डिलीवरी ट्रेडिंग क्या है?

शेयर मार्केट के अन्य लेख

क्या आप भी ट्रेडिंग के साथ-साथ निवेश में रूचि रखते हैं? फिर, आपके लिए डिलीवरी ट्रेडिंग (Delivery Trading) बिल्कुल सटीक बैठता है। आपको सबसे पहले समझना होगा कि डिलीवरी ट्रेडिंग क्या है?

आज कल डिलीवरी बेस्ड ट्रेडिंग सबसे ज्यादा इस्तेमाल होने वाले मेथड में से एक है।

डिलीवरी ट्रेडिंग में,  शेयर आपके डीमैट अकाउंट में जमा होते हैं। लेकिन डिलीवरी ट्रेडिंग को सही से समझने के लिए ज़रूरी है ये जानना की demat account kya hai?

स्टॉक मार्केट में आप अपने शेयर को डिजिटल फॉर्म में सुरक्षित रख सकते है और इन्ही शेयर को रखने के लिए डीमैट अकाउंट का इस्तेमाल किया जाता है। आप शेयर को डीमैट अकाउंट (Demat Account) में बिना कोई टाइम लिमिट तक होल्ड करते हैं और फिर अपनी इच्छा के अनुसार शेयर बेचते हैं।

अब जब बात शेयर होल्ड करने की है तो यहाँ पर सबसे ज़रूरी है शेयर मार्केट अकाउंट का होना। ये अकाउंट आप किसी भी प्रसिद्ध स्टॉकब्रोकर के साथ ऑनलाइन खुलवा सकते है।

चलिए अब जानते की डिलीवरी ट्रेडिंग क्या है?


Delivery Trading Meaning in Hindi

डिलीवरी ट्रेडिंग क्या है, यह सवाल एक ट्रेडर या निवेशक के लिए जानना बहुत आवश्यक है, क्योंकि अक्सर निवेशक इंट्राडे और डिलीवरी ट्रेडिंग के बीच अंतर को नहीं   है।

निवेशक को एक दिन के अंदर ही शेयर खरीदने और बेचने (Share Buy and Sell) का अवसर प्रदान नहीं करता है।

डिलीवरी ट्रेडिंग का मतलब है कि इन्वेस्टर स्टॉक को होल्ड कर सकता है और फिर स्टॉक को डीमैट अकाउंट (meaning of demat account in hindi) में होल्ड कर सकता है।

डिलीवरी ट्रेडिंग बिना कोई टाइम लिमिट के काम करता है, जिसका मतलब है कि आप जब मन चाहे स्टॉक बेच सकते हैं।

ट्रेडर के पास पूरा अधिकार है कि वह अपने मर्जी से शेयर को होल्ड कर सकता है।

डिलीवरी बेस्ड ट्रेडिंग उन ट्रेडर के लिए सबसे अच्छा है, जो लॉन्ग टर्म इन्वेस्टमेंट स्टॉक में मुनाफा बनाना चाहते हैं।

डिलीवरी ट्रेडिंग के मामले में, इन्वेस्टर को स्टॉक खरीदने से पहले अपने सभी पैसे तैयार रखने होंगे।

ठीक उसी तरह, अगर आपके एक्चुअल शेयर नहीं हैं तो आप शेयर बेच भी नहीं सकते है।

डिलीवरी ट्रेडिंग निम्नलिखित सेगमेंट में की जाती है:

डिलीवरी ट्रेडिंग क्या है, इसे और बेहतर ढंग से समझने के लिए एक उदाहरण लेते हैं।

मान लीजिए कि आप स्टॉक Buy करना चाहते हैं जिसकी कीमत ₹20 हजार है, अब इसके लिए आपके पास ₹20 हजार का कैश लिमिट भी होना चाहिए।

और अगर, आप उन शेयर को Sell करना चाहते है तो फिर आपके पास उतने शेयर डीमैट खाते में मौजूद भी होना चाहिए।


Delivery Trading Rules in Hindi

डिलीवरी ट्रेडिंग क्या है, ये तो समझ चुके है, लेकिन क्या इसके लिए कोई नियम भी है? ये भी एक ट्रेडर को जानना महत्वपूर्ण पूर्ण है।

