जेरोधा स्ट्रीक

अन्य ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म के बारे में

जेरोधा स्ट्रीक एक प्रमुख उदाहरण है जो देखता है कि कैसे टेक्नोलॉजी का उपयोग करके एक ट्रेडर के जीवन को बहुत आसान बना सकते हैं। 

टेक्नोलॉजी का उपयोग विभिन्न इंडस्ट्रीज और क्षेत्रों में एक ऐसे मैकेनिज्म के रूप में किया जाता है जो यूजर के काम को आसानी से करने की सुविधा प्रदान करता है। 

जहां तक ट्रेडिंग का संबंध है, विभिन्न स्टॉकब्रोकर अपने ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म, ग्राहक सहायता, रिसर्च क्वालिटी और अन्य संबंधित पहलुओं को बेहतर बनाने में टेक्नोलॉजी का उपयोग कर रहे हैं।

जेरोधा, जो की भारत में एक प्रमुख डिस्काउंट स्टॉक ब्रोकर है जिसने कि एल्गो-ट्रेडिंग आधारित फिनटेक कंपनी “स्ट्रीक” में 2.25 करोड़ की राशि का निवेश किया है।

यह निवेश डिस्काउंट ब्रोकर से निवेश इनक्यूबेटर, रेनमैटर के माध्यम से किया जाता है। अब, हम जानते हैं कि जेरोधा भारत के उन स्टॉकब्रोकरों में से एक है जो तकनीक पर पूरा ध्यान केंद्रित रखता है और इसे हम जेरोधा पी.आयी और, जेरोधा काईट  जैसे कुछ उच्च-प्रदर्शन वाले ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म के माध्यम से देख सकते है। 

इसी समय, यह छोटे स्टार्टअप्स के साथ हाथ मिलाता है जो फिनटेक प्रोडक्ट्स  पर काम करते हैं जैसे जेरोधा  स्मॉलकेस और स्ट्रीक।  

हालाँकि, इसका उपयोग करने के लिए, आपको जेरोधा के साथ एक डीमैट खाता खोलना होगा। आप Zerodha Mein Account Kaise Khole लेख को पढ़कर अकाउंट खुलवाने संबंधी जानकारी ले सकते हैं। 

जेरोधा स्ट्रीक रिव्यु 

यहाँ हम जेरोधा स्ट्रीक का रिव्यु करेंगे और जानेगे की कैसे उसको ट्रेडिंग के लिए इस्तेमाल कर सकते है।  ज़ेरोदा स्ट्रीक एक क्लाउड-आधारित सेमि आटोमेटिक एल्गो-ट्रेडिंग प्लेटफ़ॉर्म है जो डिस्काउंट ब्रोकर के अन्य प्रमुख ट्रेडिंग प्लेटफार्मों के साथ जुड़ा हुआ है।

यह एक वेब-आधारित एप्लीकेशन है, इस प्रकार आपको ज़ेरोदा स्ट्रीक का उपयोग करने के लिए किसी भी सॉफ़्टवेयर को डाउनलोड या इंस्टॉल करने की आवश्यकता नहीं है।

आप इसे किसी भी ब्राउज़र जैसे कि मोज़िला, क्रोम, सफारी या इंटरनेट एक्सप्लोरर के माध्यम से एक्सेस कर सकते हैं। इसके अलावा, यह प्लेटफ़ॉर्म आपको केवल नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) पर सूचीबद्ध शेयरों पर ट्रेड करने की अनुमति देता है।

इसको आसानी से समझने के लिए एक उदाहरण लेते है। 

मान लीजिये कि विजय एक इंट्रा-डे ट्रेडर हैं और उन्होंने हाल ही में शेयर मार्केट में बिज़नेस शुरू किया है। लगातार लाभ कमाने के लिए, उसे ट्रेडिंग सत्रों के अधिकांश भाग के लिए टर्मिनल स्क्रीन से चिपके रहना पड़ता है।

