शेयर बाजार जोखिम

आजकल शेयर बाजार में बढ़ चढ़ कर शेयर में निवेश कर रहे है, लेकिन एक निवेशक होने के नाते आपको शेयर बाजार जोखिम (Share Market Risk in Hindi) से अवगत होना पड़ेगा।

यह आपके इन्वेस्टमेंट गोल को सुरक्षित रखता है।  

शेयर बाजार जोखिम से बचने के लिए कुछ ऐसे विकल्प हैं, जैसे उनमे इक Stock Market Prediction भी है, जिन्हें अगर अच्छे रणनीतिक रूप से प्लान किया जाए तो यह आपको अमीर बनने या एक्स्ट्रा इनकम बनाने में मदद करेगा। 

अगर आप भी ऐसे छुपे हुए जोखिम से बचना चाहते हैं तो Stock Market Prediction in Hindi का अध्यन करे

अब आप सोच रहे होंगे कि वे क्या हैं?

हम यहां इस पहलू के बारे में विस्तार से बात करेंगें और शेयर बाजार जोखिम को समझने और कम करने की कोशिश करेंगें।

लेकिन, इससे पहले, हम उन कुछ मुख्य शेयर बाजार जोखिम को जानेंगे जो मार्केट में हैं।


Share Market Risk in Hindi 

यह फाइनेंशियल मार्केट के रिस्क को प्रभावित करने वाले फैक्टर्स के कारण ट्रेडर या निवेशक को नुकसान उठाना पड़ता है।

इसे “‘सिस्टेमैटिक रिस्क” के रूप में भी जाना जाता है, और इसे पूरी तरह खत्म नहीं कर सकते, लेकिन ट्रेडर्स इसे कम करने का प्रयास कर सकते हैं।

शेयर मार्केट जोखिम (Share Market Risk in Hindi) में राजनीतिक उथल-पुथल, इंटरेस्ट रेट में बदलाव, प्राकृतिक आपदाएं, मानव निर्मित आपदाएं, मंदी या आर्थिक स्थितियों जैसे कई कारक हैं।

इन रिस्क में से कोई भी फैक्टर होने पर मार्किट एक साथ प्रभावित होगी लेकिन उसका प्रभाव अलग-अलग होगा। यह ‘अनसिस्टेमैटिक रिस्क’ है।

“अनसिस्टेमैटिक रिस्क” को कई नामों जैसे कि नॉन-सिस्टेमैटिक रिस्क, स्पेसिफिक रिस्क, रेसिडुअल रिस्क, या डाइवर्सिफाइएबल रिस्क आदि से भी जाना जाता है।

ये नाम साफतौर पर यह बताते हैं कि निवेश पोर्टफोलियो में विविधता लाने से यह रिस्क कम हो सकता है।

इसके आलावा अगर आप अधिक तनाव में ट्रेड नहीं करना चाहते हो  तो आप Positional Trading पर भी ट्रेड कर सकते हैं यहाँ Positional Trading Meaning in Hindi में इससे सम्बंधित पूरी जानकरी बताई गयी है।


शेयर मार्केट जोखिम के प्रकार

ऊपर हमनें रिस्क की दो केटेगरी बताई है और अब हम शेयर मार्केट रिस्क (Share Market Risk in Hindi) के प्रकार के बारे में बात करेंगे। अपने निवेश से जुड़े रिस्क को एनालाइज़ करना बहुत ज़रूरी है।

इस प्रकार, जोखिम के प्रकार को समझना आपके लिए अनिवार्य हो जाता है।

अगर आप शेयर मार्केट में होने वाले रिस्क को कम करना चाहते हैं तो आपको शेयर मार्केट रिस्क से सम्बंधित सभी चीजों का पता होना जरुरी है।

एक ट्रेडर या निवेशक को विभिन्न शेयर मार्केट रिस्क के प्रकार के बारे में पता होना चाहिए जो उनके ट्रेड या निवेश को प्रभावित करते हैं। वे इंटेरस्ट रेट रिस्क, इक्विटी रिस्क, कमोडिटी रिस्क और करेंसी रिस्क हैं।

चलिए, अब ये रिस्क पर एक-एक करके चर्चा करते हैं:

 इंटेरस्ट रेट रिस्क

इस रिस्क का नाम ही अपने आप को अच्छे से बताता है। जब इंटेरस्ट रेट कुछ कारणों जैसे कि सेंट्रल बैंक अनाउंसमेंट, मोनेटरी पॉलिसी में बदलाव, या अन्य फंडामेंटल फैक्टर की वजह से बदलता है तो वे इस रिस्क के तहत आते हैं।

शेयर बाजार रिस्क (Share Market Risk in Hindi) का यह प्रकार वोलैटिलिटी को कवर करता है। जिस पर इसका सबसे अधिक प्रभाव पड़ता है और वह इन्वेस्टमेंट सिक्योरिटी जैसे कि बॉन्ड है।

इक्विटी रिस्क

यह शेयरों और अन्य निवेश साधनों के प्राइस में होने वाली मूवमेंट यानी बदलाव के आसपास घूमता रहता है।

कमोडिटी ट्रेडिंग रिस्क

कमोडिटी रिस्क में विभिन्न वस्तुओं जैसे कि एग्रीकल्चर या नॉन-एग्रीकल्चर जैसे कच्चे तेल, मेटल, तिलहन, मसाले, कीमती धातु, अनाज, आदि में होने वाला उतार-चढ़ाव शामिल है।

करेंसी रिस्क

इस जोखिम को एक्सचेंज रेट रिस्क के रूप में भी जाना जाता है क्योंकि यह किसी अन्य ट्रेडिंग करेंसी की तुलना करेंसी में होने वाले उतार-चढ़ाव से मैच करता है।

करेंसी रिस्क उन निवेशकों या फर्म के लिए एक महत्वपूर्ण जोखिम है जो किसी अन्य देश में एसेट को रखते हैं।

शेयर मार्केट रिस्क (Share Market Risk in Hindi) के प्रकार की चर्चा करने एक बाद अब हमें शेयर मार्केट रिस्क को एनालाइज करना है।


शेयर मार्केट रिस्क एनालाइज

इन्वेस्टमेंट या ट्रेडिंग करने से पहले सिक्योरिटीज का विश्लेषण करना, शेयर मार्केट रिस्क (Share Market Risk in Hindi) को बढ़ने से रोकने के लिए जरुरी है।

मार्केट का विश्लेषण करने के लिए प्रत्येक ट्रेडर या निवेशक, फंडामेंटल एनालिसिस या टेक्निकल एनालिसिस के विभिन्न उपकरणों का उपयोग करता है।

उनमें से कुछ या तो प्राइस मूवमेंट का अनुमान लगाने के लिए विभिन्न रेश्यो, चार्ट या इंडिकेटर का उपयोग करते हैं। जिनमें से कुछ रेश्यो और इंडिकेटर आमतौर पर उपयोग किए जाते हैं। 

शेयर मार्केट रिस्क की पहचान करने के लिए उपयोग किए जाने वाले ये टूल्स नीचे सूचीबद्ध हैं:

  • स्टैंडर्ड डेविएशन

यह टूल, अपेक्षित मूल्य से प्राइस मूवमेंट गिरावट को मापने में मदद करता है। 

यह एनुअल रिटर्न रेट की तुलना में किसी विशेष इन्वेस्टमेंट की हिस्टोरिकल वोलैटिलिटी की पहचान करता है।

आप करंट प्राइस और पुराने प्राइस के बीच अंतर की आसानी से गणना कर सकते हैं।


चलिए, एक उदाहरण से समझते हैं। मान लें कि HCL Technologies के शेयर वर्तमान में, ₹50 पर ट्रेडिंग कर रहे हैं, और उनका एनुअल रिटर्न ₹5 है।

ऐतिहासिक रूप से, शेयर की कीमत ₹45 हो गई है और एनुअल रिटर्न ₹4.95 थी। यह डेटा, ऐतिहासिक ट्रेंड से मामूली गिरावट दर्शाता है और इसमें जोखिम और वोलैटिलिटी का लेवल कम होता है।

इसके विपरीत, यदि गिरावट अधिक होती है, तो वोलैटिलिटी और रिस्क रेट बढ़ जाता है और कम अनुकूल निवेश बन जाता है।