एक लोकप्रय विकल्प है, लेकिन इसमें कुछ मुश्किलें भी आती है, जिनका ध्यान रखना होगा।

इसलिए, डिलीवरी ट्रेडिंग के कुछ नियमों (Rules) को ध्यान रखने से निश्चित रूप से आपको लाभ मिलेगा।

भले ही आप डिलीवरी ट्रेडिंग की कॉन्सेप्ट से अच्छी तरह वाकिफ हों, फिर भी कुछ नियम हैं, जिन्हें आपको सीखना चाहिए और उनको पालन करना चाहिए।

सबसे पहले एक चेकलिस्ट बना लें ताकि ट्रेडिंग के हर स्टेप और पोजीशन पर आप तैयार रहें।

  • चेकलिस्ट में सबसे पहले आती है कैपिटल तो सबसे पहले ये जाने कि शेयर मार्केट में कितना पैसा लगा सकते है या कितने पैसे के साथ ट्रेड और निवेश करना सही होता है।
  • उसके बाद लक्ष्य और जोखिमों के आधार पर डिलीवरी ट्रेडिंग शुरू करने के लिए अच्छे तरह से रिसर्च कर लें तभी अगले प्रोसेस पर जाएं।
  • डिलीवरी ट्रेडिंग में, आपके अकाउंट में पर्याप्त धन होना चाहिए है। आप स्टॉक Buy या Sell नहीं कर सकते जब तक कि आपके अकाउंट में पूरी अमाउंट ना हो।
  • स्टॉक बेचने के लिए हमेशा सही समय की प्रतीक्षा करें ताकि आपको कोई लॉस न हो।
  • साथ ही आपको ये सलाह भी दी जाती है कि ट्रेडिंग करने से पहले स्टॉप लॉस और टारगेट प्राइस सेट कर लें।
  • अलग-अलग कंपनियों में निवेश करना हमेशा से फायदे का सौदा रहा है। एक से अधिक कंपनी में निवेश आपके प्रॉफिट कमाने की संभावना को बढ़ाता है।

ये कुछ डिलीवरी ट्रेडिंग टिप्स हैं जिनका पालन करके आप बेहतर रिजल्ट और प्रॉफिट बना सकते हैं।

इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप एक नौसिखिया हैं या एक एक्सपीरियंस ट्रेडर हैं, ज्यादा प्रॉफिट के लिए स्थिरता और सही नियमों को फॉलो करना जरुरी है।


डिलीवरी ट्रेडिंग कैसे करें?

डिलीवरी ट्रेडिंग ज्यादातर तभी किया जाता है जब आप Long-Term Investment करना चाहते हैं। डिलीवरी बेस्ड ट्रेडिंग में, आप स्टॉक खरीदते हैं और उन्हें डीमैट अकाउंट में होल्ड करते हैं।

इसमें आप दो दिन या साल बाद भी शेयर खरीद या बेच सकते हैं। निर्णय आप पर है। इंट्राडे ट्रेडिंग की तरह, उसी दिन स्टॉक को बेचने की कोई बाध्यता नहीं है।

आप मैक्सिमम प्रॉफिट बनाने के लिए सही समय का इंतजार करें और फिर अपना स्टॉक बेचें। शेयरों का ट्रेड शुरू करने से पहले आपके खाते में धन का होना आवश्यक है।

डिलीवरी ट्रेडिंग में, आप पर्याप्त धनराशि के बिना शेयर नहीं खरीद सकते।

अगर आप सही डिलीवरी ट्रेडिंग स्ट्रेटेजी बनाते हैं और उसे फॉलो करते हैं तो निश्चित रूप से आप अच्छा मुनाफा कमा पाएंगे।

यहां तक कि अगर आपको शेयर बेचने के लिए अधिक कीमत नहीं मिल रही है, तो आप अपने लक्ष्य तक पहुंचने के लिए ज्यादा समय तक इंतज़ार करना चाहिए। डिलीवरी ट्रेडिंग के होल्डिंग पीरियड  न्यूनतम राशि शेयर बाजार में निवेश करने के लिए निर्धारित करें।


