शेयर मार्केट को कैसे समझें

शेयर मार्केट के अन्य लेख

आज के समय में पैसे की महत्ता को कौन नहीं समझता है। हर व्यक्ति ज्यादा से ज्यादा कमाने की संभावनाओं की तलाश में रहता है। इन सब में शेयर मार्केट (Share Market in Hindi) सबसे पसंदीदा क्षेत्र के रूप में उभर कर आया है। लेकिन कई लोग जानकारी के अभाव में इन्वेस्ट नहीं कर पाते है। ऐसे लोगों के मन में  हमेशा एक सवाल रहता है की शेयर मार्केट को कैसे समझें?

आपके इसी सवाल का जवाब देने के लिए, आज इस पोस्ट में शेयर मार्केट को कैसे समझें या निवेश करने के तरीकों के बारे में विस्तार से बात करेंगे।

यदि आपको फिर भी शेयर मार्केट को समझने में मुश्किल आ रही है तो आप अधिक जानकारी के लिए Stock Exchange Meaning in Hindi को विस्तार से पढ़ सकते हैं।

अगर आप एक नए निवेशक है या फिर ट्रेडिंग कर रहे है तो आपको शेयर मार्केट के मूल शब्द यानी कि Bull Market Meaning in Hindi के बारे में भी पता होना चाहिए।

यह भी पढ़ें: शेयर बाजार से करोड़पति

हम मानते हैं कि शेयर बाजार के फायदे और नुकसान हैं।

लेकिन, यदि आप उचित जानकारी के साथ, सही स्टॉक में निवेश करने के लिए विस्तारपूर्वक और उचित फंडामेंटल और स्टॉक का टेक्निकल एनालिसिस कर सकते हैं और साथ ही Share Market Expert Advice in Hindi भी ले सकते हैं।

यह केवल आपको निवेश के लिए सही निर्णय लेने में ही मदद नहीं करता है बल्कि आपके मेहनत की कमाई पैसे को डूबने से भी बचाने में मदद करता है।

इस प्रकार, यदि आप एक शुरूआती इन्वेस्टर या ट्रेडर है और आप यह जानना चाहते हो की शेयर मार्केट को कैसे समझें, तो आपको इस लेख में सभी जानकारी मिलेगी, जो आपको मदद करेगी।

आइये शुरू करते है।

यह भी पढ़े: शेयर बाजार का गणित और शेयर मार्केट अकाउंट


How to Understand Share Market in Hindi

आप चाहे कोई इम्तिहान दे रहे है या फिर अपना नया बिज़नेस सेटअप करने जा रहे है, आपको सबसे पहले स्पष्ट और पर्याप्त जानकारी होनी चाहिए।

इसी तरह, जब आप शेयर मार्केट में निवेश करते है तो यह बहुत जरुरी हो जाता है की आपको शेयर बाजार के नियम की जानकारी हो।

शुरूआती ट्रेडर्स के लिए, स्टॉक मार्केट को समझना थोड़ा मुश्किल हो सकता है, क्योंकि यह बहुत ही जटिल प्लेटफॉर्म है। कई लोग स्टॉक मार्केट में लॉन्ग-टर्म  फाइनेंशियल गॉल के तहत इन्वेस्ट करते है लेकिन पर्याप्त जानकारी के बिना असफल हो जाते है।

आप हमारे अन्य समीक्षा शेयर मार्केट टिप्स भी पढ़ सकते है।

जब आप स्टॉक मार्केट में इन्वेस्टमेंट करने के बारे में आश्वस्त हो जाते है तो सबसे पहले आपके दिमाग में होना चाहिए की शेयर मार्केट को कैसे समझें? आप इसके लिए बुनियादी टर्म्स जैसे बॉन्ड्स, शेयर, डेरीवेटिव और म्यूच्यूअल फंड इत्यादि के बारे में पढ़ सकते है।

इसके अलावा, अपने खुद के ऑब्जेक्टिव को समझने से भी मार्केट में एंट्री करने में मदद मिलती है। अगर आप केवल प्रॉफिट कमाने के उद्देश्य से जाते है तो आपके लिए ट्रेडिंग एक विकल्प हो सकता है, लेकिन अगर आप मार्केट में पूँजी बनाने के उद्देश्य से जाते है तो आपको सही स्टॉक में निवेश करना होगा।

यह भी पढ़ें: Face Value of Share in Hindi

इस प्रकार, अपना ऑब्जेक्टिव स्पष्ट रखे और अपने पैसे का सही उपयोग करने के लिए उसी के अनुसार प्लान बनाएं।

