Intraday Trading Strategies in Hindi 

इंट्राडे ट्रेडिंग के अन्य लेख

एक इंट्राडे ट्रेडर के लिए सबसे जरुरी है की उसे सबसे अच्छा इंट्रा डे रणनीति के बारे में पता होना चाहिए। आज इस लेख में जाने best intraday trading strategies in hindi.

इंट्राडे ट्रेडिंग रणनीति में मध्यम से उच्च स्तर की रणनीति शामिल होती है जैसे इंट्राडे चार्ट्स, ट्रेडिंग इंडिकेटर, कैंडलस्टिक्स पैटर्न, इंट्राडे ट्रेडिंग ट्रिक्स कैसे एक साथ काम करता है।

यदि आप एक बिगिनर है तो स्टॉक मार्केट के बेसिक्स कॉन्सेप्ट सबसे पहले समझना चाहिए। बिना कोई रणनीति के ट्रेडिंग करना जोखिमों से भरा है।

इससे पहले की सबसे अच्छा इंट्रा डे रणनीति के बारे में बात करे, उससे पहले इंट्राडे ट्रेडिंग क्या है उसे जानते है।

इंट्राडे ट्रेडिंग में मुख्य रूप से शॉर्ट-टर्म में प्रॉफिट कमाना होता है जैसे एक दिन के ट्रेडिंग सेशन में ट्रेड करके शेयर खरीद बेच सकते है। 

विभिन्न ट्रेडर अपने विवेक से सबसे अच्छा इंट्रा डे रणनीति को इस्तेमाल करने की कोशिश करते है लेकिन इसके साथ कई मिथक और विश्वास जुड़े हैं।

कुछ लोग मानते हैं कि यह कम समय में अमीर होने का एक तरीका है, जो की पूरी तरह से सत्य नहीं है, जबकि अन्य मानते हैं कि लंबी अवधि में इंट्राडे ट्रेडिंग से मुनाफा कमाया जाना असंभव है, जो कि हमेशा सत्य नहीं होता है।  एक सफल ट्रेडर बनने के लिए आपको कुछ तय इंट्राडे नियम (Intraday Trading Rules in Hindi) के साथ बना रहना चाहिए।  

साथ ही, बहुत से ट्रेडर ने विभिन्न प्रकार के इंट्राडे ट्रेडिंग टूल्स को फॉलो करने पर जोर दिया, जो कि खराब सोच नहीं है।

हालांकि, आपको उन टूल्स का उपयोग शुरू करने से पहले विशिष्ट उद्देश्यों और संबंधित रणनीतियों को फॉलो करने की आवश्यकता है।


इंट्राडे ट्रेडिंग रणनीतियाँ

इंट्राडे ट्रेडिंग एक संतुलन का खेल है।

इंट्राडे ट्रेडिंग में सफल होने के लिए बहुत ज्यादा समर्पण, धैर्य और व्यापक ज्ञान की आवश्यकता है। एक सफल इंट्राडे ट्रेडिंग में 90% धैर्य और 10% निष्पादन यानी अमल में लाने का कार्य शामिल है।

ये भी पढ़े: Intraday Trading Tips in Hindi

जी हाँ, एक ट्रेडर बहुत ही कम समय में अच्छा प्रॉफिट कमा सकता है, यदि वह सबसे अच्छा इंट्रा डे रणनीति को अपनाता है। और अगर एक ट्रेडर निरंतर सही रणनीतियों के साथ बना रहता है तो लॉन्ग-टर्म तक प्रॉफिट को बनाए रख सकता है।

डे ट्रेडिंग में एक्सपर्ट होने के लिए और स्किल्स को बेहतर करने के लिए पर्याप्त समय की आवश्यकता होती है।

सैद्धांतिक रूप से, सबसे अच्छा इंट्रा डे रणनीति की एक लंबी सूची है

हालांकि, डे-ट्रेडिंग में सबसे अच्छा इंट्रा डे रणनीति की सफलता या विफलता पूरी तरह से बाजार पर निर्भर करती है।

