Zerodha Me Share Kaise Kharide

ट्रेडिंग के अन्य लेख पढ़े

जेरोधा एक लोकप्रिय और विश्वसनीय डिस्काउंट ब्रोकर है और यही कारण है कि वर्तमान समय में नए ट्रेडर भी जेरोधा के साथ ही जुड़ना चाहते हैं। लेकिन, नए ट्रेडर्स और निवेशकों के मन में एक सवाल अक्सर रहता है कि Zerodha Me Share Kaise Kharide जाते हैं?

आइए, इस सवाल का जवाब ढूंढ़ते हैं। 

सबसे पहले ये जानते हैं कि जेरोधा के साथ शेयर खरीदना क्यों अच्छा माना जाता है। इस सवाल का जवाब जेरोधा के बारे में निम्नलिखित फैक्ट्स बताते हैं। 

वर्तमान समय में, जेरोधा के साथ 15 लाख से अधिक ग्राहक है और यह अपने ग्राहकों को इक्विटी, डेरिवेटिव, कमोडिटी सहित कई अन्य सेगमेंट में ट्रेड करने की अनुमति देता है।  

यह बीएसई (BSE), एनएसई (NSE) और एमसीएक्स (MCX) जैसे एक्सचेंज में शेयरों, म्यूचुअल फंड, आईपीओ और डेरिवेटिव्स में ट्रेड करने का विकल्प देता हैं।

Zerodha ने अपने ग्राहकों को ट्रेडिंग फैसिलिटी प्रदान करने के लिए अपना ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म विकसित किया है जिसमें जेरोधा काइट को सबसे अच्छा ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म माना जाता हैं। 

Zerodha Me Share Kaise Kharide का जवाब जानने के लिए, आपको जेरोधा काइट मोबाइल ऐप की समीक्षा जरूर करनी चाहिए। 

इस ब्रोकर के साथ ट्रेड करने के लिए, एक ट्रेडर या निवेशक को सबसे पहले एक जेरोधा डीमैट अकाउंट खुलवाना होगा। जेरोधा अकाउंट खोलने के बाद, आप Zerodha Kite App को Mobile या Desktop पर Web Browser में लॉगिन करके आसानी से शेयर खरीद और बेच सकते हैं।

ज्यादातर लोग जिन्होंने जेरोधा डीमैट अकाउंट खोला है, उनमें से अधिकांश शेयर खरीदने और बेचने के लिए अपने ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म का उपयोग करना नहीं जानते हैं। 

जब आप देश के बड़े ब्रोकरों में से एक जारोध के साथ जुड़ना चाहते हैं और भविष्य में ट्रेड करना चाहते हैं तो आपको जारोध शब्द के बारे में पता होना चाहिए की आखिर इस शब्द का क्या अर्थ है इसकी जानकारी आप Zerodha Meaning in Hindi लेख को पढ़कर ले सकते हैं।

इसलिए, इस लेख में Zerodha Me Share Kaise Kharide के बारे में विस्तृत जानकारी देंगे। 


Zerodha इंट्राडे में शेयर कैसे खरीदें

जेरोधा ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म से शेयर खरीदने और बेचने के पहले, आपको कुछ महत्वपूर्ण चरणों के बारे में जानना होगा, जो निम्नलिखित हैं:

स्टॉक का विश्लेषण करना

  • किसी स्टॉक का एनालिसिस करने के लिए, आपको अपने वॉचलिस्ट में कुछ स्टॉक ऐड करना होगा जिसे आप खरीदना या बेचना चाहते हैं।

  • स्टॉक को वॉचलिस्ट में जोड़ने के बाद, आप इसके डिटेल्स चेक कर सकते हैं जैसे Market Depth, Bid, ऑर्डर की संख्या, ऑफर, और Quantity के साथ-साथ “Buy” और “Sell” विकल्प दिखाई देगा।

  • “Buy” या “Sell” के ऑर्डर को रखने से पहले, आप “चार्ट” पर क्लिक करके उस विशेष स्टॉक के चार्ट को देखकर एनालिसिस सकते हैं।