अब, यह शुरुआत में मज़ेदार हुआ करता था, लेकिन अब समय के साथ, यह थोड़ा उबाऊ होने लगता है और थकावट हो जाती है, जिससे विजय की हिट दर उनके ट्रेडों में प्रभावित होने लगती है।

इसके अलावा, ऐसे उदाहरण भी हैं, जहां वह दिमाग से सोचने के बजाये दिल से सोचने लगता  है। 

एक तरीका यह है कि वह कोड करना सीखता है और उसे सुपर-कूल एल्गोरिदम तक भी पहुंच मिलती है जो उसे पूरी तरह से उद्देश्य को सामने को रखते हुए अपने ट्रेडिंग निर्णयों को तेज करने में मदद कर सकता है। अब, यह विजय सहित अधिकांश ट्रेडर्स के लिए इम्प्रेक्टीकल के रूप में कहा जा सकता है।

यह वह स्टेज है जहाँ ज़ेरोदा स्ट्रीक जैसे टूल्स काम में आते हैं जिनके लिए आपको किसी भी तरह की कोडिंग करने की आवश्यकता नहीं होती है या आपके पास किसी भी ट्रेडिंग अल्गोरिथम का ज्ञान होना चाहिये। 

ज़ेरोदा स्ट्रीक के साथ, आपको बस अपनी पसंद के आधार पर अपनी रणनीति को इनपुट करने की आवश्यकता है।

इन ट्रेडिंग टूल्स के उपयोग के लिए मूल रूप से आपको 3 चरणों का पालन करना होगा, जिनमें शामिल हैं:

क्रिएट 

बैकटेस्ट 

डेप्लॉय 

दूसरे शब्दों में, विजय या किसी भी ट्रेडर्स को मूल रूप से ट्रेड के बारे में स्पेसिफिक वैल्यूज को इनपुट करने की आवश्यकता होती है, इसके बाद एल्गोरिदम के परिणामों को ऐतिहासिक प्रदर्शन और मार्केट के आंकड़ों के आधार पर  मान्य करना और फिर अगर यह लाभदायक लगता है तो ट्रेड करना है।  


जेरोधा स्ट्रीक कैसे  काम करता है?

जैसा कि ऊपर उल्लेख किया गया है, आपको तीन सरल चरणों का पालन करने की आवश्यकता है। अब, इन 3 चरणों के भीतर, कुछ स्पेसिफिकेशन्स का ध्यान रखना होगा।

यह शुरू करने के लिए, आपको ज़ेरोदा स्ट्रीक के अंदर एक एल्गोरिथ्म बनाने की आवश्यकता है और उसके लिए, आप अपने एंट्री और एग्जिट संकेतों को दर्ज करके किसी भी तकनीकी संकेतक या उपलब्ध व्यापारिक संकेतों का उपयोग कर सकते हैं। यह एक ही समय में कई शेयरों के लिए किया जा सकता है।

जब आप इनपुट प्रदान कर रहे हैं, तो आपको अपनी ट्रेडिंग प्राथमिकताओं के आधार पर 1 मिनट, 5 मिनट, 1 घंटा, 1 दिन आदि की सीमा में अंतराल जैसे पहलुओं का चयन करने की आवश्यकता होती है।

इसी समय, आपको टारगेट प्राइस और स्टॉप-लॉस का प्रतिशत भी दर्ज करना होगा।

याद रखें, कोई वैल्यू रुपयों में लगाने की जरूरत नहीं है यहाँ पर और सिर्फ प्रतिशत ही काम करेंगे।

एक बार जब यह आप बना लेते हैं, तो आप परिणाम देख कर टेस्ट कर सकते हैं और अपने अपेक्षित रिटर्न को पूरा करने के लिए कुछ प्रमुख मैट्रिक्स को एडिट  करके परिणामों को आगे पीछे कर सकते हैं।

हालाँकि, सुनिश्चित करें कि आप मैट्रिक्स के साथ जो भी एडिटिंग करते हैं जैसे कि स्टॉप-लॉस प्रतिशत, टारगेट प्रॉफिट, कैंडल इंटरवल आदि, यहाँ आपको देखना होगा की आप चुने हुए शेयरों के नंबरों के साथ रहे।