अगर कोई एक विशेष रणनीति आज के बाजार की स्थितियों में काम करती है तो जरुरी नहीं की वह कल के बाजार की स्थितियों में भी  प्रभावी हो। 

एक इंट्राडे ट्रेडर को अपने रणनीति को लेकर बहुत लचीला और अनुकूल होना चाहिए। उसे किसी भी समय अपने रणनीतियों में बदलाव और बाजार के अनुरूप खुद को ढालने के लिए तैयार रहना चाहिए 

साथ ही, अपने इंट्राडे ट्रेडिंग स्ट्रेटेजीज (intraday trading strategies in hindi) का अभ्यास और कौशल पर काम करने की जरूरत है और लगातार नए परिदृश्यों में बदलाव करने और तदनुसार रणनीतियों को बनाने की आवश्यकता है।

वास्तव में, डे-ट्रेडिंग में सबसे अच्छा इंट्रा डे रणनीति का उपयोग दिन के अलग-अलग समय में भिन्न हो सकता है। यह इस पर निर्भर करता है कि बाजार कैसा व्यवहार कर रहा है और इसमें कैसे डील किया जाए।

इंट्राडे ट्रेडर को अप्रत्याशित परिस्थितियों का सामना करने और चुनौतियों को स्वीकार करने के लिए तैयार होना चाहिए।

सबसे अच्छा इंट्रा डे रणनीति का उपयोग बाजार की स्थितियों पर निर्भर होने के साथ-साथ ट्रेडर्स की व्यक्तिगत ट्रेडिंग शैलियों पर भी निर्भर करती है। इसमें से एक ट्रेडिंग शैली है यह पता होना की इंट्राडे ट्रेडिंग में चार्ज कितना लगता है (Intraday trading me kitna charge lagta hai)|

एक इंट्राडे ट्रेडर को यह जानकारी होना भी जरुरी है कि शेयर कब खरीदे

कुछ ट्रेडर बहुत एक्टिव होते हैं। एक ही दिन में बड़े पोजीशन साइज के साथ कई ट्रेड पूरा कर लेते हैं। वे शेयरों के भाव में होने वाले मामूली बदलाव को भी पकड़ लेते हैं।  

जबकि कुछ ऐसे ट्रेडर भी हैं जो केवल विशेष न्यूज़ या केवल उन रुझानों पर ट्रेडिंग करते हैं जिनके बारे में उन्होंने अच्छी तरह से रिसर्च किया है।

इसलिए, सबसे अच्छा इंट्रा डे रणनीति जो एक बहुत ही एक्टिव ट्रेडर के लिए काम करती है, वह कम एक्टिव ट्रेडर के लिए काम नहीं कर सकती है और इसके विपरीत भी हो सकता है।

ये भी पढ़े: इंट्रा डे ट्रेडिंग फॉर्मूला 


Top 7 Intraday Trading Strategies in Hindi

यहाँ 7 सबसे अच्छा इंट्रा डे रणनीति के बारे में विस्तारपूर्वक चर्चा की गयी है। ये इंट्राडे ट्रेडिंग रणनीति बाजार के सफल ट्रेडर्स द्वारा सफलतापूर्वक उपयोग और कार्यान्वित किया गया है। 

हालाँकि, इन रणनीतियों की सफलता काफी सब्जेक्टिव है।

1. मोमेंटम ट्रेडिंग रणनीति – Momentum Trading Strategy:

इंट्राडे ट्रेडिंग मोमेंटम के ऊपर निर्भर है। यह पूरी तरह से ट्रेंडिंग शेयरों के साथ ट्रेड करने से सम्बंधित है। बाजार में हमेशा कुछ ऐसे स्टॉक अवश्य होते हैं जो हर दिन 20-30% की उतार-चढ़ाव दिखाते हैं।

अब यहाँ एक ट्रेडर को इन शेयरों की पहचान करना होता है, इसके पहले की ऐसे शेयरों में कोई बड़ा उतार-चढ़ाव हो। 

