5 प्रमुख इन्ट्रा-डे ट्रेडिंग टूल्स

इंट्राडे ट्रेडिंट्रे एक चुनौतीपूर्ण क्षेत्र है।

इसमें सिक्युरिटीज़ को इक्स्चेंज के ट्रेडिंग समय में उसी दिन ख़रीदना या बेचना पड़ता है। इसमें प्रतिभूतियों को निवेश करने के इरादे से नहीं ख़रीदा जा सकता, लेकिन पूरे दिन की क़ीमत में होने वाले उतर चढ़ाव के कारण मुनाफ़ा कमाने के उद्देश्य से ख़रीदा जा सकता है।

इसमें ट्रेडिंग करने के लिए आपको मार्केट और मार्केट के ट्रेंड की स्थिरता और धैर्य का सटीक ज्ञान होना आवश्यक है। इंट्राडे ट्रेडर्स जोखिम के उच्चतम स्तर के साथ काम करते हैं और अस्थिर मार्केट स्थितियों में भाग लेते हैं।

एक स्थापित इंट्राडे ट्रेडर के लिए, ये सभी समय के साथ स्वयं आते हैं और वे निर्णय का सोचने और निर्णय लेने में अनुभवी होते हैं; हालांकि, शुरुआती लोगों के लिए, वे अधिकतर एक सूचित और लाभदायक निर्णय लेने के लिए उपलब्ध विभिन्न उपकरणों पर निर्भर रहते हैं।

इंट्राडे ट्रेडिंग नौसीखिए ट्रेडरस के लिए जोखिमों से भरा हुआ होता है, लेकिन अगर वे बाजार के रुझानों और तकनीकी संकेतकों पर सतर्क नजर रखते हैं, तो वे भारी मुनाफा भी कमा सकते हैं। और निस्सन्देह इसमें ट्रेडिंग करने के लिए बहुत मेहनत और अनुशासन की जरूरत होती है।  

हालाँकि, मार्केट में उपलब्ध विभिन्न इंट्राडे ट्रेडिंग तरीक़ों और प्रौद्योगिकियों का उपयोग करके काम को थोड़ा आसान बनाया जा सकता है। और इसमें सही उपकरण का इस्तेमाल करना ट्रेडर की उस दिन की सफलता के लिए बहुत महत्वपूर्ण होता है।

इंट्राडे ट्रेडिंग करने के सबसे अच्छे उपकरण

आगे बढ़ते हुए, इंट्राडे ट्रेडिंग  करने के लिए सबसे महत्वपूर्ण ट्रेडिंग तरीको के बारे में बात करते हैं:

1. ट्रेडिंग सॉफ्टवेयर

इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए मार्केट में कई प्लेटफॉर्म या सॉफ्टवेयर उपलब्ध हैं। इनमें से कुछ इंट्राडे ट्रेडिंग टूल्ज़ टीटी (ट्रेडिंग टेक्नोलॉजीज) ट्रेडिंग प्लेटफार्म, शेयरखान ट्रेड टाइगर, एंजेल ब्रोकिंग स्पीड प्रो, ज़ेरोधा काइट ट्रेडिंग प्लेटफार्म आदि हैं।

ये प्लेटफ़ॉर्म ट्रेडिंग की क़ीमतों के बारे में बहुत अच्छी और सही जानकारी प्रदान करते है, जैसे बोली लगाना – प्रस्ताव देने की सीमा और आपको मार्केट में चल रही क़ीमतों के द्वारा मार्केट की सही तस्वीर देने के लिए सीढ़ि जैसा काम करती है।

कुछ ट्रेडिंग प्लेटफ़ार्म ट्रेड्रस के लिए एक उनकी जोखिम लेने की क्षमता, नेट वर्थ, निवेश के उद्देश्य इत्यादि के आधार पर व्यक्तिगत जोखिम प्रोफ़ाइल बनाते है, जिससे मौलिक और तकनीकी विश्लेषण के आधार पर संकेत प्राप्त करते हैं और फिर इन्ही संकेतों के आधार पर ट्रेडिंग का पालन करते हैं।  