बीटा 

यह आमतौर पर रिस्क मापने वाला टूल है जो इंडस्ट्रियल सेक्टर या इंडिविजुअल फाइनेंशियल टूल्स के सिस्टेमैटिक रिस्क की लिमिट का मूल्यांकन करता है जो कि पूरे शेयर मार्केट में अपेक्षाकृत कम होता है।

मार्केट की बीटा वैल्यू 1 है और इसका उपयोग फाइनेंशियल सिक्योरिटीज में शामिल जोखिम का आकलन करने के लिए किया जाता है। इसलिए, यदि सिक्योरिटी की बीटा वैल्यू 1 है, तो इसका प्राइस स्टॉक मार्केट मूवमेंट के समान है।

यदि वैल्यू 1 से अधिक है, तो यह मार्केट की तुलना में अधिक वोलेटाइल है। दूसरी ओर, यदि यह 1 से कम है, तो मार्केट की तुलना में वोलैटिलिटी का स्तर कम है।


उदाहरण के लिए, मान लें कि TCS का बीटा वैल्यू 0.75 है, यह कम अस्थिर है, और TATA Motors की वैल्यू 1.2 है तो यह अधिक वोलेटाइल है।


शार्प रेश्यो

इस टूल का उपयोग म्यूचुअल फंड के संभावित रिटर्न पर शेयर मार्केट रिस्क (Share Market Risk in Hindi) को मापने के लिए किया जाता है, जिसे रिस्क-अडजस्टेड रिटर्न के रूप में जाना जाता है। 

क्या आप जानते हैं कि वास्तव में रिस्क-अडजस्टेड रिटर्न क्या है?

चलिए, इसके बारे में बात करते हैं। 

वे निवेशक या ट्रेडर द्वारा सरकारी बॉन्ड या फिक्स्ड डिपॉजिट (एफडी) जैसी रिस्क फ्री एसेट द्वारा दिए गए रिटर्न की तुलना में कमाया हुआ रिटर्न हैं। इन दो रिटर्न अमाउंट के बीच के अंतर को “एक्स्ट्रा रिस्क” कहा जाता है।

एक निवेशक या ट्रेडर शेयर मार्केट के सेगमेंट जैसे इक्विटी, डेरिवेटिव्स, कमोडिटी आदि में निवेश करके इस जोखिम को उठाता है।

सिक्योरिटी के लिए स्टैंडर्ड डेविएशन का उपयोग करके रिस्क को कैलकुलेट किया जाता है। इसका फॉर्मूला इस प्रकार है:

शार्प रेश्यो = (एवरेज फंड रिटर्न – रिस्क फ्री रेट) / फंड रिटर्न का स्टैंडर्ड डेविएशन

मान लीजिए कि रिलायंस इंडस्ट्रीज का प्रति वर्ष 1.25 का शार्प रेश्यो है; यह सिक्योरिटी में जोड़े गए प्रत्येक 1% एनुअल वोलैटिलिटी के मुकाबले 1.25% अधिक रिटर्न जेनरेट करता है।

आर-स्क्वेरड 

जब एक विशेष फाइनेंशियल सिक्योरिटी के लिए प्राइस मूवमेंट का प्रतिशत एक बेंचमार्क इंडेक्स के मूवमेंट के खिलाफ मापा जाता है, तो उस मिलने वाले सांख्यिकीय मूल्य (Statistical Value) को आर-स्क्वेरड के रूप में जाना जाता है।

हर सेगमेंट के लिए बेंचमार्क इंडेक्स अलग है। मूल रूप से दो इंडेक्स यानी सेंसेक्स और निफ्टी शेयर बाजार इंडेक्स हैं। 

यह वैल्यू 0 से 100 के बीच कहीं भी होती है। अगर यह वैल्यू 100 के करीब है तो यह इंडेक्स की तरह मूव कर रही है और यदि यह शून्य के करीब है तो इसका मतलब है कि यह इंडेक्स की तरह काम नहीं कर रही है।


उदाहरण के लिए, मान लें कि कल्याण ज्वैलर्स की आर-स्क्वैयरड वैल्यू 95 है। फिर यहाँ अधिक संभावना हो जाती है कि प्राइस मूवमेंट, इंडेक्स मूवमेंट के रेश्यो में होगा।

