Mrs Bectors Food Specialities IPO

अन्य IPO का विश्लेषण

बेकरी प्रोडक्ट निर्माता बेक्टर फ़ूड आईपीओ (Bectors Food IPO in Hindi) 15-17 दिसंबर के बीच लॉन्च होने वाला है।

इस आईपीओ के सब्सक्रिप्शन के लिए 14 दिसंबर को एक दिन के लिए एंकर बुक खुलेगी।

एसबीआई कैपिटल मार्केट्स, आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज और आईआईएफएल सिक्योरिटीज ऑफर के लिए बुक रनिंग लीड मैनेजर के रूप में काम कर रहे हैं। इक्विटी शेयरों को बीएसई और एनएसई पर सूचीबद्ध करने का प्रस्ताव है।

आप इस आईपीओ का वीडियो रिव्यु नीचे दिए लिंक पर देख सकते हैं।

नया आईपीओ: एंटनी वेस्ट आईपीओ


अगर इस साल लॉन्च हो चुके आईपीओ की बात करें तो अब तक 15 आईपीओ लॉन्च हो गए हैं। इन 15 आईपीओ की एक लिस्ट नीचे दी गयी है।

  1. एसबीआई कार्ड,
  2. रोसारी बायोटेक,
  3. माइंडस्पेस बिजनेस पार्क आरईआईटी,
  4. रूट मोबाइल,
  5. हैप्पीस्ट माइंड्स टेक्नोलॉजीज,
  6. केमकोन स्पेशलिटी केमिकल्स,
  7. एंजेल ब्रोकिंग,
  8. यूटीआई एएमसी,
  9. मझगांव डॉक शिपबिल्डर्स,
  10. लखीथा इन्फ्रास्ट्रक्चर,
  11. कंप्यूटर एज मैनेजमेंट सर्विसेज,
  12. इक्विटास स्मॉल,
  13. फाइनेंस बैंक,
  14. ग्लैंड फार्मा और
  15. बर्गर किंग इंडिया।

यहां 10 प्रमुख बातें हैं जो आपको कंपनी और मुद्दे के बारे में जानना चाहिए:

1) आईपीओ के बारे में

बेकरी प्रोडक्ट मेकर अपने पब्लिक इश्यू के जरिये ₹540.54 करोड़ रुपये फंड जुटाने का प्लान बनाया है।

इस आईपीओ में ₹40.54 करोड़ रुपये का एक फ्रेश इश्यू और शेयरहोल्डर्स को बेचकर ₹500 करोड़ रुपये की ऑफर फॉर सेल शामिल है।

ऑफर फॉर सेल के माध्यम से लाइनस प्राइवेट लिमिटेड ₹245 करोड़, माबेल प्राइवेट लिमिटेड ₹38.5 करोड़, जीडब्ल्यू क्राउन पीटीई लिमिटेड ₹186 करोड़ और जीडब्ल्यू कन्फेक्शनरी पीटीई लिमिटेड ₹30.5 करोड़ रुपये के इक्विटी शेयर बेचेगी

इस ऑफर में योग्य कर्मचारियों के लिए ₹50 लाख रुपये के शेयरों का आरक्षण शामिल है। कर्मचारी प्रति शेयर ₹15 रुपये की डिस्काउंट पर शेयर प्राप्त करेंगे।

वहीं, निवेशक न्यूनतम 50 इक्विटी शेयरों के लिए और उसके बाद 50 के मल्टीप्ल में बोली लगा सकते हैं।

2. प्राइस बैंड

मर्चेंट बैंकर के परामर्श से कंपनी ने पब्लिक इश्यू के लिए ₹286-₹288 रुपये प्रति शेयर का प्राइस बैंड तय किया है।

3) इश्यू के उद्देश्य

बिस्किट के लिए एक नई उत्पादन लाइन की स्थापना करके, मिसेज बेक्टर्स खाद्य विशेषज्ञ (Mrs Bectors Foods Specialties) राजपुरा मैन्युफैक्चरिंग फैसिलिटीज के विस्तार के लिए फ्रेश इश्यू का फंड का  उपयोग करेंगे।