एक ट्रेडिंग प्लेटफ़ार्म मूल रूप से जो वस्तिविक समय के अनुसार आँकड़े प्रदान करता है, जैसे ऑर्डर निष्पादन की गति, ट्रेडिंग करने के लिए रणनीतिया बनाना, लचीलापन, शुल्क स्थापित करना आदि और साथ ही साथ BSE और NSE पर दैनिक मात्रा और मूल्य का विवरण प्रदान करना चाहिए।

Intraday Trading Tools Hindi

कई इंट्राडे ट्रेडरस ट्रेडिंग करने का निर्णय लेने के लिए विशेष रूप से मूल्य क्रिया पर भरोसा करते हैं, जो उन्हें सिक्युरिटीज़ के मूल्यों की गति बताते है और यही ट्रेडिंग प्लेटफ़ार्म उन्हें ट्रेडिंग के लिए निर्णय लेने और मूल्यों की गति दर्शाता है। जिससे ट्रेड्रस को एक महत्वपूर्ण निर्णय लेने के लिए मदद मिलती है। और साथ ही साथ ये उपयोगकर्ताओं की विविधातो को पूरा करने के लिए विभिन्न भाषाओं मे भी उपलब्ध है।


2. चार्टस

चार्टों का उपयोग इंट्राडे ट्रेडरस द्वारा मार्केट की गति को समझने के लिए किया जाता है और ये इंट्राडे ट्रेडिंग के सबसे अच्छे तरीक़ों में से एक साबित हुआ हैं। चार्ट मूल्यों की गति के साथ साथ कुछ ऐतिहासिक आँकड़े प्रदान करके भी हमारी तकनीकी विश्लेषण में सहायता करते हैं।

चार्टस को आप अपने अनुसार किसी विशेष समय सीमा को दिखाने के लिए समायोजित कर सकते है। जिसमें आप ट्रेडिंग के लिए निवेश करना चाहते है जैसे 15 मिनट, 5 मिनट, एक पूरा दिन या कोई और नीश्चित अवधि।

चार्टस को कुशलता से पढ़ने की क्षमता एक दिन के ट्रेडर के लिए बहुत मुनाफा कमाने और सफल होने के लिए एक बहुत ही महत्वपूर्ण साधन है। इसमें बहुत सख्त होने में बहुत अभ्यास होता है। सबसे महत्वपूर्ण पहलू अध्ययन करना और विश्लेषण करना है कि चार्ट कुछ घटनाओं पर प्रतिक्रिया कैसे करते हैं।

कुछ कंपनिया जैसे रॉयटर्स, ब्लूमबर्ग और एसएंडपी द्वारा रीयल-टाइम चार्ट विभिन्न प्रकार के पैटर्न के साथ दिए जाते है।

चार्टस हमें ट्रेड करने के लिए किसी परिभाषित समय अंतराल के अनुसार प्रतिभूतियों के प्रारंभिक, समापन, उच्च और निम्न स्तर के बारे में विस्तृत जानकारी देते हैं। उदाहरण के लिए, 15-मिनट का इंट्राडे चार्ट नीचे दिखाए गए है, जिसमें कैंडलस्टिक समय अवधि के लिए प्रत्येक 15-मिनट के अंतराल पर सिक्युरिटीज़ के प्रारंभिक, समापन, उच्च और निम्न मूल्य को दिखाया गया है।

Intraday Trading Tools Hindi

परिभाषित समय-अवधि चार्ट के अतिरिक्त, इंट्राडे टिक / ट्रेड चार्ट भी होते हैं, जो लाइन चार्ट जैसे होते है और मार्केट के निष्पादन के बाद प्रत्येक ट्रेड का प्रतिनिधित्व करते हैं।  इसमें समय का विचार किए बिना सभी ट्रेडस का प्रतिनिधित्व किया जाता है।

Intraday Trading Tools Hindi

इसलिए, जिस दिन मार्केट में कोई भी ट्रेडिंग नहि होती तो टिक चार्टकी रेखा एकदम सीधी होगी और जिस दिन मार्केट में अत्यधिक ट्रेडिंग होगी उस दिन टिक चार्ट की रेखा लगातार ऊपर और नीचे बढ़ती घटती रहेगी।