Zerodha काइट ऐप में इंट्राडे MIS Buy ऑर्डर प्लेस करें

जब आप वॉचलिस्ट में अपने पसंद के स्टॉक जोड़ लेते हैं जिसमें आप ट्रेड करना चाहते हैं, तो आपको “Buy” पर क्लिक करना होगा जो Blue Colour में चिह्नित है। 

जिस स्टॉक को आप खरीदना चाहते हैं उसकी Quantity भरें और “MIS” बॉक्स का चयन करें।

चूंकि, हम इंट्राडे ट्रेड कर रहे हैं, इसलिए हमें बाजार बंद होने से पहले Buy Position और Sell Position को Square Off करने की जरूरत है।

MIS का फुल फॉर्म Market Intraday Square off है, जो कि Zerodha Intraday Trading का एक हिस्सा है, जहां आपको एक ही दिन में अपना ट्रेड पूरा करना होता है। 

इंट्राडे ट्रेडिंग में, आपको उसी दिन स्टॉक खरीदने और बेचना होता है।


Zerodha काइट में ऑर्डर का प्रकार चुनें

Zerodha Kite App में ऑर्डर प्लेस करने के लिए, आपको अपने ऑर्डर के प्रकार को चुनना होगा:

जेरोधा काइट में निम्नलिखित ऑर्डर के प्रकार का विकल्प हैं:

  1. मार्केट ऑर्डर
  2. जेरोधा लिमिट ऑर्डर 
  3. SL (स्टॉप लॉस लिमिट ऑर्डर)
  4. SLM (स्टॉप लॉस मार्केट ऑर्डर)

  • जेरोधा मार्केट ऑर्डर

यदि आप मार्केट ऑर्डर देना चाहते हैं, तो आपको अपने ऑर्डर के प्रकार में “मार्केट” का चयन करना होगा। 

मार्केट ऑर्डर में, आपके पास ऑर्डर की कीमत को बदलने का विकल्प नहीं होगा, क्योंकि इसे CMP (Current Market Price) पर ही पूरा किया जाता है।

  • जेरोधा लिमिट ऑर्डर

यदि आप लिमिट ऑर्डर सेट करना चाहते हैं, तो आपको अपनी इच्छा के अनुसार ऑर्डर टाइप करने का विकल्प मिलेगा। यदि लिमिट प्राइस ऑटो स्क्वायर ऑफ टाइम से पहले पहुंच जाता है उसके बाद ही “Buy” ऑर्डर पूरा होता है 

  • स्टॉप लॉस ऑर्डर

Stop Loss Order का मतलब है कि एक Limit Buy Order प्लेस किया जाता है जब स्टॉक एक Trigger Price हिट करता है।

जब शेयर एक निश्चित मूल्य से ऊपर जाते हैं तो SL Order उपयोगी होता है।

मान लीजिए, रिलायंस का एक स्टॉक ₹2021.85 रुपये पर ट्रेड कर रहा है।

लेकिन, आप उस शेयर को तभी खरीदना चाहते हैं यदि इसकी कीमत ₹2023.05 रुपये से ऊपर जाता है।  

इसके लिए, आप अपने स्टॉप लॉस को Trigger Price के रूप में ₹2023.05 पर सेट करते हैं और फिर आपका लिमिट प्राइस ₹2023.05 रुपये से नीचे कोई भी मूल्य हो सकता है। 

अब, यह ऑर्डर तभी प्लेस होगा जब आपका स्टॉक स्टॉप-लॉस ट्रिगर प्राइस को हिट करता है। 

कृपया ध्यान दें कि इस मामले में आपका ऑर्डर पूरा हो जाएगा इसकी कोई गारंटी नहीं है।

ऐसे मामलों में जब स्टॉक बहुत तेजी से बढ़ता है और वापस नहीं आता है, तो आपका लिमिट ऑर्डर खुला रहेगा।

  • मार्केट प्राइस पर स्टॉप लॉस ऑर्डर (SL-M)