स्टॉक एक्सचेंज, स्टॉक मार्केट का एक सेंटर है जो वित्तीय साधनों (Financial Instrument) के टारगेट बायर (निर्धारित खरीददार) और ट्रेडर के बीच लेन-देन करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

भारत के दो प्रमुख स्टॉक एक्सचेंज बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) हैं। ये एक्सचेंज सेबी द्वारा पालन किए जाने वाले नियमों और विनियमों को निर्धारित करते हैं।

इस प्रकार, स्टॉक एक्सचेंज खरीदारों और विक्रेताओं दोनों के लिए ट्रेडिंग सेशन के दौरान अपने फाइनेंशियल इंस्ट्रूमेंट का ट्रेड करने के लिए एक प्लेटफॉर्म है।

सरल शब्दों में, एक्सचेंज एक ऐसा प्लेटफॉर्म है, जहां ट्रेडर सूचीबद्ध कंपनियों के शेयरों को खरीद या बेच सकते हैं और अपने इंवेस्टमेंट को कैश में बदल सकते हैं।

सूचकांक, सेंसेक्स, और निफ्टी निवेशकों को सक्रिय रूप से ट्रेड किए गए शेयरों में निवेश करने और उन कंपनियों का विश्लेषण करने में मदद करते हैं जो अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं और समय के साथ अच्छे रिटर्न की पेशकश कर रहे हैं।

एक इन्वेस्टर अपने पोर्टफोलियो को बेहतर बनाने के लिए इंडेक्स के बारे में सही रिसर्च कर सकता है।

शेयर बाजार की गहराई से जानकारी प्राप्त करने के लिए किताबें, ऑनलाइन प्लेटफॉर्म, ऐप और वीडियो जैसे कई विकल्प हैं।

इसके आगे, हम आपको शेयर मार्केट चार्ट, ग्राफ़ और स्टॉक मार्केट के कामकाज के बारे में बताएंगे।

यह भी पढ़ें: सेंसेक्स कंपनी लिस्ट

शुरूआती निवेशक किताबों के द्वारा शेयर मार्केट को कैसे समझें 

जब किसी विशेष स्टॉक के बारे में पर्याप्त जानकारी इकठ्ठा करना हो तो सबसे पहला विकल्प किताब का विकल सामने आता है। इस प्रकार, एक निवेशक अगर सोचता है की शेयर मार्केट को कैसे समझें तो पहले उसे स्टॉक मार्केट से रिलेटेड किताबें पढ़नी चाहिए।

अब बात आती है की एक नए ट्रेडर को किस किताब से शुरुआत करना चाहिए।

इसलिए इन्वेस्टमेंट के बारे में और स्टॉक मार्केट के लिए अपने ज्ञान को बढ़ाने के लिए सही स्टॉक मार्केट बुक्स का चयन करे।

सही किताबों का चयन करने के लिए, आप हमारे भारत में शुरूआती निवेशकों के लिए 12 सर्वश्रेष्ठ शेयर बाजार किताबें के ऊपर लेख को पढ़ सकते हैं।

यहाँ आपको कुछ महत्वपूर्ण किताबों की सूची दी है जो एक शुरूआती निवेशकों के लिए उपयोगी होगी।

  • दी इंटेलीजेंट इन्वेस्टर – बेंजामिन ग्रैहम और जैसन ज़्वेइग
  • हाउ टू मेक मनी इन स्टॉक्स – विलियम ओ’नील
  • व्हेन टु सेल – जस्टिन मैमिस
  • इर्रेशनल एक्सूबेरंस – रोबर्ट जे. शिलर
  • स्टॉक इन्वेस्टिंग फॉर डम्मीज – पॉल मिड्जेनोविक
  • ए रैंडम वॉक डाउन वॉल स्ट्रीट – बर्टोन जी. मल्कीएल
  • मार्केट्स विज़ार्ड्स – जैक डी. सच्वगेर
  • स्टॉक्स फॉर दी लॉन्ग रन 5/E –  जेरेमी जे. सीगेल

अपने उद्देश्य को समझकर, शेयर बाजार के बेहतर विचार और जानकारी प्राप्त करने में आपकी मदद करने वाले किताब को चुनें।

ये भी पढ़े: शेयर बाजार में करियर


भारत के शेयर मार्केट को कैसे समझें 

ट्रेड और इन्वेस्टमेंट की दुनिया में कदम रखने से पहले शेयर मार्केट को कैसे समझें? इस सवाल का जवाब जानना बहुत महत्वपूर्ण है।