3. तकनीकी संकेतक

समुच्च और अधिक उपयोगी विश्लेषण प्राप्त करने के लिए तकनीकी संकेतकों को चार्ट के साथ संयोजन के रूप में उपयोग किया जाता है। ये संकेतक पिछले पैटर्न को देखकर भविष्य की कीमतों, या मूल्य दिशा की भविष्यवाणी करते हैं।

इन तकनीकी संकेतको का उपयोग छोटी अवधि या इंट्राडे ट्रेडस द्वारा मुख्य रूप से किया जाता है क्योंकि वे मौलिक मूलभूत बातें नहीं देखते वे केवल छोटी अवधि के मूल्य की गति का ही विश्लेषण करते हैं।   

इसमें मूल्यों के आँकड़ों के लिए एक सूत्र लागू करके निकाले जाते हैं, इसमें कुछ संकेतक केवल बाज़ार बंद होने के समय की  कीमतों का उपयोग करते हैं, जबकि अन्य में वॉल्यूम(मात्रा) और खुलने की कीमत भी शामिल हो सकती है। ये संकेतक आपको एक अलग दृष्टिकोण प्रदान करते है जैसे प्रतिभूतियों की क़ीमत किस दिशा में जा सकती है और इसका मूल्य कितना बढ़ सकता है आदि।  

ये संकेतक तकनीकी विश्लेषण उपकरण के निष्कर्षों की पुष्टि करने और भविष्य में होने वाली क़ीमतों की गति की भविष्यवाणी करके ट्रेडर को सतर्क करके उनकी मदद कर सकते हैं। अगर दूसरे शब्दों में कहे तो, ये तकनीकी संकेतक किसी भी इंट्राडे ट्रेडर को एक सफल ट्रेडर बनाने के लिए बहुत अच्छा तरीक़ा साबित हो सकते है और  साथ ही साथ इंट्राडे ट्रेडिंग टूल्स (उपकरण) के रूप में भी एक अच्छा आप्शन की तरह काम कर सकते है।

इनमें से कुछ तकनीकी संकेतक निम्नानुसार हैं:

a. मूविंग ऐव्रिजस

यह संकेतक एक निश्चित अवधि के दौरान सिक्युरिटीज़ के औसत (ऐव्रिज) मूल्य की गणना करता है। उधारण के लिए पिछले 10 दिन में मूल्य की मूविंग ऐव्रिज आने वाले १० दिन के ऐव्रिज (औसत) मूल्य के बारे में बता सकता है।

Intraday Trading Tools Hindi

यह मूल्यों की गति में होने वाली अस्थिरता को सुगम बनाने और आपको एक स्पष्ट तस्वीर प्रदान करने में मदद करता है क्योंकि अस्थिर उतार चढ़ाव से किसी भी चीज़ का सही विश्लेषण करना मुश्किल होता है।

इन्हें ओवरले कहा जाता है क्योंकि ये मूल्य की गति को ओवरलैप करते हैं।

b. बोलिंगर बैंड

बोलिंगर बैंड भी ओवरले होते हैं, क्योंकि ये भी मूल्य की गति के पीछे ही चलते हैं। ये ऐसे अस्थिर बैंड होते हैं जो मूविंग ऐव्रिज के आस पास या ऊपर और नीचे रखे जाते है। क्यूँकि जब अस्थिरता बढ़ती है तो बैंड बड़े हो जाते है लेकिन वही अगर  कम हो जाती है तो बैंड छोटे हो जाते हैं।

Intraday Trading Tools Hindi

बोलिंगर बैंड में एक मध्यम बैंड भी होता है जो एक आसान और सामान्य उपकरण का बैंड होता है, जिसमें ऊपरी बैंड और निचला बैंड भी होता है जो स्टैंडर्ड डीवीएशन (Standard Deviation) होते हैं।

c. ऑन बैलेंस वॉल्यूम

यह एक वॉल्यूम सूचक है जो खरीद और बिक्री के दबाव को निर्धारित करने के लिए मात्रा और मूल्य को जोड़ता है। यह संकेतक निर्धारित करता है कि एक ट्रेंड कितना  मजबूत है।

