Delivery Trading Rules in Hindi

शेयर मार्केट के अन्य लेख

यदि आप डिलीवरी ट्रेडिंग करना चाहते हैं तो इसके लिए आपको पता होना चाहिए कि Delivery Trading Rules in Hindi क्या हैं?

अगर आपको डिलीवरी ट्रेडिंग के नियमों के बारे में पता होगा तो इससे आपको ट्रेडिंग करने में बहुत मदद मिलेगी और साथ ही अच्छा रिटर्न भी मिलेगा।  

चलिए, पहले इसे अच्छी तरह से समझते हैं। 

जब आप शेयर को होल्ड करने के उद्देश्य से शेयर मार्केट में निवेश करने की प्लानिंग करते हैं, तो आपको डिलीवरी ट्रेडिंग का ऑप्शन प्रदान किया जाता है।

लेकिन क्या आप डिलीवरी ट्रेडिंग नियम की मूल बातें जानते हैं?

यदि नहीं, तो यहां हम उन नियमों की पूरी लिस्ट प्रदान करेंगें, जिन्हें आपको ट्रेड एक्सीक्यूट करते समय पालन करना चाहिए।

चलिए, शुरू करते हैं!

लेकिन Delivery Trading Rules in Hindi को जानने से पहले यह समझना महत्वपूर्ण है कि डिलीवरी ट्रेडिंग क्या है? 

जैसा कि नाम से पता चलता है कि डिलीवरी ट्रेडिंग, ट्रेडिंग का वह प्रकार है जिसमें आपके द्वारा खरीदे गए शेयर आपके डीमैट खाते में डिलीवर किए जाते हैं।

इन शेयर को आपके डीमैट खाते में कैसे खरीदा और ट्रांसफर किया जाता है? और इसके साथ ही हम चर्चा करेंगे कि आपके खाते में आपकी होल्डिंग होने में कितना समय लगता है।

चलिए यहां, डिलीवरी ट्रेडिंग के नियमों को समझते हैं और उसके बारे में जानकारी हासिल करते हैं।


Delivery Trading Rules in India in Hindi 

जब ट्रेडिंग की बात आती है, तो इक्विटी डिलीवरी सबसे आम तरीकों में से एक है। 

यह आपको कुशलतापूर्वक ट्रेडिंग करने और निवेश पर अधिकतम लाभ कमाने में मदद करता है।

जैसा कि पहले भी बताया गया है कि जब तक आप शेयर बेचना नहीं चाहते तब तक आप शेयर्स को आपके डीमैट खाते में होल्ड करके रख सकते हैं और उसे वह डिलीवरी ट्रेडिंग कहते है।  

डिलीवरी ट्रेड को एक्सीक्यूट करने के लिए आपको शेयरों को खरीदने के लिए पूरी राशि का भुगतान करना होगा। 

क्योंकि डिलीवरी ट्रेडिंग के लिए कोई मार्जिन नहीं है और बदले में, आपको शेयर की पूरी हिस्सेदारी मिल जाती है।

डिलीवरी में किसी ट्रेड को कैसे एक्सीक्यूट किया जाए, इसके लिए यहां कुछ बुनियादी और एडवांस Delivery Trading Rules in Hindi हैं, जिनका आपको पता होना चाहिए।

निवेश करने से पहले जांच करें

यह Delivery Trading Rules in Hindi का पहला और महत्वपूर्ण नियम है। 

निवेश करने से पहले हमेशा विभिन्न सोर्स पर रिसर्च करें। उन बिज़नेस में निवेश करना सही है जो रणनीतिक रूप से काम कर रहे हैं।

शेयर बाजार में निवेश करने से पहले हर एक पहलू की जांच करनी चाहिए। 

इसलिए, निवेश करने के लिए, शेयर, स्टॉक या फर्म का मौलिक विश्लेषण करना ज़रूरी है।

वर्तमान समय में इंटरनेट पर कई वेबसाइट उपलब्ध हैं, जो कंपनियों का सही से मूल्यांकन करने और समझने में आपकी मदद कर सकती हैं।

निवेशक को उस इन्वेस्टमेंट प्रोडक्ट को खरीदने की सलाह दी जाती है जिसका पिछले कुछ वर्षों में एक मजबूत रिकॉर्ड हो और जो कम प्रबंधन शुल्क प्रदान करता है।

एक चीज़ पर ध्यान ना देकर, ओवरऑल चीजें ध्यान में रखें 

जब अर्थव्यवस्था बढ़ती है, तो एक निवेशक अधिक स्टॉक खरीद सकता है, और जब बाजार में गिरावट शुरू होती है, तो हमेशा सलाह दी जाती है कि कम से कम स्टॉक्स बेचें।

लेकिन लॉन्ग रन के दौरान अक्सर यह सुझाव दिया जाता है कि बार-बार ट्रेड करने से बचना चाहिए। 

क्योंकि हर बार ट्रेड को एक्सीक्यूट करने पर कमीशन चार्ज किया जाता है और आपकी कितनी कमाई तो ट्रेड पर कमीशन भुगतान करने में ही चली जाती है। 

इसके अलावा, अपना पोर्टफोलियो बनाने पर काम करें और गिरती अर्थव्यवस्था से घबराए नहीं क्योंकि यह भी ट्रेडर को शेयर खरीदने के अवसर प्रदान करता है।

कभी भी अर्थव्यवस्था के बारे में सोचने पर समय न दें 

यह सच है कि शेयर बाजार में उतार और चढ़ाव हैं। इन्वेस्टमेंट मार्केट में गिरावट की उम्मीद नहीं करनी चाहिए। 