भारत में, सही प्लेटफॉर्म की तलाश करके आप ट्रेड करने के तरीके, विभिन्न प्रकार के वित्तीय साधनों और विभिन्न ट्रेडिंग रणनीतियों को समझने में सक्षम होंगे जो आपको समय के साथ एक अच्छा लाभ देते हैं।

अब शेयर बाजार को कैसे समझें, के बारे में बात करते हैं। चलिए, फिर प्राइमरी और सेकेंडरी मार्केट की अवधारणा के साथ शुरू करते हैं।

आसान शब्दों में, जब कंपनी पहली बार अपने शेयर सार्वजनिक करती है, यानी आईपीओ जारी करती है तो इसे प्राइमरी मार्केट कहा जाता है। बाद में, लिस्टेड शेयरों को सेकेंडरी मार्केट में आगे ट्रेड किया जाता है।

सेकेंडरी मार्केट के कांसेप्ट को समझने के लिए आप Secondary Market in Hindi को पढ़ सकते हैं।

इसलिए, आप या तो आईपीओ में निवेश कर सकते है या आप उस विशेष कंपनी के शेयरधारक बनकर सेकेंडरी मार्केट से शेयर खरीदते हैं। बदले में, कंपनी आपको उन शेयरों के लिए डिविडेंड प्रदान करती है जो आपके द्वारा अर्जित लाभ के आधार पर रखते हैं।

इसके बाद विभिन्न प्रकार के स्टॉक आते हैं, जिसमें से एक स्टॉक मार्केट ऑर्डर है।

ये शेयर बाजार पूंजीकरण (Market Capitalization) के आधार पर एक दूसरे से भिन्न होते हैं और लार्ज कैप स्टॉक, मिड कैप और स्मॉल कैप स्टॉक के रूप में वर्गीकृत किए जाते हैं।

लार्ज कैप स्टॉक्स: ये स्टॉक वे हैं जो बाजार में बहुत ज्यादा लोकप्रिय हैं और बाजार में एक अच्छी उपस्थिति है। उदाहरण के लिए, इंफोसिस, टीसीएस जैसी शीर्ष आईटी कंपनियों के शेयर लार्ज कैप शेयरों में आते हैं।

मिड कैप स्टॉक्स: ये कंपनियां लार्ज कैप स्टॉक बनने की क्षमता की संभावना के साथ आगे बढ़ती है, लेकिन लार्ज-कैप कंपनियों की तुलना में जोखिमपूर्ण हैं।

स्मॉल-कैप स्टॉक्स: इसमें स्टार्ट-अप कंपनियां शामिल हैं। चूंकि वे अपने विकास की शुरुआत में हैं, इसलिए अन्य श्रेणियों की तुलना में उनके शेयरों में निवेश करना बेहद जोखिम भरा है।

यदि आप इन शेयरों को सही से समझते हैं तो Large Cap Mid Cap Small Cap in Hindi को पढ़ें जिससे आपको निवेश के लिए सही स्टॉक चुनने में मदद मिलेगी।


जानें कैसे स्टॉक मार्केट काम करता है 

एक बार जब कंपनी स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध हो जाती है, तो कंपनी द्वारा जारी किए गए स्टॉक को फिर सेकेंडरी बाजार में ट्रेड किया जाता है।

स्टॉक की खरीद और बिक्री ब्रोकर या ब्रोकरेज फर्मों द्वारा की जाती है जो निवेशक और एक्सचेंज के बीच एक बिचौलिया के रूप में कार्य करते हैं।

ब्रोकर वह है जो शेयरों के एक्सचेंज के लिए बाय ऑर्डर देता है। एक्सचेंज तब उसी शेयर के लिए सेल ऑर्डर की तलाश करता है।

फिर, सेलर और बायर निर्धारित होते है और एक निश्चित मूल्य पर सहमत बनती हैं। अंतिम रूप देने पर, एक्सचेंज तब ब्रोकर के साथ उस ऑर्डर की पुष्टि करने के लिए संचार करता है जो ट्रेडर को ऑर्डर का विवरण प्रदान करता है।

इसके साथ ही, एक्सचेंज यह सुनिश्चित करने के लिए खरीदार और विक्रेता के विवरण की पुष्टि करता है कि दोनों पक्ष विश्वसनीय हैं।