दूसरी ओर, मान लें कि यस बैंक की वैल्यू 35 है। तो यह वैल्यू इंडेक्स परफॉरमेंस को फिर से दोहराने की सम्भावना को कम करती है। इन वैल्यू को तीन भागों में विभाजित किया गया है:

    1% से 40%  – बेंचमार्क के लिए कम सहसंबंध

40% से 70%   – बेंचमार्क के लिए औसत सहसंबंध

70% से 100% – बेंचमार्क के लिए उच्च सहसंबंध


वैल्यू एट रिस्क (VaR)

शेयर मार्केट रिस्क (Share Market Risk in Hindi) के विश्लेषण के लिए यह टूल किसी कंपनी या पोर्टफोलियो से जुड़े जोखिम का आकलन करता है।

यह वैल्यू एट रिस्क (VaR) को मापता है और यह एक विशिष्ट अवधि के लिए किया जाता है।


चलिए मान लेते हैं कि बर्गर किंग का ₹1 लाख निवेश मूल्य के लिए 10% VaR है। इसलिए, निवेशक के पास एक वर्ष में ₹1 लाख से अधिक के नुकसान का 10% नुकसान उठाने का मौका है।

VaR का एक विस्तार सीवीआरआर (कंडीशन वैल्यू एट रिस्क) है। यह टूल, एक इन्वेस्टमेंट के टेल रिस्क को मापता है। टेल रिस्क, एक डिस्ट्रीब्यूटर के टेल एन्ड में होने वाले इवेंट्स हैं।

वीएआर और सीवीआरआर के बीच अंतर यह है कि सीवीआरआर अधिकतम नुकसान सीमा से परे जोखिमों का आकलन करने की कोशिश करता है।

इस कांसेप्ट की समझ को आसान बनाने के लिए, मान लें कि TCS को संभावित परिणामों के एक प्रतिशत के लिए औसत नुकसान के साथ ₹10 लाख का निवेश करना है। इस प्रकार, एक प्रतिशत टेल के लिए CVAR ₹10 लाख है।

जैसा कि हमने शेयर मार्केट रिस्क एनालिसिस को समझ लिया है तो आइए, अब इस जोखिम के मैनेजमेंट को जानते हैं।


शेयर बाजार रिस्क मैनेजमेंट

एक ट्रेडर या निवेशक के रूप में सभी सावधानियों को ध्यान में रखते हुए शेयर मार्केट रिस्क का मैनेजमेंट करना बहुत महत्वपूर्ण है।

इसलिए, शेयर मार्केट रिस्क (Share Market Risk in Hindi) मैनेजमेंट को समझने की जरुरत है।

मार्केट को प्रभावित करने वाले फैक्टर मंदी, इन्फ्लेशन, इंटेरस्ट रेट, इकोनॉमिक ग्रोथ, करेंसी, उतार-चढ़ाव, और ऐसे अन्य कारक हैं।

इनके इवेंट्स का अनुमान नहीं लगाया जा सकता, जिसके कारण मार्केट में वोलैटिलिटी और रिस्क पैदा हो जाता है।

वोलैटिलिटी, आपके लाभ को कम करने का काम करता है। इसलिए, एक्स्ट्रा रिस्क लेना लाभदायक लग सकता है, लेकिन इसके लिए जोखिम को अनदेखा करना नासमझी हो सकती है।

इसके अलावा, ट्रेडर और निवेशक भेड़चाल में चलने की मानसिकता को छोड़ नहीं सकता।

सरल शब्दों में, ऐसा तब होता है जब लोग भीड़ का पीछा करते हैं’ और अपनी भावनाओं को ट्रेडिंग प्रक्रिया में शामिल करते हैं। 

भावनाओं में रहकर वे तब शेयर खरीदते हैं जब उनका प्राइस बढ़ता है और जब कीमतें कम हो जाती हैं तब वे उन्हें बेचते हैं जिससे वे नुकसान उठाते हैं।

दूसरी समस्या यह है कि ये उच्च जोखिम वाले शेयर को बढ़ावा देती है। 

शेयर बाजार में बुलिश और बेयरिश का अनुमान करना असंभव है, इसलिए निवेशक को उन जोखिमों को मैनेज करना सीखना चाहिए जो उनके निवेश को कमजोर बनाते हैं।