Intraday Trading Tools Hindi

d. रिटेलिव स्ट्रेंथ इंडेक्स (RSI)

RSI एक गतिमात्रा संकेतक है और यह ऊपरी और निचले सीमाओं के बीच, ऊपर और नीचे बढ़ता है, क्योंकि यह ऑसीलेटर की श्रेणी के अंतर्गत आता है। यह कीमतों की गति और गति मैं परिवर्तन को मापने के लिए ताज़ा लाभ और हानियों की तुलना करता है और इस प्रकार, ओवरबॉट और ओवरलोड की स्थितियों की पहचान करता है।

Intraday Trading Tools Hindi

हालांकि, अचानक बड़ी कीमतों के चलते RSI पर झूठे सिग्नल हो सकते हैं, इसलिए आमतौर पर इसका इस्तेमाल अन्य तकनीकी संकेतकों के साथ किया जाना चाहिए।

e. गिरने – बढ़ने की लाइन

यह एक इंडिकेटर है जो व्यापारी भावनाओं पर काम करता है। यह नेट एडवांस पर आधारित है, जिसका मतलब है कि बढ़ते शेयरों की संख्या में गिरावट वाले शेयरों की संख्या घटना है।

Intraday Trading Tools Hindi


4. लाइव समाचार फीड

इंट्राडे ट्रेडिंग में सबसे महत्वपूर्ण कारक छोटे समय का ट्रेड और उसका तत्काल प्रभाव है जो सिक्युरिटीज़ के मूल्य की चाल पर बाजार द्वारा लाया जाता है।

अवसर को पकड़ने और उपयोग करने के लिए, इंट्राडे व्यापारियों को ब्रेकिंग न्यूज़ के साथ रहना पड़ता है और इस समाचार को वास्तविक समय मैं प्राप्त करना होता है ताकि वे सिक्युरिटीज़ की कीमतों पर समाचार के प्रभाव की भविष्यवाणी या गणना कर सकें और तदनुसार कार्रवाई या स्थिति ले सकें।

ट्रेडर जो सही समय पर सही ब्रेकिंग खबरों को पाता और समझता है, उसका हाथ ऊपर होता है। समाचार का उपयोग सीधे किया जा सकता है, या उनका उपयोग उत्प्रेरक (Catalyst) को समझने के लिए किया जा सकता है जो समाचार उत्पन्न करता है और अन्य सिक्युरिटीज़ और उनकी गति को भी प्रभावित कर सकता है।

उदाहरण के लिए, जब एक स्टॉक मूल्य अचानक बढ़ जाता है, तो इंट्राडे ट्रेडर लाइव न्यूज़ फीड की खोज करता है और ICICI डायरेक्ट के बारे में कोई खबर पाता है। अब यह समाचार संबंधित तकनीक या अन्य कंपनियों के शेयरों में अन्य मूल्य की गति के कारण उत्प्रेरक होने के साथ-साथ ICICI डायरेक्ट के शेयर की कीमतों में भी वृद्धि को प्रभावित कर सकता है।

कई बार, ये ब्रेकिंग न्यूज अफवाहें या अटकलों के रूप में भी सामने आती है, हालांकि, वे अभी भी बाजार को प्रभावित कर सकते हैं। इसलिए, यह अक्सर कहा जाता है, अफवाह पे खरीदो, खबर पर बेचो! यह ध्यान में रखा जाना चाहिए कि अटकलें जो बाजार को बढ़ाती हैं, कुछ समय बाद बाजार को नीचे लाएगी जब अफवाह बनी रहती है या झूठी या नकली होने की पुष्टि हो जाती है।