ऐसे स्टॉक खोजने के लिए स्टॉक स्कैनर का उपयोग किया जा सकता है।

इस तरह के संभावित मोमेंटम वाले शेयर हमेशा मूविंग एवरेज के ऊपर होते है और साथ ही कोई करीबी रेजिस्टेंस भी नहीं होता है।  इन हाई मोमेंटम वाले शेयर्स का रिलेटिव वॉल्यूम भी अधिक होता है।

किसी एक शेयर का मोमेंटम फंडामेंटल फैक्टर जैसे अर्निंग (कमाई) के कारण हो सकता है है। लेकिन मोमेंटम को फंडामेंटल बैकअप के बिना भी बनाया जा सकता है और इसे टेक्निकल ब्रेकआउट कहा जाता है।

Intraday Trading Strategies Hindi

इस प्रकार मोमेंटम ट्रेडिंग रणनीति में, ट्रेडर मोमेंटम के साथ स्टॉक पर ध्यान केंद्रित करते हैं, यानी शेयर जो एक दिशा और हाई वॉल्यूम में महत्वपूर्ण रूप से आगे बढ़ रहे हैं।

एक ट्रेडर अपने पोजीशन को रखने के लिए शेयर की चाल की गति और बदलते हुए डायरेक्शन को आधार मान सकता है और उसके आधार पर शेयर को कुछ मिनट्स, घंटो या पूरे दिन के लिए पोजीशन रख सकते है।

मोमेंटम ट्रेडिंग रणनीति ज्यादातर ट्रेडिंग सेशन के शुरूआती घंटे या न्यूज स्पाइक के समय काम करती है जो शेयर में बहुत ज्यादा वॉल्यूम लाती है। और ट्रेडिंग ज्यादातर 2: 1 प्रॉफिट लॉस रेश्यो में किया जाता है।

यह सबसे अच्छा इंट्रा डे रणनीति में से एक है जिसके उपयोग से कम समय पर प्रॉफिट बढ़ा सकते है। इस स्ट्रेटेजी का सही से इस्तेमाल करने के लिए आप रिलेटिव स्ट्रेंथ इंडेक्स (RSI indicator in Hindi) जैसे इंडिकेटर पर निर्भर कर सकते है


2. रिवर्सल ट्रेडिंग रणनीति – Reversal Trading Strategy: 

सबसे अच्छा इंट्रा डे रणनीति में रिवर्सल ट्रेडिंग रणनीति भी बहुत महत्वपूर्ण है।

यह रणनीति सिक्योरिटी को सपोर्ट लेवल के बहुत करीब जाने का मौका देती है। जैसा कि हमेशा कहा जाता है, कम कीमत पर खरीदें और अधिक कीमत पर बचें। 

यह ट्रेडिंग रणनीति सपोर्ट स्तर के बहुत करीब सिक्योरिटी को पोजीशन लेने में मदद करती है और स्टॉप सेट करने का अवसर देती है।

रिवर्सल ट्रेडिंग रणनीति में स्टॉप हमेशा करीब होती है, क्योंकि पोजीशन नजदीकी हाई या लो के करीब लेनी होती है। यह एक अच्छा रिस्क-रिवॉर्ड रेश्यो प्रदान करने में मदद करता है। रिवर्सल इंट्राडे ट्रेडिंग रणनीति बार को कम करती है और सफलता दर को अधिक करती है। 

Intraday Trading Strategies Hindi

रिवर्सल इंट्राडे ट्रेडिंग रणनीति में, ट्रेडर्स उन शेयरों की तलाश करते हैं जो अधिक हाई या लो लेवल पर हैं। इससे उनकेरिवर्सल की संभावना भी प्रबल होती है।

जैसे ही सिक्योरिटी रिवर्स होना शुरू हो जाती है, एक स्टॉप चिह्नित किया जाता है और जब तक संभव हो सके ट्रेडिंग में रहने के लिए ट्रेलिंग स्टॉप का उपयोग किया जाता है।

एक ट्रेडर जो रिवर्सल रणनीति को फॉलो करता है वह इंतज़ार करता है कब सिक्योरिटी रिवर्स (वापस आना) शरू करता  है, जो उसकी मौजूदा लॉन्ग पोजीशन को बंद कर देता है। इससे ट्रेडर शॉर्ट पोजीशन लेकर प्रॉफिट बनाना शुरू करता है। 

