करता है।

2. शेयरों के लिए बीमा पॉलिसी (हेजिंग):

जैसे हम अपने जीवन, घर, कार, निवेश  आदि के लिए बीमा पॉलिसी लेते हैं, वैसे ही ऑप्शन शेयरों के लिए बीमा पॉलिसी है।

शेयरों के लिए बीमा की इस रणनीति को हेजिंग कहते है ।

यदि आप एक कॉल ऑप्शन  खरीदते हैं और अपने नुकसान को सीमित करना चाहते हैं तो यह रणनीति आपके लिए उपयोगी हो सकती है।

हेजिंग आपको कम लागत के साथ अपने नुकसान को सीमित करने में मदद करेगा, जबकि आप अधिकतम लाभ कमा सकते हैं।

4. कंपनी  कर्मचारियों को आकर्षित करना:

ऑप्शन केवल बाजार के स्मार्ट निवेशकों  के बीच लोकप्रिय नहीं है। लेकिन, यह अपने कर्मचारियों को इनाम देने वह नुकसान की भरपाई करने वाली  कंपनियों में से एक है। कई कंपनियां अपने कर्मचारियों को ऑप्शन प्रदान करती हैं। वे मुख्य रूप से कॉल ऑप्शन  प्रदान करते हैं।

दरअसल, एक कॉल ऑप्शन  अपने कर्मचारियों को एक निर्धारित तिथि पर निश्चित मूल्य के साथ स्टॉक खरीदने का अधिकार देता है। यह ऑप्शन नियमित ऑप्शन के समान है क्योंकि दोनों ऑप्शन धारक के पास अधिकार है लेकिन खरीदने की बाध्यता नहीं है।

कंपनी द्वारा प्रस्तावित ऑप्शन नियोक्ता और कर्मचारियों के बीच का कॉन्ट्रैक्ट होता है। जबकि एक सामान्य ऑप्शन दो पक्षों के बीच का एक कॉन्ट्रैक्ट है जो एक दूसरे के लिए पूरी तरह से अपरिचित होता  हैं।


निष्कर्ष

यहाँ एक त्वरित सारांश है कि आपके ट्रेड में ऑप्शन का उपयोग करने और निरंतर लाभ प्राप्त कमाने के सर्वोत्तम तरीके हैं:

  • ऑप्शन आपको एक निर्धारित अवधि के तहत एक निश्चित मूल्य पर एक अंतर्निहित एसेट खरीदने या बेचने का अधिकार देते हैं।
  • निवेशक के पोर्टफोलियो और स्टॉक मार्केट जोखिम कम करने में मदद करता है।
  • ऑप्शन कम जोखिम के साथ अधिकतम लाभ कमाने में मदद करते हैं।
  • यह शेयर में बीमा पॉलिसी की तरह है।
  • यह न केवल बाजार के अपट्रेंड में काम करता है, बल्कि डाउनट्रेंड और एक तरफा बाजार की स्थिति में भी काम करता है।
  • कंपनी के नियोक्ता अपने कर्मचारियों को भी आकर्षित करने के लिए ऑप्शन का उपयोग करते हैं।

यदि आप सामान्य रूप से स्टॉक या स्टॉक मार्केट निवेश में निवेश करना चाह रहे हैं, तो अगले चरण को आगे बढ़ाने में हमारी सहायता करें।

बस नीचे दिए गए फॉर्म में कुछ बुनियादी विवरण भरें और आपके लिए एक कॉलबैक की व्यवस्था की जाएगी:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

four × 3 =