ब्रेकिंग न्यूज ज्यादातर गति पर व्यापार करके काम करती है।

इसलिए, लाइव न्यूज फीड उन असाधारण इंट्राडे ट्रेडिंग टूल में से एक है जो दिन के व्यापारियों द्वारा निर्णय लेने में मदद करता है। ऐसे कई मोबाइल एप्लिकेशन भी हैं जो व्यापारियों को सूचित रहने में मदद करने के लिए रीयल-टाइम ब्रेकिंग न्यूज प्रदान करते हैं। उनमें से कुछ हैं, Yahoo Finance और Investor।

दिलचस्प बात यह है कि कुछ समाचार फ़ीड प्रदाता हैं जो विशिष्ट उत्पादों और वस्तुओं के बारे में समाचार और रीयल-टाइम तथ्य तोड़ने में विशेषज्ञ हैं। उदाहरण के लिए, प्लेट्स तेल, ऊर्जा और धातुओं पर सभी संभावित जानकारी और नवीनतम लाइव न्यूज फ़ीड प्रदान करता है


5. लाइव रेडियो फीड

तेजी से और वास्तविक समय के समाचार डे ट्रेडर को प्रदान करने का एक अन्य टूल लाइव रेडियो फ़ीड है। यह ब्रेकिंग न्यूज़ की तुलना में तेज़ी से काम करता है और व्यापारियों को तेजी से प्रतिक्रिया करने में मदद करता है और वैश्विक, कॉर्पोरेट और शेयर बाजार से संबंधित घटनाओं के आधार पर अधिक निर्णय लेने मैं मदद करता  है।

लाइव रेडियो फीड को सभी कार्य दिवसों पर दिन में 24 घंटे प्रसारित किया जाता है और इसमें इक्विटी, कमोडिटीज, निश्चित आय और विदेशी मुद्रा जैसे सभी प्रमुख संपत्ति वर्गों के बारे में खबरें शामिल होती हैं।

रेडियो फीड एक विश्लेषक के रूप में कार्य करती है जिसमें वेबसाइटों, टीवी चैनलों, ब्लॉगों और सोशल मीडिया से समाचार फ़ीड एकत्रित, विश्लेषण और प्रस्तुत किये  जाते है, जो व्यापारियों को शीघ्र खरीद / बिक्री निर्णय लेने में सक्षम बनाता है, और शीघ्रता ही इंट्राडे ट्रेडिंग में ट्रेड की चालाकी है!

भारत में ऐसी एक ऐसी रेडियो सेवा LKP सिक्योरिटीज द्वारा संचालित की जाती है और इसे LKP 194.8 कहा जाता है। यह एक वास्तविक समय मैं बाजार मैं चलती रेडियो है, जो प्रतिभागियों को समाचार सुनने और तेजी से कार्य करने में मदद करता है।

यह विभिन्न स्टॉक, RBI मौद्रिक नीतियों, बड़े कॉर्पोरेट प्रेस सम्मेलनों, सभी सरकारी समाचार, BSE और NSE पर सूचीबद्ध कंपनियों की कमाई, फार्मा और ऑटो जैसी विशिष्ट श्रेणी स्टॉक की जानकारी, और सभी वैश्विक, वस्तुओं और कच्चे डेटा पर 24 घंटे का प्रसारण प्रदान करता है।

इस प्रकार, जैसा कि चर्चा की गई है, व्यापारिक उपकरण इंट्राडे व्यापारियों को सभी पहलुओं में फैक्टरिंग के बाद, एक शीघ्र निष्कर्ष तक पहुंचने और विश्लेषण करने के लिए इसका विश्लेषण करने के बाद, शीघ्र , सूचित और लाभदायक निर्णय लेने में मदद करने में एक बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, कैसे, कब और दिन के भीतर कितना व्यापार करना है।

यदि आप इंट्राडे ट्रेडिंग करने की सोच रहे हैं लेकिन यह नहीं पता कि कौन सा स्टॉक ब्रोकर आपके लिए सबसे अच्छा है, तो बस नीचे अपना विवरण भरें।

स्टॉक ब्रोकर का सुझाव

Summary
Review Date
Reviewed Item
5 प्रमुख इन्ट्रा-डे ट्रेडिंग टूल्स
Author Rating
51star1star1star1star1star

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

three × 1 =