एक बार जानकारी प्राप्त करने के बाद, शेयरों का ओनरशिप विक्रेता (Seller) से खरीदार(Buyer) को ट्रांसफर कर दिया जाता है और इस प्रकार सेटलमेंट साइकिल के अंत को चिह्नित किया जाता है।

पहले, शेयरों को ट्रांसफर करने की प्रक्रिया में एक सप्ताह से कुछ दिन लगते हैं। लेकिन ऑनलाइन ट्रेडिंग के साथ, इस पूरी प्रक्रिया को केवल T + 2 दिनों (ट्रेडिंग के बाद अगले दो दिन) में पूरा कर लिया जाता है।

उदाहरण के लिए, आपने आज कोई भी शेयर खरीदा है, फिर उसे दो दिनों के बाद आपके डीमैट खाते में डिपॉजिट किया जाता है।

लेन-देन के पूरा होने पर, ब्रोकर एक कॉन्ट्रैक्ट नोट जारी करता है जिसमें ट्रेडिंग डेट  और समय जैसे लेनदेन का विवरण होता है।

यहां यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि प्रत्येक ट्रेड के अंत में, एक निवेशक को ब्रोकरेज शुल्क, स्टांप ड्यूटी और लेनदेन कर का भुगतान ब्रोकर को करना पड़ता है।

ट्रेडिंग के लिए शेयर मार्केट को कैसे समझें 

एक बार जब आप शेयर बाजार को कैसे समझें, इसके बारे में आईडिया मिल जाता है तो ट्रेडिंग की पूरी प्रक्रिया को जानना महत्वपूर्ण कदम होता है।

एक तरफ, जहां शेयर बाजार बहुत आकर्षक लगता है, तो वहीं दूसरी तरफ जोखिम भी बहुत है।

इसलिए, स्टॉक ट्रेडिंग की सम्पूर्ण और उचित समझ हासिल करना महत्वपूर्ण हो जाता है। यह आपको एक विशेषज्ञ की तरह ट्रेड करने में मदद करता है और अंततः आपके निवेश लक्ष्यों को पूरा करने में आपकी मदद करता है।

ट्रेडिंग और इन्वेस्टमेंट में अधिकतम लाभ प्राप्त करने के लिए अपनी आवश्यकताओं को भी समझना महत्वपूर्ण है। आप किस तरह के निवेशक हैं? अपने निवेश लक्ष्यों और इसके साथ जुड़े जोखिमों के बारे में इस ज्ञान के अलावा, यह आपको बेहतर ट्रेडिंग निर्णय लेने में मदद करता है।

यह भी पढ़ें: बुल मार्केट 


इन्वेस्टमेंट के लिए शेयर मार्केट को कैसे समझें 

निवेश करने के लिए शेयर मार्केट को कैसे समझें? इसको समझने के लिए आपको बैलेंस शीट कैसे पढ़ें, कंपनी के निवेश के बारे में जानना, और विभिन्न फंडामेंटल रेश्यो के बारे में समझना होगा।

यह महत्वपूर्ण है क्योंकि लंबी अवधि के लिए शेयरों में निवेश शेयरों को रखने और वर्षों के लिए निवेश के बारे में है। यहां लॉन्ग-टर्म इन्वेस्टमेंट की उचित अवधारणा को जानना महत्वपूर्ण हो जाता है।

अधिकतम लाभ प्राप्त करने और रिटर्न के लिए, आप विभिन्न वित्तीय सेगमेंट के बारे में जानें जिसमें आप निवेश करना चाहते हैं।

चूंकि कई अलग-अलग प्रकार के फाइनेंशियल सेगमेंट हैं, इसलिए अक्सर शुरुआती लोगों के लिए सही विकल्प चुनने के लिए यह भ्रमित हो जाता है।

ब्रोकर कई सेगमेंट जैसे बांड, इक्विटी, डेरिवेटिव, कमोडिटी, फॉरेक्स में ट्रेडिंग विकल्प प्रदान करता है। स्टॉक मार्केट ट्रेडिंग की सही समझ के साथ, आप एक सेगमेंट का चयन करने में सक्षम होंगे जो आपको अधिकतम रिटर्न प्रदान कर सकता है।

इसके अलावा, ट्रेडिंग सेगमेंट से जुड़े ब्रोकरेज प्लान और ट्रेड से जुड़े अन्य शुल्कों को देखें।

शेयर मार्केट को कैसे समझें के सभी महत्वपूर्ण बिंदुओं को समझ कर अच्छा रिटर्न प्राप्त करें और अधिकतम लाभ कमाएं।


शेयर बाजार डेटा कैसे पढ़ें?