नीचे कुछ चीजें बताई गयी है जो ट्रेडर्स और निवेशकों द्वारा समान रूप से की जाती है।

  • टैक्टिकल एसेट एलोकेशन का उपयोग करें 

शेयर मार्केट के बुद्धिमान ट्रेडर और निवेशक अस्थिरता के समय सबसे अधिक सक्रिय हो जाते हैं।

वे तब खरीदते हैं जब मार्केट में एसेट की कीमतों का मोलभाव किया जाता है और एसेट की कीमत महंगी होने पर न्यूनतम संभव एसेट का मालिक होता है।

लेकिन इससे पहले, शेयर बाजार के नियम को जानना सबसे अच्छा है।

रिटर्न रेट का अवलोकन करने के लिए आप अपने पुरानी गलतियों से सीख सकते हैं। 

जब शेयर मार्केट में शेयर, वैल्यूएशन कम होने पर ज्यादा रिटर्न और ज्यादा वैल्यूएशन होने पर कम रिटर्न देता है, तब स्टॉक्स खरीदने चाहिए।

  • वैल्यू रूल्स और स्ट्रैटेजी बनाना

किसी भी रणनीति या योजना के साथ कोई भी ट्रेड या निवेश किसी भी समय खतरे से कम नहीं है। 

आपके पास आखिरी मिनट की उथल-पुथल से बचने के लिए अपने टारगेट बेस्ड इन्वेस्टमेंट रिसर्च, रणनीतियों, जोखिम की क्षमता और पहले से तय किए गए नियम होने चाहिए।

इस प्रकार एक स्ट्रेस फ्री ट्रेडिंग स्ट्रेटेजी आपको जोखिम से बचने में मदद करती है। किसी एक रणनीति को फॉलो करें और उसके अनुसार मार्केट ट्रेंड को चेंज करते रहे।

अगर आप ऐसा नहीं करते हैं तो स्टॉक मार्केट इनमें से किसी को फॉलो करेगा और फिर आपको जरुरत से ज्यादा नुकसान उठाना पड़ेगा। 

  • अधिकतम पोर्टफोलियो ड्राडाउन पॉलिसी स्थापित करें 

अपनी इनवेस्टमेंट लिमिट को तय करना बेहद जरूरी है। मैक्सिमम पोर्टफोलियो ड्राडाउन पॉलिसी, आपके लिए यह लिमिट तय करती है।

यह पॉलिसी, इमोशनल एसेट एलोकेशन बदलावों को कम करने में भी मदद करती है।

एक निवेशक या ट्रेडर यह चाहता है कि जोखिम कम से कम हो और रिटर्न अधिक हो। इसके लिए आपको उस सिक्योरिटी से जुड़े शेयर मार्केट रिस्क का विश्लेषण करना चाहिए और फिर उसे कम कीमत पर खरीदें।

यह काम आपको वैल्यू, प्राइस पर ध्यान केंद्रित करने में मदद करता है, जिससे आपको आगे की योजना बनाने का समय मिल जाता है।

शेयर बाजार में अपने रिस्क को मैनेज करने के लिए ये कुछ सबसे अधिक उपयोग किए जाने वाले तरीके थे। इन चरणों का पालन करने के बाद भी आप में से कुछ लोग इन परेशानियों का सामना थे।

इस प्रकार, अगले सेक्शन में हम आपके शेयर मार्केट रिस्क (Share Market Risk in Hindi) को और कम करने के तरीकों पर चर्चा करेंगे।


रिस्क के बिना शेयर मार्केट में निवेश कैसे करें?