इसके अलावा, किसी भी संभावित नुकसान को रोकने के लिए शॉर्ट पोजीशन को बंद कर सकता है और कीमत बढ़ने की स्थिति में लॉन्ग पोजीशन लेकर लाभ उठाने के बारे में सोच सकता है। मार्केट में आने वाले रेवेर्सल को पहचाने के लिए एवरेज डायरेक्शन इंडेक्स (ADX indicator in hindi) का उपयोग कर सकते है जो आपको किसी भी ट्रेंड की घटती हुई स्ट्रेंथ से आने वाले रेवेर्सल की जानकारी देता है।


GAP और GO ट्रेडिंग रणनीति

सबसे अच्छा इंट्रा डे रणनीति में गैप एंड गो (GAP & GO) की एक अहम भुमिका है। 

इंट्राडे ट्रेडिंग रणनीति गैपर्स (Gappers) पर केंद्रित है। गैपर वह सिक्योरिटीज हैं जो चार्ट पर कीमतों के बीच एक अंतर दिखाती हैं- जब कीमत ऊपर या नीचे की ओर बढ़ती है परंतु  कीमत पर कोई ट्रेडिंग ना हुआ हो।

गैप समय से पहले कोई महत्वपूर्ण घोषणा, किसी प्रकार की समाचार विज्ञप्ति या विश्लेषकों के दृष्टिकोण में बदलाव जैसे विभिन्न कारकों द्वारा बनाया जा सकता है।

मांग (Demand) और आपूर्ति (Supply) में अंतर के कारण एक्सचेंज के शुरुआती समय में गैप होते हैं और ये  काफी आम हैं।

अनुभवी इंट्राडे ट्रडर्स द्वारा मुनाफा कमाने के लिए गैप का उपयोग किया जाता है, जो कि समेकन (Equilibrium) बनने के कारण होता है।

ट्रेडिंग के पहले घंटे में गैपर को देखा जा सकता है और एक सीमा (Range) स्थापित की जाती है। रेंज सिग्नल के ऊपर बढ़ते हुए एक खरीद (Buy) और रेंज सिग्नल के नीचे एक बिक्री (Sell) के संकेत मिलता है।

Intraday Trading Strategies Hindi

गैप और गो वाली रणनीति ट्रेडर गैप्स की तलाश करते हैं। अंगूठे के नियम (Thumb’s Rule) के रूप में, ट्रेडर एक मामूली प्रवृत्ति की समान दिशा में पोजीशन लेते हैं।

मामूली प्रवृत्ति के विपरीत दिशा में गैप के लिए, पोजीशन को स्टॉप-लॉस के साथ मामूली ट्रेंड के विपरीत लिया जाता है।

गैप एंड गो इंट्राडे ट्रेडिंग रणनीति की सबसे महत्वपूर्ण विशेषता बहुत कम जोखिम के साथ कम समय में छोटे मुनाफे बनाना है।

Intraday Trading Strategies Hindi


बुल फ्लैग ट्रेडिंग रणनीति

फ्लैग एक पैटर्न है जो शेयर की कीमत में जबरदस्त उतार-चढ़ाव होने पर बनता है, जो फ्लैगपोल के रूप में उभर कर आता है, उसके बाद एक सिस्टेमेटिक और डायग्नोली सिमेट्रिक पुलबैक होता है, जो फ्लैग बनाता है।

जब फ्लैग में रेजिस्टेंस लाइन टूट जाती है, तो यह शेयर की चाल के अगले चरण को आगे बढ़ाती है और सिक्योरिटी आगे बढ़ती है।

बुल फ्लैग से पता लगता है की कीमतों में बहुत ज्यादा वृद्धि हुई है जो अपने शिखर पर पहुंचता है और फिर एक व्यवस्थित व्यवहार में वापस आता है जहां हाई और लो लेवल एक दूसरे के समानांतर होते हैं।