हालांकि, कंपनी ऑफर फॉर सेल से कोई इनकम प्राप्त नहीं करेगी।

4) कंपनी प्रोफाइल

टेक्नोपैक रिपोर्ट के अनुसार, मिसेज बेक्टर फ़ूड स्पेशलिटी प्रीमियम और मिड-प्रीमियम बिस्कुट सेगमेंट और उत्तर भारत में प्रीमियम बेकरी सेगमेंट की प्रमुख कंपनियों में से एक है।

यह प्रमुख ब्रांड ‘मिसेज बेक्टर क्रेमिका’ के तहत कुकीज़, क्रीम, क्रैकर्स, डाईजेस्टिव और ग्लूकोज जैसे कई तरह की बिस्किट बनाती है और उनका मार्केटिंग करती है।

यह कंपनी ‘इंग्लिश मेवे’ ब्रांड के तहत ब्रेड, बन्स, पिज्जा बेस और केक भी बनाती है।

मिसेज बेक्टर्स फ़ूड स्पेशलिटी भारत के अंदर 26 राज्यों में खुदरा उपभोक्ताओं को बेकरी उत्पादों की आपूर्ति करती है।

साथ ही साथ, वित्त वर्ष 20 के दौरान पैन-इंडिया उपस्थिति के साथ प्रतिष्ठित संस्थागत ग्राहकों और  छह महाद्वीपों के 64 देशों में भी सप्लाई करती है।

Mrs Bectors Cremica पंजाब, हिमाचल प्रदेश, जम्मू और कश्मीर और लद्दाख में प्रीमियम और मिड-प्रीमियम सेगमेंट में प्रमुख बिस्किट ब्रांड में से एक है।

जबकि इसकी “इंग्लिश ओवन” दिल्ली एनसीआर, मुंबई और बेंगलुरु में प्रीमियम बेकरी सेगमेंट में सबसे अधिक बिकने वाले ब्रांडों में से एक है।

यह बर्गर किंग इंडिया, कनॉट प्लाजा रेस्तरां, हार्डकैसल रेस्तरां और Yum!  जैसी प्रतिष्ठित QSR श्रृंखलाओं में भारत में बन्स का सबसे बड़ा आपूर्तिकर्ता भी है!

5) कंपनी की ताकत

मिसेज बेक्टर्स के अनुसार, इस कंपनी में निम्नलिखित खूबियां हैं:

  • यह उत्तर भारत में बिस्कुट और बेकरी कारोबार में प्रमुख ब्रांड में से एक है, जिसमें ब्रांड स्थापित करने की क्षमता है।
  • बिस्किट का एक प्रमुख निर्यातक।
  • खुदरा और संस्थागत बेकरी व्यवसाय में अच्छी उपस्थिति।
  • इसमें क्वालिटी कंट्रोल पर ध्यान देने के साथ आधुनिक और आटोमेटिक उत्पादन प्रक्रियाएं हैं;
  • इसकी व्यापक और स्थापित बिक्री और मार्केटिंग नेटवर्क है।
  • इसमें अनुभवी प्रमोटर और प्रबंधन टीम है

6) रणनीतियाँ

  • मार्जिन में सुधार के लिए प्रीमियम बिस्किट और बेकरी सेगमेंट में विकास पर ध्यान केंद्रित करना।
  • बिस्किट और बेकरी सेगमेंट में उत्पाद विकास पर ध्यान दें।
  • भारत और विश्व स्तर पर उत्पाद को विस्तार देने पर जोर।
  • विविधीकरण के माध्यम से वितरण नेटवर्क का विस्तार।
  • ब्रांड जागरूकता बढ़ाने पर ध्यान दें।

7) वित्तीय

वित्त वर्ष 2018 से 2020 में, कंपनी ने 5 प्रतिशत के सीएजीआर में रेवेन्यू वृद्धि दर्ज की, लेकिन उसी अवधि में 8 प्रतिशत की सीएजीआर में लाभ घट गया।