नहीं तो यह यह केवल ज़ेरोदा स्ट्रीक के उपयोग करने के उद्देश्य को मार देगा।

बैक टेस्टिंग के परिणाम आपको अधिकतम लाभ, अधिकतम हानि, किसी ट्रेड को जीतने के प्रति औसत लाभ, खोए हुए ट्रेड की औसत हानि, अधिकतम गिरावट आदि के बारे में जानकारी प्रदान करते हैं।

जब आपके सामने ये परिणाम होते, तब आप वास्तव में अपनी तरफ से कोई भी पूंजी डालने के बिना ट्रेडिंग रणनीति के प्रदर्शन का अनुमान लगा सकते हैं। यह सब आपको अपनी रणनीति से जुड़े लाभ और जोखिमों के बारे में जानकारी देता है।

अंत में,आप परीक्षण के बाद आप एल्गोरिथ्म को इंट्राडे या ओवरनाइट ऑर्डर स्तरों पर तैनात कर सकते हैं। हालाँकि, आप किसी भी मार्जिन का उपयोग नहीं कर सकते हैं जब आप इस एल्गो का उपयोग करके ऑर्डर करते हैं।

जेरोधा स्ट्रीक यहाँ पर काम आती है और एक ही समय में विभिन्न स्टॉक में हो रहे उतार चढ़ाव की आपके द्वारा बनाये गए एल्गोरिथ्म के आधार पर निगरानी करती है। मानदंड पूरा होने के बाद, आपको अपने ब्राउज़र में एक सूचना प्रदान की जाती है।

यही समय है, जब आप आगे बढ़ सकते हैं और अपना ऑर्डर (खरीद / बिक्री) कर सकते हैं।


जेरोधा स्ट्रीक मोबाइल एप्लिकेशन

यह एल्गो-ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म मोबाइल में भी एंड्रॉइड ऐप (iOS संस्करण को अभी भी लॉन्च करने की आवश्यकता है) के माध्यम से उपलब्ध है। मोबाइल ऐप ठीक उसी तरह से काम करता है, जिस तरह यह अपने वेब-वर्जन के जरिए काम करता है।

यहाँ आप देख सकते है की जेरोधा स्ट्रीक मोबाइल ऐप कैसा दिखता है:

इसी समय, यहाँ कुछ इस मोबाइल ऐप की कुछ बातों ध्यान देने की जरूरत हैं जैसे की:

  • इस ऐप की कुछ विशेषताओं में सुधार किया जा सकता है। उदाहरण के लिए, यहाँ डिलीट ऑल विकल्प नहीं है यदि उपयोगकर्ता द्वारा एक ही बार में सभी बनाये गए अल्गोस को हटाने की आवश्यकता हो।
  • कुछ लॉगिन संबंधित समस्याएं है जैसे टूटी हुई डैशबोर्ड स्क्रीन और धीमी गति से लोडिंग आदि।
  • कभी कभार धीमी इंटरनेट कनेक्टिविटी और ज्यादा ट्रैफिक होने की वजह से बैक-टेस्टिंग काम करना बंद कर सकता है।

आईये देखते है की गूगल प्ले स्टोर पर इस ऐप को कैसे रेट किया गया है:

Number of Installs 10,000+
Mobile App Size 6.5 MB
Negative Ratings Percentage 7.5%
Overall Review
Update Frequency 4-6 Weeks

 


जेरोधा स्ट्रीक का मूल्य  

इस एल्गो ट्रेडिंग टूल का मूल्य अलग-अलग सुविधाओं के अनुसार और इसको एक्सेस करने की समय अवधि के साथ आता है।

यह आपको 7 दिनों तक नि: शुल्क चलाने के भी मिलती है। इन 7 दिनों तक आपको कुछ भी भुगतान करने की आवश्यकता नहीं है। यहाँ कुछ विशेषताएं दी गयी  हैं जो आपको इस नि: शुल्क अवधि में उपयोग करने के लिए मिलती हैं:

प्रस्ताव लागत प्रति दिन बैकस्ट की संख्या स्कैन लाइव डिप्लॉयमेंट 
नि: शुल्क परीक्षण – 7 दिन ₹0 20 20 2

 

यदि आप एक शुरुआती स्तर के ट्रेडर हैं, तो आपके लिए एक इसके नि: शुल्क वर्जन को लेना सही रहेगा जिसके साथ आप देख सकेंगे की वास्तव में आप अपने ट्रेडों में कितना पैसा लगाने जा रहे हैं। इसके बाद आपको मिलने वालेरिटर्न के आधार पर, आप इस टूल का उपयोग करना चुन सकते हैं।

इसके अलावा, यदि आप किसी भी योजना को चुनना चाहते हैं, तो यहां वे सुविधाएँ हैं जो आपको एक्सेस करने के लिए मिलती हैं:

इनमें से प्रत्येक योजना निचे दिए गए शुल्क के साथ आती है:

यदि आप कोई भी सदस्यता लेना चुनते हैं, तो इसके लिए लगने वाले शुल्क सीधे आपके ज़ेरोदा ट्रेडिंग खाते से काट लिए जाएंगे।

चूंकि प्लेटफार्म द्वारा 7-दिनों के लिए ट्रायल वर्ज़न प्रदान किया गया है, इसलिए यह सुझाव दिया जाता है कि आप इन दिनों में इस एप्लिकेशन के बारे में विस्तृत जानकारी ले।

इस ट्रायल के साथ, आप यह जान सकेंगे की यह एल्गो-ट्रेडिंग एप्लिकेशन आपकी आवश्यकताओं के अनुसार है या नहीं।

फिर, आपके ट्रेडिंग अनुभव और आपके निवेश के उद्देश्यों आदि के आधार पर, आप यह तय कर सकते हैं कि इस टूल के कौन से वर्ज़न के साथ आपको जाना चाहिए।  

इस प्लेटफॉर्म पर हाल ही में उपलब्ध कराई गई कुछ विशेषताएं निम्नलिखित हैं:

टेक्निकल इंडिकेटर और ट्रेंड्स के आधार पर जरूरत पड़ने पर आप बहार निकल सकते है। 

नये इंडीकेटर्स जोड़े गए है। 

5 एल्गोरिदम को एक सिंगल क्लिक के साथ चला सकते है।   


जेरोधा स्ट्रीक रणनीतियाँ

जेरोधा स्ट्रीक में आपको एक पेज मिलेगा जिसमे आपके ट्रेडों से जुडी सारी रणनीतियाँ सूचीबद्ध होती है।

इनमें से कुछ रणनीतियाँ ’ड्राफ्ट’ की स्थिति में होंगी, जबकि कुछ ऐसी होंगी जो आपके द्वारा अपनायी गई हैं। आपके पास किसी भी रणनीति को न अपनाने की स्थिति में एडिट करने या हटाने का विकल्प भी है।

पर एक बार अपनाने के बाद, एक रणनीति को न तो एडिट किया जा सकता है और न ही हटाया जा सकता है। इस प्रकार, आपको सलाह दी जाती है कि किसी भी रणनीति को लागू करने से पहले अच्छी तरह से सुनिश्चित करें।


जेरोधा स्ट्रीक स्कैनर

आपको जेरोधा स्ट्रीक के भीतर ‘स्कैनर’ नामक एक सर्च टूल उपयोग करने के लिए मिलता है। यह आपको शीर्ष-प्रदर्शन वाले स्टॉक आधारित क्वेरी को फ़िल्टर करने की अनुमति देता है।

सर्च टूल के परिणाम आपके मापदंड को पूरा करेंगे और फिर इक्विटी, कमोडिटी, करेंसी में जो भी सर्वोत्तम स्टॉक होगा उसे आगे कार्रवाई करने के लिए आपके सामने प्रदर्शित करेंगे।