SL-M का मतलब Market Price पर Stop Loss Buy Order लगाना है। 

यह ऑर्डर पिछले ऑर्डर की तरह ही हैं, लेकिन इसमें कुछ मामूली सा अंतर है। 

जब स्टॉप लॉस ट्रिगर प्राइस को हिट करती है, तो लिमिट ऑर्डर के बजाए मार्केट ऑर्डर को प्लेस किया जाएगा। 

SL-M Order तब उपयोगी होता है जब आप शेयर खरीदना चाहते हैं जब आपका स्टॉक एक निश्चित कीमत से ऊपर चला जाता है। 


चलिए एक उदाहरण से समझते हैं। 

मान लीजिए आज रिलायंस का शेयर ₹2021.85 रुपये पर ट्रेड कर रहा है। 

लेकिन आप रिलायंस शेयर को तभी खरीदना चाहते हैं जब यह ₹2021.95 रुपये से ऊपर जाएगा। 

ऑर्डर पूरा करने के लिए, आप SL-M Order को ₹2021.95 के ट्रिगर प्राइस पर रखते हैं (ध्यान दें कि मार्केट ऑर्डर के रूप में यहां कोई लिमिट नहीं है)। 

मार्केट ऑर्डर तब लगाए जाते हैं जब स्टॉक स्टॉप-लॉस ट्रिगर प्राइस को हिट करता है। 

यह भी ध्यान रखें कि यह मार्केट ऑर्डर है तो आपका ऑर्डर Quantity और Seller की उपलब्धता के आधार पर ट्रिगर प्राइस से थोड़ा ऊपर पूरा होगा। 

ऐसे मामलों में जब स्टॉक बहुत तेजी से बढ़ता है, एक्सेक्यूटेड प्राइस (Executed Price) ट्रिगर प्राइस से कुछ अंक ऊपर हो सकता है।


जेरोधा एडवांस ऑर्डर प्लेसमेंट 

आप अपने ऑर्डर के साथ एडवांस ऑर्डर प्लेस कर सकते हैं:

  1. BO (ब्रैकेट ऑर्डर),
  2. CO (कवर ऑर्डर),और
  3. AMO (आफ्टर मार्केट ऑर्डर)

Zerodha ब्रैकेट ऑर्डर

जेरोधा “ब्रैकेट ऑर्डर” का चयन करके एक रेंज में ट्रेड किया जा सकता हैं। 

एक ब्रैकेट ऑर्डर तभी पूरा होगा जब निम्नलिखित ऑर्डर सेट किया जाता है: 

ब्रैकेट ऑर्डर = इनिशियल ऑर्डर + स्टॉप लॉस ऑर्डर + टारगेट ऑर्डर 


आइए इसे एक उदाहरण के साथ समझते हैं:

हम एक ऐसे ट्रेडर का उदाहरण ले रहे हैं जिसने एक Buy Order के साथ बाजार में Entry किया।

मान लीजिए कि एक ट्रेडर 10 शेयरों के लिए ऑर्डर देता है जिसका करंट मार्केट प्राइस ₹120 है।

यहाँ ट्रेडर ₹100 का एक स्टॉप-लॉस ऑर्डर और ₹150 का टारगेट ऑर्डर देता है। 

अगर स्टॉक की कीमत ₹100 प्रति शेयर तक गिरती है, तो स्टॉप-लॉस ऑर्डर एक्सीक्यूट हो जाएगा और टारगेट ऑर्डर ऑटोमेटिक रूप से कैंसिल हो जाएगा। 

यदि शेयर की कीमत 150 रुपये प्रति शेयर हो जाती है तो फिर स्टॉप लॉस ऑर्डर कैंसिल होगा।

यदि ट्रेडर ने ₹120 पर एक लिमिट ऑर्डर दिया है और स्टॉक की कीमत ₹120 तक नहीं पहुंचती है, तो फिर तीनों ऑर्डर कैंसिल हो जाएंगे।

ब्रैकेट ऑर्डर लगाने का फायदा यह है कि इसमें ऑर्डर पर मार्केट मूवमेंट के अनुसार प्रॉफिट या लॉस बुक होता है।


जेरोधा कवर ऑर्डर का उपयोग करके स्टॉक खरीदना और बेचना

कवर ऑर्डर (Cover Order) का इस्तेमाल केवल इंट्राडे ट्रेडिंग के दौरान किया जा सकता है।

