शेयर मार्केट ट्रेडिंग

शेयर मार्केट के अन्य लेख

शेयर मार्केट ट्रेडिंग का मतलब शेयर, कमोडिटीज, फ्यूचर और ऑप्शन और फॉरेक्स आदि सेगमेंट में व्यापर करना है।  

आपके लिए यह जानना भी बेहद ज़रूरी है कि शेयर मार्केट में ट्रेडिंग करने के लिए डीमैट खाता होना अनिवार्य है।

यदि आपको डीमैट खाते की जानकारी चाहिए तो आप डीमैट खाता परिचय को पढ़ सकते हैं।

चलिए, आगे बढ़ते हैं और ट्रेडिंग के बारे में बात करते हैं।

शेयर मार्केट में ऑनलाइन ट्रेडिंग करने के कई माध्यम होते हैं, लेकिन भारत में शेयर मार्केट ट्रेडिंग कैसे शुरू हुई, इस पर पहले नज़र डालते हैं।

अगर आप ट्रेडिंग के दुनिया में बिलकुल नए है तो पहले Share Market in Hindi की समीक्षा को पढ़ सकते हैं।

इसके साथ ही आप शेयर मार्केट में टिप्स के लिए Share Market Expert Advice in Hindi के बारे में भी जान सकते हैं।

शेयर मार्केट में कई तरह की ट्रेडिंग के प्रकार है और शुरुआत करने के लिए शेयर मार्केट अकाउंट का होना सबसे ज़रूरी है, जिससे  आप शेयर को खरीद सके और स्टॉक्स को अपने डीमैट खाता में सुरक्षित रख सके।


Share Market History in Hindi

  • भारत में स्टॉक मार्केट ट्रेडिंग 1850 के दशक में शुरू हुई। जब पांच स्टॉक ब्रोकर के एक समूह ने मुंबई टाउन हॉल के सामने एक बरगद के पेड़ के नीचे शेयर खरीदना और बेचना यानि ट्रेडिंग करना शुरू किया।
  • दो दशक बाद, ब्रोकर की संख्या बढ़ने पर दलाल स्ट्रीट में एक छोटा समूह बनाया गया और उन्हें ‘द नेटिव शेयर एंड स्टॉक ब्रोकर्स एसोसिएशन’ नाम दिया गया।
  • इसके बाद में, 1956 में सिक्योरिटीज कॉन्ट्रैक्ट्स रेगुलेशन एक्ट के अनुसार, बीएसई भारत सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त पहला स्टॉक एक्सचेंज बन गया।

आप एक्सचेंज की आधिकारिक वेबसाइट पर इस लिंक के माध्यम से जा सकते है।

  • बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज के पूरे  प्रदर्शन को मापने के लिए 1986 में सेंसेक्स 30 स्टॉक वाले बैरोमीटर के रूप में अस्तित्व में आया।
  • बीएसई ने 1995 में इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म BOLT या BSE ऑनलाइन ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म पर शुरुआत की ।
  • वर्तमान में, बीएसई 2.1 ट्रिलियन अमेरिकी डॉलर के मार्केट कैप्टिलाइज़ेशन के साथ दुनिया में 10वां सबसे बड़ा स्टॉक एक्सचेंज है।

अगर आप सेंसेक्स में होने वाले बड़े उतर चढ़वा के बारे में जानना चाहते हैं तो सेंसेक्स Historical Data का विश्लेषण करें ताकि आप सही और सटीक जानकारी पा सके।


शेयर मार्केट ट्रेडिंग के प्रकार

प्रत्येक प्रकार अपने फायदे और नुकसान हैं, इसलिए स्टॉक मार्केट ट्रेडिंग शुरू करने से पहले, आपको पता होना चाहिए कि आपके लिए ट्रेडिंग की कौन सी शैली उपयुक्त है।

आइए हम ऑनलाइन स्टॉक मार्केट ट्रेडिंग के विभिन्न प्रकारों को देखें:

इंट्राडे ट्रेडिंग

इंट्राडे ट्रेडिंग को “डे ट्रेडिंग” के रूप में भी जाना जाता है।

यह स्टॉक मार्केट ट्रेडिंग का प्रकार है, जहां ट्रेडर उसी दिन शेयर खरीदता है और बाजार बंद होने से पहले बेचता है। अगर आपको शेयर कैसे खरीदते है की प्रक्रिया को नहीं समझते हैं तो पहले इसके बारे में जानकारी प्राप्त करें उसके बाद ही इंट्राडे ट्रेडिंग करें। 

इंट्राडे ट्रेडिंग में, ट्रेडर  कुछ मिनटों तक या ट्रेडिंग सत्र के दौरान घंटों के ऐसी  स्थिति बनाए  रख सकता है।

इंट्राडे ट्रेडिंग एक्टिव ट्रेडर्स द्वारा की जाती है, क्योंकि यह उन्हें थोड़े समय में जल्दी पैसा कमाने की अनुमति देता है।

हालांकि, यह उतना ही जोखिम भरा है, क्योंकि इसके लिए तेजी से निर्णय लेने और जल्दी कार्रवाई की आवश्यकता होती है। इसलिए बेहद अहम है आपको शेयर बाजार के फायदे और नुकसान से परिचित हो। 

कुछ खास बाते:

  • इंट्राडे ट्रेडिंग एक्टिव ट्रेडर्स के लिए होती है। 
  • यह अनुभवी ट्रेडर्स के लिए होती है। 
  • इसमें तेजी से निर्णय लेने की आवश्यकता है।
  • इंट्राडे ट्रेडिंग टाइम आपके मुनाफे में काफी बड़ा योगदान रखती है

डिलीवरी ट्रेडिंग

डिलीवरी ट्रेडिंग को पोज़िशनल ट्रेडिंग के रूप में भी जाना जाता है। डिलीवरी ट्रेडिंग में, ट्रेडर एक स्टॉक को मध्यम अवधि के साथ विश्लेषण करने के बाद एक शेयर खरीदता है।

इस प्रकार का ट्रेड अनुभवी और स्टॉक मार्केट के शुरुआती लोगों के लिए आदर्श है।

यदि आप डिलीवरी ट्रेडिंग करने के लिए Delivery Trading Rules in Hindi को फॉलो करते हैं तो आपको बेहतर रिटर्न मिल सकता है।

डिलीवरी ट्रेडिंग से जुड़ी कुछ ऐसी ही मुख्य बातें हैं जो नीचे दी गई हैं:

कुछ खास बातें:

  • मध्यम के लिए ट्रेड करने वाले ट्रेडर के लिए।
  • सही स्टॉक को चुनने के लिए  रिसर्च और विश्लेषण करने की आवश्यकता है।
  • इसमें  ट्रेडिंग के लिए  बिगिनर को सलाह दी जाती है।

शॉर्ट सेलिंग

शॉर्ट सेलिंग रणनीति शेयर उच्च मूल्य पर बेचना और बाद में इसे कम कीमत पर वापस खरीदने को कहते है।

यह एक लोकप्रिय ट्रेडिंग रणनीति है,जहां ट्रेडर्स का बेयरिश दृष्टिकोण होता है।

इसलिए, ट्रेडर्स  शेयर बेचता है और बाद में ट्रेडिंग सेशन समाप्त होने से पहले इसे फिर से  खरीदता है।

कुछ खास बाते:

  • शॉर्ट सेलिंग एक्टिव बेयरिश ट्रेडर्स (Bearish Trader) के लिए होती है
  • यह बहुत अनुभवी ट्रेडर्स के लिए है  
  • इसके लिए आपको तेजी से निर्णय लेने और जल्दी से निर्णय करने की आवश्यकता है।

BTST Trade in Hindi 

BTST (Buy Today Sell Tomorrow) जैसे नाम से ही पता चलता है, की इसमें ट्रेडर आज एक शेयर खरीद रहा है और कल इसे बेच रहा है।

ट्रेडर का अनुमान है कि स्टॉक अधिक कीमत पर खुलेगी और अगले दिन तक बढ़ना जारी रहेगा।

कुछ खास बाते –

  • खरीदने से पहले सही रिसर्च और फोरकास्ट की आवश्यकता है।
  • अनुभवी और एक्टिव ट्रेडर को इसमें इन्वेस्ट करना चाहिए।

BTST ट्रेड से पहले जाने कि इस तरह की ट्रेडिंग के लिए शेयर कैसे ख़रीदे और बेचे जाते है. ये प्रक्रिया वैसे और ट्रेडिंग प्रकार की तरह काफी आसान  होती है इसके लिए आपको किस तरह से ट्रेडिंग एप में आर्डर करना है उसकी पूरी जानकारी होनी चाहिए

आप सोच रहे होंगे, बीटीएसटी (BTST) और डिलीवरी (Delivery) में क्या अंतर है?