शुरुआत में बुल्स फ्लैग ज़बरदस्त गति से बढ़ते हैं, क्योंकि बुल्स ट्रेंड से बाहर निकलते है और बियर को पीछे छोड़ देते हैं।

Intraday Trading Strategies Hindi

बुल फ्लैग इंट्राडे ट्रेडिंग रणनीति में फ्लैग के निर्माण के लिए बहुत धैर्य रखना होता है, और उसके बाद अपर (Upper) और लोअर (Lower) ट्रेंड लाइन बनती हैं।

फिर ट्रेडिंग में एंट्री करने के लिए दो स्थानों को चिह्नित किया जाता है, एक फ्लैग टूटने पर और दूसरा हाई लेवल के टूटने पर।

इसके अलावा, स्टॉप-लॉस स्तर आमतौर पर अपट्रेंड के नीचे चिह्नित होते हैं।

एक बुल फ्लैग पैटर्न में टारगेट प्राइस को प्राप्त करने के लिए, बोलिंगर बैंड या स्टोकास्टिक ऑसीलेटर जैसे विभिन्न तकनीकी इंडिकेटर का उपयोग किया जाता है।

Intraday Trading Strategies Hindi


पुलबैक ट्रेडिंग रणनीति

पुलबैक एक शब्द है जो लॉन्ग-टर्म की ट्रेंड के विपरीत दिशा में सिक्योरिटीज में शॉर्ट-टर्म मूव का वर्णन करने के लिए प्रयोग किया जाता है। यह सिक्योरिटीज के अनुसरण के बिना ट्रेंड में शामिल होने का मौका देता है।

इंट्राडे ट्रेडिंग की दुनिया में, अक्सर यह कहा जाता है कि ‘रुझान आपका दोस्त है’, जो एक हद्द तक सही भी है।

हालांकि, पुलबैक इंट्राडे ट्रेडिंग रणनीति ट्रेडर्स को ट्रेंड के साथ चलने के दौरान डूबने से बचाने में मदद करती है। सबसे पहले, इसे स्पष्ट रूप से समझा जाना चाहिए कि पुलबैक वास्तव में एक पुलबैक है और एक ट्रेंड का उलटा होना नहीं है।

यह वॉल्यूम को देखकर और अंतिम ट्रेडिंग दिन को देखकर किया जा सकता है।

एक इंट्राडे पुलबैक रणनीति में, सिक्योरिटीज को कम भाव में खरीदा जाता है और उच्च भाव में बेचा जाता है। सिक्योरिटीज जो ऊपर की दिशा में ट्रेंड कर रही हैं, वे नीचे के स्तर के अवसर को वापस खींचेंगे, और नीचे की दिशा में ट्रेंड करने वाली सिक्योरिटीज बेचने के अवसर की पेशकश करेंगी।

Intraday Trading Strategies Hindi

पुलबैक ज्यादातर ट्रेडर्स एक्शन जोन में खरीदे जाते हैं। पुलबैक खरीदने में प्रवेश करने का एक और शानदार अवसर ब्रेकआउट के ठीक बाद है।


ब्रेकाउट ट्रेडिंग रणनीति

ब्रेकाउट मतलब बाजार में प्रवेश करना है जब कीमत किसी विशेष मूल्य सीमा से बाहर हो जाती है, इसका अपना सपोर्ट और रेजिस्टेंस होता है। यह वॉल्यूम में वृद्धि के साथ होता है।

ट्रेडर्स टेक्निकल इंडिकेटर वॉल्यूम वेटेड मूविंग औसत (Volume Weighted Moving Average) का उपयोग ब्रेकआउट को समझने और पहचानने के लिए करते हैं। ब्रेकआउट ट्रेडिंग रणनीति के लिए कीवर्ड तेजी है।

Intraday Trading Strategies Hindi

इसे बहुत तेजी से एंट्री और एग्जिट करने की आवश्यकता है। यह उन तत्काल इंट्राडे ट्रेडिंग रणनीतियों में से एक है जिसमें इंतज़ार करना नहीं पड़ता है। ट्रेडर्स को पता होगा की यह ट्रेडिंग काम करने जा रहा है या नहीं।