यदि आप जेरोधा काइट में शेयर खरीदने के लिए कवर ऑर्डर का उपयोग करना चाहते हैं, तो इसमें Buy Order के साथ Stop Loss Order सेट करना अनिवार्य है। 

एक कवर ऑर्डर में, एक ट्रेडर Buy / Sell Order देने के लिमिट या मार्केट दोनों ऑर्डर का विकल्प चुन सकता है। स्टॉप-लॉस ऑर्डर एक विशेष सीमा में होना चाहिए और इसे कैंसिल नहीं किया जा सकता है।

Current Price और Stop-loss के बीच का अंतर रिस्क रिवॉर्ड रेश्यो के 2% से अधिक नहीं होना चाहिए। आप कवर ऑर्डर का उपयोग करके अपने नुकसान को सिमित करते हैं।


आइए इसे एक उदाहरण से समझते हैं।

नीचे दिए गए इमेज में हमने रिलायंस का स्टॉक लिया है।

मान लीजिए एक ट्रेडर रिलायंस 10 स्टॉक खरीदना चाहता है जिसकी करंट मार्केट प्राइस ₹2021.85 है। 

अब कवर ऑर्डर में एक साथ दो ऑर्डर लगाने का विकल्प होता है।

यहाँ मार्केट ऑर्डर या लिमिट ऑर्डर के साथ स्टॉप-लॉस ट्रिगर प्राइस दोनों एक साथ ही सेट करते हैं।

अब हमने नीचे दिए इमेज में लिमिट ऑर्डर का विकल्प चुना है जहाँ लिमिट ऑर्डर ₹2022.2 सेट किया है और स्टॉप लॉस ट्रिगर प्राइस ₹2020.50 पर सेट किया है।

इनिशियल ऑर्डर एक्सेक्यूटेड होने के बाद, स्टॉक मूल्य आपके सेलिंग प्राइस के स्तर तक पहुंचने के बाद Sell Order ऑटोमेटिक रूप से प्लेस हो जाएगा।

कवर ऑर्डर में  टारगेट ऑर्डर सेट नहीं करते हैं, इसमें केवल इनिशियल ऑर्डर के साथ नुकसान को कम करने के लिए स्टॉप लॉस ऑर्डर सेट करते हैं।  

 


आफ्टर मार्केट ऑर्डर के उपयोग से स्टॉक खरीदना और बेचना

यह ऑर्डर उन निवेशकों या ट्रेडर्स के लिए उपयोगी है जो मार्केट सेशन के दौरान ट्रेड करने में असमर्थ होते हैं। 

आप जेरोधा में AMO ऑर्डर के साथ 3:45 PM से 9:00 AM के दौरान ट्रेड प्लेस कर सकते हैं।

ऑर्डर प्लेस करने के लिए, आप जिस स्टॉक को खरीदना चाहते हैं, उसका चयन करें, इसकी मात्रा और कीमत भरें और “AMO” विकल्प का चयन करें।


Order Validity in Share Market Hindi

  • ऑर्डर की वैधता में दो विकल्प हैं, जो हैं “DAY” और “IOC – Immediate or Canceled”।
  • यदि आप “Day” विकल्प का चयन करते हैं, तो आपका ऑर्डर उस पूरे Trading day के लिए वैलिड रहेगा।
  • यदि आपकी ऑर्डर की मात्रा बहुत अधिक है, तो आप एक Immediate or Canceled (IOC) विकल्प का चयन कर सकते हैं।
  • यदि आप रिलायंस के स्टॉक के लिए 100 ऑर्डर दे चुके हैं और उनमें से केवल 70 स्टॉक के लिए Seller मिलते हैं। इस परिस्थिति में, अगर आपने IOC अप्लाई किया है तो आपके 90 ऑर्डर एक्सीक्यूट हो जाएंगे जबकि शेष 30 को रद्द कर दिया जाएगा।


आप Zerodha Kite Web या Zerodha Kite Mobile Application दोनों का उपयोग करके ऑर्डर दे सकते हैं। 

चूंकि, डेस्कटॉप में बड़ा स्क्रीन होता है, इसलिए आप आसानी से चार्ट का विश्लेषण कर सकते हैं। 

इसके अलावा, किसी ट्रेड को एक्सीक्यूट करने के लिए आप स्टॉक ब्रोकर से मार्जिन का लाभ भी ले सकते हैं।


Zerodha काइट ऐप में डिलीवरी शेयर कैसे खरीदें?