जब आप डिलीवरी में शेयर खरीदते हैं, तो भारतीय स्टॉक मार्केट के अनुसार सेटलमेंट की अवधि T + 2 दिन होती है।

जिसका मतलब है कि शेयर की डिलीवरी शेयर खरीदने के तीसरे दिन आपके डीमैट अकाउंट में होगी।

लेकिन क्या होगा अगर आप अगले दिन एक अवसर का अनुमान लगाते हैं?

BTST में, आप बिना डिलीवरी के शेयर बेच सकते हैं।


पोजिशनल ट्रेडिंग

अगर आप शेयर मार्केट में लॉन्ग टर्म तक बने रहना चाहते हो और भविष्य में अधिक मुनफा अर्जित करना चाहते हो तो आपके लिए पोज़िशन ट्रेडिंग एक अच्छा ऑप्शन है।

कुछ खास बाते:

  • पोजिशनल ट्रेडिंग एक ऐसी रणनीति है जहां ट्रेडर, स्टॉक्स को एक लम्बे समय तक होल्ड करके रख सकता है।
  • इस ट्रेडिंग में एक ट्रेडर, स्टॉक में लॉन्ग और शॉर्ट टर्म के लिए उन्हें लगभग दो सप्ताह से लेकर लगभग एक वर्ष तक भी रख सकते हैं।
  • इसके साथ ही डे-ट्रेडिंग और स्विंग ट्रेडिंग की तुलना में, पोजिशनल ट्रेडिंग में एक ट्रेडर के पास अपने फैसले लेने के लिए उपयुक्त समय होता है।

Option Trading in Hindi

ऑप्शन ट्रेडिंग डेरिवेटिव्स (derivatives meaning in hindi) का प्रकार है जिसमे आप अपने मनचाहे प्राइस में फ्यूचर में किसी भी शेयर को खरीद और बेच सकते है। इसमें भी दो तरह के विकल्प होते है कॉल और पुट ऑप्शन जहा पर बुलिश और बेयरिश ट्रेंड में एक ऑप्शन बायर को प्रीमियम देकर एक्सपाइरी पर अंडरलाइंग एसेट को खरीदने और बेचने का अधिकार होता है।

ऑप्शन ट्रेडिंग आप कुछ इक्विटी स्टॉक्स, कमोडिटी, इंडेक्स या करेंसी में कर सकते है।

कई ट्रेडर जो ये जानने में रुचि रखते है कि Nifty 50 me invest kaise kare तो उनके लिए ऑप्शन एक बहुत ही बेहतर विकल्प होता है।

ऑप्शन में ट्रेड करने के लिए कुछ ख़ास बाते:

  • एक सही एक्सपायरी और स्ट्राइक प्राइस का चयन करें।
  • ट्रेड में मुनाफा कमाने के लिए आप अलग-अलग ऑप्शन ट्रेडिंग स्ट्रेटेजी (option trading strategies in hindi) का उपयोग करें।

ऑनलाइन शेयर मार्केट ट्रेडिंग के लाभ

अगर अभी के समय की बात करें तो स्टॉक मार्केट ट्रेडिंग करना बहुत सुविधाजनक हो गया है। इसका मूल कारण ऑनलाइन ट्रेडिंग है। अब आप कही से बैठ कर इंटरनेट के माध्यम से ट्रेड कर सकते है।

निम्नलिखित ऑनलाइन ट्रेडिंग के कुछ फायदे बताए गए है:

  • ऑनलाइन शेयर मार्केट ट्रेडिंग बेहद सुविधाजनक है

ऑनलाइन शेयर मार्केट ट्रेडिंग बहुत सुविधाजनक है, क्योंकि आप अपने घर के आराम से ऑनलाइन स्टॉक मार्केट ऑर्डर दे सकते हैं।