एक ट्रेडर या निवेशक के रूप में, आप उन सिक्योरिटीज में निवेश या ट्रेड नहीं करना चाहेंगे जिनमें अधिक वोलैटिलिटी है। 

आप मार्केट में रिस्क लेने के लिए तैयार हो सकते हैं, लेकिन किसी व्यक्ति द्वारा उठाए जा सकने वाले रिस्क के लिए हमेशा एक लिमिट होती है।

शेयर मार्केट रिस्क (Share Market Risk in Hindi) के इस सेक्शन में हम रिस्क को कम करने के लिए संभव लेवल पर बात करेंगें।

नीचे ऐसे चार तरीकों की सूची दी गई है और उन पर विस्तार से चर्चा की गई है।

  • अपने उद्देश्यों को समझें

क्या आप जानते हैं कि इस टिप्स को दुनिया के सबसे अमीर निवेशक मिस्टर वॉरेन बफे ने भी फॉलो किया है। 

वह इस फैक्ट से सहमत है कि आपको पता होना चाहिए कि आप क्या खरीद रहे हैं और क्यों खरीद रहे हैं।  

यह जानना महत्वपूर्ण है कि आप किसी कंपनी में उसके शेयर या स्टॉक या सिक्योरिटीज को खरीदकर निवेश क्यों करना चाहते हैं।

आजकल ट्रेडर्स और निवेशक इस फैक्ट को नजरअंदाज करते हैं कि वे वास्तव में निवेश कर रहे हैं, न केवल प्राइस मूवमेंट से मुनाफा कमा रहे हैं।

आपको निवेश करने से पहले कंपनी के ऑपरेशन, फाइनेंशियल और अन्य कारकों के बारे में सीखना चाहिए।

बिज़नेस मॉडल को जानें बिना निवेश करना, अँधेरे में तीर चलाने के समान है।

  • अपने पोर्टफोलियो में विविधता लाएं

सोचिए कि आपको अपने जीवन में सिर्फ एक ही प्रकार का खाना मिले, तो यह न केवल बोरिंग होगा बल्कि एक पोषण संबंधी गैप भी है। आप कई आवश्यक विटामिन और मिनरल्स को मिस कर देंगें।

क्या आप इस बारे में कन्फ्यूज हैं कि इन सबका इस आर्टिकल से क्या मतलब है? यह बताता है कि सिर्फ एक फाइनेंशियल सिक्योरिटी में निवेश ही काफी नहीं है।

एक निवेशक या ट्रेडर द्वारा सबसे बड़ी भूल अपने पोर्टफोलियो में विविधता नहीं लाना है।

शेयर बाजार में निवेश करने से पहले यह स्पष्ट करना बेहतर है कि शेयरों में क्या निवेश किया जाए? क्योंकि यह आपको सेगमेंट में अनिश्चितता से बचाएगा।

डायवर्सिफिकेशन से हमारा मतलब है कि विभिन्न सेक्टर, इंडस्ट्रीज और देशों की कई फाइनेंशियल सिक्योरिटीज में निवेश से रिटर्न पर शेयर मार्केट रिस्क कम होगा। डायवर्सिफिकेशन की डिग्री निवेशक पर निर्भर करती है।


उदाहरण के लिए, आप अपनी सभी इन्वेस्टमेंट अमाउंट को केवल एक कंपनी या सिक्योरिटी में निवेश करते हैं और कंपनी की शेयर वैल्यू अचानक कम हो जाती है।

हम आपको इसका दोष नहीं देंगें। इसलिए, अनुभवी ट्रेडर्स और शेयर बाजार के विशेषज्ञों द्वारा यह सलाह दी जाती है कि आपको अपने पोर्टफोलियो को जितना हो सके डायवर्सिफाई बनाने की कोशिश करनी चाहिए।

निवेशक या ट्रेडर को अपने निवेश टारगेट और प्लान के लिए सही स्तर पर विविधता लानी चाहिए।


  • भावनात्मक निवेश से बचें

यह देखा गया है कि बहुत से लोग कम से कम के साथ ट्रेडिंग या निवेश शुरू करते हैं लेकिन निश्चित रूप से, वे इमोशन्स को शामिल करते हैं और स्ट्रेटेजी को पीछे छोड़ देते हैं। इससे नुकसान ज्यादा होता है।

निवेशकों और ट्रेडर्स द्वारा फेस की जाने वाली परेशानियों में इमोशन्स का बहुत बड़ा हाथ है। 

इमोशन्स का पीछा करने से ना तो शॉर्ट-टर्म निवेशक ही रह पाए हैं और ना ही लॉन्ग-टर्म निवेशक पीछे रहे हैं। कई लोग भेड़चाल की इस मानसिकता को फॉलो करते हैं जिससे उन्हें भारी नुकसान उठाना पड़ता है।