स्कैनर फीचर बैकटेसटिंग से थोड़ा आगे है क्योंकि यह न केवल ऐतिहासिक डेटा के माध्यम से चलता है, बल्कि उन विशिष्ट शेयरों के लिए वास्तविक समय की जानकारी भी है जिनके लिए आप पूछताछ करते है। स्कैन किए गए शेयरों की प्रवृत्ति का विश्लेषण करने के लिए आप हाइकेन आशी (Heiken Ashi) और कैंडलस्टिक्स (Candlesticks) का उपयोग कर सकते हैं।


जेरोधा स्ट्रीक सपोर्ट 

ग्राहक की सहायता के लिए यहाँ कॉलिंग सुविधा नहीं है। आप अपनी सवालों को जेरोधा स्ट्रीक टीम को ईमेल कर सकते हैं या आप जेरोधा ग्राहक सेवा के संपर्क में आ सकते हैं।

कॉलिंग सुविधा न होना निश्चित रूप से इन कारणो की वजह से एक कमजोर कड़ी के रूप में सामने आता है कि इच्छुक उपयोगकर्ता अपने कुछ प्रश्नों के हल पाने और समझने के लिए किसी से बात करना चाहते हो।  

लेकिन सहायता के लिए सिर्फ एक ईमेल आईडी होने से कुछ इच्छुक ट्रेडर्स के लिए अच्छा नहीं है।


जेरोधा स्ट्रीक की कुछ कमियां  

यहाँ आपको जेरोधा स्ट्रीक की कुछ कमियों के बारे में पता होना चाहिए ताकि आप अपना निर्णय ले सकें:

  • आप कमोडिटी और करेंसी ट्रेडिंग के लिए जेरोधा स्ट्रीक का उपयोग नहीं कर सकते।  
  • यह एक नया प्लेटफ़ॉर्म है जिसमे सुविधाओं की संख्या सीमित है।
  • (Automated) स्वचालित ट्रेडिंग के लिए प्लेटफार्म को अभी विनियामक (Regulatory) से  अनुमति प्राप्त करने की जरूरत है।  
  • लौ एन्ड (Low end) पर हैवी ट्रेड्स (Heavy trades) के लिए 100 बैक टेस्ट की ही अनुमति मिलती है।  
  • सीमित ग्राहक सहायता मिलती है।  

जेरोधा स्ट्रीक की कुछ ख़ूबियाँ 

इसी समय, इस अलगो-आधारित ट्रेडिंग एप्लीकेशन की कुछ खुबिया हैं जो जेरोधा स्ट्रीक के ग्राहकों को मिलती है:

  • आपको अपने ट्रेडों में इस प्लेटफॉर्म का उपयोग करने के लिए कोई कोडिंग सीखने की आवश्यकता नहीं है।
  • एल्गो-आधारित ट्रेडिंग कैसे काम करती है, इसे समझने की आपको कोई आवश्यकता नहीं है। आपको अपनी ट्रेडिंग प्राथमिकताओं के आधार पर कुछ वैल्यूज को इनपुट करना होगा।
  • शुरुआती स्तर के ट्रेडर्स के लिए उपयुक्त है क्योंकि यह एल्गो-ट्रेडिंग एप्लिकेशन का उपयोग करना बहुत आसान है।
  • आप इस एल्गो-टूल का उपयोग करके एक इंट्राडे या ओवरनाइट कैरी ऑर्डर डाल सकते हैं।
  • कैलकुलेट किए गए परिणाम चुने गए शेयरों के ऐतिहासिक प्रदर्शन पर आधारित हैं।
  • टूल को अलग से सीखने की आवश्यकता नहीं है और इसका उपयोग सीधे जीरोधा काईट के साथ किया जा सकता है।

यदि आप स्टॉक मार्केट ट्रेडिंग या निवेश के साथ शुरुआत करना चाहते हैं, तो आगे के कदम उठाने में हम आपकी सहायता कर सकते हैं:

यहां अपनी जानकारी दर्ज करें और आपके लिए एक कॉलबैक की व्यवस्था की जाएगी!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

12 + 11 =