डिलीवरी ट्रेड में कैश एंड कैरी (Cash And Carry) का उपयोग किया जाता है जहां एक निवेशक उसी दिन शेयर बेचने की इच्छा नहीं रखता है।

डिलीवरी में शेयरों को खरीदने के लिए, आपको सबसे पहले “Long Term (CNC)” का विकल्प चुनना होगा।

इसके बाद शेयर की मात्रा दर्ज करें। चूँकि, CNC में शेयर को Long-Term के लिए खरीदा जाता है इसलिए ऑर्डर के प्रकार में “Market” ऑर्डर का विकल्प अच्छा होता है, क्योंकि आप लॉन्ग-टर्म के लिए कोई भी सटीक अनुमान नहीं लगा सकते है।

जबकि आप CNC के तहत शेयर खरीदते हैं तो यहाँ एक GTT (Good till triggered) का ऑप्शन होगा।

अगर आप GTT सुविधा का उपयोग करते हैं तो ऑर्डर ट्रिगर प्राइस हिट होने तक कई ट्रेडिंग सेशन तक एक्टिव रहता है। आप GTT में Buy या Sell दोनों कर सकते हैं।

Buy GTT का उपयोग डिलीवरी में स्टॉक खरीदने के लिए ट्रिगर प्राइस बनाने के लिए किया जाता है। 

GTT Buy Order के साथ, जब ट्रिगर प्राइस होता है, तो मार्केट प्राइस या लिमिट प्राइस के साथ एक Buy Order एक्सचेंज पर प्लेस हो जाता है।

Sell GTT को करंट स्टॉक होल्डिंग से बाहर निकलने के लिए उपयोग किया जाता है। 

इसमें या तो केवल एक टारगेट ऑर्डर या स्टॉप-लॉस और टारगेट आर्डर दोनों ट्रिगर हो सकते हैं, जहां एक ऑर्डर का ट्रिगर दूसरे ऑर्डर को रद्द कर देगा।

आइए इसे एक उदाहरण से समझते हैं।

GTT Buy: नीचे दिए गए उदाहरण में, रिलायंस की मौजूदा कीमत ₹1485.30 है। 

हम ₹1500 का एक ट्रिगर प्राइस रख रहे हैं जो अगर एक्सचेंज में मिलता है, तो ₹1505 पर रिलायंस को खरीदने के लिए एक CNC ऑर्डर प्लेस कर दिया जाएगा।


निष्कर्ष

अधिकतर लोगों का जेरोधा में अकाउंट होने के बावजूद वे यह नहीं जानते कि ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म का उपयोग करके शेयर कैसे खरीदे।

शेयर खरीदने से पहले स्टॉक का विश्लेषण करें। इसके लिए आप किसी स्टॉक को वॉचलिस्ट में जोड़े उसकी डिटेल्स चेक करें। ऑर्डर प्लेस करने से पहले चार्ट पर क्लिक करके स्टॉक का विश्लेषण करें।

Zerodha Kite App में ऑर्डर प्लेस करने के लिए आपको ऑर्डर टाइप चुनना होगा। जहां 4 प्रकार के ऑर्डर टाइप हैं।

ऊपर स्क्रीनशॉर्ट के माध्यम से आपको बेहतर ढंग से समझाया गया है कि आप किस तरह से जेरोधा में ऑनलाइन शेयर बाय कर सकते हैं।


अगर आप भी ज़ेरोधा के साथ शेयर खरीद कर ट्रेड करना चाहते हैं तो आपके पास डीमैट खाता होना चाहिए।

अभी डीमैट खाता खोलने के लिए नीचे दिए गए फॉर्म को भरे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

eleven − three =