इस प्रकार, कोई फर्क नहीं पड़ता कि ट्रेडर या निवेशक को ट्रेड एक्सीक्यूट करने से पहले रणनीति या निवेश योजना का पालन करना चाहिए। बस ध्यान रहे कि अनुशासित रहें और मार्केट, मीडिया की अटकलों से बचें।

  • लॉन्ग-टर्म निवेश

शॉर्ट-टर्म निवेश के मामले में मार्केट का अनुमान लगाना मुश्किल है।

लेकिन सफल होने के लिए सबसे बड़ा मौका रणनीति होती है जो मार्केट में लॉन्ग-टर्म इन्वेस्टमेंट पर ध्यान केंद्रित करती है।

एक लॉन्ग-टर्म स्ट्रैटेजी से सफलता के अवसर बढ़ जाते हैं।

इसके अलावा, आप लॉन्ग-टर्म निवेश करके शेयर मार्केट रिस्क (Share Market Risk in Hindi) को कम कर सकते हैं। 

इन्वेस्टमेंट रिटर्न, सिक्योरिटी की होल्डिंग अवधि पर निर्भर करता है। शॉर्ट-टर्म इन्वेस्टमेंट में मार्केट का अनुमान लगाना मुश्किल है।

शेयर की वैल्यू में बढ़ोतरी के बाद खरीदारी करना और कम वैल्यूएशन के बाद बेचना इन दिनों निवेशकों में देखी जाने वाली आम गलती है।

इसलिए, शेयर मार्केट में निवेश करने का सबसे अच्छा तरीका है कि अच्छी कंपनियों में और लॉन्ग-टर्म के लिए निवेश करें।

इसलिए, शेयर मार्केट में निवेश करने से पहले शेयर मार्केट अकाउंट ओपनिंग प्रक्रिया को जानें और फिर शेयर मार्केट के फायदों का लाभ उठाएं।


निष्कर्ष 

शेयर मार्केट रिस्क (Share Market Risk in Hindi) क्या है जानें और फिर रिस्क को कम करने के लिए शेयर मार्केट रिस्क का विश्लेषण करें और देखें कि उस रिस्क को कैसे मैनेज करें।

शेयर मार्केट रिस्क खत्म नहीं किया जा सकता। आप बस इसे कम कर सकते हैं और अच्छे से मैनेज कर सकते हैं। आपको हमेशा जल्दबाजी में फैसले लेने और भावनात्मक निवेश से बचना चाहिए।

यदि आप अपने उद्देश्यों को लेकर सुनिश्चित हैं तो आपको भेड़चाल का पीछा नहीं करना चाहिए।

किसी कंपनी के फाइनेंस को समझने के लिए और मार्केट का अनुमान लगाने के लिए विभिन्न प्रकार के फंडामेंटल और टेक्निकल एनालिसिस टूल्स का उपयोग करना चाहिए। हमेशा याद रखें कि नंबर झूठ नहीं बोलते हैं।

इसलिए, जब आप अपनी मेहनत की कमाई को सिक्योरिटी खरीदने में लगाते हैं, तो आपको उसके लिए सावधान रहना चाहिए।

शेयर बाजार से मुनाफा कमाने के लिए सबसे जरुरी है अनुशासित रहना और निवेश करने से पहले योजना बनाना है। आपको पता होना चाहिए कि आप किस कंपनी में निवेश कर रहे हैं और आपका उद्देश्य क्या है।

चूंकि प्रत्येक ट्रेड और इन्वेस्टमेंट का एक लक्ष्य होता है। इसलिए अपने लक्ष्यों को स्पष्ट रखें और मार्केट ट्रेंड के साथ चलें।


यदि आप शेयर मार्केट में ट्रेडिंग करना चाहते हैं तो डीमैट खाता खोलें। 

डीमैट खाता खोलने के लिए नीचे दिए गए फॉर्म को देखें:

यहाँ अपना बुनियादी विवरण भरें और उसके बाद आपके लिए कॉलबैक की व्यवस्था की जाएगी। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

9 − two =