हालांकि, वित्त वर्ष 21 की पहली छमाही में ₹431 करोड़ रुपये के रेवेन्यू पर ₹39 करोड़ रुपये के लाभ के साथ वित्तीय प्रदर्शन में सुधार शुरू हुआ।

कंपनी ने पिछले तीन और साढ़े तीन वर्षों में अपने इन-हाउस मैन्युफैक्चरिंग और बेकरी सेगमेंट के लिए 51 प्रतिशत की तुलना में बिस्किट के लिए 44 प्रतिशत का हाई एवरेज ग्रॉस मार्जिन बनाए रखा है।

इसके विविध प्रोडक्ट पोर्टफोलियो को दो प्रमुख श्रेणियों – बिस्कुट और बेकरी उत्पादों के तहत वर्गीकृत किया जा सकता है।

8. Peers Comparison और मार्केट शेयर

भारतीय बिस्किट बाजार में ब्रिटानिया, पार्ले और आईटीसी जैसे प्रमुख ब्रांडों का प्रभुत्व है, जिनकी 65 प्रतिशत बाजार हिस्सेदारी है।

9) प्रमोटर और शेयरहोल्डिंग

अनूप बेक्टर कंपनी के प्रमोटर हैं। प्रमोटर ने 1,25,50,800 इक्विटी शेयरों का एक समूह रखा, जिसमें 8 दिसंबर, 2020 तक प्री-ऑफर पेड-अप इक्विटी शेयर पूंजी का 21.89 प्रतिशत शामिल है।

प्रमोटर और प्रमोटर समूह ने मिलकर कंपनी में 52.40 प्रतिशत हिस्सेदारी रखी है।

10) प्रबंधन

सुभाष अग्रवाल कंपनी के अध्यक्ष और स्वतंत्र निदेशक हैं। इनके पास वकालत में 60 साल का अनुभव प्राप्त है।

इसके अलावा, वे 1995 से डिस्ट्रिक्ट टैक्सेशन बार एसोसिएशन, लुधियाना के सदस्य रहे हैं। उन्हें 10 जुलाई, 2018 को बोर्ड में अध्यक्ष के रूप में नियुक्त किया गया था।

अनूप बेक्टर कंपनी के प्रबंध निदेशक हैं। वह कंपनी के निगमन के बाद से बोर्ड में हैं और उन्हें कंपनी के साथ 25 वर्षों का अनुभव है।

ईशान बेक्टर और परवीन कुमार गोयल बोर्ड में पूर्णकालिक निदेशक हैं, जबकि रजनी बेक्टर गैर-कार्यकारी निदेशक हैं, और राहुल गोस्वामी और तरुण खन्ना गैर-कार्यकारी नामित निदेशक हैं।


निष्कर्ष

अगर आप बेक्टर्स फ़ूड आईपीओ (Bectors Food IPO in Hindi) में निवेश करना चाहते है तो उपरोक्त बातों को ध्यान में रखना महत्वपूर्ण है। आप इन फैक्ट्स को दिमाग में लेकर चलें, तभी बेहतर मुनाफा प्राप्त कर सकते हैं।

अगर इस आईपीओ में निवेश की बात करें तो यह निवेशकों के बीच में ज्यादा उत्साह बनाने में सफल नहीं रहा।

हालाँकि, अभी हाल में आये बर्गर किंग आईपीओ की सफलता को देखते हुए किसी भी निष्कर्ष पर पहुँचाना मुश्किल है। लेकिन एक निवेशक को निवेश करने से पहले अपने स्तर पर सभी रिसर्च कर लेना चाहिए।


अगर आप आईपीओ में निवेश करना चाहते हैं तो शुरुआत आपको एक डीमैट अकाउंट से करना होगा।

अभी डीमैट अकाउंट खोलने के लिए नीचे दिए फॉर्म में बुनियादी विवरण दर्ज करें।

फॉर्म भरने के बाद आपको शीघ्र ही एक कॉलबैक प्राप्त होगी।


आईपीओ के बारे में अधिक जानकारी के लिए नीचे दिए टेबल पर जाएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

2 × 4 =