आपको केवल डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट की आवश्यकता होती है। 

ऑनलाइन शेयर ट्रेडिंग के लिए एक एक्टिव  इंटरनेट कनेक्शन अवश्य होना चाहिए।

  • ऑनलाइन शेयर मार्केट ट्रेडिंग सस्ती है

ऑनलाइन स्टॉक मार्केट ट्रेडिंग में, आपको जिस ब्रोकरेज का भुगतान करना होगा, वह  कमीशन की तुलना में कम है

यह पुराने समय के दौरान लिए गए चार्ज से काफी कम है, जब मैन्युअली ट्रेड किया जाता था।

अभी कई डिस्काउंट ब्रोकर है जो ऑनलाइन शेयर ट्रेडिंग के लिए कम ब्रोकरेज दरें प्रदान करता है।

  • ऑनलाइन शेयर मार्केट ट्रेडिंग के लिए मिडिलमैन की ज़रूरत नहीं होती है।

ऑनलाइन स्टॉक मार्केट ट्रेडिंग का उपयोग सब ब्रोकर को समाप्त करने और पूरी ट्रेडिंग लागत को कम करने के लिए किया जाता है।

  • ऑनलाइन शेयर ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म पोर्टफोलियो मॉनिटरिंग में मदद करते हैं।

ऑनलाइन स्टॉक मार्केट ट्रेडिंग या तो आपके स्मार्टफोन, लैपटॉप या डेस्कटॉप पर की जा सकती है। आप पूरे दिन अपनी स्थिति देख सकते हैं, जिससे पोर्टफोलियो की निगरानी और ट्रैकिंग बेहद सरल हो जाता है।

Share Market Tips in Hindi 

शेयर मार्केट में लाभ  कमाने के लिए ज़रूरी है सही ट्रेडिंग टिप्स और स्ट्रेटेजीज का पालन करना जैसे की:

  • एक लक्ष्य के साथ मार्केट में ट्रेड लें
  • एक सही जानकारी कि शेयर मार्केट में कितना पैसा लगा सकते है उसकी जानकारी रखे
  • सही स्टॉक का चुनाव करें
  • मार्केट के टेक्निकल बातो को समझे
  • ट्रेडिंग टाइम का रखे ध्यान
  • भावनाओं को काबू में रखें
  • लालच से दूर रहे

ये सभी टिप्स एक नए और अनुभवी ट्रेडर दोंनो को पालन करनी चाहिए और साथ में ज़रूरी है की आप मार्केट को देख और समझ  कर किसी भी  ट्रेडिंग निर्णय ले। अगर आप मार्केट में बिलकुल नए है तो कुछ बाते और टर्म जैसे की चार्ट, उसके प्रकार, पैटर्न, टेक्निकल एनालिसिस जैसे बातो से अवगत होकर ही ट्रेड करें।

सिर्फ ऑनलाइन टिप्स और रिकमेन्डेशन के आधार पर ट्रेड करना आपके लिए नुकसानदायक हो सकती है


निष्कर्ष:

किसी भी अन्य खेल की तरह, स्टॉक मार्केट ट्रेडिंग में भी अभ्यास और दृढ़ता के वर्षों की मेहनत की जरूरत होती है।

 सफल स्टॉक मार्केट ट्रेड के लिए मंत्र यह है कि शेयर मार्केट  के बारे में गहराई से ज्ञान होना चाहिए ।

स्टॉक मार्केट ट्रेडिंग के लिए स्टॉक मार्केट के व्यावहारिक पहलुओं का ज्ञान होना भी आवश्यक है।


अगर आप भी शेयर बाजार ट्रेडिंग करना चाहते हैं तो शुरुआत करने के लिए “अ डिजिटल ब्लॉगर” के साथ डीमैट अकाउंट खुलवाएं।

हमारे साथ डीमैट अकाउंट खुलवाने के लिए नीचे दिए गए फॉर्म में अपनी बुनियादी विवरण दर्ज करें।

अपनी बुनियादी जानकारी दर्ज करें और आपको शीघ्र ही एक कॉलबैक प्राप्त होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

seventeen − 6 =