जब शेयर मार्केट में स्टॉक एक सही प्राइस से ज्यादा होते हैं, तो उस स्टॉक को खरीदने का मतलब है कि ओवरवैल्यूएटेड कीमतों पर खरीददारी करना।

मार्केट में उतार-चढ़ाव को देखने के बजाय, आपको स्टॉक्स के मौलिक विश्लेषण पर ध्यान देना चाहिए। क्योंकि ऐसा करने से आप नुकसान से बच सकते हैं। 

ऐसा इसलिए है क्योंकि मार्केट ट्रेंड में करेक्शन होने पर स्टॉक्स कम रेट पर आते हैं।

सावधान रहिए

एक प्रसिद्ध कहावत है “Rome wasn’t built in a day”। 

इसका मतलब है कि एक दिन में अमीर नहीं बना जा सकता। 

शेयर मार्केट में भी यही स्थिति है क्योंकि आपको एक दिन में ज्यादा रिटर्न नहीं मिल सकता है। शेयर बाजार में, शेयरों में निवेश करते समय धैर्य बनाए रखना चाहिए।

भारतीय कंपनियों को बड़ी और सफल बिज़नेस कंपनियां बनने के लिए बहुत वर्ष लगे हैं।

इसलिए, अच्छी क्वालिटी वाले शेयरों में निवेश करना चाहिए। 

क्योंकि यह समय के साथ बढ़ेंगें और आपको अच्छा रिटर्न भी देंगें।

यदि आप कोई ज़रूरी ट्रेडिंग कर रहे हैं तो सतर्कता बहुत महत्वपूर्ण है और यह आसानी से सफलता की ओर ले जा सकता है।

अपने उद्देश्यों को दिमाग में रखें

शेयर बाजार में लक्ष्य बनाना और उसके अनुसार काम करना महत्वपूर्ण है। 

शेड्यूल के अनुसार काम करने से आप कुशलता से काम कर पाएंगे और अच्छा रिटर्न प्राप्त कर सकेंगे।

यदि आपके पास एक सही लॉन्गटर्म फाइनेंशियल उद्देश्य है, तो पोर्टफोलियो का निर्माण करना आसान है।

जबकि शॉर्ट-टर्म निर्णय, फाइनेंशियल प्लानिंग में परेशानी कर सकते हैं और साथ ही आपके लक्ष्यों को पूरा करने से रोक सकते हैं।

विविधता

यह Delivery Trading Rules in Hindi का सुनहरा नियम है। आइए देखें कि निवेश के लिए वास्तव में गोल्डन रूल क्या है।

मूल रूप से, निवेशक को अपने पोर्टफोलियो के शेयर में 10% से अधिक निवेश नहीं करना चाहिए। इसलिए, यह निवेश का एक अनिवार्य नियम बन गया।

उदाहरण के तौर पर यदि आपके अकाउंट में ₹5000 हैं तो आपको केवल ₹500 रुपये का ही निवेश करना चाहिए। 

दूसरी बात यह है कि आपको अलग अलग सेगमेंट्स में अपने रिस्क को बाँट देना चाहिए यानि आपको एक ही सेगमेंट या सेक्टर में रिस्क नहीं लेना चाहिए। 

आप विभिन्न सेक्टर, मार्केट और साथ ही, कमोडिटी फंड, हेज फंड और एसेट फंड में निवेश कर सकते हैं। 

हमारे कहने का मतलब है कि यदि आपको पता है कि Share Market Me Kitne Sector Hote Hai तो आप उसे ध्यान में रख कर अलग-अलग सेक्टर में इन्वेस्ट कर सकते हैं।

आपको एक सेक्टर में नुकसान होगा तो किसी सेक्टर में फायदा भी होगा।

यदि किसी भी सेक्टर में मंदी आती है तो आप इस नजरिए से सुरक्षित रह सकते हैं। 

उदाहरण के लिए यदि आपने अभी कमोडिटी सेगमेंट में निवेश किया होगा तो अभी किसानों के धरने कि वजह से कमोडिटी सेगमेंट में मंदी है तो आपको उससे नुकसान हुआ होगा। यदि अपने इसके साथ ही किसी कंपनी के शेयर खरीदे होंगें तो आपको फायदा हुआ होगा। 

इसलिए आपको विभिन्न सेक्टर में इन्वेस्ट करना चाहिए। 

हमें उम्मीद है कि आपको Delivery Trading Rules in Hindi के बारे में पूरी जानकारी मिल गई होगी।  


निष्कर्ष 

एक निवेशक डीमैट खाते में सिक्योरिटीज को तब तक रख सकता है जब तक वह डिलीवरी ट्रेडिंग के माध्यम से ट्रेडिंग करना चाहता है।

लेकिन किस शेयर को कितने समय के लिए रखना है और कब तक आपको अपने डीमैट खाते में शेयरों को रखना है यह आपकी रणनीति पर निर्भर करता है। 

इसके साथ ही यह Delivery Trading Rules in Hindi पर भी निर्भर करता है, जो आपके निवेश लक्ष्यों को पूरा करने में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

इसलिए ऊपर बताये गए नियमों का पालन करें और स्मार्ट और रणनीतिक निवेश की योजना बनाकर अधिक रिटर्न कमाएं।


यदि आप भी शेयर मार्केट में निवेश शुरू करना चाहते हैं तो सबसे पहले डीमैट अकाउंट खोलें :

डीमैट खाता खोलने के लिए नीचे दिए गए फॉर्म को देखें:

यहाँ अपनी बेसिक डिटेल्स भरें उसके बाद आपके लिए कॉलबैक की व्यवस्था की जाएगी। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

two × 5 =