डिलीवरी ट्रेडिंग शुल्क

डिलीवरी ट्रेडिंग के साथ अलग-अलग प्रकार के कई तरह के शुल्क लगते हैं। आइये डिलीवरी ट्रेडिंग से जुड़े सभी खर्चों को देखते हैं।

डिलीवरी बेस्ड ट्रेडिंग से जुड़े कुछ शुल्क निर्धारित हैं, जबकि कुछ शुल्क ब्रोकर से ब्रोकर तक अलग-अलग हो सकते हैं।

डिलीवरी ट्रेडिंग में सेबी द्वारा लगाया गया शुल्क सामान्य होता है। यह शुल्क बाजार पर नज़र रखने और इसे नियंत्रण करने में मदद करता है।

डिलीवरी ट्रेडिंग शुल्क में ब्रोकरेज चार्ज भी शामिल है। ब्रोकर चार्ज एक ब्रोकर से दूसरे ब्रोकर में अलग-अलग हो सकता है।

GST एक अन्य शुल्क है जो सरकार द्वारा प्रदान की जाने वाली सभी सेवाओं पर लगाया जाता है।

GST में ब्रोकरेज के साथ लेनदेन शुल्क शामिल है।

1899 में, भारत स्टाम्प एक्ट ने सरकार को डिलीवरी ट्रेडिंग पर स्टाम्प शुल्क (Stamp Charges) लगाने का प्रावधान पेश किया।

यदि स्टॉक एक्सचेंज इंस्ट्रूमेंट (Instrument) में लेनदेन करता हैं, तो सरकार को निश्चित रूप से इस पर कुछ शुल्क लगाना चाहिए।

इसके साथ ही एसटीटी / सीटीटी (STT/CTT) और ट्रांजेक्शन चार्ज (Transaction Charge) को डिलीवरी ट्रेडिंग शुल्क में जोड़ा जाता है।

आपके काम और समझ को थोड़ा बेहतर बनाने के लिए यहां पांच शीर्ष ब्रोकर और उनके डिलीवरी शुल्क हैं।


डिलीवरी बेस्ड ट्रेडिंग के लाभ

किसी भी ट्रेड में निवेश करने से पहले जो एक सवाल उठता है वह है प्रॉफिट। फिर, डिलीवरी ट्रेडिंग में कितना प्रॉफिट होता है?

डिलीवरी ट्रेडिंग एक लॉन्ग-टर्म प्रोसेस है जब आप इसकी तुलना इंट्राडे ट्रेडिंग से करते हैं।

आप शेयर खरीद सकते हैं और फिर उन्हें किसी भी समय बेच सकते हैं। डिलीवरी ट्रेडिंग प्रॉफिट आपके द्वारा लगाए गए समय और स्थिरता पर निर्भर करता है।

मान लीजिए कि आप ₹10,000 के शेयर खरीदते हैं, तो आपके लिए प्रॉफिट कमाने का सबसे अच्छा विकल्प क्या होगा। संभवतः आपको इसे बेचने के लिए सही समय का इंतजार करना होगा।

आपने जिन कंपनियों में निवेश किया है, उनके द्वारा निकाले गए बोनस या एक्स्ट्रा से भी आपको फायदा हो सकता है। आप शेयर के एकमात्र मालिक हैं और इस तरह आपको अतिरिक्त लाभ भी मिलेगा।

यदि सावधानी और सतर्कता के साथ आगे बढ़ा जाए तो डिलीवरी ट्रेडिंग लाभदायक है।


डिलीवरी ट्रेडिंग के लिए मार्जिन

मार्जिन या मार्जिन ट्रेडिंग एक निवेशक को कम पैसे में अधिक शेयर खरीदने और रखने की अनुमति देता है। ब्रोकर आपको कुछ मार्जिन प्रदान कर सकते हैं जो आपको कीमत कम होने पर भी शेयर खरीदने में सक्षम बनाएंगे।

जब डिलीवरी ट्रेडिंग की बात आती है, तो प्रदान किया गया मार्जिन अक्सर कम होता है या होता ही नहीं है। कारण यह है कि डिलीवरी ट्रेडिंग में, शेयर निवेशकों के साथ लॉन्ग-टर्म के लिए होते हैं।