शेयरों का निवेश या ट्रेडिंग विश्लेषण शुरू करना महत्वपूर्ण हो जाता है। इसलिए यदि आप एक निवेश यात्रा शुरू करने की सोच रहे हैं तो यहां एक तरीका है जो आपको सफल होने और एक अच्छा रिटर्न अर्जित करने में मदद कर सकता है।

स्टॉक मार्केट की मूल बातें जानना और स्टॉक मार्केट डेटा पढ़ने की समझ हासिल करना आपको एक बेहतर निर्णय लेने और विशेषज्ञ की तरह निवेश करने में मदद करता है।

इसमें चार्ट पैटर्न, विभिन्न प्रकार के इंडिकेटर, ट्रेडिंग की अवधारणा, और विभिन्न प्रकार के सेगमेंट आदि शामिल हैं।

इसके अलावा, आपको एक बुद्धिमान और स्मार्ट निर्णय लेने में सही स्टॉक का चुनाव, स्टॉक की कीमतों की बेहतर समझ आदि मदद करता है।

How to Read Stock Market Charts in Hindi

जब शेयर बाजार चार्ट पढ़ने और निवेश करने की बात आती है तो यह महत्वपूर्ण हो जाता है। लेकिन अगर आप शुरुआती पढ़ने और समझने के चार्ट के लिए मुख्य कौशल और ज्ञान की आवश्यकता है।

तो उनके बारे में जानने के लिए जाने से पहले, आइए जानते हैं कि शेयर मार्केट चार्ट क्या है।

सामान्य शब्दों में, शेयर बाजार चार्ट या तकनीकी चार्ट आपको स्टॉक के वर्तमान रुझानों और ट्रेंड रिवर्सल की पहचान करने में मदद करते हैं।

इसके साथ ही, यह ट्रेडिंग सिग्नल और भविष्य की कीमतों की मूवमेंट को बनाता है और आपको विशेष समय सीमा पर स्टॉक की कीमत का एक आईडिया देता है।

यहां विभिन्न प्रकार के स्टॉक मार्केट चार्ट की सूची दी गई है जो आपको प्राइस मूवमेंट की उचित जानकारी प्राप्त करने में मदद करते हैं:

स्टॉक विश्लेषण के लिए चार्ट को पढ़ने के लिए प्रमुख बिंदु चार्ट की पहचान करना, विंडो का चयन करना, और लंबी और छोटी समय सीमा को समझने के लिए अलग-अलग समय के फ्रेम को देखना है।

चार्ट आपको किसी विशेष समय सीमा में ट्रेड किए जा रहे शेयरों की कीमत और वॉल्यूम को ट्रैक करने में भी मदद करते हैं।

यह भी पढ़ें: वॉल्यूम प्राइस ट्रेंड इंडिकेटर (VPT)

VWAP इंडिकेटर


कैंडलस्टिक्स के द्वारा शेयर मार्केट को कैसे समझें 

विभिन्न चार्ट में, ट्रेडर के बीच कैंडलस्टिक्स सबसे आम हैं क्योंकि वे पढ़ना और व्याख्या करना आसान है।

कैंडलस्टिक्स चार्ट को पढ़कर आप स्टॉक केओपन, हाई, लो और क्लोजिंग प्राइस का अंदाजा लगा सकते हैं। उदाहरण के लिए, आप दस मिनट की समय सीमा निर्धारित करते हैं फिर हर दस मिनट के बाद एक नया कैंडलस्टिक चार्ट बनाया जाता है।

इसके अलावा, कैंडलस्टिक चार्ट वर्तमान अवधि को दर्शाते हैं क्योंकि मूल्य विशेष समय सीमा से अधिक चलता है।

संक्षेप में, इन चार्टों का उपयोग पिछले पैटर्न के आधार पर स्टॉक की कीमत की गति को समझने और निर्धारित करने के लिए किया जाता है।

कैंडलस्टिक चार्ट को समझने के लिए फ्री ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म या वेब-आधारित चार्टिंग प्लेटफॉर्म का सबसे अच्छा उपयोग करते हैं।

स्टॉक मार्केट चार्ट की बेहतर समझ और शेयरों के गहन विश्लेषण में बहुत सारी मोमबत्तियाँ प्राप्त करने के लिए एक मिनट के समय के फ्रेम का चयन करें।