ब्रेकआउट इंट्राडे ट्रेडिंग रणनीति के बाद ट्रेडर एक प्राइस लेवल की पहचान करते हैं जो उनका ब्रेकआउट ट्रेडिंग स्तर हो सकता है, ब्रेकआउट की प्रतीक्षा करते है और रेजिस्टेंस स्तर की पहचान करते है और फिर रेजिस्टेंस स्तर से ऊपर टूटने के लिए ब्रेक आउट की प्रतीक्षा करते है।

हालांकि, ब्रेकआउट ट्रेडिंग काफी जोखिम भरी है क्योंकि ट्रेडर्स सिक्योरिटी खरीदते है और ट्रेडर के खरीदने के बाद इसे खरीदने वाला मुश्किल से ही मिलता है।


 एवरेज क्रॉसओवर रणनीति:

एवरेज क्रॉसओवर इंट्राडे ट्रेडिंग रणनीति मूल रूप से प्राइस क्रॉसओवर रणनीति है। इसमें मूविंग एवरेज (moving average in hindi) का उपयोग किया जाता है

जब किसी सिक्योरिटी की कीमत एक मूविंग एवरेज से ऊपर या नीचे जाती है, तो यह दिशा में संभावित परिवर्तन का संकेत देती है।

यह रणनीति सभी प्रकार की भावनाओं को समाप्त करती है। यह स्पष्ट रूप से मोमेंटम में परिवर्तन दिखाता है जब सिक्योरिटी की कीमत मूविंग एवरेज के एक तरफ से दूसरी तरफ पार हो जाती है।

मूविंग एवरेज सिग्नल डाउनट्रेंड के नीचे एक क्रॉसओवर और मूविंग एवरेज से ऊपर एक क्रॉसओवर अपट्रेंड दिखाता है। इसके अलावा एक और प्रकार का क्रॉसओवर होता है जब एक शॉर्ट टर्म की एवरेज लॉन्ग टर्म के एवरेज पार करता है।

Intraday Trading Strategies Hindi

यह संकेत देता है कि एक बड़ा उतार-चढ़ाव आने की संभावना है। जब शॉर्ट टर्म की एवरेज लॉन्ग टर्म की औसत से अधिक हो जाता है, तो एक बाय सिग्नल (Buy Signal) उत्पन्न होता है और जब शॉर्ट टर्म की औसत लम्बी अवधि की औसत से नीचे हो जाता है, तो एक सेल सिग्नल (Sell Signal) उत्पन्न होता है।


निष्कर्ष

ये सभी इंट्राडे ट्रेडिंग रणनीतियो को गहराई से समझने के लिए कई इंट्राडे ट्रेडिंग पर आधारित किताबे है (intraday trading books in hindi) जिसका अध्ययन कर आप मार्केट में एक सही पोजीशन ले सकते है।

लेकिन सही समय पर सही रणनीति का उपयोग ही सफलता की  कुंजी है।

इंट्राडे ट्रेडर्स में से केवल 4.5% ही सफल होते हैं और यह वे हैं जो सबसे अच्छा इंट्रा डे रणनीति को न केवल समझते हैं और कार्यान्वित करते हैं बल्कि सही समर्पण और लचीलापन के साथ सही समय पर करते हैं।

इंट्राडे रणनीतियों को पहले अमल करने की कोशिश की जानी चाहिए और मुआयना करना चाहिए और फिर लाभ बनाने के लिए लागू किया जाना चाहिए।


यदि आप इंट्राडे ट्रेडिंग करने की सोच रहे हैं लेकिन यह नहीं पता कि कौन सा स्टॉक ब्रोकर आपके लिए सबसे अच्छा है, तो बस नीचे अपना विवरण भरें।

हम आपके लिए कॉलबैक की व्यवस्था करेंगे, बिल्कुल मुफ्त:

Summary
Review Date
Reviewed Item
सबसे अच्छा इंट्रा डे रणनीति
Author Rating
51star1star1star1star1star

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

14 + eleven =