लॉन्ग-टर्म के फैक्टर अक्सर ब्रोकर के लिए नुकसान का कारण बनता हैं जो उन्हें डिलीवरी ट्रेडिंग के लिए मार्जिन देने से रोकते हैं।


डिलीवरी ट्रेडिंग के फायदे 

डिलीवरी ट्रेडिंग की बढ़ती लोकप्रियता के साथम डिलीवरी ट्रेडिंग के साथ कई तरफ के फायदे जुड़े हैं।

ट्रेड के लिए एक आसान तरीका और समझने में आसान होने के अलावा, कुछ अन्य फैक्टर भी डिलीवरी ट्रेडिंग की लोकप्रियता का कारण रहा हैं।

अब जब आप डिलीवरी बेस्ड ट्रेडिंग की कॉन्सेप्ट अवधारणा से परिचित हैं, तो नीचे दिए गए कुछ फायदों पर चर्चा करते हैं।

  • लॉन्ग टर्म इन्वेस्टमेंट

डिलीवरी ट्रेडिंग के साथ आने वाला सबसे बड़ा लाभ लॉन्ग टर्म इन्वेस्टमेंट करने का विकल्प है।

मान लीजिए कि आप एक शेयर में निवेश करते हैं और इसे होल्ड करते हैं, और बाद में वह कंपनी या व्यवसाय आपको पॉजिटिव रिजल्ट देता है, तो आप उस इन्वेस्ट में बने रह सकते हैं।

लेकिन अगर आपको कोई लाभ दिखाई नहीं देता है, तो आप आसानी से अपनी पोजीशन से बाहर कदम रख सकते हैं।

जब आप शॉर्ट टर्म इन्वेस्टमेंट में कोई लाभ नहीं कमाते हैं, तो डिलीवरी ट्रेडिंग की लॉन्ग टर्म क्वालिटी भी सहायक होती है।

आप हमेशा अपने स्टॉक को बेचने के लिए सही समय का इंतजार कर सकते हैं।

  • सुरक्षित है

डिलीवरी ट्रेडिंग करते समय एक ही दिन में स्टॉक खरीदने और बेचने की बाध्यता नहीं हैं। यह ट्रेडिंग में जोखिम की संभावना को कम करती है। इसलिए, जब हम डिलीवरी ट्रेडिंग की तुलना अन्य सेगमेंट से करते हैं, जैसे इंट्राडे ट्रेडिंग, तो यह अधिक सुरक्षित होता है।

  • बोनस

डिलीवरी ट्रेडिंग में, आप स्टॉक खरीदने के बाद से सभी बोनस लेने में सक्षम होंगे। यहां तक कि जब कंपनी कुछ बोनस शेयरों को रोल आउट करती है, तो आप उनका दावा कर सकते हैं।

  • उच्च लाभ

डिलीवरी ट्रेडिंग में लाभ अधिक है, क्योंकि आप सही समय तक स्टॉक को होल्ड करते हैं और कंपनी द्वारा बोनस प्राप्त करते हैं। चूंकि, आप एक शेयर के मालिक हैं, तो आपको पूरा मुनाफा होगा, जिससे आय में काफी वृद्धि हो सकती है।

  • कम टैक्स 

डिलीवरी ट्रेडिंग में अगर आप 1 साल से ज़्यादा के लिए अपनी पोजीशन को होल्ड करते है तो उस पर आपको लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन के अंतर्गत 1,00,000 रुपये तक की राशि पर किसी भी तरह का को शेयर मार्केट टैक्स (share market income tax in hindi) नहीं देना होता।


डिलीवरी ट्रेडिंग के नुकसान 

किसी भी ट्रेडिंग को शुरू करने से पहले, सभी पक्षों को तौलना और फिर अपनी आवश्यकताओं के अनुसार एक को चुनना आवश्यक है।

डिलीवरी ट्रेडिंग के साथ आने वाले फायदों के साथ, कुछ नुकसान भी हैं।

एक ट्रेडर के रूप में, हर एंगल से विकास और संभावित लाभ का विश्लेषण करना आपकी जिम्मेदारी बन जाती है। यहां डिलीवरी ट्रेडिंग के कुछ नुकसान निम्नलिखित हैं:

  • पहले से भुगतान

डिलीवरी ट्रेडिंग में, जब आपके पास पर्याप्त धनराशि हो तभी आप केवल स्टॉक का ट्रेड कर सकते हैं। एडवांस पेमेंट कभी-कभी इसे काफी मुश्किल बना सकते हैं।

यदि आप स्टॉक का ट्रेड करना चाहते हैं, लेकिन आपके पास इसके लिए धन नहीं है, तो आपको नुकसान होने की संभावना है।

  • अधिक ब्रोकरेज शुल्क

डिलीवरी ट्रेडिंग का एक और नुकसान उच्च ब्रोकरेज शुल्क है। जब आप एक स्टॉकब्रोकर के पास ट्रेड करने के लिए जाते हैं, तो यह संभव है कि इंट्राडे ट्रेडिंग, डिलीवरी ट्रेडिंग की तुलना में बहुत सस्ती होगी।


निष्कर्ष

डिलीवरी ट्रेडिंग क्या है और कैसे एक ट्रेडर के लिए प्रॉफिटेबल है, ये सभी बाते अभी तक आपको इस पोस्ट से पता लग गया होगा।

ट्रेडिंग मार्केट में डिलीवरी ट्रेडिंग एक लॉन्ग-टर्म और लाभदायक विकल्प है। यह ट्रेडर्स शेयरों का एकमात्र मालिक होता है और कंपनी द्वारा मिलने वाले प्रॉफिट में हिस्सा भी लेता है।

चूँकि, ट्रेडर शेयर का मालिक है, इसलिए शेयरों को कब बेचना है यह ट्रेडर की इच्छा पर निर्भर करता है। आप 2 दिन या 20 साल तक के लिए भी हिस्सेदारी रख सकते हैं।

यदि आप एक शुरुआती ट्रेडर हैं और डिलीवरी ट्रेडिंग क्या है और कैसे करते हैं जैसे विषयों से परिचित हैं, तो बहुत जरुरी है कि आप निरंतरता के साथ निवेश में बने रहें।

डिलीवरी ट्रेडिंग लॉन्ग-टर्म का खेल है, और इसमें धैर्य एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

डिलीवरी ट्रेडिंग को जारी रखने के लिए आपके खाते में पर्याप्त धन होना चाहिए। डिलीवरी ट्रेडिंग पर लगाए गए विभिन्न शुल्कों में ब्रोकरेज शुल्क, सेबी शुल्क, लेनदेन शुल्क, GST शुल्क, सिक्‍योरिटी ट्रांजेक्‍शन टैक्‍स और CTT  के साथ शामिल हैं।

यदि आप कई कंपनियों में निवेश करते हैं तो डिलीवरी ट्रेडिंग में यह हमेशा फायदेमंद होता है। यह एक सुरक्षित विकल्प है जब भी आपके शॉर्ट-टर्म इन्वेस्टमेंट सफल नहीं हो पाते हैं, और आप शेयर को सही समय तक होल्ड कर सकते है और फिर इसे सही समय पर बेच सकते हैं।

हालाँकि, इसमें एडवांस पेमेंट और हाई ब्रोकरेज शुल्क एक कमी दिख सकती हैं, लेकिन इसके बावजूद भी कई फायदे हैं।

यह इस तरह से काम करता है जैसे आप आज ₹30,000 की शेयर खरीदते हैं, तो आपको उसी समय केवल प्रॉफिट होगा, जब आप उसे बेचते हैं।

सबसे अच्छी बात यह है कि आप अपने शेयरों को तभी होल्ड रख सकते हैं जब आपको कंपनी पर भरोसा हो। यदि आपको लगता है कि कंपनी में ग्रोथ नहीं है, तो आप पोजीशन बंद कर सकते हैं।

यदि आप लॉन्ग-टर्म इन्वेस्टमेंट और काम की तलाश में हैं तो डिलीवरी ट्रेडिंग सही विकल्प है।

क्या आप डीमैट खाता खोलना चाहते हैं? कृपया नीचे दिए गए फॉर्म पर जाएं।

अपनी नाम और मोबाइल नंबर दर्ज करें और आपको शीघ्र ही एक कॉलबैक प्राप्त होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

twenty + 1 =