इसलिए, यदि आप स्टॉक मार्केट चार्ट की पूरी समझ हासिल करना चाहते हैं, तो एक डेमो ट्रेडिंग अकाउंट या वेब-आधारित चार्टिंग प्लेटफॉर्म खोलें।


प्राइस के लिए शेयर बाजार को कैसे समझें 

जब स्टॉक प्राइस की बात आती है, तो यह सीधे कंपनी के मूल्य के अनुपात में आनुपातिक होता है।

शेयर की कीमत मौजूदा मूल्य का एक संकेत है जो वह अपने खरीदार और विक्रेता को प्रदान करता है।

किसी विशेष स्टॉक में निवेश करने के लिए शेयर निवेशक को कंपनी के अंडरवैल्यूड स्टॉक की तलाश करनी चाहिए यानी उन शेयरों के लिए जिनकी कीमतें उनके वास्तविक मूल्य को प्रतिबिंबित नहीं करती हैं।

सामान्य तौर पर, स्टॉक की कीमत सीधे स्टॉक की सप्लाई और डिमांड पर निर्भर करती है।

उदाहरण के लिए, यदि स्टॉक प्राइस बढ़ने की तुलना में सेलर की तुलना में अधिक खरीदार हैं। दूसरी ओर, जब खरीदारों की तुलना में अधिक विक्रेता होते हैं, तो स्टॉक मूल्य गिर जाता है।

स्टॉक मूल्य के अलावा, इंटेरिंसिक वैल्यू की तलाश करें जिसमें टैंजिबल, इनटैंजिबल कारक और शेयरों का मौलिक विश्लेषण शामिल है।

स्टॉक मूल्य की समझ महत्वपूर्ण है क्योंकि अधिकांश निवेशक केवल शेयर की कीमत को देखकर गलत निवेश निर्णय लेते हैं।

कोई आश्चर्य नहीं, शेयर की कीमत एक निवेश निर्णय लेने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है लेकिन केवल कीमतों पर निर्भर रहने से नुकसान हो सकता है।

इसलिए, निवेश का सही मूल्य प्राप्त करने के लिए किन अन्य चीजों या कारकों पर विचार किया जाना चाहिए?

स्टॉक का मार्केट कैप आपको यह जानने में मदद करता है कि क्या उस विशेष स्टॉक में निवेश करना मूल्यवान है। मार्केट कैप का ज्ञान आपको कंपनी के बेहतर विचार और स्टॉक मूल्य को हथियाने में मदद करता है।

सरल शब्दों में, शेयर बाजार की कीमत वास्तव में किसी विशेष समय में कंपनी के मार्केट कैप में प्रतिशत परिवर्तन है।

इसलिए, कंपनी की कीमत में कोई भी बदलाव सीधे तौर पर उसके मार्केट कैप को प्रभावित करता है जो आम तौर पर व्यापारियों के बीच एक बड़ी चिंता का विषय है।

यहां, जब ट्रेडिंग और निवेश की बात आती है, तो स्टॉक की कीमत आपूर्ति और मांग से प्रेरित होती है। इस प्रकार शेयर बाजार अन्य आर्थिक बाजार के समान है


निष्कर्ष

अगर आप ट्रेडिंग करने की योजना बना रहे है और आप सोच रहे है की शेयर मार्केट को कैसे समझें, तो आप उपरोक्त बिंदुओं को पढ़कर समझ सकते है।

आप कंपनियों के वित्तीय स्थिति को समझने के लिए ग्राफ़ से लेकर चार्ट और शेयर की कीमतों का विश्लेषण कर सकते है जो आगे आपको सही निवेश या ट्रेडिंग निर्णय लेने में मदद करता है।

इसलिए शेयर मार्केट कदम रखने से पहले यह दिमाग में रखें की शेयर मार्केट को कैसे समझें। यह आपको सही निवेश निर्णय लेने में मदद करता है।

अगर आप स्टॉक मार्केट को जानने और जानने के लिए सही प्लेटफॉर्म की तलाश कर रहे हैं तो स्टॉक मार्केट लर्निंग ऐप StockPatshala डाउनलोड करें।


यदि आप एक ट्रेडिंग खाता खोलना चाहते हैं और अपने लिए सबसे उपयुक्त स्टॉक ब्रोकर से जुड़ना चाहते हैं, तो नीचे दिए गए फॉर्म में अपने विवरण प्रदान करें।

हमारी टीम यह सुनिश्चित करेगी कि आपको स्टॉक ब्रोकर से एक निःशुल्क कॉलबैक की व्यवस्था करेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

4 × 1 =